Skip Navigation Links
प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017


प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017

नये साल में हर किसी को नई खुशियों का इंतजार है। कुछ प्यार में होते हैं कुछ इतंजार में होते हैं। जिन का दिल टूटा हो उन्हें जख्मों पर मरहम लगाने वाले का इंतजार होता है। तो प्रेम करने वालों के लिये नये साल में क्या कुछ खास है? उनके जीवन में प्यार की बहार लौटेगी या फिर उनकी हंसती खेलती दुनिया पर किसी ग्रह की मार पड़ने वाली है? क्या कहते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य आइये जानते हैं।

नव वर्ष 2017 की शुरुआत कन्या लग्न से हो रही है जिसकी वर्ष राशि मकर है। प्रेम के कारक ग्रह चंद्रमा और शुक्र वर्ष आरंभ के समय क्रमश: मकर व कुंभ में रहेंगें। यही कारण है कि अधिकांश प्रेमियों के लिये वर्ष की शुरुआत थोड़ी निराशाजनक हो सकती है। इस समय यदि आप अपने साथी की भावनाओं को आहत करते हैं या फिर उनकी पीठ पिछे कोई और ही गुल खिलाने की कोशिश कर रहे हैं तो आपका भांडा फूट सकता है और भावनात्मक रूप से आपको काफी तकलीफ से गुज़रना पड़ सकता है। बेहतर है इस समय में आप अपने प्रेम में पारदर्शिता लायें क्योंकि पारदर्शिता न होने से ही आप लोगों का प्यार संघर्षमयी बना रहने के आसार बन सकते हैं। शुरुआती दो महीने तो विशेष रुप से इस पर गौर करें।

वर्ष के मध्य भाग में शुक्र उच्च राशि में रहने से प्रेमियों के लिये यह समय उत्साहजनक रहने के आसार हैं। इस समय लंबे समय से प्रेम में आयी दूरियां समाप्त होने के योग बनने की संभावना बलवती हो सकती हैं। अपने साथी का भरपूर समर्थन इस समय आपको मिलने की उम्मीद है। जिन जातकों को अपने प्यार का इज़हार करना है वे इस समय की सकारात्मकता का लाभ उठा सकते हैं।

वर्ष के उतरार्ध का समय भी प्रेमीजनों के लिये बहुत अनुकूल रहने की उम्मीद की जा सकती है। विशेषकर जो युगल इस समय अपने रिश्ते को एक नये मुकाम पर ले जाना चाहते हैं। एक दूसरे के साथ विवाह के बंधन में बंधना चाहते हैं, उनके लिये यह समय मनोकामना पूर्ण करने वाला साबित हो सकता है।

नये प्रेमी युगलों के लिये यह वर्ष मिलाजुला रहने के आसार हैं। लंबे समय से चल रहे प्रेम संबंधों के लिये यह वर्ष बृहस्पति के कारण उत्तम बना रहने की संभावना है। विशेषकर कन्या राशि के जातकों के लिये सितंबर तक का समय संघर्षमयी रह सकता है। प्रेम को पाने की इच्छा रखने वाले युवक-युवतियां भगवान विष्णु का या अपने घर में बड़ों का आदर पूजन करके अपने रिश्ते को खुशहाल बना सकते हैं।

संबंधित लेख

साल 2017 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   भारत खेल 2017 - खेलों के लिये कैसा है 2017   |   नववर्ष 2017 राशिफल    |

2017 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |   2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली   | 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...