Skip Navigation Links
बुध का गोचर - मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल


बुध का गोचर - मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल

बुध जिन्हें बुद्धि का कारक माना जाता है ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये से काफी अहमियत रखते हैं। बुद्ध जातक के स्वभाव को प्रभावित करते हैं। बुध कब जातक की बुद्धि को भ्रष्ट कर दें और कब उसे बुद्धिबल से ही राजा बना दें जातक की कुंडलीनुसार बुध की दशा पर निर्भर करता है ऐसे में बुध का गोचर काफी मायने रखता है। 11 मार्च से बुध मीन में गोचर कर रहे हैं जोकि 27 मार्च को मेष राशि में दाखिल हो जायेंगें। मीन राशि में बुध को नीच का माना जाता है ऐसे में कुछ राशियों के लिये मीन राशि से मेष में बुध का परिवर्तन अच्छा रहेगा तो कुछ राशियों पर इसका नकारात्मक प्रभाव भी पड़ेगा। किस राशि पर बुध की दृष्टि कैसी रहेगी आइये जानते हैं क्या कहते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य।

मेष – 27 मार्च को राशि परिवर्तन के साथ ही बुध आपकी राशि में दाखिल हो जायेंगें जिसे आपके लिये शुभ का संकेतक माना जा सकता है। दरअसल मेष राशि में इस समय पहले से विराजमान मंगल ने आपका मिज़ाज थोड़ा गरम कर रखा है जिसके कारण हो सकता है आपकी बनती हुई बात भी बिगड़ जाती हो। बुध इस मामले में आपको थोड़ी सद्बुद्धि देंगें, आपकी वाणी में मधुरता व विनम्रता आ सकती है जिससे आप रूके हुए कार्यों को भी निकलवा लेंगें। अपने सपनों को साकार करने के लिये यह समय आपके लिये काफी शुभ कहा जा सकता है।

वृष – वृषभ स्वामी शुक्र वक्री होकर मीन राशि में विराजमान हैं, हालांकि मीन राशि में शुक्र उच्च के माने जाते हैं लेकिन वक्री होने के कारण आपके कार्य नहीं बन रहे हैं। आपकी राशि से 12वें भाव में बुध का परिवर्तन हो रहा है। इसका संकेत है कि आपको अपनी जेब पर थोड़ा ध्यान देने की जरूरत है, खर्च बढ़ सकते हैं नियंत्रण लाने का प्रयास करें। साथ ही आपका क्रोध भी बढ़ सकता है जो कि ठीक नहीं रहेगा, संयम रखने का प्रयास करें।

मिथुन – मिथुन राशि के स्वामी स्वयं बुध हैं। आपकी राशि से 11वें घर में राशि स्वामी का परिवर्तन हो रहा है। यह आपके लिये लाभ के अवसर उपलब्ध करवाने वाला समय हो सकता है। यदि पिछले कुछ समय से कोई कार्य रूका हुआ है तो उसके सिरे चढ़ने के आसार बनेंगें साथ ही आपको अपने किसी कार्य में अनपेक्षित रूप से लाभ मिल सकता है। अचानक धन प्राप्ति के योग प्रबल हैं।

कर्क – कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा मीन राशि में विराजमान है जो कि आपकी राशि से भाग्य स्थान में गोचर कर रहा है। यह समय आपके लिये भाग्य में वृद्धि का समय है। वहीं आपकी राशि से दशम भाव में बुध का परिवर्तन हो रहा है जो कि आपके कार्यक्षेत्र का कारक है। इसका संकेत है कि आपको अपने कार्यक्षेत्र में कोई बड़ी सफलता हाथ लग सकती है। जो जातक सरकारी नौकरी की चाह रखते हैं उनके लिये यह समय काफी उत्तम कहा जा सकता है।

सिंह – सिंह राशि के स्वामी सूर्य भी मीन राशि में विराजमान हैं जो कि आपकी राशि से आठवें भाव में हैं। अष्टम सूर्य व्यक्ति के जीवन में नये बदलाव लाने में सक्षम होते हैं। वहीं बुध का परिवर्तन आपकी राशि से 9वें भाव में हो रहा है जिससे आपका भाग्य और भी बलवान हो सकता है। आपके भाग्य का सितारा चमकने के संकेत हैं। यदि कोई नया कार्य प्रारंभ करना चाहते हैं तो आपके लिये बहुत ही शुभ समय है।

