Skip Navigation Links
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?


कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक्सर हम बच्चों से पूछते हैं बेटे बड़े होकर क्या बनना चाहते हो? कोई डॉक्टर, कोई क्रिकेटर, कोई आईएएस अधिकारी तो वैज्ञानिक बनना चाहता है? कोई फिल्मी दुनिया के सितारों को अपना आदर्श मानते हुए उनके नक्शे कदम पर चलने के सपने बुनता है। लेकिन जैसे-जैसे हम करियर के पहले पायदान पर कदम रखने को होते हैं तो हम शून्य हो जाते हैं। हम ऐक ऐसे चौराहे पर खड़े हो जाते हैं जहां से राहें तो अनेक दिखाई देती हैं लेकिन उनमें से कौनसी हमारी मंजिल की तरफ जाती है मालूम नहीं होता। ऐसी स्थिति में जब हम निर्णय ले लेते हैं तो एक पड़ाव के बाद हमें मालूम होता है कि हम गलत रस्ते पर निकल चुके हैं यह तो हमारी मंजिल की ओर जाता ही नहीं। लेकिन वापस मुड़कर लौटना भी अब मुनासिब नहीं लगता। ऐसी दुविधा में आज बहुत सारे युवा फंसे हैं। अनेक चौराहे पर खड़े हैं तो अनेक किसी चलते-चलते किसी और रस्ते पर दूर तलक आ निकले हैं। लेकिन इन तमाम स्थितियों के बावजूद ज्योतिष एक ऐसा माध्यम है जो ग्रह नक्षत्रों की दशा का आपकी कुंडली के अनुसार आकलन करने के पश्चात आपका मार्गदर्शन अच्छे से कर सकता है। आपके लिये नौकरी बेहतर रहेगी या व्यवसाय? आपकी कुंडली में मौजूद ग्रह इसके संकेत करते हैं।

नौकरी बेहतर है या व्यवसाय?

यदि आप अपनी नौकरी से संतुष्ट नहीं रहते हैं, आप हमेशा सोचते रहते हैं कि आप नौकरी के लिये बने हुए ही नहीं हैं, आपके दिमाग में अनेक तरह की योजनाएं चलती रहती हैं, आप हमेशा कुछ न कुछ नया, स्वयं का कारोबार शुरु करने की सोचते हैं तो निश्चित तौर पर आपको व्यवसायी ही होना चाहिये था। हो सकता है आप सोचते हों कि आप किसी जोखिम को उठाने का ख़तरा मोल नहीं ले सकते? हो सकता है आप सोचते हैं कि पहले खुद का थोड़ा सा बैक अप बना लिया जाये उसके बाद ही कुछ अपना शुरु करने का फायदा है? हमारी सलाह है कि सबसे पहले तो आपको विद्वान ज्योतिषाचार्यों से अपनी कुंडली का आकलन करवाकर यह जान लेना चाहिये कि आपके लिये किस तरह का व्यवसाय करना बेहतर रहेगा? किस क्षेत्र में आपके लिये कितना जोखिम है और कहां पर आपको अधिक लाभ मिल सकता है? ज्योतिषशास्त्र के जरिये आपको अपनी तमाम शंकाओं के समाधान मिल सकते हैं। देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यदि आपका विश्वास बिना किसी दबाव, तनाव या जोखिम उठाने में नहीं है तो आपको अपनी नौकरी से संतुष्ट रहना चाहिये। नौकरी के लिये कौनसा समय आपके लिये श्रेष्ठ साबित हो सकता है या कब आपको अपनी मेहनत का परिणाम मिलेगा अथवा किस क्षेत्र में नौकरी करने पर आप बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं या बेहतर वेतन पा सकते हैं इसके लिये भी आप विद्वान ज्योतिषाचार्यों से अपनी कुंडली का आकलन करवा सकते हैं।

किस व्यवसाय में चमकेगी आपकी किस्मत?

वर्तमान दौर स्टार्टअप का दौर है। छोटा हो या बड़ा लगभग अधिकांश व्यक्ति खुद का व्यवसाय स्थापित करने में रूचि लेने लगे हैं। सरकार भी नई पीढ़ी के युवाओं को अपना खुद का बिजनेस शुरु करने के लिये प्रोत्साहित कर रही है। अनेक तरह की योजनाएं चला रही है। आप रोजगार पाने वाले न बनकर रोजगार देने वाले बन सकते हैं। लेकिन कामयाबी के लिये कुशलता, योग्यता, सामर्थ्य की आवश्यकता तो होती ही है साथ ही चाहिये होता है भाग्य का साथ। आपका भाग्य किस क्षेत्र में आपके साथ रहेगा यह आप अपनी कुंडली के अनुसार एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से जान सकते हैं।
 

यह भी पढ़ें

कुंडली में प्रेम योग   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में संतान योग   |   कुंडली का यह योग व्यक्ति को बना देता है राजा

कुंडली के वह योग जो व्यक्ति को एक्टर बना सकते हैं !   |   कुंडली के वह योग, जो व्यक्ति को बनाते हैं धनवान !

कुंडली के वह योग जो व्यक्ति को बनाते हैं एक सफल उद्यमी   |   कुंडली में सरकारी नौकरी के योग




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...