Skip Navigation Links
तुला राशि में बुध - उच्च राशि कन्या से बुध के परिवर्तन का क्या होगा असर?


तुला राशि में बुध - उच्च राशि कन्या से बुध के परिवर्तन का क्या होगा असर?

ज्योतिषशास्त्र में बुध ग्रह को विवेक यानि ज्ञान का कारक माना जाता है। लेखन व प्रकाशन के क्षेत्र से भी इनका संबंध माना जाता है। बुध ग्रह अक्सर सूर्य के साथ-साथ या आस-पास ही रहते हैं। हाल ही में बुध ने अपनी उच्च राशि कन्या को छोड़कर तुला राशि में प्रवेश किया है, जहां ये 2 नवंबर तक बने रहेंगें। इस दौरान सभी 12 राशियों को बुध कैसे प्रभावित करेंगें आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि वालों के लिये बुध का परिवर्तन सातवें स्थान में हुआ है। इस समय आपको अपनी वाणी पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता रहेगी। जहां तक संभव हो अपने मुखारविंद से कोई ऐसा वचन न कहें जिससे किसी की भावनाएं आहत हों। साथी के साथ संबंधों को लेकर गलतफहमी का शिकार हो सकते हैं जिससे साथी से आपके अतंर्विरोध बढ़ने व घरेलू शांति भंग होने के आसार भी हैं। सरकारी कर्मचारी व अधिकारी जातक सतर्क रहें विशेषकर अपने लेन-देन का हिसाब साफ सुथरा रखें।

वृषभ आपकी राशि से बुध का गोचर छठे स्थान में हुआ है। यह समय आपके लिये शुभ कहा जा सकता है। विशेषकर संचार एवं ललित कला के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये बहुत अच्छा है। इस समय आपकी वित्तीय स्थिति बेहतर रहने के आसार हैं साथ ही शारीरिक तौर पर भी आप स्वयं को पूर्णत: स्वस्थ और ऊर्जावान महसूस कर सकते हैं। अपने प्रतिद्वंदियों पर इस समय आपको विजय प्राप्त हो सकती है। यह समय आपको नाम व प्रसिद्धि भी दिला सकता है।

मिथुन – बुध आपकी राशि के स्वामी हैं जो कि स्वराशि कन्या से शुक्र की राशि तुला में परिवर्तित हुए हैं। आपकी राशि से यह पंचंम भाव में गोचर कर रहे हैं। आपके लिये यह समय चुनौतिपूर्ण रह सकता है। व्यक्तिगत जीवन में आपको समस्याओं से दो चार होना पड़ सकता है, आप तनावग्रस्त महसूस कर सकते हैं। हो सकता है बनी बनाई योजनाएं भी सिरे न चढ़ें। व्यावसायिक तौर पर भी आर्थिक रूप से कुछ नुक्सान उठाना पड़ सकता है। आपका आत्मबल इस समय कमजोर रहने के आसार हैं। संतांन पक्ष की ओर से भी आपकी चिंताएं बढ़ सकती हैं।

कर्क – आपकी राशि से चतुर्थ स्थान यानि सुख भाव में बुध गोचररत रहेंगें। यह समय पैतृक संपत्ति या संपत्ति में किये गये निवेश के लिये लाभकारी रहने के आसार हैं। हालांकि इस समय आपकी कार्यक्षमता, ऊर्जा कम रहेगी जिससे आप थोड़ी सुस्ती भी दिखा सकते हैं। बढ़े हुए खर्च आपको परेशान कर सकते हैं। दोस्तों के साथ समय गुजारने, उनकी सहायता मिलने से थोड़ी राहत मिल सकती है।

सिंह – सिंह राशि से बुध तृतीय स्थान में विचरण कर रहे हैं। यह समय अपनी वित्तिय स्थिति की ओर झांकने का है। स्थिति को बेहतर करने के लिये कुछ चीज़ों पर पुन: विचार विमर्श कर उन्हें नये सिरे से करने की आवश्यकता हो सकती है। आपका रोमांटिक जीवन इस दौरान सामान्य बने रहने के आसार हैं। हो सकता है आप अपने साथी के लिये कम समय निकाल पायें। छोटी मोटी यात्रा भी आपको करनी पड़ सकती हैं हालांकि संभव है इस यात्रा से आपकी अपेक्षाएं पूरी न हों।

