कर्क राशि में मंगल गोचर – नीच के मंगल कर सकते हैं अमंगल

मंगल युद्ध के देवता, असीम ऊर्जा के प्रतिनिधि, राशिचक्र की पहली राशि मेष व आठवीं राशि वृश्चिक के स्वामी, जिन्हें भूमिपुत्र माना जाता है, भौमेय कहा जाता है। कुंडली में मंगल अमंगल के कारक भी बन जाते हैं। ज्योतिषशास्त्र में मंगल का गोचर बहुत मायने रखता है इसलिये मंगल ग्रह की हर गतिविधि को विद्वान ज्योतिषाचार्य बहुत महत्वपूर्ण मानते हैं। 22 जून को रात्रि 11 बजकर 48 मिनट पर मंगल का राशि परिवर्तन होगा। इस समय मंगल मिथुन राशि से कर्क में आ जायेंगें जहां बुध पहले से विराजमान हैं। कर्क राशि में मंगल को नीच का माना जाता है इससे लगभग सभी राशियों पर किसी न किसी रूप में नकारात्मक प्रभाव पड़ने के आसार हैं। मंगल का यह परिवर्तन आपके लिये क्या परिणाम लेकर आ सकता है आइये जानते हैं।

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के अनुसार बनाया गया है। मंगल का फल आपकी कुंडली में मंगल की दशा, उनकी स्थिति पर निर्भर करेगा। इसलिए हमारी सलाह है कि मंगल आपके लिये मंगलकारी रहेंगें या फिर किसी अमंगल के संकेत कर रहे हैं इसके लिये एस्ट्रोयोगी पर विद्वान ज्योतिषाचार्यों से गाइडेंस लें। पंडित जी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

मेष

मेष राशि से मंगल का परिवर्तन चौथे घर में हो रहा है। जो कि पारिवारिक व सुख सुविधाओं से संबंधित माना जाता है। आपके राशि स्वामी भी मंगल हैं जो कि उनकी नीच माने जानी वाली राशि कर्क में गोचररत होंगें। इसलिये आपके लिये स्वास्थ्य की दृष्टि से यह समय सही नहीं कहा जा सकता। विशेष रूप से मानसिक चिंताएं आपको इस दौरान हो सकती हैं। कार्यस्थल पर भी आप इसके प्रतिकूल प्रभाव को देख सकते हैं। 

वृषभ

वृषभ राशि से मंगल का परिवर्तन तीसरे स्थान में हो रहा है जो कि पराक्रम का क्षेत्र माना जाता है। मंगल के परिवर्तन के कारण इस समय आप कार्यक्षेत्र में काफी दबाव महसूस कर सकते हैं। आप महसूस करेंगें की आपके कामकाज पर पैनी नज़र रखी जा रही है। परिवार में भी भाई बहनों के प्रति आपसी व्यवहार हो सकता है सौहार्दपूर्ण न रहे और उनके साथ कुछ खटपट रहने की संभावना है। 

मिथुन

मिथुन राशि से मंगल का परिवर्तन द्वीतीय भाव में हो रहा है। जो कि धन का स्थान माना जाता है। मंगल गोचर आपकी ही राशि से हो रहा है। परिवर्तन के कुछ समय बाद आप महसूस कर सकते हैं कि आपके खर्चों में इज़ाफ़ा कुछ ज्यादा ही हो रहा है और आप पर कर्ज का बोझ भी बढ़ रहा है। यदि आप कर्ज के बोझ तले नहीं दबे हैं और आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी है तो आपके लिये सलाह है कि इस समय किसी को कर्ज़ न दें। दरअसल इस समय दिया गया पैसा फंसने की संभावनाएं अधिक हैं। अपनी सेहत का भी ध्यान रखें, सरदर्द से थोड़ा बहुत परेशान होना पड़ सकता है। यात्राओं के दौरान भी अपना ध्यान रखें।

कर्क

कर्क राशि में ही मंगल का परिवर्तन हो रहा है। इससे आपकी स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं बढ़ सकती हैं। छोटी छोटी बातों से आप अपने अंदर एक चिड़चिड़ापन महसूस कर सकते हैं। यही चीज़ें आपके कार्य में भी बाधाएं बनकर सामने आ सकती हैं। नीचस्थ मंगल के कारण आप कुसंगति का शिकार भी हो सकते हैं। जिससे आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल हो सकती है। दुर्व्यसनों व दुर्जनों से दूर ही रहें तो बेहतर होगा। अपने जीवनसाथी की बातों को अनसुना न करें उनकी सलाह आपके लिये हितकर साबित हो सकती है।

