हस्तरेखा शास्त्र में संतान रेखा

बच्चे अपने माता-पिता के दिल की धड़कन होते हैं। संतान के जन्म से पहले ही माता-पिता इस दुनिया को अपने संतान के लिए एक सुरक्षित जगह बनाने की तैयारी शुरू कर देते हैं। वे सभी योजनाएं शुरू करते हैं और आवश्यक व्यवस्था करते हैं जो भी संभव हो!
हस्तरेखा विज्ञान की शुरुआत के साथ आप अपने बच्चे के भविष्य के बारे में जानना आसान हो गया है और वह कैसा व क्या होगा। यह सदियों पुराने अध्ययन को केवल एक विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा समझा जा सकता है, जो अध्ययन में कुशल है और सही भविष्यवाणी करता है। एस्ट्रोयोगी में सबसे अच्छे ज्योतिषी मौजूद हैं जो हर तरह के ज्योतिषीय मामलों में कभी भी किसी भी समय आपकी सहायता करने के लिए उपलब्ध हैं।


हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली में संतान रेखा

यह रेखा विवाह रेखा के ऊपर स्थित होती है। ये लंबवत रेखाएँ होती हैं जो अधिकांश समय विवाह रेखा से बाहर निकलती हैं। ये रेखाएँ केवल जैविक बच्चे के बारे में ही नहीं हैं बल्कि ये गोद लेने वाले के बारे में भी बताती हैं। पालक आदि शामिल है। कोई भी बच्चा जिसके साथ आपका कोई विशेष संबंध है। यह रेखा उसके बारे में भी बताती है।
संतान रेखा के मायने
यह माना जाता है कि रेखाओं की संख्या उन बच्चों की संख्या को इंगित करती है जो आपके पास होने की संभावना है। गहरी रेखाएँ पुरुष के बच्चे के जन्म का संकेत देती हैं, जबकि हल्की रेखाएँ महिला के जन्म का संकेत देती हैं। यदि रेखाएँ बहुत छोटी और बाधित होती हैं तो यह गर्भपात या गर्भपात के बारे में बताती है, जिसका आपने सामना किया है या होने की संभावना है।
यदि पुरुष हथेली में बच्चों की रेखा काफी प्रमुख है तो बच्चों के स्वस्थ होने की संभावना है, लेकिन यह विपरीत है तो वे कमजोर हो सकते हैं। दूसरी ओर, महिला के हाथ में संतान रेखा बच्चों की संख्या और उनके शारीरिक रूप के बारे में बताती है।


संतान रेखाएँ प्रकार

विभिन्न प्रकार के बच्चों की पंक्तियों का एक अनूठा अर्थ है जो भविष्यवाणी को अधिक व्यक्तिगत और भरोसेमंद बनाता है।
रेशेदार संतान रेखा
यदि संयोग से आपकी संतान रेखा अंत की ओर रेशेदार है तो यह जुड़वाँ बच्चों को इंगित करता है!
गहरे और गहरे रंग के संतान रेखा
यदि आपके दोनों में बच्चों की रेखा गहरी रेखा है तो यह पुत्र के जन्म का संकेत देता है।
संकीर्ण और उथले संतान रेखा
संकीर्ण और उथली संतान रेखा वाले लोगों में एक पुत्री होने की संभावना होती है।
शुरुआत में पर्वत
यदि आपके पास अपने संतान रेखा की शुरुआत में एक पर्वत है, तो आपके संतान कमजोर होने की संभावना होती है और अक्सर ये संतान बीमार पड़ सकते हैं।
घुमावदार या असमान बच्चे लाइन
ऐसी रेखाएँ आपके बच्चे के बहुत अच्छे स्वास्थ्य का संकेत नहीं देती हैं। इसका मतलब है कि बच्चा बार – बार बीमार हो सकता है।
हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार आपके पास जितने बच्चे होंगे, यह आपकी हथेली पर स्थित विभिन्न ग्रहों से पता चलता है।
• अँगूठे के आधार पर पर्वत शुक्र ग्रह को दर्शाता है। यदि यह एक मोटी और दृढ़ रूप में है तो यह अच्छे यौन जीवन का प्रतीक है और कई बच्चे होंगे इसका भी संकेत देता है। लेकिन अगर वही समतल और अच्छी तरह से विकसित है, तो आपके कुछ बच्चे होने की संभावना है।
• बहुत छोटी उंगली वाले लोगों के कुछ बच्चे हो सकते हैं।
• यदि जंजीर के रूप में छोटी उंगली के आधार के नीचे या नीचे दोनों की विवाह रेखा पर कई रेखाएँ हैं, तो दुर्भाग्य से, आपके बच्चे नहीं हो सकते हैं।
• यदि स्वास्थ्य रेखा या ज्ञान रेखा या कलाई के केंद्र पर एक कटाव है तो महिला को गर्भ धारण करने या बच्चे पैदा करने की संभावना नहीं होती है।


एस्ट्रो लेख

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜

परशुराम जयंती 2...

भगवान परशुराम वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन अवतरित हुए भगवान विष्णु के छठे अवतार थे। इन्हें विष्णु का आवेशावतार भी कहा जाता है क्योंकि इनके क्रोध की कोई सीमा नहीं थी। अपने पिता की हत्य...

और पढ़ें ➜