बुध का वृश्चिक राशि में गोचर जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

इस 05 दिसंबर को बुध सुबह10 बजकर 46 मिनट पर राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। इस समय बुध तुला राशि में हैं परंतु 05 दिसंबर 2019 को यह राशि बदलकर वृश्चिक राशि में आ जाएंगे। जिसका आपके ऊपर नकारात्मक व सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। परंतु यह राशि पर निर्भर करता है कि उस राशि के जातकों के लिए बुध कैसे व क्या परिणाम देंगे। यदि आप अपने राशिनुसार जानना चाहते हैं कि बुध का वृश्चिक राशि में जाना आपके लिए कैसा रहेगा? तो आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए। तो आइये जानते हैं बुध का राशि परिवर्तन आपके लिए व आपके जीवन में कैसा बदलाव लेकर आ रहा है।

 

आपकी कुंडली के अनुसार बुध ग्रह आपके लिये किस तरह लाभकारी हो सकते हैं जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

राशिनुसार बुध परिवर्तन का प्रभाव  -

मेष राशि

बुध परिवर्तन मेष राशि के जातकों के लिए अच्छे परिणाम लेकर आने वाला है। जो लोग किसी शोध या वैज्ञानिक कार्य में हैं उनके लिए बुध नाम और प्रसिद्धि देकर जाने वाला है। इसके साथ ही जो जातक वित्त क्षेत्र से जुड़े हैं या व्यापारी हैं उनके लिए अप्रत्याशित मौद्रिक लाभ होने का संकेत मिल रहा है। इसके साथ ही विरोधियों पर विजय प्राप्त होगा। पेशेवर तौर पर सीनियर्स आपके उत्साह की सराहना करेंगे।

 

बृषभ राशि

बुध परिवर्तन व्यवसायियों के लिए प्रतिकूल अवधि लेकर आने वाला है। आर्थिक हानि हो सकती है। इसलिए निवेश करने व किसी को कर्ज देने से बचें। आपको स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने का जरूरत है। इसके साथ ही पारिवारिक जीवन में भी उतार चढ़ाव आ सकता है। धन व्यय होने के भी संयोग बन रहे हैं। जहां तक हो सके फिजूलखर्ची से बचें। परंतु कुंडली के हिसाब से यह प्रभाव अलग भी हो सकता है। कुंडली के अनुसार बुध का प्रभाव जानने के लिए यहां क्लिक करें।

 

मिथुन राशि

बुध का राशि परिवर्तन मिथुन जातकों के लिए कई मामलों में अच्छा रहने वाला है। यदि आपके विरोधी आपको काफी दिन से परेशान कर रहे हैं तो बुध के प्रभाव से वे शांत होंगे। इसके साथ ही आप अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। कुछ जातको के बुध नाम और प्रसिद्धि कारक बनने वाला है। सेहत के लिए भी बुध का राशि परिवर्तन करना अच्छा रहेगा। कलात्मक लोगों के लिए अच्छा समय है।

 

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए बुध गोचर कुछ मामलों में ठीक नहीं रहने वाला है। जैसे आपके मानसिक सेहत में यह आपका साथ नहीं देगा। आपका मन अस्थिर रहेगा। इसके साथ ही आप किसी चीज को लेकर तनाव में भी आ सकते हैं। बच्चों के लिए आप चिंतित रह सकते हैं। करियर के लिए बुध का गोचर आपके लिए अच्छा नहीं है पेशेवर स्तर पर कुछ विफलताओं का सामना करना पड़ सकता है, पुनर्विचार कर कार्य को दोबारा करने पर ठीक होने की गुंजाईश है। वित्तीय स्थिति कुछ सही नहीं रहेगी।

 

सिंह राशि

बुध का राशि परिवर्तन सिंह राशि के जातकों के लिए अच्छा रहने वाला है। जो जातक अपने परिवार के किसी सदस्य के सेहत को लेकर परेशान थे तो उनकी परेशानी इस माह में कम हो जाएगी। खास कर माँ के सेहत लिए अच्छा है। उसके स्वास्थ्य में सुधार होगा। नए दोस्त बनाएंगे, उनके साथ रहने में मज़ा आएगा। लाभ ही लाभ होगा। इसके साथ ही आपके रोमांटिक लाईफ में सुधार होगा। साथी के साथ आप एकांत में समय बिता सकते हैं।

 

