Skip Navigation Links
डोनाल्ड ट्रंप - जानें क्या कहती हैं दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रपति की कुंडली


डोनाल्ड ट्रंप - जानें क्या कहती हैं दुनिया के सबसे शक्तिशाली राष्ट्रपति की कुंडली

अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के साथ ही ट्रंप दुनिया के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति बन चुके हैं। ट्रंप राष्ट्रपति तो बन चुके हैं लेकिन उनके सामने चुनौतियां भी कम नहीं हैं। पूरी दुनिया की निगाह उनके फैसलों पर है। ऐसे में आने वाले समय में ट्रंप किस तरह के निर्णय ले सकते हैं व किसके बल पर वे आगे आने वाली चुनौतियों का सामना करेंगें इसका पूर्वानुमान भारतीय ज्योतिष शास्त्र के अनुसार उनकी जन्मकुंडली का अध्ययन किया जा सकता है। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उनकी कुंडली का अध्ययन किया है तो आइये जानते हैं साल 2017 में ट्रंप पर कौनसे ग्रह मेहरबान हैं और कौनसे ग्रह उनके रास्ते में अड़चन पैदा करेंगें। यदि आपको भी अपने जीवन के किसी पहलु में किसी तरह की परेशानी आ रही है तो इसका कारण ग्रहों का नकारात्मक प्रभाव हो सकता है अपनी कुंडली में शुभ एवं अशुभ योग जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये लिंक पर क्लिक करें।


नाम – डोनाल्ड जॉन ट्रंप

जन्मतिथि – 14 जून 1946

जन्म समय – प्रात: 10:54

जन्मस्थान  - जमैका, न्यूयॉर्क

उपरोक्त विवरण के अनुसार डोनाल्ड ट्रंप सिंह लग्न के जातक हैं। इनकी चंद्र राशि वृश्चिक है एवं इनका जन्म ज्येष्ठ नक्षत्र में हुआ है। वर्तमान में इन पर बृहस्पति की महादशा चल रही है और अंतर्दशा में भी बृहस्पति ही हैं।

डोनाल्ड ट्रंप का लग्न सिंह है और इस लग्न के जातक शेर के समान माने जाते हैं। ऐसे जातक अचानक लंबी छलांग लगाने की क्षमता रखते हैं। इन्हें शातिर दिमाग वाला भी माना जाता है। इनके लग्न में योगजनक ग्रह मंगल विराजमान हैं जोकि इनके लिये बहुत ही मंगलकारी हैं। ट्रंप की कुंडली में जिस तरह के योग हैं ऐसे जातक दृढ़ इच्छाशक्ति व संकल्पित व्यक्तित्व वाले होते हैं। लग्न में मंगल होना ही इन्हें क्रूर स्वभाव का बनाता है और यही इनकी सफलता का कारक भी है।

साल 2017 में शनि के परिवर्तन से इनकी राशि से शनि का परिवर्तन हुआ है जो कि इनके राजनीतिक जीवन के लिये काफी लाभदायक है। कुछ कठोर निर्णयों से विश्व के कुछ देशों में काफी हलचल रह सकती है। नौकरी, व्यवसाय से लेकर सुरक्षा क्षेत्र तक यह हलचल दिखाई दे सकती है।

अंकज्योतिष के नज़रिये से भी देखा जाये तो 2017 का योगांक 8 बनता है जो कि शनि का अंक है। शनि जो कि न्यायप्रिय ग्रह हैं और जनता के सूचक माने जाते हैं। 2017 में ट्रंप का फोकस कुछ ऐसे फैसले लेने पर हो सकता है जिससे वे अपनी जनता के साध प्रत्यक्ष रूप से जुड़ सकें उनसे संवाद कर सकें। हालांकि यह भी हो सकता है कि लोगों को शुरुआती तौर पर ट्रंप के निर्णय कुछ अटपटे लगें लेकिन इन फैसलों के दूरगामी परिणाम सकारात्मक रह सकते हैं।

शुरुआती महीनों के बाद जैसे ही शनि वक्री होंगे ट्रंप के राजनीतिक शत्रु उन पर दबाव बनाने के प्रयास कर सकते हैं। या कहें ट्रंप पर हावि हो सकते हैं। लेकिन ट्रंप आसानी से इन चुनौतियों से पार पाने में कामयाब होंगे। वर्तमान में इनकी कुंडली में बृहस्पति की महादशा चल रही है जो कि पंचमेश होकर द्वितीय भाव में बैठें हैं। यह इनके बुद्धिबल को बढ़ाने व निर्णय लेने की क्षमता को मजबूत बनाने का काम भी करेगा।

ट्रंप के लिये चिंता का एक मात्र कारण भी शनि ही है जिससे इन्हें मानसिक चिंताए और स्वास्थ्य के संबंध में विशेष रूप से सतर्क रहने की आवश्यकता होगी।

कुल मिलाकर 2017 का साल ट्रंप के लिये एक सफल वर्ष है।  

यह भी पढ़ें

राहुल गांधी और अखिलेश यादव की दोस्ती पर कैसी है ग्रहों की दृष्टि   ।   वित्त राशिफल 2017    |   दैनिक वित्त राशिफल   | 

2017 देश के आंतरिक हालात पर कैसी है ग्रहों की नज़र?   |   नरेंद्र मोदी 2017 - कैसा रहेगा नया साल प्रधानमंत्री मोदी के लिये   |   

विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2017   |   2017 क्या लायेगा अच्छे दिन?   |   साल 2017 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   

2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   2017 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे   |   पढ़ें अपनी व्यवसायिक प्रोफाइल




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...