Skip Navigation Links
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?


वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस दिन एक और जहां स्वराशि तुला में गोचर कर रहे शुक्र वक्री से मार्गी हो रहे हैं तो दूसरी ओर सूर्य भी जो तुला राशि में ही नीच होकर गोचर कर रहे हैं वह भी शाम तक तुला से गोचर कर वृश्चिक राशि में चले जायेंगें। वृश्चिक राशि में गुरु व बुध पहले से विराजमान हैं। सूर्य के नजदीक आने से 12 नवंबर से गुरु जहां अस्त चल रहे हैं तो 16 नवंबर को ही बुध भी वक्री हो रहे हैं। ऐसे में वक्री से मार्गी हो रहे शुक्र व वृश्चिक राशि में अस्त गुरु व वक्री बुध के साथ सूर्य का आना आपकी राशि को कैसे प्रभावित करेगा आइये जानते हैं?

मेष – मेष राशि वालों के लिये अष्टम भाव में सूर्य का राशि परिवर्तन हो रहा है। अष्टम भाव में ही गुरु अस्त तो बुध वक्री होकर गोचर कर रहे हैं। सूर्य, बुध और गुरु की यह युति आपके आत्मबल में वृद्धि करने वाली है। आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा। प्रोफेशनली काफी अच्छा समय रहने के आसार हैं। हां अपनी सेहत का ध्यान रखें। बड़े बुजूर्गों का भी ख्याल रखना होगा साथ ही कार्यस्थल पर अपने सीनियर्स से तालमेल बनाकर आगे बढ़ने की सलाह आपको एस्ट्रोयोगी देते हैं।

वृषभ – वृषभ राशि वालों के लिये सप्तम भाव में सूर्य बुध व गुरु के साथ आ रहे हैं। सप्तम भाव आपके दांपत्य यानि वैवाहिक जीवन को देखता है। आपकी शादीशुदा लाइफ में इस समय लाइफ पार्टनर के साथ वाद-विवाद बढ़ने की संभावनाएं हैं। कामकाजी महिला जातकों के लिये यह कार्योन्नति का समय कहा जा सकता है। हालांकि पर्सनल लाइफ में महिला जातकों के अपने पार्टनर के साथ मतभेद बढ़ सकते हैं। वहीं अविवाहित पुरुष जातकों के लिये विवाह के योग भी बन रहे हैं।

मिथुन – छठे घर में सूर्य का बुध व गुरु के साथ आना आपके लिये काफी अच्छे संकेत कर रहा है। व्यवसायी जातकों के लिये बहुत अच्छा समय है। आप अपने प्रतिद्वदियों पर हावि रहेंगें। नौकरी आदि के लिये साक्षात्कार में सफलता मिलने के योग भी बन रहे हैं। काम के लिये कहीं दूरस्थ क्षेत्र में भी जाना पड़ सकता है। जो जातक किसी रोग से पीड़ित हैं उन्हें राहत मिल सकती है। इस समय बुध वक्री होंगे जिसके कारण किसी नई बिमारी के पनपने के योग भी बन रहे हैं इसलिये एस्ट्रोयोगी सलाह देते हैं कि सेहत के प्रति लापरवाही न बरतें।

कर्क – पंचम भाव में सूर्य, बुध और गुरु की युति आपके लिये बहुत शुभ कही जा सकती है। हालांकि गुरु इस समय अस्त व बुध वक्री होंगे लेकिन बावजूद उसके आपके लिये यह समय शुभ रहने की उम्मीद की जा सकती है। विशेषकर विद्यार्थियों के लिये अच्छा समय रहेगा। आपके आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। पर्सनली व प्रोफेशनली आपके मान-सम्मान में वृद्धि होने के योग भी बन रहे हैं। जो जातक अभी तक बेरोजगार हैं और नौकरी के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी सफलता मिल सकती है। सरकारी नौकरी के लिये प्रयासरत जातकों को भी सफलता मिल सकती है।

सिंह – सिंह राशि वालों के लिये राशि स्वामी सूर्य का सुख भाव में आना आत्मबल में वृद्धि के संकेत कर रहा है। बुध व गुरु के साथ सूर्य की युति आपको अपने दोस्तों व सगे संबंधियों का सहयोग मिलने के योग भी बना रही है। जो जातक घर या गाड़ी लेने का विचार बना रहे हैं उनके लिये भी नया घर व नई गाड़ी की खरीददारी के योग बन रहे हैं। पैतृक संपत्ति से भी आपको लाभ मिलने के योग बन रहे हैं। जीवनसाथी का भी आपको पूरा सहयोग मिलेगा।

कन्या – कन्या राशि वालों के लिये पराक्रम में भाव में सूर्य सक्रांति कर रहे हैं। तीसरे स्थान में अस्त गुरु व वक्री बुध के साथ सूर्य आपके पराक्रम में वृद्धि के संकेत कर रहे हैं जिससे कार्यस्थल पर आपका प्रदर्शन बेहतर रहने की उम्मीद कर सकते हैं। इस दौरान आप काफी ऊर्जावान रहेंगें। छोटी-छोटी यात्राएं भी आपको करनी पड़ सकती हैं जिनके सफल रहने की उम्मीद लगा सकते हैं। छोटे भाई बहनों का भी आपको पूरा सहयोग मिलने के चांस हैं। भाग्योन्नति के संकेत भी मिल रहे हैं। लाइफ पार्टनर की ओर से कोई शुभ समाचार भी आपको मिल सकता है।

