Skip Navigation Links
किस डे – किस करते समय रखें ध्यान


किस डे – किस करते समय रखें ध्यान

वैलेंटाइन वीक का खुमार अब अपने चरम पर है अपने प्रिय को गुलाब का फूल देकर शुरु हुआ प्रेम सप्ताह में फिर प्यार के इजहार हुआ। चॉकलेट और टेडी डे पर प्यारा सा उपहार दिया तो जनाब अब बारी है गले लगने की, किस करने की और होठों में जो बात दबाकर आप चले आ रहे हैं उसे कहने की यानि वैलेंटाइन डे मनाने की। अपने इस लेख में हम बात करेंगें वैलेंटाइन वीक के बहुत ही खास दिन की जिसका सभी प्रेमी युगल बेसब्री से इंतजार करते हैं। जी हां किस डे उन्हीं खास दिनों में से एक है। हालांकि जिसे आप चाहते हैं उसे किस करने यानि की चूमने के लिये किसी विशेष दिन की आवश्यकता नहीं होती लेकिन कभी-कभी अपने रोमांस को बढ़ाने व उसमें चार चांद लगाने के लिये बतौर उत्सव भी इन्हें मनाना चाहिये।

किस डे पर जानें कैसे आपके रिश्ते में आयेगी मिठास, हमारे लव गुरुओं से करें बात सिर्फ 100 रुपये में : Apply Coupon Code – LOVE100

किस क्या है?

जब कोई आपको प्यारा लगता है, मासूम लगता है, अपने दिल के करीब लगता है, अपनी जान का एक टुकड़ा लगता है तो उसे हम जी भर कर प्यार करना चाहते हैं। किस उसी प्यार को अभिव्यक्त करने का एक माध्यम है।


किस करते समय रखें ध्यान

हर रिश्ते के साथ हम अलग से पेश आते हैं। जो भावनाएं एक बच्चे को चूमकर प्यार करने में होती हैं जाहिर सी बात है वह एक प्रेमिका के साथ नहीं होंगी। वैलेंटाइन वीक में जब हम किस डे की बात करते हैं उसका सीधा सा मतलब प्रेमी युगलों से संबंधित है। तो प्रेमीजन एक दूसरे को कैसे चूमें? जो पिछले काफी लंबे समय से एक दूसरे से साथ संबंध में हैं उनके लिये किस करना आम हो चुका होता है लेकिन जिनके लिये किस डे पर किस करने का पहला मौका है वे थोड़ा असमंजस में रहते हैं और थोड़े असहज भी। इसलिये अपने साथी को चूमते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

पहली बात तो यह है कि अपने साथी की भावनाओं का खयाल रखना जरूरी है किसी भी प्रकार की तत्परता या जल्दबाजी न दिखायें जिससे आपके साथी को असहजता महसूस हो। हालांकि ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है कि लड़कियां किस करने की पहल करें इसलिये प्रेमी को ही यह पहल करनी होती है लेकिन उसके लिये सही समय का इंतजार भी करना होता है। किस डे एक अवसर जरूर है लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस हद तक का रिश्ता अपने साथी के साथ कायम कर पायें हैं। इसलिये उतावलापन त्याग दें और लगे कि आपका साथी अभी तैयार नहीं है तो किसी तरह का दबाव न डालें।

किस करने के लिये माहौल को थोड़ा रोमांटिक बनाने की जरूरत होती है ताकि आपका साथी भी उसके लिये तैयार हो। किस करने का सही मौका खासकर प्रेम जीवन की शुरुआत करने वालों के लिये तब होता है जब मुलाकात के बाद दोनों के बिछुड़ने का समय हो। इस गुडबॉय किस कह सकते हैं।

शुरुआती किस बहुत ही शालीन होनी चाहिये। अपने साथी का माथा चूमकर या फिर बंद होठों से हल्की सी छुअन के साथ भी किस की जा सकती है। हां अपने साथी के इशारे का इंतजार जरुर करें। मसलन जैसे वह आपकी आंखों में आंखे डाले हों आपको छू रही हो और यह प्रक्रिया लंबे समय तक चले तो आप आगे बढ़ सकते हैं। यदि आपका साथी आपको अच्छा रिस्पोंस दे रहा है तो आप किस को लंबे समय तक भी कर सकते हैं। पहले प्यार का पहला किस आपके लिये यादगार रहे इन्हीं शुभकामनाओं के साथ आप सभी को किस डे की हार्दिक शुभकामनाएं।

किस डे पर जानें कैसे आपके रिश्ते में आयेगी मिठास, हमारे लव गुरुओं से करें बात सिर्फ 100 रुपये में : Apply Coupon Code – LOVE100


यह भी पढ़ें

प्रोमिस डे   |   टैडी डे   |   चॉकलेट डे   |   वैलेंटाइन वीक   |   रोज़ डे  |   प्रपोज डे   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2018 

पढ़ें अपनी प्रेम प्रोफाइल   |   प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग 

कुंडली में प्रेम   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग   |   पढ़ें साल की लव रिपोर्ट   |   दैनिक लव राशिफल





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

जगन्नाथ रथयात्रा 2018 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन्दू धर्मग्रन्थ ब्रह्मपुर...

और पढ़ें...
जगन्नाथ पुरी मंदिर - जानें पुरी के जगन्नाथ मंदिर की कहानी

जगन्नाथ पुरी मंदिर...

सप्तपुरियों में पुरी हों या चार धामों में धामसर्वोपरी पुरी धाम में जगन्नाथ का नामजगन्नाथ की पुरी भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उड़िसा प्रांत के प...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...
तुला राशि में बृहस्पति की बदली चाल – जानिए किन राशियों के करियर में आयेगा उछाल

तुला राशि में बृहस...

ज्ञान के कारक और देवताओं के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति की ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बहुत अधिक मान्यता है। गुरु बिगड़ी को बनाने, बनते हुए को बिगाड़ने में समर्थ माने ...

और पढ़ें...