Skip Navigation Links
Mangal Vakri 2018 – वक्री मंगल किसे करेंगें खुशहाल तो कौन होगा बदहाल? जानिए


Mangal Vakri 2018 – वक्री मंगल किसे करेंगें खुशहाल तो कौन होगा बदहाल? जानिए

वर्तमान में मंगल मकर राशि में गोचर कर रहे हैं। 27 जून 2018 को मध्यरात्रि के पश्चात 2 बजकर 35 मिनट पर मंगल की चाल में बदलाव होगा। अपनी उच्च राशि मकर में विचरण कर रहे मंगल इस समय से उल्टी चाल चलने लगेंगे यानि मंगल वक्री होकर गोचर करने लगेंगें। इसका प्रभाव यह होगा कि मंगल के उच्च होकर गोचर करने से जिन्हें उम्मीद की किरण नज़र आने लगी थी उनके लिये फिर से कुछ समय के लिये निराशा के बादल उमड़ घुमड़ कर आ सकते हैं।

मंगल का वक्री होना ज्योतिषशास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना है। क्योंकि मंगल की चाल से ही मंगल व अमंगल का विचार किया जाता है। मंगल ऊर्जा के कारक माने जाते हैं। स्वभाव में अहंकार की, क्रोध की भावना बढ़ सकती है। नकारात्मकता हावि होने का प्रयास कर सकती है। आपकी राशि से मंगल भाव स्थान के अनुसार क्या परिणाम लेकर आ सकते हैं आइये जानते हैं।


मेष

मेष राशि वालों के लिये मंगल दसवें यानि कर्म भाव में वक्री हो रहे हैं। इस समय आप पर काम का बोझ थोड़ा बढ़ने के आसार हैं। काम का दबाव से अनावश्यक तनाव भी आपको हो सकता है। पिता या पिता के समान किसी व्यक्ति से आपके मतभेद बढ़ सकते हैं, उनके साथ मनमुटाव हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता इस समय रहेगी। हालांकि माता की सेहत में इस समय सुधार महसूस कर सकते हैं।


वृष

वृषभ राशि वालों के लिये मंगल भाग्य स्थान में उच्च होकर गोचररत हैं जहां वे वक्री हो रहे हैं। हाल ही में मंगल के कारण आपके जो कार्य आसानी से बन रहे थे आप देखेंगें कहीं न कहीं उनमें आपको बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है। यदि किसी परियोजना में धन निवेश किया है तो उसमें भी हो सकता है आपको अपेक्षित परिणाम न मिलें। कड़ी मेहनत के बावजूद अनुकूल परिणाम न मिलने से आप थोड़े निराश भी रह सकते हैं।


मिथुन

मिथुन राशि वालों के लिये अष्टम भाव में मंगल वक्री हो रहे हैं। कामकाजी जीवन में आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। हाल ही में यदि आपको नई जिम्मेदारियां मिली हैं तो उनका दबाव महसूस कर सकते हैं। टारगेट बढ़ने से भी आपको उन्हें पूरा करने की चिंता सता सकती है। जो काम आसानी से बनते नज़र आ रहे थे उनके पूरा होने में विलंब हो सकता है। इस समय आपके प्रतिद्वंदी भी आप पर हावि रह सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि धैर्य के साथ इस समय को व्यतीत करें।


कर्क

कर्क राशि वालों के लिये सप्तम भाव में मंगल का वक्री होना दांपत्य जीवन के लिये अमंगल के संकेत कर रहा है। करियर के दृष्टिकोण से देखा जाए तो आपके कार्यों की गति धीमी रह सकती है। अपने स्वास्थ्य का भी आपको इस समय ध्यान रखने की आवश्यकता रहेगी क्योंकि अपनी हेल्थ में थोड़ी गिरावट महसूस कर सकते हैं। इस समय आपकी बचत में सेंध लग सकती है। अनावश्यक खर्चों से जितना हो सके बचने का प्रयास करें।


सिंह

सिंह राशि वाले जातकों के लिये छठे घर में मंगल का वक्री होना स्वास्थ्य के मामले में सचेत रहने की ओर संकेत कर रहा है। शारीरिक तौर पर कमजोरी महसूस कर सकते हैं। खान पान का ध्यान रखें। साथ ही इस वक्त का तकाजा यह है कि आप अपने प्रतिद्वंदियों, विपक्षियों, विरोधियों से भी सावधान रहें। भाग्य का साथ आपको हो सकता है इस समय कम मिले। हाल ही में यदि आपने धन निवेश किया है। तो उससे होने वाले धन लाभ में भी कमी आ सकती है।


कन्या

कन्या राशि वालों के लिये मंगल पंचम स्थान में वक्री हो रहे हैं। संतान पक्ष को लेकर आप चिंति रह सकते हैं। यह चिंता उनकी शिक्षा से भी जुड़ी हो सकती है। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ इस समय खटपट होने के पूरे-पूरे आसार नज़र आ रहे हैं। आपके लिये इस समय यात्राओं के योग भी बन रहे हैं जिनमें फिजूलखर्ची की प्रबल संभावनाएं हैं। आपके लिये सलाह है कि व्यर्थ में पैसा बहाने की अपनी प्रवृति पर थोड़ा नियंत्रण रखने का प्रयास करें। फाइनेंशियली देखा जाए तो धन निवेश करने के लिहाज से भी यह समय सही नहीं है। मिलने वाले लाभ हो सकता है अपेक्षानुसार न मिलें।


