Skip Navigation Links
नरेंद्र मोदी - कैसा रहेगा आने वाला समय प्रधानमंत्री मोदी के लिये



नरेंद्र मोदी - कैसा रहेगा आने वाला समय प्रधानमंत्री मोदी के लिये

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे सपष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच में उनकी लोकप्रियता का ग्राफ कुछ कम भी हो जाता है लेकिन राजनीति की पिच पर फेंकी जा रही किसी गेंद पर अचानक वे ऐसा शॉट लगा देते हैं कि हर ओर से मोदी मोदी की आवाज़ आने लग जाती है। पिछला समय भी उनके लिये उतार-चढ़ाव का ही रहा है। ऐसे में आने वाला समय माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये कैसा रहेगा। नरेंद्र मोदी की कुंडली का आकलन करने के बाद एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य क्या कहते हैं आइये जानते हैं।

नाम -  नरेंद्र दामोदरदास मोदी

जन्म तिथि- 17 सितंबर 1950

जन्म स्थान- मेहसाणा गुजरात 

जन्म समय-  प्रात: 11:00 बजे

लग्न - वृश्चिक, चन्द्र राशि - वृश्चिक, नक्षत्र - अनुराधा, महादशा - चंद्रमा, अंतरदशा – शनि, प्रत्यंतर - सूर्य।

उपरोक्त विवरण के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी की कुंडली वृश्चिक लग्न व वृश्चिक राशि की है। चंद्रमा की महादशा में शनि का अंतर और सूर्य का प्रत्यंतर है। 27 जनवरी तक शनि की साढ़ेसाती का मध्य भाग रहा है। शनि की इस दशा के कारण पिछले समय से आ रही चुनौतियां बरकरार रहने की संभावना है। शनि परिवर्तन के बाद से साढ़ेसाती का अंतिम चरण शुरु हो गया है जोकि इनके लिये बहुत ही लाभप्रद रहने के आसार हैं। इस समय इन्हें लंबे समय बने हुए तनाव से कुछ समय के लिये मुक्ति मिल सकती है।

चंद्रमा की महादशा में शनि का अंतर सितंबर 2017 के लगभग अंत तक रहने के आसार हैं जिससे इनका मन चिंतित रहने की संभावना है। हालांकि साढ़ेसाती के अंतिम चरण के कारण नई-नई कामयाबी भी मिल सकती हैं जिससे मानसिक तनाव की स्थिति भी कुछ कम हो सकती है।

2017 वर्ष का प्रवेश कन्या लग्न मकर राशि में हुआ है। कन्या लग्न जो कि मोदी जी की राशि से नौंवा है। यह मोदी जी के लिये भाग्यवर्धक हो सकता है।

मोदी जी की राशि से वर्ष राशि तीसरी है जो कि मोदी जी कुंडली में पराक्रम क्षेत्र को दर्शाती है। देश के प्रधानमंत्री होने के नाते नरेंद्र मोदी से कुछ और कड़े फैसले देखने को मिल सकते हैं जो कि प्रारंभ में काफी परेशानी वाले रह सकते हैं। दूरदर्शिता के हिसाब से यह फैसले प्रधानमंत्री मोदी के आत्म सम्मान को बढ़ाने वाले हो सकते हैं।

स्वास्थ के नजरिये से 2017 में सितंबर महीने के अंतिम सप्ताह के मध्य का समय यानि 28 सितंबर के आस पास का समय थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इस समय चंद्रमा की महादशा में बुध अंतर में आ जायेंगें जिससे स्वास्थ्य के प्रति इनकी चिंताएं बढ़ सकती हैं। इस समय इन्हें अपनी सेहत के प्रति सतर्क रहना चाहिये क्योंकि यह आंशिक मारकेश भी है जिससे बाहरी शत्रुओं से भी इन्हें अपना ध्यान रखने की आवश्यकता है।

कुल मिलाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिये आने वाला समय उपलब्धियों भरा रहने के आसार हैं।

संबंधित लेख

विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2017   |   2017 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे   |   2017 क्या लायेगा अच्छे दिन?   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017

साल 2017 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   भारत खेल 2017 - खेलों के लिये कैसा है 2017   |   2017 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?

2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |    नववर्ष 2017 राशिफल  




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

बसंत पंचमी 2018 – वसंत पंचमी पर कब करें सरस्वती पूजा

बसंत पंचमी 2018 – ...

जब खेतों में सरसों फूली हो/ आम की डाली बौर से झूली हों/ जब पतंगें आसमां में लहराती हैं/ मौसम में मादकता छा जाती है/ तो रुत प्यार की आ जाती है...

और पढ़ें...
मंगल राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?

मंगल राशि परिवर्तन...

ज्योतिष में मंगल को वैसे तो पाप ग्रह माना जाता है। लेकिन शुभ कार्यों के लिये, जीवन में उन्नति के लिये मंगल का मंगलकारी होना भी जरुरी है। ऊर्ज...

और पढ़ें...
अमावस्या 2018 – कब-कब हैं अमावस्या तिथि

अमावस्या 2018 – कब...

अमावस्या या अमावस हिंदू कैलेंडर के अनुसार वह तिथि होती है जिसमें चंद्रमा लुप्त हो जाता है व रात को घना अंधेरा छाया रहता है। हिंदू मास को दो ह...

और पढ़ें...
पूर्णिमा 2018 – कब है पूर्णिमा व्रत तिथि

पूर्णिमा 2018 – कब...

पूर्णिमा हिंदू कैलेंडर अर्थात पंचांग की बहुत ही खास तिथि होती है। धार्मिक रूप से पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। दरअसल पंचांग में त...

और पढ़ें...
एकादशी 2018 - कब कब हैं एकादशी तिथि

एकादशी 2018 - कब क...

हिंदू धर्म में एकादशी तिथि बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि मानी जाती है। प्रत्येक मास में एकादशी तिथि दो बार आती है। इसके अनुसार प्रत्येक वर्ष में ...

और पढ़ें...