कन्या – आपके राशि स्वामी स्वयं बुध हैं जो कि राशि से आठवें स्थान पर परिवर्तित हो रहे हैं। आठवें बुध आपके लिये स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के कारक हो सकते हैं। अपनी वाणी में मधुरता रखें, आवेश में बिल्कुल भी न आयें। अपने खान-पान पर भी आपको ध्यान देने की जरूरत है।

तुला – तुला राशि के स्वामी शुक्र स्वयं मीन राशि में विराजमान हैं जो कि उच्च होकर वक्री बैठे हैं। आपके लिये बुध का मीन राशि से मेष राशि में परिवर्तन करना कार्य में बाधाएं खड़ी करने के योग बना रहा है। राशि से सातवें घर में बुध का प्रवेश का दांपत्य जीवन में परेशानियां खड़ी कर सकता है। यदि पहले से कोई छोटा मोटा मनमुटाव साथी के साथ चल रहा है तो इस समय यह छोटा मनमुटाव भी बड़ा रूप ले सकता है। आपके लिये सलाह है कि अपने साथी के साथ बिताये गये कुछ खास लम्हों को याद करते हुए इस विकट समय को व्यतीत करने का प्रयास करें।

वृश्चिक – वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल स्वयं स्वराशि होकर बैठे हैं जो कि आपकी राशि से छठवें बनते हैं। मंगल आपकी शत्रु से रक्षा कर रहे हैं। बुध के परिवर्तन से आपके लिये वातावरण और भी सुरक्षित होगा। बुध व मंगल की कृपा से इस समय आप कार्य में उन्नति कर सकते हैं साथ ही अपने कार्य में आपको अपेक्षित लाभ भी प्राप्त हो सकता है।

धनु – धनु राशि के स्वामी बृहस्पति वक्र होकर कन्या राशि में विराजमान हैं जिससे आपके लिये समय पहले से ही विकट परिस्थितियों वाला हो सकता है। बुध के मेष राशि में आने से आपको थोड़ी राहत मिल सकती है और कुछ शुभ समाचार भी आपको प्राप्त हो सकते है। विशेषकर संतान पक्ष की और से आपको खुशखबरी मिल सकती है। वहीं निर्णय भी आप सरलता से लेने में सक्षम हो सकते हैं।

मकर – मकर राशि का स्वामी धनु राशि में विराजमान है जो कि आपकी राशि से 12वां है लोह स्थान पर होने से अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। वहीं बुध का परिवर्तन आपकी राशि से चौथे स्थान पर हो रहा है। यह समय आपकी माता के लिये थोड़ा कष्टकारी हो सकता है। साथ ही आपकी सुख-सुविधाओं में भी कमी इस समय आ सकती है।

कुंभ – कुंभ राशि के स्वामी भी शनि हैं जो धनु राशि में विराजमान हैं जो कि जनवरी से ही आपके लिये लाभ के योग बना रहे हैं। आपकी राशि से बुध का परिवर्तन तीसरे भाव में होने से आपके पराक्रम में वृद्दि हो सकती है। कुल मिलाकर बुध का यह परिवर्तन आपके लिये आगामी समय भी सौभाग्यशाली रहने की संभावनाएं जता है रहा है।

मीन – राशि स्वामी कन्या राशि में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं और आपकी राशि को सपष्ट रूप से देख भी रहे हैं। फरवरी के प्रारंभ से ही आप अपने कार्यों में विपरीत प्रभावों को महसूस कर रहे होंगे लेकिन  बुध के इस परिवर्तन को आप सुखद रूप में देख सकते हैं। यह आपके लिये धन लाभ पाने के अवसर लेकर आ सकता है। आपके लिये धन लाभ के योग बन रहे हैं।

इस प्रकार सभी राशियों के लिये सकारात्मक व नकारात्मक दोनों तरह के परिवर्तन बुध लेकर आयेगा। बुध परिवर्तन के कारण आने वाले सुअवसरों का लाभ सुनिश्चित करने व कुप्रभावों से बचने के सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्य आपकी सहायता हेतु तत्पर हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

15 अप्रैल तक शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?   |   वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा   |  

शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर   |  बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर गुरु कन्या में हुए वक्री   |   

सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?   |   बुध बदलेंगे राशि - क्या होगा असर? जानें राशिफल




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...