सकट चौथ – इस दिन श्री गणेश दिलाते हैं संकटों से मुक्ति

भगवान गणेश जिन्हें हर कार्य के प्रारंभ में पूजा जाता है। जिन्हें हर जन मंगलकारी मानता है। इन्हीं भगवान श्री गणेश की आराधना का दिन होता संकष्टी चतुर्थी। वैसे तो हर चंद्र मास में दो चतुर्थी आती हैं। पूर्णिमा के बाद कृष्ण पक्ष में आने वाली चतुर्थी को ही संकष्टी चतुर्थी कहते हैं व शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है। भाद्रपद माह में आने वाली विनायक चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। पूरी दुनिया में भगवान गणेश का जन्मदिन भी इसी दिन मनाया जाता है।

संकष्टी चतुर्थी को देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नाम से भी जाना जाता है। उत्तर भारत में माघ माह की संकष्टी चतुर्थी को सकट चौथ के नाम से जाना जाता है। तो दक्षिण भारत में गणेश संकटहरा या संकटहरा चतुर्थी भी कहा जाता है।

 

अपने राशिनुसार सकट चतुर्थी की पूजा विधि जानने के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

क्या है मान्यता

संकष्टी का तात्पर्य है संकट से मुक्ति। लोगों की मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी का व्रत करने से मनुष्य के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। भगवान गणेश सारे दुखों, सारे संकटों का हरण कर लेते हैं। संकष्टी चतुर्थी यदि मंगलवार के दिन हो तो अंगारकी चतुर्थी कहलाती है जो कि बहुत ही शुभ मानी जाती है।

 

कब रखें व्रत

वैसे तो हर माह संकष्टी चतुर्थी का व्रत किया जाता है लेकिन सबसे मुख्य संकष्टी चतुर्थी पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार माघ महीने में पड़ती है। वहीं अमांत पंचांग के अनुसार पौष महीने की चतुर्थी को सबसे मुख्य संकष्टी चतुर्थी माना जाता है।

 

व्रत की विधि

संकष्टी चतुर्थी का व्रत महाराष्ट्र व तमिलनाडु में विशेष रूप से अधिक प्रचलित है। इस दिन सूर्योदय से चंद्रोदय तक उपवास रखा जाता है। इसमें केवल फल, कंदमूल व वनस्पति उत्पादों का ही सेवन किया जाता है। साबूदाना खिचड़ी, आलू व मूंगफली आदि श्रद्धालुओं का आहार होते हैं। चंद्रमा के दर्शन करने के बाद उपवास तोड़ा जाता है।

 

सकट चौथ कब है?

2020 में सकट चौथ 13 जनवरी दिन सोमवार के दिन है। 

चतुर्थी आरंभ  - 17 बजकर 32 मिनट ( 13 जनवरी 2020) से

चतुर्थी समापन - 13 बजकर 49 मिनट (14 जनवरी 2020) तक

एस्ट्रो लेख

घर पर रहकर करें...

मेडिटेशन(meditation) यानि ध्यान भारतीय संस्कृति की एक पुरातन परंपरा है। इसे योग साधना भी कहा जाता है, जिसे पौराणिक काल में ऋषि, मुनिया और तपस्वी अपने मन और मस्तिष्क को शांत और एकाग...

और पढ़ें ➜

कामदा एकादशी 20...

एकादशी व्रत की हिंदू धर्म में बहुत मान्यता है। प्रत्येक मास के कृष्ण और शुक्ल पक्ष में आने वाली दोनों एकादशियों का अपना विशेष महत्व होता है। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तो और...

और पढ़ें ➜

महामारी से बचन...

इस समय पूरी दुनिया जिस भयंकर महामारी के दौर से गुजर रही है। उसका समाधान अभी विज्ञान नहीं निकाल पाया है ऐसे में लोग दुआएं और बताई गई सावधानियां ही बरत रहे हैं। आमतौर पर यह महामारी उ...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के बारे में तो सभी जानते हैं। यह भी वे स्वयं भगवान विष्णु के अवतार थे। श्री राम भगवान शिव को अपना आराध्य देव भी मानते थे। लेकिन क्या आप जानते हैं ...

और पढ़ें ➜