हग डे – इस हग डे पर जानें कैसे लगें गले

हग डे वैलेंटाइन वीक का एक खास दिन। प्रेम के इस पर्व के बाकि दिन एक तरफ और हग डे एक तरफ। हग डे यानि गले लगने का दिन। गले लगने का अहसास एक ऐसा अहसास होता है जिससे एक दूसरे के प्रति आत्मीयता का पता चलता है। किसी के साथ गले लगने पर रिश्तों में गर्माहट आती है तो किसी के गले लगने के अंदाज से हम रिश्ते के ठंडेपन का अहसास कर सकते हैं। कुल मिलाकर आपके रिश्ते की बुनियाद कैसी है गले लगने से इसका अंदाज लगाया जा सकता है। गले लगने के भी अपने अपने तरीके होते हैं तो आइये इस हग डे पर जानें कि कैसे लग सकते हैं अपने हमदम के गले।

हग डे पर जानें कैसे आपके रिश्ते में आयेगी मिठास, हमारे लव गुरुओं से करें बात

गले लगने के तरीके

वैसे तो गले लगने के लिये सोच-विचार बिल्कुल न करें अपने साथी के प्रति अपनी फिलिंग जताने के लिये स्वाभाविक रूप से ही गले लगें तो आपको गले लगने का आनंद आयेगा। फिर भी अलग अलग स्थितियों में जब गले लगा जाता है उन स्थितियों को इन नामों से जाना जाता है आप भी अपने तरीकों में इनका इस्तेमाल कर सकते हैं।

पहले हम बात करते हैं एक ऐसे तरीके की कि जिसमें आप एक दूसरे को मजबूती से अपनी और खींच कर बांहों में भर लें। इसे बॉडीलॉक भी कहा जा सकता है। जब आप कोई आपके दिल के बहुत ही नजदीक हो तो उसके साथ आप इस तरह गले मिल सकते हैं वैसे इस तरह गले मिलने को बीयर हग कहा जाता है।

वहीं कई बार आपने देखा होगा कि आपको चाहने वाला/वाली एकदम से पिछे से आकर रोमांटिक तरीके से आपको कमर से पकड़ते हुए अपनी बांहों में खींच लेता है। इस स्थिति में उसका सिर आपके गले पर होता है। इस तरह के हग को अंग्रेजी में रिवर्स हग कहा जाता है। लेकिन जनाब अपने किसी नये दोस्त से इस तरह पेश न आयें कहीं वह इसे आपकी बदतमीजी न समझ बैठे। जिस पर आपको पूरा विश्वास हो उन्हें इस तरह गले लगकर खुशी प्रदान करें।

कई बार बहुत ही खुशी का लम्हां हमारे जीवन में आता है इतना कि जब भी आपको अपना साथी नजर आता है आप दूर से ही दौड़कर उछलते हुए उसकी बांहों में समां जाते हैं और सामने वाला भी आपको अपनी बांहों में थाम लेता है। इस तरह गले लगने को टैकल हग का नाम दिया गया है। हां आप अपने किसी अंजान साथी के साथ इसे आजमाने की कोशिश मत करना कहीं वह आपको धड़ाम से जमीन पर गिरा दे। इस तरह के हग के लिये आपके साथी पर पूर्ण विश्वास होना चाहिये कि वह किसी भी हालत में आपको गिरने नहीं देता।

कभी कभी आपका किसी ऐसे सज्जन से भी वास्ता पड़ा होगा जिसे मिलकर आपको लगा हो कि अरे यार यह बंदा या बंदी ना तो अच्छे से गले मिला और ना ही इन्हें ये कहा जा सकता कि गले मिले यानि आधा अधूरा गले लगना, या कहें गले मिलने की औपचारिकता भर निभाना, अभिजात्य वर्ग में लगभग इस तरह से एक दूसरे के गले मिला जाता है। इसमें गले में बांहें डाल कर उसे अपनी ओर खींच कर गले लगाया जाता है। इसे अंग्रेजी में वन आर्म्ड हग कहा जाता है इस तरह का मिलन अक्सर उनमें होता है जिनमें किसी प्रकार का भावनात्मक जुड़ाव नहीं होता। हग डे पर आपको इस तरह का अहसास ना ही हो तो बेहतर है।

एक बात और है यह पता लगाने की कि कोई इंसान आपसे गले लगकर खुश है या वह कहना चाहता है कि बस बहुत हो गया। तो इसकी परख मनोविज्ञानी कुछ इस तरह करने की कहते हैं कि जब कोई आपके गले लगकर आपकी पीठ को सहलाये तो समझो कि बात बन रही है और सामना वाला आपसे गले मिलकर खुश है लेकिन कोई आपकी पीठ थपथपाने लगे माना जाता है कि वह चाहता है कि आप उसे छोड़ दें। हालांकि जरूरी नहीं है कि हर मामले में ऐसा होता हो। इसलिये गलतफहमी पालने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आपसे बेहतर अपने साथी को कोई नहीं जानता।

इसलिये हग डे पर अपने साथी को एक अच्छी सी जादू की झप्पी दें। हग डे के साथ साथ आपका वैलेंटाइन वीक प्यार भरा रहे। एस्ट्रोयोगी की ओर से हग डे की हार्दिक शुभकामनाएं।

हग डे पर जानें कैसे आपके रिश्ते में आयेगी मिठास, हमारे लव गुरुओं से करें बात


यह भी पढ़ें

प्रोमिस डे   |   टैडी डे   |   चॉकलेट डे   |   वैलेंटाइन वीक   |   रोज़ डे  |   प्रपोज डे   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2019

पढ़ें अपनी प्रेम प्रोफाइल   |   प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग 

कुंडली में प्रेम   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग   |   पढ़ें साल की लव रिपोर्ट   |   दैनिक लव राशिफल

  

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