तुला

आपकी राशि से मंगल का सुख भाव यानि चतुर्थ स्थान में वक्र हो रहे हैं। चौथे भाव के वक्री मंगल आपके लिये माता के साथ संबंधों में थोड़ी खटास पैदास करने वाले रह सकते हैं। इस समय आप भौतिक सुख साधनों की कमी भी महसूस कर सकते हैं। रोमांटिक लाइफ में भी हो सकता है आपको परेशानियों का सामना करना पड़े। कार्यक्षेत्र में कुछ बदलाव हो सकते हैं जिसके लिये संभव है आपको स्थान भी परिवर्तित करना पड़े। अतीत में किये किसी निवेश से आपको जो धन लाभ मिल रहा है उसमें थोड़ी कमी आ सकती है।


वृश्चिक

मंगल आपकी राशि के स्वामी भी हैं जो कि पराक्रम में उच्च होकर गोचर कर रहे हैं। पराक्रम में उच्च मंगल के वक्री होने से आपको मिलने वाले लाभ हो सकता है अपेक्षा से थोड़े कम हों। इस समय व्यवसायी जातकों को कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है। भाग्य से भी आपको इस समय अनुकूल सहयोग मिल सकता है। इस समय आप पर काम का दबाव भी कुछ ज्यादा ही रहेगा जिससे आप थोड़ा तनाव भी महसूस कर सकते हैं। लेकिन कुल मिलाकर देखा जाये तो वक्री मंगल आपके लिये लाभकारी रहने वाले हैं।


धनु

धनु राशि वालों के लिये मंगल धन भाव में वक्री हो रहे हैं। इस समय यदि आपको पैतृक संपत्ति से कुछ मिलने की उम्मीद है तो इसमें देरी हो सकती है। रोमांटिक लाइफ के लिये भी वक्री मंगल अनुकूल नहीं कहे जा सकते। आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। प्रेम संबंधों में अड़चन आ सकती है। मंगल आपके लिये इस समय यात्रा के योग भी बना रहे हैं यात्रा के दौरान सचेत रहें धन हानि के योग भी बन रहे हैं। भाग्य के भरोसे इस समय बिल्कुल न बैठें। भाग्य का साथ आपको कम ही मिलने वाला है।


मकर

मंगल आपकी राशि में ही गोचररत हैं। आपकी राशि में मंगल के वक्री होने से आपकी लाइफ कुछ इस कदर प्रभावित होने वाली है। यदि आपने कहीं बाहर घुमने का प्रोग्राम बना रखा है तो हो सकता है उसे कुछ समय के लिये टालना पड़े। यानि यात्रा में विलंब की संभावना है। यदि घर या गाड़ी खरीदने को लेकर भी प्रयासरत हैं तो आपको इसके लिये कुछ और समय तक इंतजार करना पड़ सकता है। सेहत की बात करें तो आपका स्वास्थ्य सामान्य बने रहने के आसार हैं। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ संबंधो को लेकर थोड़ा स्ट्रेस में रह सकते हैं।


कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये 12वें भाव में मंगल का वक्री होना प्रोपर्टी के लेन-देन संबंधी मामलों में देरी के संकेत कर रहा है। इस समय आप थोड़े आलसी भी रह सकते हैं। घर से लेकर दफ्तर तक दुनियादारी से आप निराश हो सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि जितना हो सके अपने आप को शांत रखने का प्रयास करें। प्रतिस्पर्धियों, विरोधियों, विपक्षियों से आपका विवाद बढ़ सकता है। मानसिक स्वास्थ्य पर आपको खास तौर पर ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी। इस समय ध्यान व योग क्रियाएं आपकी सहायक हो सकती हैं, इनके लिये समय अवश्य निकालें।


मीन

मीन राशि वाले जातकों के लिये मंगल लाभ घर में वक्री हो रहे हैं। लेकिन आप पर किसी भी तरह से वक्री मंगल का अशुभ प्रभाव दिखाई नहीं दे रहा। आप अपने जीवन के लगभग सभी क्षेत्रों में इस समय एक प्रगति देख सकते हैं। हालांकि इस समय आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता अवश्य रहेगी। वह इस मामले में कि आपका आत्मबल काफी मजबूत रहेगा। जिस कारण आप ओवरकोन्फिडेंस का शिकार हो सकते हैं। अति आत्मविश्वास के कारण आप कोई गलत कदम भी उठा सकते हैं। हमारी सलाह है कि संयम व धैर्य से काम लें व किसी भी तरह से किसी विवाद या बेकार की बहसबाजी में न पड़ें। देखा जाये तो वक्री मंगल अन्य राशियों की तुलना में आप पर कुछ अधिक मेहरबान हैं इसलिये इस शुभ समय का भरपूर लाभ उठाएं।

वक्री मंगल के नेगेटिव प्रभाव से बचने के लिये परामर्श लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...