Skip Navigation Links
वृश्चिक राशि में शुक्र का गोचर – क्या होगा 12 राशियों पर प्रभाव?


वृश्चिक राशि में शुक्र का गोचर – क्या होगा 12 राशियों पर प्रभाव?

शुक्र ग्रह ज्योतिषशास्त्र में अहम स्थान रखते हैं। लाभ के कारक माने जाने वाले शुक्र राशिचक्र की दूसरी राशि वृषभ एवं सातवीं राशि शुक्र के स्वामी भी हैं। शुक्र की चाल में होने वाले हर बदलाव पर ज्योतिषाचार्यों की नज़र रहती है। 25 नवंबर से शुक्र स्वराशि तुला से परिवर्तन कर वृश्चिक राशि में दाखिल हो जायेंगें। शुक्र के इस राशि परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा? आइये जानते हैं।

मेष

मेष राशि वालों के लिये शुक्र का परिवर्तन अष्टम भाव में हो रहा है। यह समय आपके स्वास्थ्य के लिहाज से सही नहीं कहा जा सकता। सेहत के प्रति लापरवाही आपको भारी पड़ सकती है। जरा सा भी असहज महसूस करें तो नजरंदाज न करें चिकित्सकीय परामर्श अवश्य लें। आपके कार्यों में भी देरी हो सकती है। आर्थिक हानि के संकेत भी आपके लिये मिल रहे हैं। कुल मिलाकर व्यावसायिक जीवन में भी स्थिति चिंताजनक रह सकती है।

वृषभ

शुक्र आपकी राशि के स्वामी हैं जो कि आपकी राशि से सप्तम भाव में गोचररत हो रहे हैं। जीवनसाथी से आपके संबंध अनुकूल रहने के आसार हैं। इस समय आपका रोमांटिक जीवन काफी उत्साहजनक रहने वाला है। स्वास्थ्य भी अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं। हालांकि व्यावसायिक खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है। धन प्राप्ति के आसार फिलहाल नज़र नहीं आ रहे। कुल मिलाकर देखा जाये तो शुक्र का राशि परिवर्तन आपके लिये व्यक्तिगत जीवन में तो बेहतर परिणाम लेकर आयेगा लेकिन व्यावसायिक जीवन में आपको संघर्ष करना पड़ सकता है।

मिथुन

आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन छठे भाव में हो रहा है जो कि आपका रोग व शत्रु का घर है। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। आपके विरोधियों की संख्या भी इस समय बढ़ सकती है। किसी दुर्घटना के आसार बन रहे हैं यात्रा के दौरान सावधानी रखें। खासकर वाहन स्वयं चला रहे हों तो सतर्क रहें। शराब आदि का सेवन करके गाड़ी न चलायें। धन लाभ में भी कमी दर्ज़ कर सकते हैं। जितना संभव हो सके अपनी जमा पूंजी में बढ़ोतरी लाने का प्रयास करें।

कर्क

कर्क राशि वालों के लिये शुक्र पंचम भाव में आ रहे हैं। यह समय आपके रोमांटिक जीवन के लिये काफी अच्छा कहा जा सकता है। जो जातक नई नौकरी अथवा नये व्यवसाय के लिये प्रयासरत हैं उन्हें सफलता मिल सकती है। विद्यार्थियों के लिये भी सही समय है। आप पूरी सिद्दत के साथ अध्ययन कर सकते हैं। पढ़ाई में इस समय आपका मन लगेगा। आर्थिक तौर पर देखा जाये तो आपकी स्थिति स्थिर रहने के आसार हैं।

सिंह

शुक्र आपकी राशि से चतुर्थ भाव में आ रहे हैं जो कि आपके सुख का स्थान है। सुख भाव में शुक्र का गोचर आपके सुख साधनों में बढ़ोतरी करने वाला रह सकता है। जो जातक लंबे समय से किसी घर या गाड़ी की खरीददारी के लिये प्रयासरत हैं उन्हें सफलता मिल सकती है। यदि पिछले काफी समय से कहीं आना जाना नहीं हुआ है तो अल्पावधि की कुछ यात्राओं की योजना बना सकते हैं। रोमांटिक जीवन में साथी से संबंध मधुर रहने के आसार हैं। साथी का पूरा सहयोग आपको मिल सकता है।

कन्या

आपकी राशि से शुक्र का गोचर तीसरे स्थान मे हो रहा है जो कि आपके पराक्रम का भाव है। हालांकि इस समय आपका उत्साह औसत बना रहेगा लेकिन भाग्य का पूर्ण साथ आपको मिल सकता है। देर से ही सही लेकिन कार्य दुरुस्त होंगे। रोमांटिक जीवन की बात करें तो किस्मत वालों को मिलता है प्यार के बदले प्यार गाने की यह पंक्तियां आप पर लागू की जा सकती हैं। जीवनसाथी की ओर से आपको पूरा सम्मान मिलेगा जितना आप उन्हें चाहेंगें वह भी आपको उतना ही प्यार करेंगें।

