Skip Navigation Links
बुध ग्रह राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?



बुध ग्रह राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?

ज्ञान के कारक बुध ज्योतिषशास्त्र में खास मायने रखते हैं। सूर्य के लगभग साथ-साथ गोचर करने वाले बुध लेखन, प्रकाशन, लेखे-जोखे पर नज़र रखने वाले माने जाते हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार बुध की हर गतिविधि जीवन के विभिन्न पहलुओं में आपके हिसाब-किताब को संवार भी सकती है और बिगाड़ भी सकती है। हाल ही में बुध ने तुला राशि से परिवर्तन करते हुए वृश्चिक राशि में प्रवेश किया है। बुध के इस परिवर्तन का राशिनुसार आप पर क्या प्रभाव पड़ सकता है आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि के स्वामी मंगल हैं और बुध मंगल के स्वामित्व वाली राशि वृश्चिक जो कि आपकी राशि से अष्टम भाव है में प्रविष्ट हुए हैं। यह समय आपके लिये भाग्यशाली कहा जा सकता है। आपके मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा में वृद्धि होने के आसार भी हैं। इस समय आप अपने प्रतिद्वंदियों पर हावि रह सकते हैं। कार्यस्थल पर वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा आपके काम की प्रशंसा हो सकती है।

वृषभ – वृषभ राशि से बुध सप्तम भाव में दाखिल हुए हैं। रोमांटिक जीवन में थोड़ा संभल कर कदम बढ़ाने की आवश्यकता रहेगी धोखा खा सकते हैं। व्यवसायी जातकों के लिये यह समय थोड़ा परेशानी भरा रह सकता है। अपनी सेहत के प्रति भी आपको सचेत रहने की सलाह दी जाती है। आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाये रखने के लिये अपने खर्चों पर नियंत्रण रखने का प्रयास करें।

मिथुन – आपकी राशि के स्वामी स्वयं बुध हैं जो कि आपकी राशि से रोग व शत्रु घर में प्रवेश कर रहे हैं। यह समय आपके लिये अच्छा कहा जा सकता है। यदि किसी शारीरिक कष्ट से गुजरना पड़ रहा है तो आपको राहत मिल सकती है। कामकाजी जीवन में भी आपका प्रदर्शन अच्छा रहने के आसार हैं। कला क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये समय और भी सकारात्मक परिणाम लेकर आ सकता है। नाम व प्रसिद्धि पाने के अवसर मिल सकते हैं।

कर्क – आपकी राशि से बुध पांचवे स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। प्रेम संबंध, संतान, शिक्षा आदि के मामले में मन अशांत रह सकता है। आर्थिक तौर पर भी इस समय आपको तंगी झेलनी पड़ सकती है। व्यवसायी जातकों के लिये सलाह है कि किसी भी योजना पर इस समय आगे बढ़ने से पहले उसकी अच्छे से तैयारी कर लें और विभिन्न पहलुओं से उससे होने वाले लाभ व जोखिम का आकलन कर लें।

सिंह – आपकी राशि के स्वामी सूर्य हैं जो कि आपकी राशि से पराक्रम भाव में गोचर कर रहे हैं। बुध भी पराक्रम भाव में सूर्य के साथ मिलकर बुधादित्य योग का निर्माण कर रहे थे। लेकिन इस परिवर्तन के कारण बुध सूर्य का साथ छोड़कर आपकी राशि से चौथे स्थान में आ गये हैं जो कि आपके सुख का स्थान भी कहा जा सकता है। बुध का यह परिवर्तन आपके लिये सकारात्मक ही रहने के आसार हैं। यदि मां की सेहत को लेकर पिछले दिनों से चिंता बनी हुई थी तो उससे राहत मिल सकती है। इस समय आप नये दोस्त बना सकते हैं। रोमांटिक जीवन भी आपका अच्छा रहने के आसार हैं।

कन्या – कन्या राशि के स्वामी बुध ही हैं। आपकी राशि से राशि स्वामी बुध का परिवर्तन पराक्रम भाव में हो रहा है। बुध का यह गोचर आपके लिये नकारात्मक परिणाम लेकर आ सकता है। आपके पराक्रम में कमी आ सकती है। आलस्य की प्रवृति हावि हो सकती है खुद को थका हुआ भी महसूस कर सकते हैं। निकट संबंधियों से भी मतभेद पैदा होने के आसार बन सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि इस दौरान संयम से काम लें।

तुला – बुध का परिवर्तन आपकी ही राशि से हो रहा है। राशि से धन भाव में बुध के आने से आपकी आर्थिक स्थिति अच्छी रहने के आसार हैं। व्यावसायिक रूप से लाभ प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। हालांकि इस समय कुछ बचाने का विचार बना रहे हैं तो सफलता नहीं मिलेगी। लेकिन अपनी देनदारियों से मुक्ति पा सकते हैं।

वृश्चिक – बुध आपकी ही राशि में आ रहे हैं। बुध का यह परिवर्तन आपके लिये मिले जुले परिणाम लेकर आ सकता है, विशेषकर कार्यस्थल पर थोड़ा संभल कर रहें और अपने कार्यों को सतर्कता के साथ करें। लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये आपको कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता रहेगी। हो सकता है आपका प्रदर्शन अपेक्षानुसार न रहे। हालांकि आपकी आर्थिक स्थिति व व्यक्तिगत जीवन के लिये समय अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

