Skip Navigation Links
रोज़ डे –  गुलाब से करें वैलेंटाइन वीक की शुरुआत


रोज़ डे – गुलाब से करें वैलेंटाइन वीक की शुरुआत

गुलाब को फूलों का राजा कहा जाता है। सुंदरता का प्रतीक माना जाता है। प्रेम चाहे वह प्रेमिका के संबंध में हो या प्रियजनों के संबंध में उसकी अभिव्यक्ति के लिये गुलाब का फूल अच्छा माध्यम होता है। फरवरी का महीना एक रोमांटिक महीना माना जाता है। भारतीय परंपरा के अनुसार भी फरवरी के महीने में बंसत ऋतु का आगमन होता है और बंसत ऋतु को प्यार की ऋतु ही माना जाता है। क्योंकि यही वो समय होता है जब प्रकृति में निखार आ जाता है। हर और नवजीवन का संचार होने लगता है। ऐसे में जब वातावरण ही रोमांटिक हो तो व्यक्ति के स्वभाव में प्रेम अंकुरित होने लगता है। इसी कारण फरवरी में पूरा एक सप्ताह 7 फरवरी से लेकर 14 फरवरी यानि वैलेंटाइन डे तक प्रेम सप्ताह के रूप में मनाया जाता है। इसी प्रेम सप्ताह का पहला दिन होता है गुलाब के फूलों के नाम। इसलिये इसे अंग्रेजी में कहते हैं रोज़ डे यानि गुलाब दिवस। तो आइये जानते हैं गुलाब के इन फूलों का महत्व।

क्या आपकी कुंडली में हैं प्रेम के योग ? यदि आप जानना चाहते हैं देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से, तो तुरंत लिंक पर क्लिक करें।

वैसे तो सभी प्रकार के फूल कोमल होते हैं, लेकिन गुलाब के फूलों की खासियत यह है कि ये कांटों में पल-बढ़कर अपनी सुंदरता व कोमलता अर्जित करते हैं या कहें कांटों के बीच भी इनकी कोमलता प्रकृति की नेमत होती है। इसलिये गुलाब के फूलों से आप यह सबक ले सकते हैं कि जीवन में भले ही कितनी कठिनाइयां हों लेकिन यदि आपके पास प्यार है तो आपका जीवन गुलाब के फूलों के समान है जिनकी खुशबू से आपके प्रियजनों का जीवन महकता रहता है। जैसे जीवन में अनेक रंग होते हैं, अनेक रिश्ते होते हैं उन रिश्तों की मधुरता होती है वैसे ही गुलाब को प्रकृति ने अनेक रंग बख्शे हैं। समय के साथ-साथ अलग-अलग रंगों के गुलाब अलग-अलग रिश्तों के प्रतीक हो गये।

सफेद गुलाब – सफेद रंग का गुलाब शांति, शुद्दता और निस्वार्थ प्रेम का प्रतीक है। बिना किसी शर्त के किसी से प्यार करने वाले प्रेमि-प्रेमिका अपने चाहने वाले को सफेद गुलाब दे सकते हैं। इसके अलावा यदि किसी कारणवश आपका साथी आपसे नाराज़ है तो अपने मनमुटाव भुलाकर आप अपने साथी को एक प्यारा सा सफेद गुलाब देकर अपने प्यार की एक नई शुरुआत कर सकते हैं। प्यार ही नहीं अपने किसी भी संबंध में आप अपने संबंधी साथी से माफी मांगना चाहते हैं तो सफेद गुलाब देकर सॉरी बोलने अच्छा क्या हो सकता है।

पीला, गुलाब – हर रिश्ते की शुरुआत दोस्ती से हो तो अच्छा है। कहते हैं दोस्ती प्यार से भी बड़ी होती है। तो नये दोस्त बनाने के लिये आप उन्हें भेंट कर सकते हैं एक प्यारा सा, खिला हुआ, पीले रंग का गुलाब। लेकिन ध्यान रहे यदि दोस्ती करते समय आपका इरादा निहायत ही नेक होना चाहिये। यदि आप किसी बदनियत से किसी से दोस्ती करने के इच्छुक हैं तो गुलाब चुनते वक्त आपके हाथ में कांटा चुभ सकता है। कुल मिलाकर पीला गुलाब दोस्त को लेकर अपनी खुशी का इजहार करने के लिये अपने दोस्त को दे सकते हैं।

गुलाबी और नारंगी – जब भी किसी नये रिश्ते की बुनियाद रखी जाती है तो वह समय हर किसी के लिये बड़ा ही नाज़ुक होता है, रिश्ता भी उस समय कोमल माना जाता है। तो इसी कोमलता और नम्रता और एक नये रिश्ते का प्रतीक है गुलाबी गुलाब। तो आपमें से जो भी नये रिश्ते की शुरुआत करने जा रहे हैं वे अपने नये साथी को गुलाबी गुलाब देकर भेंट कर सकते हैं। साथ ही अपने साथी के प्रति अपना प्यार व उत्साह जताने के लिये आप दे सकते हैं उन्हें एक नारंगी गुलाब।

लाल गुलाब – वैसे तो सुर्ख़ लाल रंग किसी खतरे को बयां करता है लेकिन प्यार का खुबसूरत एहसास भी किसी ख़तरे से कम नहीं होता। इसलिये तो इसे किसी महान शायर ने आग का दरिया कहा है जिसमें से हर प्यार करने वाले को डूब कर गुजरना होता है। तो अपने प्यार के इज़हार के लिये अपने साथी को दें एक हसीन लाल गुलाब का फूल।

आप सभी के जीवन में प्यार की बयार बहती रहे... आपके प्यार की बगिया गुलाब के फूलों से महकती रहे। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ आप सभी को रोज़ डे से लेकर वैलेंटाइन डे तक के इस प्रेम सप्ताह की हार्दिक शुभकामनाएं।


यह भी पढ़ें

प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2018   |   कुंडली में प्रेम योग   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग

प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग

चॉकलेट डे  |   प्रपोज डे   |   टैडी डे   |   वैलेंटाइन वीक   |   प्रोमिस डे   |   हग डे   |   किस डे   |   वैलेंटाइन डे   |   क्यों मिलता है प्रेम में बार बार धोखा




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शनि प्रदोष - जानें प्रदोष व्रत की कथा व पूजा विधि

शनि प्रदोष - जानें...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास में कोई न कोई व्रत, त्यौहार अवश्य पड़ता है। दिनों के अनुसार देवताओं की पूजा होती है तो तिथियों के अनुसार भी व्रत उपवास रखे जाते ह...

और पढ़ें...
पद्मिनी एकादशी – जानिए कमला एकादशी का महत्व व व्रत कथा के बारे में

पद्मिनी एकादशी – ज...

कमला एकादशी, अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पद्मिनी एकादशी कहलाती है। इसे कमला एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू धर्म में व्रत व त्यौहारों की बड़ी मान्यता है। सप्ताह का...

और पढ़ें...
वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

वृषभ राशि में बुध ...

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना मान...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...