सकट चौथ – इस दिन श्री गणेश दिलाते हैं संकटों से मुक्ति

भगवान गणेश जिन्हें हर कार्य के प्रारंभ में पूजा जाता है। जिन्हें हर जन मंगलकारी मानता है। इन्हीं भगवान श्री गणेश की आराधना का दिन होता संकष्टी चतुर्थी। वैसे तो हर चंद्र मास में दो चतुर्थी आती हैं। पूर्णिमा के बाद कृष्ण पक्ष में आने वाली चतुर्थी को ही संकष्टी चतुर्थी कहते हैं व शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा जाता है। भाद्रपद माह में आने वाली विनायक चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। पूरी दुनिया में भगवान गणेश का जन्मदिन भी इसी दिन मनाया जाता है।

संकष्टी चतुर्थी को देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नाम से भी जाना जाता है। उत्तर भारत में माघ माह की संकष्टी चतुर्थी को सकट चौथ के नाम से जाना जाता है। तो दक्षिण भारत में गणेश संकटहरा या संकटहरा चतुर्थी भी कहा जाता है।

 

अपने राशिनुसार सकट चतुर्थी की पूजा विधि जानने के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

क्या है मान्यता

संकष्टी का तात्पर्य है संकट से मुक्ति। लोगों की मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी का व्रत करने से मनुष्य के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। भगवान गणेश सारे दुखों, सारे संकटों का हरण कर लेते हैं। संकष्टी चतुर्थी यदि मंगलवार के दिन हो तो अंगारकी चतुर्थी कहलाती है जो कि बहुत ही शुभ मानी जाती है।

 

कब रखें व्रत

वैसे तो हर माह संकष्टी चतुर्थी का व्रत किया जाता है लेकिन सबसे मुख्य संकष्टी चतुर्थी पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार माघ महीने में पड़ती है। वहीं अमांत पंचांग के अनुसार पौष महीने की चतुर्थी को सबसे मुख्य संकष्टी चतुर्थी माना जाता है।

 

व्रत की विधि

संकष्टी चतुर्थी का व्रत महाराष्ट्र व तमिलनाडु में विशेष रूप से अधिक प्रचलित है। इस दिन सूर्योदय से चंद्रोदय तक उपवास रखा जाता है। इसमें केवल फल, कंदमूल व वनस्पति उत्पादों का ही सेवन किया जाता है। साबूदाना खिचड़ी, आलू व मूंगफली आदि श्रद्धालुओं का आहार होते हैं। चंद्रमा के दर्शन करने के बाद उपवास तोड़ा जाता है।

 

सकट चौथ कब है?

2020 में सकट चौथ 13 जनवरी दिन सोमवार के दिन है। 

चतुर्थी आरंभ  - 17 बजकर 32 मिनट ( 13 जनवरी 2020) से

चतुर्थी समापन - 13 बजकर 49 मिनट (14 जनवरी 2020) तक

एस्ट्रो लेख

मिथुन राशि में ...

वाणी के कारक बुध का परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये से काफी अहम माना जाता है। लग्न के अनुसार बुध जिस लग्न से जिस भाव में गोचररत होते हैं उस के अनुसार सकारात्मक व नकारात्मक परिण...

और पढ़ें ➜

वट सावित्री व्र...

वट सावित्री व्रत एक ऐसा व्रत जिसमें हिंदू धर्म में आस्था रखने वाली स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र और संतान प्राप्ति की कामना करती हैं। उत्तर भारत में तो यह व्रत काफी लोकप्रिय है। ...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ अमावस्य...

अमावस्या तिथि को दान पुण्य के लिये, पितरों की शांति के लिये किये जाने वाले पिंड दान, तर्पण आदि के लिये बहुत ही सौभाग्यशाली दिन माना जाता है। साथ अमावस्या एक मास के एक पक्ष के अंत क...

और पढ़ें ➜

शनि जयंती विशेष...

शनि देव को क्रूर ग्रहों में शुमार किया जाता है लेकिन सही मायनों में एक न्यायप्रिय देव हैं जो पाप कर्म करने वालों के लिये दंडाधिकारी की भूमिका निभाते हैं। मेहनत करने वालों को शनिदेव...

और पढ़ें ➜