धनु – हाल में हुए बुध के इस परिवर्तन से वह आपकी राशि से लाभ स्थान से खिसक कर व्यय भाव में आ गये हैं। यह समय आपके खर्चों में बढ़ोतरी लाने वाला रहने के आसार हैं। संभव है किसी खास उद्देश्य के लिये आपको कर्ज़ भी लेना पड़े। आपके लिये सलाह है कि भविष्य को लेकर कोई योजना बना रहे हैं तो उसे शांत दिमाग से तैयार करें। रोमांटिक जीवन में भी साथी का विश्वास हासिल करने, उनका प्यार पाने के लिये आपको कुछ अतिरिक्त प्रयास करने पड़ सकते हैं।

मकर – आपकी राशि से बुध का परिवर्तन लाभ स्थान में हुआ है। आपके लिये यह समय लाभकारी रहने के आसार हैं। भाग्य का साथ भी आपको मिल सकता है। जो जातक नई नौकरी या नये व्यवसाय को आरंभ करने के लिये प्रतिक्षारत हैं उनके लिये समय बेहतर अवसर लेकर आ सकता है। हालांकि अपनी सेहत के प्रति आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता भी रहेगी। आपके लिये सलाह है कि अपने व्यक्तिगत व व्यावसायिक जीवन में तालमेल बना कर चलें।

कुंभ – कुंभ राशि से बुध का प्रवेश दसवें स्थान में हुआ है। कर्म भाव में बुध का आना आप पर कुछ अतिरिक्त दायित्व लेकर आ सकता है। हालांकि तमाम दबाव व दायित्व के बावजूद आप लक्ष्यों तक पंहुचने में सफल रह सकते हैं। कार्यस्थल पर आपके काम की प्रशंसा हो सकती है। जो जातक अपने कद, पद एवं प्रतिष्ठा में वृद्धि की कामना रखते हैं तो उनकी मेहनत भी इस समय रंग ला सकती है। यात्रा के दौरान थोड़ा सचेत रहें।

मीन – आपकी राशि के स्वामी बृहस्पति हैं जो कि अष्टम भाव में गोचर कर रहे हैं। बुध अष्टम भाव में गुरु के साथ ही गोचर कर रहे थे जहां से परिवर्तन कर अब वे भाग्य स्थान में आये हैं। आपके लिये बुध का यह गोचर नकारात्मक परिणाम लेकर आ सकता है। व्यक्तिगत जीवन में किसी अनपेक्षित असफलता का सामना करना पड़ सकता है। विशेषकर रोमांटिक जीवन में आपको भावनात्मक तनाव के दौर से गुजरना पड़ सकता है। आपके मन में तरह-तरह के विचार आ सकते हैं। कुछ जातक अपने विवाह को लेकर भी चिंतित हो सकते हैं। संपत्ति संबंधी कोई विवाद भी खड़ा हो सकता है।

आपकी कुंडली के अनुसार बुध ग्रह आपके लिये किस तरह लाभकारी हो सकते हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2017   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |   वक्री हुए बुध क्या पड़ेगा प्रभाव?

बुध का राशि परिवर्तन – वृषभ से मिथुन में जायेंगें बुध जानें राशिफल   |   बुध गोचर – बुध का परिवर्तन मेष से वृषभ राशि में   |   

मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल   |   बुध बदलेंगे राशि - कुंभ से मीन में होगा बुध का गोचर




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र अस्त - अब 3 फरवरी के बाद बजेंगी शहनाइयां!

शुक्र अस्त - अब 3 ...

विवाह के लिये सर्दियों का मौसम बहुत ही अच्छा माना जाता है। क्योंकि ऐसा मानना है कि सर्दियों के मौसम खाने पीने से लेकर ओढ़ने पहनने व संजने संव...

और पढ़ें...
पौष अमावस्या – 12 साल बाद बन रहा है अद्भुत संयोग!

पौष अमावस्या – 12 ...

धार्मिक दृष्टि से पौष मास का बहुत ही खास महत्व होता है। इस माह में अक्सर सूर्य धनु राशि में विचरण करते हैं। इस कारण आध्यात्मिक उन्नति के लिये...

और पढ़ें...
खर मास - क्या करें क्या न करें

खर मास - क्या करें...

भारतीय पंचाग के अनुसार जब सूर्य धनु राशि में संक्रांति करते हैं तो यह समय शुभ नहीं माना जाता इसी कारण जब तक सर्य मकर राशि में संक्रमित नहीं ह...

और पढ़ें...
गुजरात विधानसभा चुनाव 2017 भविष्यवाणी

गुजरात विधानसभा चु...

गुजरात चुनाव 2017 में अब बहुत समय नहीं बचा है 9 दिसंबर को प्रथम चरण का मतदान होगा तो 14 दिसंबर को दूसरे व अंतिम चरण का। 18 दिसंबर को यह पता च...

और पढ़ें...
अस्त शनि से मिल सकता है भंसाली की पद्मावती को लाभ !

अस्त शनि से मिल सक...

संजय लीला भंसाली हिंदी सिनेमा के जाने-माने चेहरे हैं। बड़े-बड़े सेट, बड़ी स्टार कास्ट और बड़े तामझाम से सजी फिल्मों के निर्माण व निर्देशन के ...

और पढ़ें...