हस्तरेखा शास्त्र में सिमियन रेखा

हस्तरेखा शास्त्र में, सिमियन रेखा एक अनोखी तरह की रेखा है जो केवल कुछ हाथों में मौजूद होती है। कुछ के लिए, यह सौभाग्य साबित होता है जबकि कुछ के लिए इसे अच्छे संकेत के रूप में नहीं लिया जा सकता है।


हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली पर सिमियन रेखा

जहां हृदय और मस्तिष्क की रेखा जुड़ती है, वहां सिमियन रेखा बनाती है। सिमियन रेखा के मायने सिमियन रेखा एक व्यक्ति में मानसिक और भावनात्मक शक्तियों के मिश्रण को दर्शाती है। यह डाउन सिंड्रोम की संभावना को भी दर्शाती है। पुरुषों के लिए, यह रेखा धन के सृजन की भविष्यवाणी करती है और महिलाओं के लिए, यह कठिन जीवन, दुर्भाग्य और तलाक का संकेत देती है। सिमियन रेखा की सकारात्मकता यह दिखाता है बुद्धिमान और स्थिर रहने वाला व्यक्ति। जिन लोगों की हथेली पर यह रेखा होती है, वे बुद्धिमान, स्मार्ट और आत्मविश्वास वाले माने जाते हैं। ऐसे लोगों को जीवन के सभी पहलुओं में स्पष्ट निर्णय लेने के लिए जाना जाता है। यह दर्शाती है कि ऐसे लोग निर्णय लेने की शक्ति रखते हैं क्योंकि ये त्वरित विचारक होते हैं। सिमियन लाइन के नकारात्मक यह दर्शाती है कि ऐसे लोगों का स्वभाव छोटा होता है। वे जिद्दी और आत्म-केंद्रित होने के लिए जाने जाते हैं।


सिमियन लाइन के अनुसार विवाह पहलू

यह चरम पक्ष को दर्शाती है। यदि व्यक्ति प्रेम में समर्पित है, तो वह एक अच्छा साथी बन जाता है और यदि वे अच्छे प्रेमी नहीं हैं, तो इसके विपरीत है। ऐसे लोग संदिग्ध हो जाते हैं और किसी पर भरोसा नहीं करते हैं। ऐसी रेखा वाली महिलाएं या तो पति के लिए अपशकुन होती हैं या विपरीत।


सिमियन लाइन के अनुसार करियर की भविष्यवाणी

करियर के मोर्चे पर सिमियन लाइन वाले लोग ईमानदार होते हैं और वास्तव में अच्छा प्रदर्शन करने में सक्षम होते हैं। ये अत्यधिक जिम्मेदार हैं। ऐसे लोग अच्छे नियम निर्माता और अनुयायी भी होते हैं। ये काम में बेईमानी नहीं करते हैं और सफलता प्राप्त करने के लिए सही रास्ते का विकल्प चुनते हैं। सिमियन लाइन वाली महिलाएं करियर उन्मुख, अत्यधिक स्वतंत्र और सक्षम होती हैं। सिमियन रेखा वाले पुरुष यदि बाएं हाथ पर सिमियन रेखा है, तो उनके पास बहुत अधिक संपत्ति होने की संभावना है। अगर यह दाहिने हाथ पर है तो आप एक अच्छे शासक हैं। आप स्नेही होने के साथ-साथ सक्षम और शक्तिशाली होने की संभावना रखते हैं। इसके साथ ही इनमें एक रोग होने की संभावना है अगर आपके पास सिमियन रेखा है तो - श्वसन समस्या, घबराहट, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल, हेपेटाइटिस, कब्ज, मूत्र प्रणाली के रोग व पुनरुत्पादक समस्याएं।


एस्ट्रो लेख

वैशाख 2020 – वै...

 वैशाख भारतीय पंचांग के अनुसार वर्ष का दूसरा माह है। चैत्र पूर्णिमा के बाद आने वाली प्रतिपदा से वैसाख मास का आरंभ होता है। धार्मिक और सांस्कृतिक तौर पर वैशाख महीने का बहुत अधिक महत...

और पढ़ें ➜

चैत्र नवरात्रि ...

प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि तक चलने वाले नवरात्र चैत्र नवरात्र व वासंती नवरात्र कह...

और पढ़ें ➜

जानें 2020 में ...

वैसे तो साल में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ महीनों में चार बार नवरात्र आते हैं लेकिन चैत्र और आश्विन माह की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक चलने वाले नवरात्र ही ज्यादा लोकप्रिय हैं जिन्ह...

और पढ़ें ➜

गुड़ी पड़वा - क...

गुड़ी पड़वा चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाने वाला पर्व है। यह आंध्र प्रदेश व महाराष्ट्र में तो विशेष रूप से लोकप्रिय पर्व है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही हिंदू नववर्ष का आर...

और पढ़ें ➜