सिंह

सिंह राशि से मंगल का परिवर्तन 12वें घर में हो रहा है। जो कि आपका व्यय व निवेश का घर है। 12वां मंगल क्रोध की प्रवृति को भी बढ़ाता है। इस समय आप स्वयं को मानसिक रूप से चिंतित महसूस कर सकते हैं। इस समय छोटे-छोटे रास्तों से धन कमाने के बारे में न सोचें। विशेषकर शेयर बाज़ार से दूर ही रहें। निवेश किये हुए धन को इस समय निकालने की न सोचें। यदि पहले से ही आपने किसी लंबी यात्रा की योजना बना रखी है तो यदि संभव हो तो अपनी यात्रा के कार्यक्रम को फिलहाल के लिये टाल दें। यदि यात्रा पर जाना आवश्यक हो तो यात्रा के दौरान अपने साज़ ओ सामान का ध्यान रखें आपकी किसी प्रियवस्तु के खो जाने की संभावनाएं हैं।

कन्या

कन्या राशि से मंगल का परिवर्तन वैसे तो लाभ घर में हो रहा है। लेकिन इस मंगल अपनी नीच राशि कर्क में होंगे जिस कारण आप भी इसके नकारात्मक प्रभाव की चपेट में आ सकते हैं। इस समय आपको अपनी आमदनी अठन्नी तो खर्चा रूपैया नज़र आ सकता है। अपनी आर्थिक स्थिति को देखते हुए भविष्य के बारे में विचार करने का आपके लिये यह उपयुक्त समय है। यदि आपने अपने काम में अपने स्थान में किसी भी तरह के बदलाव का विचार बना रखा है तो ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि यह समय आपके लिये सही नहीं है आपको इसके लिये थोड़ा इंतजार और करना चाहिये। इस समय अज्ञात शत्रु आपको नुक्सान पंहुचाने का प्रयास कर सकते हैं चौकस रहें। इस समय अपने राज़ को राज़ ही रहने दें किसी को अपना राज़दार न बनाना ही आपके लिये बेहतर है।

अन्य ग्रह गोचर 2019 के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें | 

 

तुला

तुला राशि से मंगल का परिवर्तन कर्म भाव में हो रहा है। कार्यक्षेत्र में नौकरी या व्यवसाय में हानि होने के संकेत भी हैं। या फिर आपके ऊपर कार्य का अत्यधिक दबाव आ सकता है। यह समय आपके लिये केवल मन लगाकर कार्य करने का है किसी विशेष लाभ की अपेक्षा न रखें। पिता के साथ संबंधों में या फिर पिता के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं रह सकती हैं। प्रेम प्रसंगों में भी चिंताओं के संकेत दिखते हैं।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि से मंगल का परिवर्तन नौंवे घर में होगा जो कि भाग्य का घर है। पिछले कुछ समय से अष्टम मंगल के कारण आप जिन चिंताओं या स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से झूझ रहे थे, इस समय उनसे आपको राहत मिल सकती है। हालांकि अष्टम मंगल के समय किये गये कार्यों का फल आपको धीमा ही मिलने के आसार हैं क्योंकि भाग्य घर में मंगल का प्रभाव आपके भाग्य को बाधित कर सकता है। यह समय बिल्कुल भी भाग्य के भरोसे बैठने का नहीं आपको स्वयं की मेहनत पर ही भरोसा रखने की आवश्यकता है।

धनु

धनु राशि से मंगल का परिवर्तन अष्टम घर में हो रहा है। अष्टम घर का मंगल कभी-कभी वाहन दुर्घटना के योग बनाता है इसलिये वाहन आदि चलाते समय सतर्क रहें और किसी तरह का जोखिम न उठाएं तो बेहतर रहेगा। अग्नि आदि से भी आपको इस समय बचने की आवश्यकता है। इस समय न्यायिक विवादों से जितना हो सके दूर रहें। दूर की यात्राओं के योग भी बन सकते हैं। इस समय आपके खर्चों की नज़र आपके संचित धन पर हो सकती है इसलिये आपके लिये सलाह है कि सोच समझकर ही आवश्यक वस्तुओं पर ही अपनी जमा पूंजी को लगायें व्यर्थ के खर्चों से बचें। दांपत्य जीवन की बात करें तो मंगल का परिवर्तन आपके दांपत्य जीवन के लिये मंगलकारी रहने के आसार हैं।