तुला – सूर्य आपकी ही राशि से गोचर करेंगें जो कि नीच कर चल रहे थे। आपकी राशि से धन भाव यानि दूसरे स्थान में बुध व गुरु के साथ सूर्य का आना आत्मबल बढ़ायेगा। शारीरिक कष्ट से भी राहत दिलाने के संकेत कर रहा है। धन प्राप्त के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। जो जातक किसी नये काम की शुरुआत करना चाहते हैं उनके लिये अच्छा समय हैं। आपके दिमाग में भी इस समय नये-नये आइडियाज आ सकते हैं। क्रिएटिव फिल्ड से जुड़े जातकों के लिये बहुत ही अच्छा समय रहेगा। बुद्धि का विकास होगा। पैतृक संपत्ति से भी आपको लाभ मिल सकता है।

वृश्चिक – आपकी ही राशि में ग्रह करवट ले रहे हैं। सूर्य का आपकी राशि में बुध व गुरु के साथ आना आपके फंसे हुए पैसे को निकलवाने में मदद कर सकता है। प्रोफेशनली भी यह समय आपके लिये लाभकारी रहने के आसार हैं। जो जातक अपने ग्रह क्षेत्र से दूर रहकर नौकरी करते हैं उन्हें भी घर के नजदीक किसी क्षेत्र से नौकरी के लिये ऑफर मिल सकता है। सरकारी नौकरी के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। फाइनेंस व एजूकेशन के मामले में भी वृश्चिक जातकों के लिये यह समय बहुत ही सौभाग्यशाली रहने के आसार हैं।

धनु – आपकी राशि से 12वें भाव में सूर्य का बुध व गुरु के साथ आना आपको सतर्क रहने के संकेत कर रहा है। आप इस समय आत्मबल में कमी महसूस कर सकते हैं। यात्रा के योग आपके लिये बनेंगें लेकिन अनावश्यक खर्चों से बचकर रहने की आवश्यकता रहेगी। कार्यक्षेत्र में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है। इस समय आपके लिये सफलता पाने का एकमात्र जरिया आपकी मेहनत ही है। पूरी एकाग्रता व क्षमता के साथ मेहनत करें सफलता अवश्य मिलेगी।

मकर – मकर राशि वालों के लिये सूर्य लाभ घर में आ रहे हैं। बुध के वक्री व गुरु के अस्त होने के चलते आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है विशेषकर जोड़ों के दर्द से पीड़ित रह सकते हैं। भाग्य में वृद्धि के योग आपके लिये बन रहे हैं। व्यवसायी जातकों के लिये यह समय शुभ रहने के आसार हैं। अतीत में किये किसी निवेश से आपको लाभ मिल सकता है। सफल व सुखद यात्रा के योग भी आपके लिये इस दौरान बनेंगें। कुल मिलाकर हेल्थ के मामले में सचेत रहें बाकि क्षेत्रों में समय अच्छा रहेगा।

कुंभ – जो जातक किसी नये कार्य की शुरुआत करना चाहते हैं उनके लिये सूर्य का कर्मभाव में गुरु व बुध के साथ आना लाभकारी रहने की संभावनाएं जता रहा है। भाग्य का पूरा साथ आपको इस समय मिल सकता है। सरकारी नौकरी के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। नौकरीशुदा जातक पदोन्नति की उम्मीद भी कर सकते हैं।

मीन – मीन राशि वालों के लिये भाग्य स्थान में ग्रहों की चाल में आ रहे उतार-चढ़ाव शुभ संकेत कर रहे हैं। भाग्य का साथ आपको मिलेगा। शुभ कार्य के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। मनोकामनाओं के पूरा होने का समय है। बड़े बुजूर्गों, सीनियर्स का भी सहयोग आपको मिलेगा। रोमांटिक लाइफ में भी पार्टनर के साथ रिश्ते मधुर रहने की उम्मीद लगा सकते हैं। प्रोफेशनली काफी बेनिफिट आपको इस समय मिल सकते हैं। जो जातक नये घर या गाड़ी लेने के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी अच्छी डील मिल सकती है।

प्रिय पाठको, यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। सूर्य के साथ अन्य ग्रहों की दृष्टि आपकी राशि पर किस तरह से पड़ रही है इस पर भी आपका भविष्य निर्भर करता है। हमारी सलाह है कि बेहतर जानकारी के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से कंसल्ट अवश्य करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |   सूर्य ग्रहण 2019 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव   |   सूर्य ग्रहण 2019   |   सूर्य देव की आराधना का पर्व ‘मकर संक्रांति`

सूर्य नमस्कार से प्रसन्न होते हैं सूर्यदेव




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मोक्षदा एकादशी 2018 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जाते हैं। यदि आप इन पापकर्...

और पढ़ें...
गीता जयंती 2018 - कब मनाई जाती है गीता जयंती?

गीता जयंती 2018 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2018 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2018 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस समस्त चराचर जगत के कर्ता-...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्...

और पढ़ें...
उत्पन्ना एकादशी 2018 - जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

उत्पन्ना एकादशी 20...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा...

और पढ़ें...