Kiss Day 2020: किस डे क्या है? किस करते समय रखें ध्यान

वैलेंटाइन वीक का खुमार अब अपने चरम पर है अपने प्रिय को गुलाब का फूल देकर शुरु हुआ प्रेम सप्ताह में फिर प्यार के इजहार हुआ। चॉकलेट और टेडी डे पर प्यारा सा उपहार दिया तो जनाब अब बारी है गले लगने की, किस करने की और होठों में जो बात दबाकर आप चले आ रहे हैं उसे कहने की यानि वैलेंटाइन डे मनाने की। अपने इस लेख में हम बात करेंगें वैलेंटाइन वीक के बहुत ही खास दिन की जिसका सभी प्रेमी युगल बेसब्री से इंतजार करते हैं। जी हां किस डे (Kiss Day) उन्हीं खास दिनों में से एक है। हालांकि जिसे आप चाहते हैं उसे किस करने यानि की चूमने के लिये किसी विशेष दिन की आवश्यकता नहीं होती लेकिन कभी-कभी अपने रोमांस को बढ़ाने व उसमें चार चांद लगाने के लिये बतौर उत्सव भी इन्हें मनाना चाहिये।

 

किस डे पर जानें कैसे आपके रिश्ते में आयेगी मिठास, हमारे लव गुरुओं से करें बात

 

किस क्या है?

जब कोई आपको प्यारा लगता है, मासूम लगता है, अपने दिल के करीब लगता है, अपनी जान का एक टुकड़ा लगता है तो उसे हम जी भर कर प्यार करना चाहते हैं। किस उसी प्यार को अभिव्यक्त करने का एक माध्यम है।

 

किस करते समय रखें ध्यान

 

1.      हर रिश्ते के साथ हम अलग से पेश आते हैं। जो भावनाएं एक बच्चे को चूमकर प्यार करने में होती हैं जाहिर सी बात है वह एक प्रेमिका के साथ नहीं होंगी। वैलेंटाइन वीक में जब हम किस डे की बात करते हैं उसका सीधा सा मतलब प्रेमी युगलों से संबंधित है। तो प्रेमीजन एक दूसरे को कैसे चूमें? जो पिछले काफी लंबे समय से एक दूसरे से साथ संबंध में हैं उनके लिये किस करना आम हो चुका होता है लेकिन जिनके लिये किस डे पर किस करने का पहला मौका है वे थोड़ा असमंजस में रहते हैं और थोड़े असहज भी। इसलिये अपने साथी को चूमते समय इन बातों का ध्यान जरूर रखें।

 

2.     पहली बात तो यह है कि अपने साथी की भावनाओं का खयाल रखना जरूरी है किसी भी प्रकार की तत्परता या जल्दबाजी न दिखायें जिससे आपके साथी को असहजता महसूस हो। हालांकि ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है कि लड़कियां किस करने की पहल करें इसलिये प्रेमी को ही यह पहल करनी होती है लेकिन उसके लिये सही समय का इंतजार भी करना होता है। किस डे एक अवसर जरूर है लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस हद तक का रिश्ता अपने साथी के साथ कायम कर पायें हैं। इसलिये उतावलापन त्याग दें और लगे कि आपका साथी अभी तैयार नहीं है तो किसी तरह का दबाव न डालें।

 

3.     किस करने के लिये माहौल को थोड़ा रोमांटिक बनाने की जरूरत होती है ताकि आपका साथी भी उसके लिये तैयार हो। किस करने का सही मौका खासकर प्रेम जीवन की शुरुआत करने वालों के लिये तब होता है जब मुलाकात के बाद दोनों के बिछुड़ने का समय हो। इस गुडबॉय किस कह सकते हैं।

 

4.     शुरुआती किस बहुत ही शालीन होनी चाहिये। अपने साथी का माथा चूमकर या फिर बंद होठों से हल्की सी छुअन के साथ भी किस की जा सकती है। हां अपने साथी के इशारे का इंतजार जरुर करें। मसलन जैसे वह आपकी आंखों में आंखे डाले हों आपको छू रही हो और यह प्रक्रिया लंबे समय तक चले तो आप आगे बढ़ सकते हैं। यदि आपका साथी आपको अच्छा रिस्पोंस दे रहा है तो आप किस को लंबे समय तक भी कर सकते हैं। पहले प्यार का पहला किस आपके लिये यादगार रहे इन्हीं शुभकामनाओं के साथ आप सभी को किस डे की हार्दिक शुभकामनाएं।

 

यह भी पढ़ें

प्रोमिस डे   |   टैडी डे   |   चॉकलेट डे   |   वैलेंटाइन वीक   |   रोज़ डे  |   प्रपोज डे   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2020 

पढ़ें अपनी प्रेम प्रोफाइल   |   प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग 

कुंडली में प्रेम   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग   |   पढ़ें साल की लव रिपोर्ट   |   दैनिक लव राशिफल

 

 

एस्ट्रो लेख

हनुमान जी के इस...

क्या आपने कभी सुना या पढ़ा है कि भगवान भी अपने भक्त को किसी मांग के पूरा होने की गारंटी दे सकते हैं। जी हाँ, अपने ऐसा कभी सोचा भी नहीं होगा। लेकिन कर्नाटक राज्य के गुलबर्गा क्षेत्र ...

और पढ़ें ➜

गंधमादन पर्वत -...

श्री हनुमान चालीसा में गोस्वामी तुलसीदास ने भी लिखा है कि – ‘चारो जुग परताप तुम्हारा है परसिद्ध जगत उजियारा।’ इस चौपाई में साफ संकेत है कि हनुमान जी ऐसे देवता है, जो हर ...

और पढ़ें ➜

बुध का मीन राशि...

मीन राशि बुध की नीच राशि मानी जाती है जबकि कन्या में बुध उच्च के रहते हैं। 07 अप्रैल 2020 को अपराह्न 02 बजकर 34 मिनट पर  बुध मीन में गोचर कर रहे हैं। उच्च राशि में बुध लगभग शुभ फलद...

और पढ़ें ➜

चैत्र पूर्णिमा ...

पूर्णिमा यानि चंद्रमास का वह दिन जिसमें चंद्रमा पूर्ण दिखाई देता है। पूर्णिमा का धार्मिक रूप से बहुत अधिक महत्व माना जाता है। हिंदूओं में तो यह दिन विशेष रूप से पावन माना जाता है। ...

और पढ़ें ➜