Skip Navigation Links
धनु में वक्री बुध - बुध की उल्टी चाल जानें राशिनुसार अपना हाल


धनु में वक्री बुध - बुध की उल्टी चाल जानें राशिनुसार अपना हाल

बुध की चाल में होने वाले बदलाव को ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही खास माना जाता है। 24 नवंबर से बुध वृश्चिक राशि से परिवर्तन कर धनु राशि में गोचर कर रहे हैं। हाल ही में 3 दिसंबर को बुध की चाल फिर बदली है और वह मार्गी से वक्री हो गये हैं यानि बुध की चाल उल्टी हो गई है। इतना ही नहीं बुध वक्री होकर गोचर करते हुए 11 दिसंबर को वापस वृश्चिक राशि में चले जायेंगें। ऐसे में धनु राशि में रहते हुए वक्री बुध आपकी राशि को कैसे प्रभावित कर सकते हैं आइये जानते हैं।


मेष

आपकी राशि से बुध भाग्य स्थान में वक्री हुए हैं। बुध के शनि के साथ आने से आपको हो सकता है कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ा हो इस समय आपको कुछ समय के लिये इनसे राहत मिल सकती है। कोई बड़ी क्षति होने से टलने पर भी आप काफी अच्छा महसूस कर सकते हैं। अचानक किसी यात्रा की योजना भी बन सकती है। यात्रा के दौरान व्यर्थ में खर्च करने से बचने का प्रयास करें। रोमांटिक जीवन में साथी से मनमुटाव होने के आसार बन सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि इस समय अपनी वाणी पर नियंत्रण रखने का प्रयास करें कोई ऐसी बात न कहें जिससे दूसरों की भावनाएं आहत हों।

अपनी कुंडली के अनुसार वक्री बुध के प्रभाव से बचने के ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।


वृषभ

बुध आपकी राशि से अष्टम भाव में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं। बुध व शनि की युति होने से आपके लिये लाभ के जो योग बन रहे थे उनमें विलंब महसूस कर सकते हैं। रूके हुए धन के लिये भी आपको थोड़ा और इंतजार करना पड़ सकता है। आपके लिये सलाह है कि संपत्ति संबंधी लेन-देन में थोड़ा सतर्क रहें। अवसर के अनुसार बातचीत करना आपके लिये सही है अपनी वाणी में संयम रखें अन्यथा आपकी प्रतिष्ठा को हानि पंहुचने की संभावनाएं हैं। साथी के साथ बातचीत में कमी गलतफहमियों को बढ़ा सकती है। किसी परिजन की सेहत को लेकर भी आप चिंतित हो सकते हैं।

 

मिथुन

सप्तम भाव में राशि स्वामी का वक्री होना आपके के लिये संकेत कर रहा है कि आपको अपनी वाणी अपने विचारों में सपष्टता लाने की आवश्यकता है। हाल ही में यदि साथी के साथ मतभेद बढ़ें हैं तो उन्हें दूर करने का प्रयास करें। यदि किसी से अपने दिल की बात कहना चाहते हैं तो हो सकता है इस समय अच्छे से अपनी बात न रख पायें। हालांकि कामकाजी जीवन में विशेषकर नौकरीशुदा जातकों पर काम का दबाव बढ़ सकता है। कार्यस्थल पर वाद-विवाद से जितना हो सके दूर रहने का प्रयास करें।

 

कर्क

कर्क राशि के जातकों के लिये बुध का छठे स्थान में वक्री हुए हैं। शारीरिक स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा असहज महसूस कर सकते हैं। व्यवसायी जातकों को अपने प्रतिस्पर्धियों से भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। कार्यस्थल पर कुछ लोग आपकी प्रतिष्ठा को हानि पहुंचाने का काम कर सकते हैं सचेत रहें। किसी से वाद-विवाद में न उलझें। साथी के साथ फिल्म देखने का कार्यक्रम बना सकते हैं। अनावश्यक खर्चों से बचने का प्रयास करें।

 

सिंह

आपकी राशि से बुध पांचवें घर में वक्री हुए हैं। इस समय आप संतान को लेकर चिंतित हो सकते हैं। रोमांटिक जीवन में साथी के साथ यदि मनमुटाव चल रहा है तो राहत मिल सकती है। कार्यस्थल पर आपके प्रदर्शन में उतार-चढ़ाव हो सकता है। इस समय आपको अपने विवेक से काम लेने की आवश्यकता रहेगी। दूसरों के बहकावे में आने बचने का प्रयास करें। आर्थिक स्थिति को नियंत्रित रखने के लिये खर्चों पर अंकुश लगायें।

 