तुला

तुला राशि के स्वामी स्वयं शुक्र हैं। आपकी राशि से ही राशि स्वामी शुक्र का गोचर हो रहा है। इस समय आप स्वास्थ्य के मामले में बेहतर महसूस कर सकते हैं हालांकि गले का ध्यान रखने की आपको आवश्यकता रहेगी। ठंडे गरम का ध्यान रखें व इस तरह बात न करें जिससे गले पर जोर पड़े। मसलन चिल्लाने, हो हल्ला मचाने, नारे लगाने आदि से परहेज करें। धन प्राप्ति के आसार आपके लिये बन रहे हैं। नाम व प्रसिद्धि भी आपको शुक्र के प्रभाव से मिल सकती है। व्यावसायिक जीवन में भी समय आपके लिये अच्छा कहा जा सकता है।

वृश्चिक

शुक्र आपकी ही राशि में आ रहे हैं। यह समय आपके लिये आर्थिक रूप से काफी अच्छा रहने के आसार हैं। धन लाभ के आसार भी आपके लिये बन रहे हैं। आपके काम सिरे तो चढ़ेंगें लेकिन हो सकता है उनकी गति धीमी रहे। स्वास्थ्य सामान्य बने रहने के आसार हैं। यदि कोई नया व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं तो हो सकता है आपको परेशानियों का सामना करना पड़े। इसमें आपको जोखिम भी उठाना पड़ सकता है। लेकिन कहते हैं जो डर गया सो मर गया इसलिये घबरायें नहीं बल्कि सभी पहलुओं पर अच्छे से विचार विमर्श करने के पश्चात अपनी योजनाओं को व्यवस्थित रूप से क्रियान्वित करने का प्रयास करें। मीडिया एवं अभिनय के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये भी समय शानदार कहा जा सकता है।

धनु

आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन 12वें स्थान में हो रहा है। आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने के आसार हैं। हालांकि आमदनी भी होती रहेगी जिससे आपको खर्चों से अत्यधिक घबराने की आवश्यकता नहीं है हां खर्चों पर नियंत्रण रखने का प्रयास करें। हालांकि स्वास्थ्य को लेकर आपको चिंतित होना पड़ सकता है। धूम्रपान एवं शराब के सेवन से दूर रहें। व्यक्ति एवं रोमांटिक जीवन में भी समय अनुकूल बने रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

मकर

आपकी राशि से शुक्र 11वें भाव में आ रहे हैं। ग्यारहवां स्थान लाभ का कारक माना जाता है तो शुक्र भी लाभ के कारक माने जाते हैं। कुल मिलाकर शुक्र का लाभ स्थान में आना आपके लिये सौभाग्यशाली कहा जा सकता है। समय आपके लिये अनुकूल रहने के आसार हैं। कार्योन्नति की उम्मीद भी रख सकते हैं। इस समय आप अपने लक्ष्यों तक तय समयावधि में पंहुच जायेंगें। धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। संबंधों के मामले में भी यह समय आपके लिये अनुकूल कहा जा सकता है।

कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये शुक्र दसवें स्थान यानि कर्मभाव में आ रहे हैं। व्यावसायिक तौर पर यह समय आपके लिये अच्छा कहा जा सकता है। किसी नई परियोजना का आरंभ कर सकते हैं। अपने मौजूदा व्यवसाय को विस्तार देने के लिहाज से भी समय एकदम उचित है। नौकरीशुदा जातक भी बेहतर अवसर की तलाश कर सकते हैं। भाग्य का इस समय आपको पूर्ण सहयोग मिलने के आसार हैं। इस समय आपको अपनी मेहनत का फल मिल सकता है। आर्थिक स्थिति में सुधार होगा। रोमांटिक जीवन की बात करें तो आप अपने प्यार से संतुष्ट रहेंगें।

मीन

आपकी राशि से शुक्र भाग्य स्थान में आ रहे हैं। यह समय आपको लिये सौभाग्यशाली कहा जा सकता है। इस समय आपका रूझान आध्यात्मिकता की ओर भी हो सकता है। अल्पावधि के लिये किसी छोटी मोटी धार्मिक-आध्यात्मिक यात्रा पर जाने के संकेत भी हैं जिससे आंतरिक तौर पर आप काफी बेहतर महसूस कर सकते हैं। यदि न्यायालय में कोई मामला निर्णय के लिये विचाराधीन है तो फैसला आपके पक्ष में आ सकता है।

यह राशिफल सामान्य गणना के आधार पर प्रस्तुत किया गया है अपनी कुंडली के अनुसार शुक्र के नकारात्मक परिणामों से बचने के उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें

 ग्रह गोचर 2017   |   शुक्र गोचर 2017   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...
गंगा दशहरा – इस दिन गंगा स्नान से कटेंगें दस पाप

गंगा दशहरा – इस दि...

दुनिया की सबसे पवित्र नदियों में एक है गंगा। गंगा के निर्मल जल पर लगातार हुए शोधों से भी गंगा विज्ञान की हर कसौटी पर भी खरी उतरी विज्ञान भी मानता है कि गंगाजल में कि...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
वृषभ संक्रांति – वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल

वृषभ संक्रांति – व...

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन ...

और पढ़ें...
शुक्र का मिथुन राशि में परिवर्तन – जानें किसे मिलेगा प्यार तो किसका बढ़ेगा कारोबार!

शुक्र का मिथुन राश...

शुक्र का राशि परिवर्तन 14 मई को वृषभ राशि से मिथुन राशि में हो रहा है। शुक्र को प्रेम व लाभ का कारक भी माना जाता है। शुक्र राशि चक्र की दूसरी राशि वृषभ व सातवीं राशि...

और पढ़ें...