Skip Navigation Links
प्रोमिस डे – वादा करले साजना पर सावधान!


प्रोमिस डे – वादा करले साजना पर सावधान!

जब आप किसी को चाहने लगते हैं उसके लिये कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं। कुछ ऐसा करने की भी कहते हैं जो असंभव है मसलन यह कहना कि मैं तुम्हारे लिये चांद तारे तोड़ लाऊंगा हालांकि इसके पिछे कहने वाले की भावनाएं यही होती हैं कि वह अपने प्यार को पाने के लिये, अपने प्यार को जताने के लिये असंभव को भी संभव करने का प्रयास करेगा। कुछ ऐसा ही असंभव होता है किसी वादे को निभाना। कहा भी जाता है कि कोशिशें अक्सर कामयाब होती हैं वादे तो टूट जाया करते हैं। अपने साथी से किये वचन को निभाना बहुत मुश्किल होता है। जो अपने वादे पर खरा उतरता है वही सच्चा प्रेमी होता है। वैलेंटाइन्स वीक का पांचवा दिन इसीलिये मनाया जाता है कि आप अपने चाहने वाले वचन दें कि जैसा वह चाहता है आप वैसा करेंगें। इसलिये तो इस दिन को कहा जाता है प्रोमिस डे। हर साल 11 फरवरी की तारीख प्रोमिस डे के रूप में मनाई जाती है।

प्रोमिस करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

प्रेम के रिश्ते की बुनियाद विश्वास पर टिकी होती है। जैसे ही किसी के साथ प्रेम संबंध बनाते हैं तो फिर आप एक दूसरे में खुद को देखने लगते हैं। जैसे-जैसे रिश्ते की बुनियाद पक्की होती है आप एक दूसरे को समझने लगते हैं। एक दूसरे की पसंद नापसंद, कमियों का पता चलने लगता है। यदि आपमें कोई ऐसा गुण-अवगुण, कमी दिखाई देती है जो आपके साथी को नापसंद हो तो अपने साथी की खुशी के लिये आपको अपनी उन कमियों को दूर करने और खुद में सुधार करन की आवश्यकता होती है। इन्हीं सबके लिये सामने वाला चाहता है कि आप उससे वादा करें, वचन दें कि आप अपनी गलतियों को नहीं दोहराएंगे, उनमें सुधार करेंगें। यदि आप ऐसा नहीं करते नज़र आते तो फिर आप पर से साथी का विश्वास भी डगमगाने लगता है। इसलिये अपने साथी को कोई भी वचन देने से पहले निम्न बातों का ध्यान आपको रखना चाहिये।

पहली बात तो यही कि अपने साथी की पसंद नापसंद को अच्छे से जान लें और उनके अनुरूप खुद को ढ़ालने की कोशिश करें ताकि आपको किसी प्रकार का वचन देने की नौबत ही न आये।

यदि आपको लगता है कि आपका साथी आपसे कुछ ऐसा चाहता है जिसे आप पूरा नहीं कर सकते तो ऐसे में अपने साथी को अंधेरे में न रखें। कहने का तात्पर्य है कि सिर्फ कहने के लिये कुछ न कहें। बल्कि अपने साथी को यह यकीन दिलाएं कि वह गलत जिद्द कर पकड़े हुए हैं जिसे पूरा करने आपके बूते की बात नहीं है। यदि वह आपको सच में चाहता/चाहती है तो आपको आप जैसे हैं वैसे ही स्वीकार करेगा/करेगी।

अधिकतर प्रेमियों को अपने साथी की बूरी लतों से दिक्कत होती है। ऐसी लतों को छोड़ने में ही आपकी भलाई होती है। यदि शुरुआती तौर पर आपको कठिनाई आती है तो साथी को विश्वास दिलाएं कि आप इन्हें छोड़ने का भरसक प्रयत्न कर रहे हैं। क्योंकि यदि उनका दिल रखने के लिये आपने वादा कर लिया और फिर आप अपने वादे को तोड़ते हैं तो आपके साथी को इससे गहरा धक्का लगता है।

कुल मिलाकर प्रोमिस डे पर आप जो भी कमिटमेंट करें उसे पूरा करें। आप एक दूसरे अपेक्षाओं, उम्मीदों पर खरे उतरें, कभी एक दूसरे के विश्वास को न तोड़ें, एक दूसरे की भावनाओं की इज्ज़त करें इन्हीं शुभकामनाओं के साथ वैलेंटाइन्स वीक का हर दिन आपको मुबारक हो।

यह भी पढ़ें

टैडी डे – जानें क्यों खास होते हैं प्यारे-प्यारे टैडी बियर   |   चॉकलेट डे - चॉकलेट का लव कनेक्शन   |   वैलेंटाइन वीक   |   रोज़ डे  |   प्रपोज डे   |   

प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017   |   पढ़ें अपनी प्रेम प्रोफाइल   |   प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   

जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग   |   कुंडली में प्रेम   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग   |   

पढ़ें साल की लव रिपोर्ट   |   दैनिक लव राशिफल




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...
तुलसी विवाह - कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा

तुलसी विवाह - कौन ...

तुलसी का पौधा बड़े काम की चीज है, चाय में तुलसी की दो पत्तियां चाय का स्वाद तो बढ़ा ही देती हैं साथ ही शरीर को ऊर्जावान और बिमारियों से दूर रखने में भी मदद करती है, ...

और पढ़ें...