हस्तरेखा शास्त्र में मस्तिक रेखा

हस्त रेखा शास्त्र में मस्तिष्क रेखा (headline) को ज्ञान रेखा के रूप में भी जाना जाता है। यह उन महत्वपूर्ण रेखाओं में से है जिन्हें हस्तरेखा विज्ञान में किसी के वर्तमान जीवन की घटनाओं का अनुमान लगाने और भविष्य की संभावनाओं का विश्लेषण करने के लिए देखा व विश्लेषित किया जाता है।


मस्तिष्क रेखा का अर्थ

मस्तिष्क  रेखा से व्यक्ति की मानसिक या बौद्धिक क्षमता का पता लागाया जाता है। हस्त ज्योतिष में यह मन की शक्ति और उसकी क्षमताओं को दर्शाता है।
हथेली में मस्तिष्क  रेखा का स्थान
हस्त ज्योतिष के मुताबिक यह जीवन रेखा के ऊपर अंगूठे और तर्जनी के बीच क्षैतिज रूप से स्थित होता है।


मस्तिष्क रेखा के प्रकार

• लंबा
जिन लोगों की मस्तिष्क  रेखा लंबी होती है, उनके विचार साफ होते हैं, वे सोच के अच्छे होते हैं। दूसरों के प्रति विचारशील हैं। मस्तिष्क  रेखा लंबी होने से जातक अधिक पलके झपकने हैं जो शायद हर समय उनके लिए अच्छा काम न करें।
• मध्यम
यदि शीर्ष रेखा अनामिका से मध्यम लंबाई तक फैली हो तो ऐसे लोगों को स्मार्ट और शानदार माना जाता है। उनके पास हर कार्य को करने की अच्छी क्षमता है।
• कम
यदि मस्तिष्क रेखा (headline) केवल मध्य उंगली तक फैली हुई है, तो ऐसे लोग प्रतिक्रिया देने में धीमे होते हैं। वे लापरवाह और बहुत आवेगी भी माने जाते हैं। ऐसे जातक व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों मोर्चे पर परेशानी से बचने के लिए अधिक जिम्मेदार और सक्रिय होने के लिए सावधान रहते हैं। ऐसा ही होना भी चाहिए।


मस्तिष्क रेखा के आकार

सीधा : - सीधे मस्तिष्क रेखा वाले लोग मानसिक रूप से बहुत मजबूत होने की संभावना रखते हैं और महान विश्लेषणात्मक क्षमता रखते हैं। वे व्यावहारिक और बेहद समर्पित होते हैं। गणित, विज्ञान और प्रौद्योगिकी जैसे विषय इन जातकों को पसंद होते हैं।

घुमावदार : - यदि किसी जातक के हथेली में एक घुमावदार मस्तिष्क  रेखा होता है, तो वो सहिष्णु व यथार्थवादी होता है। झूठ फरेब से ये दूर रहते हैं।

रेखा नीचे की ओर :- यदि रेखा नीचे की ओर जाती है तो जातक को अत्यधिक रचनात्मक और कलात्मक माना जाता है। ऐसे लोग भावनाओं से प्रभावित हो सकते हैं और ज्यादातर समय इसकी वजह से परेशानी में रहते हैं।
यदि मस्तिष्क रेखा हृदय रेखा को पार कर जाए
यदि रेखा के अंत में क्रॉस है तो व्यक्ति के पास अच्छा सामान्य ज्ञान है। दुर्भाग्य से, वह जीवन में बहुत उतार चढ़ाव देखता है, परंतु वह आगे बढ़ता है।
अंत में हृदय रेखा के करीब:- यदि अंत में मस्तिष्क  रेखा हृदय रेखा के करीब है तो ऐसे रेखा वाले लोगों का व्यक्तिगत संबंध अच्छा माना जाता है। ये सहायक होते हैं और अपने रास्ते में आने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए अच्छी सहायता और समर्थन भी प्राप्त करते हैं।

मस्तिष्क रेखा व जीवन रेखा का जुड़ा होना:- यदि मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा ओवरलैप करती हैं तो जातक का अंतर्मुखी और विचारशील होने की संभावना है। ओवरलैप जितना लंबा होगा जातक उतने ही चिंतित रहेंगे।

