Skip Navigation Links
बाधाओं को दूर करने के लिये इस होली अपनाये ये उपाय


बाधाओं को दूर करने के लिये इस होली अपनाये ये उपाय

भारत में त्यौहारों के साथ बहुत सारी आस्थाएं बहुत सारी मान्यताएं जुड़ी हुई हैं। कुछ त्यौहारों पर तो घर में सुख-शांति बनाये रखने के लिये विशेष उपाय भी किये जाते हैं। तंत्र-मंत्र, टोटकों से लेकर अनेक सरल उपाय विभिन्न त्यौहारों पर किये जाते हैं। होली भी एक ऐसा ही पर्व है जिसमें प्रेत बाधाओं से लेकर घर में सुख-समृद्धि लाने, संतान से लेकर दांपत्य जीवन सुखद बने रहने सहित मनोमकामनाओं की पूर्ति की कामना की जाती है। हम आपको इस लेख में बता रहे हैं कुछ ऐसे ही सरल उपाय जिन्हें अपनाकर आप अपनी बाधाओं से पार पा सकते हैं।

होलिका दहन दर्शन है लाभकारी

होलिका दहन का दर्शन जरूर करना चाहिये मान्यता है कि इसके दर्शन से ही राहु-केतु, शनि आदि के दोष शांत हो जाते हैं। वहीं होलिका दहन के समय गोमती चक्र को हाथ में लेकर 21 बार मन ही मन जो भी आपकी कामना है उसे दोहराएं। उसके बाद गोमती चक्र को होलिका में डाल दें और होलिका को प्रणाम कर वापस आयें मान्यता है कि इससे जल्द ही आपकी मनोकामना पूर्ण होती है।

होली की भस्म बड़े काम की

होलिका दहन के पश्चात जब अग्नि शांत और भस्म ठंडी हो जाये तो यह भस्म रख लेनी चाहिये दरअसल होली की भस्म का यदि आप टीका लगाते हैं तो मान्यता है कि यह नजर दोष व प्रेत बाधा से बचाती है। वहीं यदि इस भस्म को चांदी की डिबिया में रखा जाये तो उससे भी बाधाओं के दूर होने की मान्यता है।

होली की रात करेगी करामात

होली वाली रात भी बड़ी कारगर मानी जाती है। इसमें भी कार्यसिद्धि के लिये किया जाने वाला एक सरल उपाय है। रात्रि के समय एक काले कपड़े में काली हल्दी व खोपरे में बूरा भरकर इसकी एक पोटली बनाएं। साथ ही आठ गोमती चक्र भी अपने साथ लें। फिर इस पोटली को किसी पीपल के पेड़ के नीचे गड्ढ़ा खोदकर दबा दें व इस पर आटे से बना एक दीपक व धूपबत्ती जलायें। साथ में कोई मिष्ठान भी अर्पित करें तो बेहतर रहता है। अब गोमती चक्रों को पीपल के पेड़ पर रखें व वहां से लौट आयें। ध्यान रखें एक बार मुड़ने के बाद वापस मुड़कर उन्हें नहीं देखना है। इसके पश्चात जब भी शुक्ल पक्ष का आरंभ हो तो शुक्ल पक्ष के प्रथम शनिवार को उसी पीपल के वृक्ष के पास जायें व गोमती चक्रों व दीपक को अपने साथ ले आयें। अब जब तक आपका कार्य सिद्ध नहीं होता तब तक या तो गोमती चक्र अपनी जेब में रखें या किसी रोगी व्यक्ति के सिरहाने। आप देखेंगें कि जो कामना सच्चे मन से आपने की थी वह पूरी होने की संभावानाएं नजर आ रही हैं।

यदि आपके व्यक्तिगत या व्यावसायिक जीवन में कुछ ज्यादा ही बाधाएं आ रही हैं तो आप एस्ट्रोयोगी पर हमारे ज्योतिषाचार्यों से भी अपनी कुंडली के अनुसार विशेष उपाय जान सकते हैं। ज्योतिषियों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

होलिका दहन - होली की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त   |   होली 2017   |   होली - पर्व एक रंग अनेक   |   फाल्गुन मास के व्रत व त्यौहार   |  

ब्रज की होली - बरसाने की लठमार होली   |   क्यों मनाते हैं होली पढ़ें पौराणिक कथाएं   |   क्या है होली और राधा-कृष्ण का संबंध




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...