वक्री मंगल किसे करेंगें खुशहाल तो कौन होगा बदहाल? जानिए

08 सितम्बर 2020

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, साल 2020 में क्रूर ग्रह मंगल 10 सितंबर 2020 को सुबह 3 बजकर 51 मिनट पर अपनी राशि मेष में वक्री होने जा रहे हैं और यह 04 अक्टूब 2020 तक इसी राशि में विराजमान रहेंगे इसके बाद 14 नवंबर को सुबह 6 बजकर 5 मिनट पर यह मार्गी हो जाएंगे। हालांकि मंगल की उल्टी चाल से मेष, कर्क, तुला और वृश्चिक राशि वालों के लिए परेशानी पैदा हो सकती है। इसके अलावा बाकी राशियों के लिए यह समय उत्तम रहेगा। 

मंगल वक्री होना ज्योतिषशास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना है। इस लिहाज से मंगल की चाल में आने वाले हर परिवर्तन पर ज्योतिषाचार्यों की निगाह गड़ी रहती है। क्योंकि मंगल की चाल से ही मंगल व अमंगल का विचार किया जाता है। मंगल ऊर्जा के कारक माने जाते हैं। स्वभाव में अहंकार की, क्रोध की भावना बढ़ सकती है। इतना ही नहीं मंगल के वक्री होने से देश में प्राकृतिक घटनाएं भी हो सकती हैं। आपकी राशि से मंगल भाव स्थान के अनुसार क्या परिणाम लेकर आ सकते हैं आइये जानते हैं।

 

मंगल वक्र आपके लिए कितना सही ?


मेष

मेष राशि वालों के लिये मंगल पहले भाव में वक्री हो रहे हैं। इस समय आप अहंकारी, पूर्वाग्रही और भावुक हो सकते हैं। आपकी मन स्थिर नहीं रहेगा जिसकी वजह से तनाव पैदा हो सकता है। स्वास्थ्य के प्रति भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता इस समय रहेगी। हालांकि आपका पराक्रम और बल बढ़ेगा। 

 

वृषभ

वृषभ राशि वालों के लिये मंगल बाहरवें भाव में वक्री हो रहे हैं। मंगल की उल्टी चाल के कारण आपकी सेहत खराब हो सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि ओवरईटिंग करने से बचें। आपको धन हानि का सामना करना पड़ सकता है। वृषभ राशि वालों को नुकीली चीजों, वाहन और मशीनरी के प्रयोग से परहेज करना चाहिए।

 

मिथुन

मिथुन राशि वालों के लिये ग्यारहवें भाव में मंगल वक्री हो रहे हैं। कामकाजी जीवन में आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन हिम्मत से काम लें। मंगल की उल्टी चाल से आपके आय पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए कार्यक्षेत्र में मन लगाकर और मेहनत से काम करें। आपकी मैरिड लाइफ में भी उथल-पुथल मच सकती है। हालांकि एग्रीकल्चर फील्ड में सफलता मिल सकती है।   


कर्क

कर्क राशि वालों के लिये दसवें भाव में मंगल का वक्री होना दांपत्य जीवन के लिये अमंगल के संकेत कर रहा है। करियर के दृष्टिकोण से देखा जाए तो आप अपने वर्तमान कार्यों से खुश नहीं रहेंगे और काम बदलने के बारे में सोचेंगे। साथ ही वित्त के मामले में भी आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए अनावश्यक खर्चों से जितना हो सके बचने का प्रयास करें। 

 

सिंह

सिंह राशि वाले जातकों के लिये नवम भाव में मंगल का वक्री होना स्वास्थ्य के मामले में सचेत रहने की ओर संकेत कर रहा है। आपका मन धार्मिक कार्यों में नहीं लगेगा। सिंह जातकों के आय के स्त्रोत समाप्त होने की संभावना है हालांकि परिवार की मदद से आप बहुत कुछ अच्छा कर सकेंगे।

 