जीवन रेखा से दूर:- यदि मस्तिष्क रेखा जीवन रेखा से दूर है तो ऐसे लोगों को बोल्ड, बहिर्मुखी और सफल माना जाता है। वे अत्यधिक स्वतंत्र हैं, आत्मसम्मान से भरे होते हैं। दुर्भाग्य से, जातक अपने प्यार को नियंत्रित करना पसंद करते हैं जिसके कारण आमतौर पर प्रेम जीवन सुचारू नहीं होता है।

डबल मस्तिष्क रेखा:- इस तरह के मस्तिष्क  रेखा वाले जातक की मानसिक क्षमता मजबूत होती है और चरित्र में दोगुने होते हैं। महिलाएं सफल होने के लिए बाहर निकलती हैं, लेकिन विवाह में मोड़ और बदलाव का सामना भी करती हैं।


दो नोकवाला मस्तिष्क रेखा

नीचे की ओर:- मस्तिष्क  रेखा में नीचे की ओर नोक है तो जातक में समस्याओं को हल करने की मजबूत क्षमता के साथ एक अच्छा विचारक हो सकता है। जातक अपनी अराजक प्रवृत्ति नियंत्रित करता है।

ऊपर की ओर:- इस तरह के मस्तिष्क  रेखा वाले जातकों में एक मजबूत क्षमता होती है। ये प्रतिभा के धनी होते हैं। जातक जीवन के कुछ क्षेत्रों में अवास्तविक होते हैं। इनमें से बहुत से दूसरों पर हावी होने के लिए जाने जाते हैं।


गुच्छेदार मस्तिष्क रेखा

यदि आपके हथेली के मस्तिष्क  रेखा में टैसल्स (पंक्तियों का समूह) है तो आपको अधिकतर समय चक्कर आने की संभावना रही है। जातक सिरदर्द व घबराहट अनुभव कर सकता है।


मस्तिष्क रेखा पर पर्वतनुमा आकृति

यदि मस्तिष्क रेखा पर एक पर्वत के समान आकृति है तो व्यक्ति को स्मृति समस्या और हताशा होने की संभावना बनी रहती है। यदि पर्वत का आकार अधिक है तो वृद्धि की संभावना रहती है।
सितारा
यदि मस्तिष्क रेखा (headline) पर कई रेखाओं से बना तारा है तो इससे चोट लगने की संभावना बढ़ जाती है ऐसे में जातक को सावधान रहना चाहिए। जातक सिरदर्द जैसी बीमारियों से भी पीड़ित हो सकते हैं। सौभाग्य से जातक ज्ञानवान हो सकता है।


मस्तिष्क रेखा पर क्रॉसिंग

मस्तिष्क रेखा पर क्रॉसिंग से पता चलता है कि व्यक्ति शर्मीला व कमजोर इच्छाशक्ति वाला है। जातक भयभीत रहता है। इसके साथ ही यह एक गंभीर दुर्घटना की उच्च संभावना को भी दर्शाता है।


मस्तिष्क रेखा पर जंजीरनुमा आकृति

मस्तिष्क रेखा पर जंजीर की तरह पैटर्न होना बहुत आम है। यह एकाग्रता, विचार-विमर्श और खराब स्मृति को दर्शाता है। जातक में दृढ़ संकल्प की कमी हो सकती है। यदि आकृति पूरे मस्तिष्क  रेखा में दिखाई देती है तो जातक को मस्तिष्क रोग होने की संभावना रहती है। अगर मस्तिष्क  रेखा और जीवन रेखा पर जंजीरनुमा आकृति हैं तो जातक को किसी भी तरह की चीज का लालच देकर काम निकलवाया जा सकता है।


खंडित मस्तिष्क  रेखा

यदि मस्तिष्क रेखा (headline) दो भागों में खंडित हुई है तो जातक की अचानक तबियत बिगड़ने की संभावना बनी रहती है और जातक के कैरियर में भी रुकावटें आ सकती हैं। यदि रेखा में अंतराल हैं तो जातक मजबूत दिमाग वाला होता है लेकिन दुर्भाग्य से साथी के साथ सामंजस्य नहीं बिठा पाता है और ब्रेक-अप का सामना कर सकता है।



एस्ट्रो लेख

Number 13 क्यों माना जाता है शुभ - अशुभ? जानें ज्योतिषीय महत्व

मूलांक से जाने कौन है आपके लिए बेहतर साथी

अंक ज्योतिष से जानें गाड़ी का कौनसा रंग रहेगा शुभ

मूलांक से जानें कौनसा ग्रह और कौनसा वार आपके लिये है शुभ

Chat now for Support
Support