कन्या

कन्या राशि के स्वामी स्वयं बुध हैं जो कि चतुर्थ स्थान में वक्री हुए हैं। हो सकता है आपको किसी की दी हुई सलाह अच्छी न लगे। यदि स्वयं किसी निर्णय को लेने में असहज महसूस कर रहे हैं तो दूसरों की सलाह पर ध्यान दिया जा सकता है। विशेषकर घर के बड़े बुजूर्गों व कार्यक्षेत्र के अनुभवी वरिष्ठ कर्मियों की सलाह को नज़रंदाज न करें। पारिवारिक जीवन से भी आप इस समय असंतुष्ट हो सकते हैं। जो जातक अपने करियर को लेकर चिंतित है उनके लिये भावी जीवन की योजना तैयार करने का यह सही समय कहा जा सकता है।

 

तुला

आपकी राशि से पराक्रम भाव में बुध वक्री हुए हैं। व्यक्तिगत या व्यावसायिक जीवन में यदि पिछले कुछ दिनों से आप परेशानियों का सामना कर रहे हैं तो कोई राहत की खबर मिल सकती है। कार्यस्थल पर आपका किसी से मोहभंग हो सकता है इसका कारण आप स्वयं भी हो सकते हैं। हमारी सलाह है कि किसी से मजाक में भी ऐसे वचन न कहें जिससे सामने वाले की भावनाएं आहत हों। प्रणय निवेदन के लिये आपको अभी उचित अवसर का इंतजार करना चाहिये। निकट संबंधियों से बातचीत में कमी मनमुटाव का कारण बन सकती है।

 

वृश्चिक

बुध का दूसरे स्थान में वक्री होना स्वास्थ्य संबंधी छोटी मोटी परेशानियां लेकर आ सकता है। सेहत के प्रति सचेत रहें। खान-पान पर ध्यान दें। कार्यस्थल पर किसी से विवाद होने की संभावना है अपनी वाणी पर नियंत्रण व व्यवहार में संयम रखने की आवश्यकता है। हालांकि आर्थिक तौर पर यह समय आपके लिये लाभकारी रह सकता है धन प्राप्ति के योग आपके लिये बन रहे हैं।

 

धनु

बुध आपकी ही राशि में वक्री होकर गोचर कर रहे हैं। आपको थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता है विशेषकर अपने व्यवहार में बदलाव करने की आवश्यकता हो सकती है। किसी के नीजि मामलों में टांग न अड़ाएं। दूसरों के दुख दर्द के प्रति सहानुभूति रखने व जरुरतमंदों की सहायता करना आपको संतुष्टि प्रदान कर सकता है। नये प्रेम संबंध में रूचि रखने वाले जातकों को थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता है। व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक दोनों ही स्तरों पर व्यैक्तिक मतभेद बढ़ सकते हैं। इस समय अपने काम से काम रखना ही आपके लिये सही रहेगा।

 

मकर

आपकी राशि से बुध व्यय घर यानि 12वें स्थान में वक्री हुए हैं। इस समय आर्थिक तौर पर उतार-चढ़ाव का सामना आपको करना पड़ सकता है। कार्यों में बाधाएं खड़ी हो सकती हैं। कार्योन्नति की उम्मीद अगर आपने लगा रखी है तो इंतजार बढ़ सकता है। स्वास्थ्य को बेहतर रखने के लिये खान-पान व विश्राम का ध्यान रखें।

 

कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये बुध ग्यारहवें घर में वक्री हुए हैं जो कि आपका लाभ का स्थान है। हाल ही में कोई चीज कहीं रखकर भूल गये हैं तो वह मिल सकती है। धन प्राप्ति में विलंब हो सकता है। दोस्ती के मामले में सचेत रहें किसी खास दोस्त से दूरियां बढ़ने के आसार हैं। अपने बीच गलतफहमियां न पैदा होने दें। यदि इस दौरान कहीं घुमने की योजना बना रहे हैं तो थोड़ा सतर्क रहें विशेषकर जब वाहन स्वयं चला रहे हों तो ध्यान रखें।

 

मीन

आपकी राशि से दसवें स्थान में बुध वक्री हुए हैं। व्यावसायिक तौर पर लाभ में कमी के आसार बन सकते हैं। नौकरीशुदा जातकों को पदोन्नति के लिये इंतजार करना पड़ सकता है। कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लेने में दुविधा हो सकती है। हमारी सलाह है कि परिस्थितियों का अच्छे से आकलन करने के पश्चात ही निर्णयात्मक स्थिति पर पंहुचे। दूसरे के साथ व्यवहार करते समय ध्यान रखें।


नोट: यह राशिफल सामान्य गणना पर आधारित है अपनी कुंडली के अनुसार वक्री बुध के प्रभाव से बचने के ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2018   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |   धनु राशि में बुध का परिवर्तन जानें क्या होगा प्रभाव?




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...