कन्या

कन्या राशि वालों के लिये मंगल आठवें स्थान में वक्री हो रहे हैं। संतान पक्ष को लेकर आप चिंतित रह सकते हैं और परिजनों से मतभेद भी हो सकता है। करियर के मामले में आपको विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। आपके बनते कार्य बिगड़ भी सकते हैं जिसकी वजह से आपके अंदर चिड़चिड़ापन और तुनकमिजाजी आ सकती है। आपका वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। 

 

तुला

आपकी राशि से मंगल सप्तम स्थान में वक्री हो रहे हैं। सप्तम भाव के वक्री मंगल आपके वैवाहिक जीवन में थोड़ी खटास पैदा करने वाले रह सकते हैं। रोमांटिक लाइफ में भी हो सकता है आपको परेशानियों का सामना करना पड़े। वित्तीय मामले में आपको कर्ज तक लेने की नौबत आ सकती है। आपको सलाह दी जाती है साझेदारी में कोई भी कार्य ना करें वरना धोखाधड़ी की संभावना है। 


वृश्चिक

मंगल आपकी राशि के स्वामी भी हैं जो षष्ठम भाव में वक्री हो रहे हैं। मंगल के वक्री होने से लंबे वक्त से चली आ रही बीमारी ठीक होने की संभावना है। साथ ही आपके खर्चो में कमी आएगी और प्रॉपर्टी खरीदने के आसार हैं। करियर के मामले में आपको बॉस से परेशानी पैदा हो सकती है। हालांकि व्यापारी वर्ग के लिए लाभ की स्थिति बन रही है।  

 

धनु

धनु राशि वालों के लिये मंगल पंचम भाव में वक्री हो रहे हैं। इस समय रोमांटिक लाइफ के लिये भी वक्री मंगल अनुकूल नहीं कहे जा सकते। आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। प्रेम संबंधों में अड़चन आ सकती है। मंगल आपसे अधिक धन खर्च करवा सकते हैं जिससे धन हानि के योग भी बन रहे हैं। भाग्य का साथ आपको कम ही मिलने वाला है। आपको सलाह दी जाती है कि क्रोध पर काबू बनाकर रखें। 

मकर

मंगल मकर राशि में उच्च का होकर चौथे घर में वक्री हो रहा है। आपके लिए यह धन लाभ कमाने की संभावना पैदा कर रहा है। इसके अलावा आपको भूमि से भी लाभ प्राप्त हो सकता है। आपकी राशि में मंगल के वक्री होने से आपकी लव लाइफ और मैरिड लाइफ में चल रहे मतभेद समाप्त हो सकते हैं। करियर के मामले में मंगल की उल्टी चाल से आपको नौकरी और व्यापार में बदलाव के साथ लाभ भी मिलने की संभावना है।


कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये तृतीय भाव में मंगल का वक्री होना आपके क्रोध में वृद्धि करेगा जिसकी वजह से बनते काम आपके बिगड़ जाएंगे। आपका अपने भाई-बहनों से संबंध अच्छा नहीं रहेगा। आपको अपनी सेहत पर ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि कोई बड़ी चोट आपको लग सकती है। आपको सलाह दी जाती है कि आप प्रॉपर्टी से जुड़े कार्यों को फिलहान टाल ही दें।

 

मीन

मीन राशि वाले जातकों के लिये मंगल धन स्थान में वक्री हो रहे हैं। जिसकी वजह से आपको आर्थिक लाभ मिलेगा साथ ही आपकी सुख-सुविधाओं में बढ़ोत्तरी भी हो सकती है। मीन जातकों को परिवार और जीवनसाथी का भरपूर सहयोग मिलेगा। सरकारी कर्मचारी के ट्रांसफर होने की संभावना है हालांकि आपको इससे लाभ ही होगा। आप कोई नया वाहन भी खरीद सकते हैं। 

 

वक्री मंगल के नेगेटिव प्रभाव से बचने के लिये परामर्श लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

 

संबंधित लेख

इंदिरा एकादशी । जीवित्पुत्रिका व्रत । गोचर 2020 । वक्री ग्रह

 

एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

शनि मार्गी - शनिदेव की बदली चाल से क्या बदलेगी आपकी किस्मत?

Chat now for Support
Support