Skip Navigation Links
गंगा सप्तमी – इस दिन गंगा मैया बनीं थी जाह्नवी


गंगा सप्तमी – इस दिन गंगा मैया बनीं थी जाह्नवी

गंगा मात्र एक नदी नहीं है बल्कि आस्था की देवी हैं किसानों के लिये प्राण दायिनी हैं। यह सवाल तो आज भी रहस्य है कि उद्योग कारखानों की रसायनों और गंदगी को अपने में समा लेने के बाद भी इसकी पवित्रता बरकरार कैसे हैं? जब किसी रहस्य का पता न चले तो उसे चमात्कार कहा जा सकता है। गंगा का यही रहस्य इस नदी को देवी गंगा बनाता है। इसी की बदौलत लोगों की इसमें गहरी आस्था भी है। लेकिन क्या आप जानते हैं गंगा जी को एक बार एक ऋषि ने पूरा का पूरा गटक लिया था, फिर देवताओं के अनुरोध और भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर उन्होंने गंगा मैया को मुक्त किया ताकि वह भगीरथ के पूर्वजों को मुक्ति प्रदान कर सके। जिस दिन गंगा मैया को ऋषि ने मुक्त किया वह दिन था वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी का। इसलिये इस दिन को गंगा सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है। आइये जानते हैं वैशाख शुक्ल सप्तमी को घटे इस पूरे घटनाक्रम के बारे में जिसकी गवाही पुराण देते हैं।

महर्षि जाहनु पी गये थे सारी गंगा का पानी

अपने पूर्वजों की मुक्ति के लिये भगीरथ ने कड़ा तप कर गंगा मैया को पृथ्वी पर लाने में कामयाबी मिल गई थी। भगवान शिव ने अपनी जटा में लपेट कर गंगा के अनियंत्रित प्रवाह को नियंत्रित तो कर लिया लेकिन बावजूद उसके भी गंगा मैया के रास्ते में आने वाले बहुत से वन, आश्रम नष्ट हो रहे थे। चलते-चलते वह जाहनु ऋषि के आश्रम में पंहुच गई जब जाह्नु ऋषि ने गंगा द्वारा मचाई तबाही को देखा तो वे बहुत क्रोधित हुए और गंगा के सारे पानी को पी गये। भगीरथ को अपना प्रयास विफल दिखाई देने लगा। वह जाह्नु ऋषि को प्रसन्न करने के लिये तप पर बैठ गये। देवताओं ने भी महर्षि से अनुरोध कर गंगा के पृथ्वी पर अवतरित होने के महत्व के बारे में बताया। अब जाह्नु ऋषि का क्रोध शांत हुआ तो उन्होंने अपने कान से गंगा मुक्त कर दिया। मान्यता है कि इसी कारण गंगा को जाहन्वी भी कहा जाता है। जिस दिन उन्होंने गंगा को अपने कान से मुक्त किया वह दिन था वैशाख मास की शुक्ल सप्तमी का। इसलिये इसे गंगा सप्तमी और जाह्नु सप्तमी भी कहा जाता है।  

गंगा सप्तमी पर क्या करें

गंगा सप्तमी एक प्रकार से गंगा मैया के पुनर्जन्म का दिन है इसलिये इसे कई स्थानों पर गंगा जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। गंगा सप्तमी के दिन गंगा स्नान का बहुत महत्व है। यदि गंगा मैया में स्नान करना संभव न भी हो तो गंगा जल की कुछ बूंदे साधारण जल में मिलाकर उससे स्नान किया जा सकता है। स्नानादि के पश्चात गंगा मैया की प्रतिमा का पूजन कर सकते हैं। भगवान शिव की आराधना भी इस दिन शुभ फलदायी मानी जाती है। इसके अलावा गंगा को अपने तप से पृथ्वी पर लाने वाले भगीरथ की पूजा भी कर सकते हैं।  गंगा पूजन के साथ-साथ दान-पुण्य करने का भी फल मिलता है। 

गंगा सप्तमी पर ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

सबंधित लेख

गंगा दशहरा – इस दिन गंगा स्नान से कटेंगें दस पाप   |   गंगा मैया देती हैं जीवात्मा को मोक्ष   |   इस दिन गंगाजल बनता है अमृत   |   

गंगा चालीसा   |   गंगा आरती   |   गौ माता    |   गायत्री मन्त्र   |   गीता सार




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मंगल राशि परिवर्तन - राशिनुसार होंगे ये बदलाव

मंगल राशि परिवर्तन...

राशिचक्र की 12 राशियों में मेष एवं वृश्चिक राशियों के स्वामी मंगल को एक क्रूर ग्रह माना जाता है। मंगल ऊर्जा के, युद्ध के प्रतीक हैं। स्वभाव म...

और पढ़ें...
शुक्र बदलेंगें राशि जानें अपना राशिफल

शुक्र बदलेंगें राश...

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशिचक्र की 12 राशियों में वृषभ व तुला राशि के स्वामी शुक्र एक शुभ ग्रह माने जाते हैं। इन्हें लाभ व सुख-समृद्धि का क...

और पढ़ें...
भाद्रपद अमावस्या – सूर्य ग्रहण से बढ़ा सोमवती अमावस्या का महत्व

भाद्रपद अमावस्या –...

स्नान, दान और तर्पण के लिये अमावस्या की तिथि का बहुत अधिक महत्व माना जाता है लेकिन सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या तो और भी सौभाग्यशाली मान...

और पढ़ें...
राहू राशि परिवर्तन – क्या लायेगा आपके जीवन में बदलाव

राहू राशि परिवर्तन...

18 अगस्त शुक्रवार 2017 को प्रात:काल 5 बजकर 53 मिनट मिथुन के चंद्रमा के साथ कर्क राशि में प्रविष्ट होंगे जिसका प्रत्येक राशि पर अलग-अलग प्रभाव...

और पढ़ें...
राहु और केतु ग्रहों को शांत करने के सरल उपाय

राहु और केतु ग्रहो...

राहु-केतु ग्रहों को छाया ग्रह के नाम से जाना जाता है। ज्योतिष की दुनिया में इन दोनों ही ग्रहों को पापी ग्रह भी बोला जाता है। इन दोनों ग्रहों ...

और पढ़ें...