मकर

मकर राशि से मंगल का परिवर्तन सप्तम घर में हो रहा है जो कि आपके दांपत्य का घर है। दांपत्य जीवन की ओर से आपको बहुत सतर्क रहने की जरूरत है। अपने व्यवहार को संयमित रखें, आवेश में आकर कोई भी बात न कहें न ही कोई कदम उठाएं अन्यथा आपके पारिवारिक जीवन में मनमुटाव बढ़ सकते हैं। जो जातक लंबे समय से संबंध विच्छेद के लिये प्रयासरत हैं हैं उनके लिये समय उचित कहा जा सकता है और वे अपने अनैच्छिक साथी से छुटकारा पा सकते हैं। मादक पदार्थों व वसायुक्त व्यंजनों से बचकर रहना इस समय आपके लिये हितकर है अन्यथा आपको उदर संबंधी समस्याओं से दो चार होना पड़ सकता है। कामकाजी जीवन में भी आपको सावधानी से काम करने की आवश्यकता है विशेषकर कागजी कार्रवाई को अच्छे से देखभाल कर पूरा करें।

यह भी पढ़ें:   मंगल दोष - जानें कुंडली में मंगल दोष निवारण के उपाय   |   मूंगा रत्न – मंगल की पीड़ा को हर लेता है मूंगा   |   युद्ध देवता मंगल का कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा

 

कुंभ

कुंभ राशि से मंगल का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है। मंगल आपके रोग व शत्रु घर में विचरण करेंगें। यह समय  आपके लिये शत्रु व रोग बढ़ाने वाला रहने के आसार हैं। किसी पुराने रोग व पुराने शत्रु के प्रति आपको सचेत रहने की आवश्यकता है इस समय ये उभार ले सकते हैं और आपको परेशान कर सकते हैं। भाग्य स्थान में मंगल की दृष्टि होने से आप अपने आपको इस समय भाग्यहीन महसूस कर सकते हैं जो कि सत्य नहीं है। आपकी ईमानदारी और आपकी कर्मठता ही आपके भाग्य को बनाती है।

मीन

मीन राशि से मंगल का परिवर्तन पंचम भाव में हो रहा है जो कि आपकी बुद्धि व सोच का कारक है। इस समय यदि किसी महत्वपूर्ण प्रवेश परीक्षा में भाग ले रहे हैं तो परीक्षा तो थोड़ा सावधानी पूर्वक करें, हड़बड़ी न करें और संयम के साथ ध्यान से सवालों के जवाब दें। जो जातक किसी से नये संबंध स्थापित कर रहे हैं ये संबंध व्यक्तिगत हों या व्यावसायिक दोनों ही सूरतों में सतर्कता से आगे बढ़ने की आवश्यकता है। प्रेमी युगलों के बीच यह समय दूरी पैदा कर सकता है गलतफ़हमियों का शिकार न बनें ना ही किसी को अपने बीच गलतफ़हमी पैदा करने का मौका दें। इस समय किसी विश्वासपात्र व्यक्ति से धोखा मिलने के योग भी हैं, अपने पराये की परख आपको इस समय हो सकती है। अपने अधीनस्थ लोगों की कार्यशैली पर भी ध्यान रखें कहीं कोई आपको चपत न लगा दे। 

 

 

एस्ट्रो लेख

सावन अमावस्या 2...

अमावस्या तिथि बहुत मायने रखती है। हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष का यह अंतिम दिन होता है। अमावस्या की रात्रि को चंद्रमा घटते-घटते बिल्कुल लुप्त हो जाता है। सूर्य ग्रहण जैसी खगोल...

और पढ़ें ➜

सावन शिवरात्रि ...

 सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते है...

और पढ़ें ➜

सावन का दूसरा स...

सावन का पूरा महिना भगवान शिव की अराधना का महिना होता है। इस महिने में शिव पूजा, जलाभिषेक करने से अत्यंत लाभदायक फल इंसान को मिलते हैं। जिनका अपना अपना महत्व होता है। 2019 के सावन क...

और पढ़ें ➜

सावन 2019 में ब...

हिन्दू पंचांग में श्रावण मास सबसे पवित्र मासों में से एक है। यह माह प्रभु शिव को समर्पित है और इस पावन अवसर पर बड़ी तादात में शिव भक्त देश-विदेश के शिव मंदिरों में जाकर उनके शिवलिंग...

और पढ़ें ➜