Skip Navigation Links
अगस्त में दो बार बनेगा विषयोग जानें क्या पड़ेगा आपकी राशि पर प्रभाव


अगस्त में दो बार बनेगा विषयोग जानें क्या पड़ेगा आपकी राशि पर प्रभाव

विषयोग के बारे में लगभग सभी जानते हैं। मुख्य तौर पर यह चंद्रमा व शनि के साथ-साथ गोचर करने पर बनता है। चंद्रमा चूंकि लगभग 27 दिन में सभी 12 राशियों का एक बार चक्कर लगा लेते हैं इसलिये माह में एक बार वह अवश्य से शनि के पास से गुजरता है। इसलिये प्रत्येक मास में एक बार विष योग लगभग बनता ही है। लेकिन कभी-कभी एक माह में यह दो बार भी बन जाता है। अगस्त का माह कुछ ऐसा ही है इसकी शुरुआत भी विष योग से हो रही है और अंत भी विषयोग से ही होगा। क्योंकि 1 से 3 अगस्त और 28 से 31 अगस्त की तिथियों में चंद्रमा और शनि का साथ रहेगा। ऐसे में सभी 12 राशियों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा आइये जानते हैं।

मेष – आपकी राशि से अष्टम भाव में विषयोग बन रहा है। यह समय सेहत के लिये विशेष रूप से चिंताजनक रह सकता है। साथ ही इसके कारण आपका मन अनावश्यक ही भय से आशंकित रह सकता है।

वृषभ – वृषभ राशि से शनि और चंद्रमा की युति सप्तम भाव में हो रही है। सातवें स्थान में विषयोग से दांपत्य, घरेलू जीवन में अशांति का माहौल बनने लगता है। इसलिये आपके लिये सलाह है कि माह की शुरुआत और अंत में स्यवं पर नियंत्रण रखें व कोई ऐसी बात अपने मुख से न निकालें जिससे आपके साथी की भावनाएं आहत हों। कभी-कभी विषयोग के कारण जीवनसाथी के स्वास्थ्य में परेशानी होती है। इसलिये अपने साथी की सेहत का भी ध्यान रखें।

मिथुन – आपके लिये छठे घर में शनि और चंद्रमा विषयोग बना रहे हैं। इस समय आपको अपने शत्रुओं, प्रतिस्पर्धियों, विपक्षियों से थोड़ा संभल कर रहने की आवश्यकता है। किसी पुराने रोग के लक्षण नज़र आने से भी आपको परेशानी हो सकती है इसलिये सेहत को लेकर भी माह की शुरुआत और अंत में लापरवाही न बरतें।

कर्क – आपकी राशि से पंचम स्थान में शनि और चंद्रमा विषयोग बना रहे हैं। संभव है आप माह के आरंभिक और माह के अंतिम दिनों में संतान को लेकर चिंतित रहें। यह चिंता उनकी शिक्षा के प्रति भी हो सकती है क्योंकि विद्यार्थी जातकों के लिये भी समय उतार-चढ़ाव लाने वाला रहने के आसार हैं। रोमांटिक जीवन में भी साथी के साथ आपकी खटपट हो सकती है।

सिंह – आपके लिये चतुर्थ घर में शनि व चंद्रमा विषयोग बना रहे हैं। यह समय आपके सुख-सुविधाओं से संपन्न जीवन में किसी चीज़ की कमी खलने की ओर संकेत कर रहा है। साथ ही किसी नजदीकी प्रिय परिजन की सेहत को लेकर भी चिंतित होना पड़ सकता है।

कन्या – कन्या जातकों के लिये विषयोग पराक्रम भाव में बन रहा है। तीसरे स्थान में विषयोग भाई-बहनों के प्रति चिंता व्यक्त करता है। इस समय आपको अपने भाई-बहनों से, परिजनों से व्यवहार करते समय ध्यान रखना चाहिये कि आपके व्यवहार से उनके सम्मान को कोई ठेस न पंहुचे। अन्यथा विषयोग के प्रभाव से आपके आपसी रिश्ते बिगड़ने की नौबत भी आ सकती है।

तुला - द्वितीय या दूसरा भाव धन का स्थान माना जाता है। धनभाव में चंद्रमा और शनि की युति से यह समय मानसिक चिंताए लाने वाला रह सकता है। पैतृक संपति से जुड़े मामलों में विशेष रूप से सावधानी बरतें। माह के आरंभ और अंतिम दिनों में यात्रा स्थगित ही रखें तो बेहतर है। यदि आवश्यक हो ते किसी सार्वजनिक वाहन से करें, निजी वाहन से सफ़र करना भी पड़े तो सावधानी अवश्य रखें। विष योग के प्रभाव से दुर्घटना के आसार बन सकते हैं।

वृश्चिक – विषयोग आपकी ही राशि में बन रहा है। लग्न में चंद्रमा व शनि की युति मानसिक व शारीरिक कष्ट मिलने की ओर ईशारा कर रही है। हो सकता है कि किसी बड़ी बिमारी का भय भी आपको इस समय सताने लगे।

धनु – आपकी राशि के लिये व्यय घर में शनि व चंद्रमा की युति हो रही है अर्थात 12वें घर में विषयोग के कारण माह के शुरुआती और अंतिम दिन मानसिक रूप से तनाव देने वाले हो सकते हैं। निवेश करने में अच्छे से सलाह मशविरा करने के बाद ही निर्णय लें। यदि विषयोग वाली तिथियों में निवेश न ही करें तो बेहतर है।

मकर – मकर जातकों के लिये लाभ स्थान में शनि और चंद्रमा की युति से विष योग निर्मित हो रहा है। इसके कारण आपको लाभ प्राप्ति के लिये क्षमता से भी अधिक प्रयास करने की आवश्यकता रहेगी। यानि अतिरिक्त प्रयासों के पश्चात ही आप लक्ष्यों को हासिल कर सकते हैं।

कुंभ – कुंभ राशि वालों के लिये दसवें स्थान में विषयोग बन रहा है। दसवां स्थान कर्म का क्षेत्र माना जाता है। इसलिये विषयोग के कारण आपको कार्यक्षेत्र में अनिश्चितताओं का सामना करना पड़ सकता है।

मीन – आपकी राशि से शनि और चंद्रमा की युति नवम यानि भाग्य स्थान में हो रही है। यह विषयोग संभवत भाग्य का साथ कम रहने की ओर ईशारा करता है। इस समय आप निराशावादी विचारों से ग्रस्त भी हो सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि भाग्य के भरोसे न बैठकर कर्म करने में विश्वास रखें।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि विषयोग के प्रभाव से बचने के लिये आपको अपनी कुंडली के अनुसार ही ज्योतिषीय उपाय करने चाहिये। एस्ट्रोयोगी पर आप देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर इन उपायों के बारे में जान सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से   |   विषयोग - इन तिथियों में बनेगा विष योग रहें सावधान!

 जानें दस उपाय जिनसे कम होता है विष योग का प्रभाव   |   कुंडली में संतान योग   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में प्रेम योग  

कुंडली का यह योग व्यक्ति को बना देता है राजा   |   कुंडली के वह योग जो व्यक्ति को एक्टर बना सकते हैं ! 

कुंडली के वह योग, जो व्यक्ति को बनाते हैं धनवान !   |   कुंडली के वह योग जो व्यक्ति को बनाते हैं एक सफल उद्यमी 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...