कन्या राशि

बुध का राशि परिवर्तन कन्या जातकों के लिए कुछ खास नहीं रहने वाला है। बुध राशि परिवर्तन करना आप व आपके रिश्तेदार / भाई-बहन के बीच ग़लतफहमी पैदा कर सकता है। इसलिए जो भी करें व कहें सोच समझकर करें। यदि कोई बात आपको बुरी भी लगी हो तो,  धैर्य बनाए रखें। आपको दूसरों के साथ भी मेलजोल बढ़ाने की जरूरत है। जिससे आपको लाभ ही होगा। आप अकेलापन महसूस कर सकते हैं। व्यक्तिगत रूप से, आप तनाव में भी आ सकते हैं।

 

तुला राशि

बुध गोचर तुला राशि के जातकों के लिए नाम और प्रसिद्धि लेकर आने वाला है। इसके साथ ही आपको वित्तीय लाभ भी होगा, लेकिन आप इसे बचाने में सक्षम नहीं होंगे। धन खर्च होने का भी योग बन रहा है। हालांकि आपको कर्ज से मुक्ति मिल भी सकती है और आप कर्ज लेना चाहते हैं तो आपको कर्ज आसानी से मिल जाएगा। बुध का गोचर आपके लिए शिक्षा के अच्छे अवसर लेकर आने वाला है।

 

वृश्चिक राशि

बुध का गोचर आपके लिए कुछ समस्याएं खड़ी करने वाला हो सकता है। आपको सफलता पाने के लिए कठोर परिश्रम करना होगा। इसके साथ ही आपके कार्यों से आपके सहकर्मियों को आप से जलन हो सकती है। तो खबरदार रहें! आपको औसत प्रदर्शन की तुलना में अच्छा प्रदर्शन करने के बजाय भी टार्गेट किया जा सकता है। इसलिए शांत मन रखें और धैर्य से काम लें। व्यक्तिगत जीवन अच्छा रहेगा। फ़ाइनेंशियल समस्या दूर होगी।

 

धनु राशि

बुध का राशि परिवर्तन आपके लिए किन्हीं मामलों में ठीक नहीं हैं। आपके खर्चे बढ़ेंगे। आप कर्ज में डूब सकते हैं। इसलिए आप अपने ख़र्चों पर नियंत्रण रखें। भविष्य की योजना बनाने की जरूरत है लेकिन शांति से किसी से भी इस बारे में चर्चा न करें। चिंता करने से बचें अन्यथा आत्मविश्वास में कमी होने की संभावना है। जिसका असर आपकी सेहत पर पड़ेगा। साथी को अधिक समय दें।

 

मकर राशि

बुध का राशि परिवर्तन करना आपके लिए ठीक नहीं है। अपने दुश्मनों के प्रति सतर्क रहें। अन्यथा आपको हानि का सामना करना पड़ सकता है। नई नौकरी / नए व्यवसाय का अवसर मिलेगा। जो जातक अच्छी नौकरी की तलाश में थे उन्हें नौकरी मिल सकती है। स्वास्थ्य समस्या हो सकती है इसलिए अपनी सेहत पर ध्यान दें।

 

कुंभ राशि

बुध का राशि परिवर्तन कर वृश्चिक राशि में आना आपके लिए कुछ खास नहीं रहने वाला है। कार्यालय में काम का बोझ आप पर आ सकता है लेकिन आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे। जिससे बॉस आपकी सराहना करते नजर आएंगे। इसके साथ ही वेतन वृद्धि का भी संकेत मिल रहा है। लंबी यात्राओं से बचें क्योंकि आप किसी दुर्घटना के चपेट में आ सकते हैं।

 

मीन राशि

बुध का राशि परिवर्तन आपके व्यक्तिगत जीवन में अप्रत्याशित बदलाव लेकर आएगा। यह बदलाव आपके लिए कितना हितकर होगा यह आपके व्यवहार पर निर्भर करेगा। आप बेचैन महसूस कर सकते हैं। आपका मन अस्थिर हो सकता है। जिन जातको की नहीं हुई है उन्हें शादी की चिंता सता सकती है। संपत्ति विवाद हो सकता है।

 

यह जानकारी सामान्य ज्योतिषीय गणना पर आधारित है सटीक जानकारी के लिए आप भारत के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात कर सकते हैं। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2019   |  बुध गोचर 2019 ।  शुक्र गोचर 2019 

एस्ट्रो लेख

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