Skip Navigation Links
राहू देता है चौंकाने वाले परिणाम


राहू देता है चौंकाने वाले परिणाम

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सभी जातकों का भूत वर्तमान व भविष्य जातक की जन्मकुंडली में ग्रहों की दशाओं से प्रभावित होता है। इसी प्रभाव के कारण कुछ ग्रह अच्छा परिणाम देने वाले माने जाते हैं तो कुछ ग्रहों का प्रभाव बहुत ही नकारात्मक माना जाता है। अपने इन्हीं प्रभावों के कारण शुभ अशुभ ग्रहों के प्रति धारणाएं पूर्वाग्रह भी बन जाती हैं। मसलन शनि, मंगल, सूर्य, राहू-केतु को अक्सर क्रूर अथवा पाप ग्रहों की श्रेणी में रखा जाता है। इनमें भी शनि व राहू-केतु सबसे क्रूर माने जाते हैं। लेकिन अक्सर ऐसा होता नहीं है। यह ग्रह नकारात्मक और सकारात्मक परिणाम अपनी दशा के अनुसार देते हैं। शनि, राहू और केतु भी कई बार इतना अच्छा परिणाम देने वाले होते हैं की जातक की जिंदगी अचानक बदलने लग जाती है और वह रंक से राजा बन जाता है। लेकिन जब यही ग्रह नकारात्मक स्थान पर होते हैं तो राजा से रंक भी बना देते हैं। इस लेख में हम बात करेंगें राहू की।

राहू-केतु वैज्ञानिक दृष्टि से ग्रह नहीं माने जाते। ज्योतिषशास्त्र में भी इन्हें छाया ग्रह माना जाता है। राहू व केतु को अनिष्टकारी परिणाम देने के लिये जाना जाता है। राहू का नाम सुनते ही जातक को कंपकंपी चढ़ जाती है और अनिष्ट का भय उसे सताने लगता है। लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। हम आपको बता रहे हैं कि किन परिस्थितियों में राहू अनिष्टकारी फल देता है।

राहू की एक खासियत यह है कि यह जो भी परिणाम देता है चाहे वह सकारात्मक हो या नकारात्मक वह अचानक से देता है। यानि यह अर्श से फर्श और फर्श से अर्श पर तुरंत प्रभाव से जातक को ले आता है। जब जातक राहू के लपेटे में आता है तो वह शंकाओं से घिरा रहने लगता है। मानसिक तनाव बढ़ने लग जाते हैं। हर ओर से बूरी खबरें मिलने लगती हैं। जो भी पासा जातक फेंकता है वह उल्टा ही पड़ जाता है। ऐसे में जातक की नींद उड़ जाती है, वह दुर्व्यसनों में पड़कर अपनी सेहत को नुक्सान पंहुचाने लगता है, बूरी संगत में रहकर पाप कर्मों को अंजाम देने लग जाता है। शत्रु बढ़ने लग जाते हैं। हर ओर से हार व हताशा मिलने लगती है। यह सब तब होता है जब राहू अनिष्ट स्थानों पर बैठा हो। मसलन

राहू लग्न में हो, पंचम, सप्तम, अष्टम, द्वादश आदि स्थानों पर हो, और अन्य क्रूर व पापी ग्रहों का साथ भी मिल रहा हो व इसके साथ ही गोचर में शत्रु राशि में विचरण कर रहा हो तो ऐसे जातक के दुखों का कोई अंत नहीं होता। वह अपने जीवन से पिछा छुड़ाने के लिये प्रयत्न करना रहता है। और यदि राहू नीच का हो या अस्त हो रहा हो तो जातक मौत को भी गले लगा सकता है।

वहीं यदि राहू केंद्र का स्वामी हो या फिर छठे, आठवें या बारहवें भाव में स्वामी होकर इन्हीं स्थानों में बैठ जाये और कोई अन्य पापी ग्रह उसे देखे तो यह शुभ फल भी देता है। विपरीत परिस्थितियों में भी बहुत शुभ परिणाम जातक को मिल जाते हैं। जातक इतनी सफलता व उपलब्धियां अर्जित करता है जिनकी उसने कल्पना भी न की हो।

अपनी कुंडली में राहू की दशा व दिशा, सकारात्मक व नकारात्मक प्रभाव आदि जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

कुंडली में कालसर्प दोष और इसके निदान के सरल उपाय   |   पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य?   |   राहु और केतु ग्रहों को शांत करने के सरल उपाय

राशिनुसार रत्न धारण करने से मिलती है कमजोर ग्रहों को शक्ति   |   क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से

पितृदोष – पितृपक्ष में ये उपाय करने से होते हैं पितर शांत   |   चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कुम्भ मेला 2019 - जानें कुम्भ की कहानी

कुम्भ मेला 2019 - ...

कुंभ मेला भारत में लगने वाला एक ऐसा मेला है जिसका आध्यात्मिक व ज्योतिषीय महत्व तो है ही इसके साथ-साथ यह सामाजिक-सांस्कृतिक और वर्तमान में आर्थिक-राजनैतिक रूप से भी म...

और पढ़ें...
कुम्भ मेले का ज्योतिषीय महत्व

कुम्भ मेले का ज्यो...

भारत में कुम्भ मेले का सामाजिक-सांस्कृतिक, पौराणिक व आध्यात्मिक महत्व तो है ही साथ ही ज्योतिष के नज़रिये से भी यह मेला बहुत अहमियत रखता है। दरअसल इस मेले का निर्धारण...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2018 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जाते हैं। यदि आप इन पापकर्...

और पढ़ें...
गीता जयंती 2018 - कब मनाई जाती है गीता जयंती?

गीता जयंती 2018 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2018 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2018 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-...

और पढ़ें...