कन्या – कन्या राशि के स्वामी स्वंय बुध हैं जो कि आपकी ही राशि से परिवर्तित हुए हैं। बुध इस समय आपके धन भाव में गोचर कर रहे हैं जो कि आपके लिये वित्तीय तौर पर लाभ प्राप्ति के योग बना रहे हैं। संपत्ति संबंधी लेन-देन के मामलों में आप मुनाफा कमा सकते हैं। जो जातक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं उनके लिये भी यह समय बेहतर प्रदर्शन करने वाला रह सकता है। किस न किसी तरीके से आपके करीबी रिश्तेदारों की मदद से भी आपको लाभ मिल सकता है।

तुला – बुध आपकी ही राशि में गोचर कर रहे हैं। इस समय आपके दिमाग में अपने व्यवसाय को विस्तार देने की योजना हो सकती हैं। आध्यात्मिक गतिविधियों की ओर भी आपका रूझान हो सकता है। अपने गुस्से को काबू में रखने की आवश्यकता भी आपको होगी। कार्यस्थल पर किसी से भी वाद-विवाद करने से बचें। आवश्यकता करने पर कूटनीति का इस्तेमाल करें और बीच का रास्ता अपनाएं।

वृश्चिक – आपकी राशि से बुध 12वें भाव में आ रहे हैं। इस समय आपके खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। बचत करने बारे में तो इस समय भविष्य के लिये बचत करना भी आपके लिये मुश्किल हो सकता है। संभव है आप किसी परियोजना में निवेश करने का विचार बनायें। व्यक्तिगत जीवन में आपको परेशानियों से गुजरना पड़ सकता है। हालांकि आप व्यावहारिक तौर पर काफी शांत रह सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि इस समय कोई महत्वपूर्ण निर्णय न ही लें तो बेहतर रहेगा अन्यथा मुश्किल में पड़ने के आसार भी हैं। आपका रोमांटिक जीवन भी इस समय सामान्य बने रहने के आसार हैं।

धनु – लाभ घर में बुध के आने से धनु जातकों कों किसी मांगलिक कार्य के आयोजन में शिकरत करनी पड़ सकती है। जो जातक परिणय सूत्र में बंधकर एक होना चाहते हैं उनके लिये भी शुभ योग बन रहे हैं। व्यावसायिक तौर भी इस समय आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने का सामर्थ्य रखते हैं। साथी के साथ अच्छा समय व्यतीत करने को मिल सकता है। आपका स्वास्थ्य भी काफी अच्छा रहने के आसार हैं।

मकर – मकर जातकों के लिये बुध कार्यक्षेत्र में विचरण कर रहे हैं। दसवें स्थान में बुध का गोचर आपके लिये कार्योन्नति के संकेत कर रहा है। इस समय आप चुनौतियों का डटकर मुकाबला कर उन्हें पूरा कर सकते हैं। सहकर्मियों का भी भरपूर सहयोग आपको प्राप्त होने के आसार हैं। किसी भी कार्य को करने में किसी तरह का जोखिम न उठाएं न ही कोई जल्दबाजी करें।

कुंभ – भाग्य स्थान में बुध का गोचर आपके लिये भाग्य का साथ मिलने के संकेत कर रहा है। हालांकि यह भी संभव है कि इस समय धार्मिक गतिविधियों की ओर आपका रूझान कम ही रहे। जीवन साथी का भरपूर समर्थन आपको प्राप्त होने के आसार हैं। जो अविवाहित प्रेमी जातक एक दूसरे के साथ परिणय सूत्र में बंधना चाहते हैं यानि विवाह रचाना चाहते हैं उनके लिये परिस्थितियां अनुकूल रह सकती हैं।

मीन – मीन राशि वालों के लिये बुध अष्टम भाव में प्रवेश कर रहे हैं। अनपेक्षित धन लाभ के योग आपके लिये बन रहे हैं। हो सकता है कोई पुराना विवाद सुलझने या न्यायालय का फैसला आपके हक में आने पर आपको यह लाभ मिले। इस समय आप अपने प्रतिद्वंदियों, प्रतिस्पर्धियों को मात देने का माद्दा भी रखते हैं। सामाजिक तौर पर भी आपको काफी प्रशंसा मिल सकती है। निर्धारित समय में आप अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

आपकी कुंडली के अनुसार बुध ग्रह आपके लिये किस तरह लाभकारी हो सकते हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |   वक्री हुए बुध क्या पड़ेगा प्रभाव?

बुध का राशि परिवर्तन – वृषभ से मिथुन में जायेंगें बुध जानें राशिफल   |   बुध गोचर – बुध का परिवर्तन मेष से वृषभ राशि में   |   

मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल   |   बुध बदलेंगे राशि - कुंभ से मीन में होगा बुध का गोचर




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...