Skip Navigation Links
ईस्टर रविवार – ईसा के पुनर्जीवित होने का पर्व


ईस्टर रविवार – ईसा के पुनर्जीवित होने का पर्व

ईस्टर संडे, ईस्टर रविवार या कहें ईस्टर ईसा मसीह के अनुयायियों का पावन पर्व है जिसे दुनिया भर में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। दरअसल कुछ धार्मिक कट्टरपंथियों ने तथाकथित धर्म की अवहेलना का आरोप लगाते हुए मानवाता की अलख जगाने वाले ईसा मसीह को सूली पर टंगवा दिया था वह दिन शुक्रवार का माना जाता है जिसे गुड फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे आदि नामों से जाना जाता है। मान्यता है कि ईसा के बलिदान दिवस के ठीक तीसरे दिन जो कि रविवार का दिन था ईसा पुन: जीवित हो उठे थे और इसके ठीक चालीस दिन बाद उन्होंने स्वर्गलोक प्रस्थान किया। ईसा के जीवित होने की खुशी में ही ईस्टर का यह त्यौहार दुनिया भर में मनाया जाता है।

कब है ईस्टर का त्यौहार

ईस्टर का पर्व पास्का विषयक चंद्रमास के तीसरे रविवार को मनाया जाता है। वर्ष 2017 में यह रविवार ग्रेगोरियन कैलेंडर की 16 अप्रैल को पड़ेगा। रविवार का दिन दुनिया भर में कामकाज से अवकाश का दिन होता है इस कारण इस त्यौहार का उल्लास देखते ही बनते हैं। भारत में भी कुछ राज्यों में ईसा के अनुयायियों की तादाद काफी अच्छी है जिस कारण इन राज्यों में ईस्टर रविवार का दिन काफी बड़े स्तर पर मनाया जाता है।

ईस्टर पर क्या करें

ईस्टर को मनाने की सार्थकता तभी है जब आप ईसा के संदेशों पर चलने का प्रण धारण करें। अलग-अलग क्षेत्रों, विभिन्न चर्चों के द्वारा ईस्टर को मनाने के अलग-अलग तरीके हैं। लेकिन बड़े स्तर पर लोग इस दिन प्रार्थनाओं में शामिल होते हैं। पारंपरिक रूप से दोपहर व रात्रि भोज के लिये अपने दोस्तों, सगे-संबंधियों को आमंत्रित करते हैं। एक दूसरे को उपहार भेंट करते हैं। ईसा के बताये प्रेम, सत्य और क्षमा करने के मार्ग पर चलने का प्रण लेते हैं।

ईस्टर पर्व की धार्मिक मान्यता

ईस्टर का पर्व ईसा के पुनर्जीवित होने का ही पर्व नहीं है बल्कि यह नव जीवन और जीवन में सुनहरे बदलाव का प्रतीक भी है। यह संदेश देता है कि दुख के बाद जीवन में सुखों का आगमन भी होता है। खुद को सूली पर चढ़ाने वालों के लिये स्वयं ईश्वर के पुत्र ईसा के मन में किसी तरह के द्वेश की भावना नहीं थी बल्कि उन्होंने ईश्वर से उन्हें क्षमा करने की प्रार्थना की। ईसा में यकीन रखने वाले मानते हैं कि मानवता का उद्धार करने के लिये ही ईसा के रूप में ईश्वर ने अपने संदेशवाहक अपने दूत अपने पुत्र को भेजा था। उन्होंने हमें दूसरों को क्षमा करने का संदेश दिया, उन्होंने प्रेम व समर्पण के मार्ग से प्रभु का सानिध्य पाने का मार्ग दिखाया। उनके अनुयायि मानते हैं कि मसीह पर विश्वास करने वालों को प्रभु हर प्रकार की मुसीबतों से लड़ने का संबल प्रदान करते हैं। उनके पापों को प्राश्चित करने का साहस प्रदान करते हैं।

आप सभी को ईस्टर रविवार की एस्ट्रोयोगी टीम की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं।

यदि आप किसी भी तरह ज्योतिषीय परामर्श अपने जीवन के बारे में पाने के इच्छुक हैं तो परामर्श करें देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

गुड फ्राइडे 2017 – जानिये कैसे मनाते हैं गुड फ्राइडे   |   ईसा मसीह - जानें कैसे हुआ था ईसा मसीह का जन्म   |   कैसे मनायें क्रिसमस




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...