Skip Navigation Links
बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा


बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा

गुरु ग्रह बृहस्पति ज्योतिष शास्त्र में बहुत अहमियत रखते हैं। ये देवताओं के गुरु माने जाते हैं इसी कारण इन्हें गुरु कहा जाता है। राशिचक्र की धनु और मीन राशियों का स्वामी भी बृहस्पति को माना जाता है। ये ज्ञान व बुद्धि के दाता माने जाते हैं। इनकी कृपा से ही जातकों को उचित सलाह मिलती है। वरिष्ठ अधिकारियों का सहयोग मिलता है। व्यवसाय फलता-फूलता है। जातक सही निर्णय लेने में समर्थ होता है। क्या आप जानते हैं गुरु ग्रह की कहानी। तो आइये आपको बताते हैं किस्सा देवगुरु ग्रह बृहस्पति का।

बृहस्पति की पौराणिक कथा (Brihspati Grah Pauranik Katha)

बृहस्पति खगोल शास्त्रियों विज्ञानियों के नज़रिये से भले ही जूपिटर नाम का एक ग्रह मात्र हो जो आकार में अन्य ग्रहों से बड़ा प्रतीत होता है। लेकिन हिंदू पौराणिक ग्रंथों में सभी प्रमुख ग्रहों जिन्हें हम नवग्रह भी कहते हैं के संदर्भ में पौराणिक कथाएं मिलती हैं। बृहस्पति ग्रह की भी अपनी पौराणिक कथा मिलती है। ये शुक्र ग्रह के समकालीन हैं और अपनी आरंभिक शिक्षा एक ही गुरु से हासिल की लेकिन चूंकि शिक्षक स्वयं बृहस्पति के पिता थे इसलिये भेदभाव को महसूस कर शुक्र ने उनसे शिक्षा ग्रहण करने का विचार त्याग दिया। बृहस्पति ग्रह का जन्म कैसे हुआ और कैसे देवगुरु की पदवी प्राप्त की इस बारे में पौराणिक कथा कुछ इस प्रकार है।

भगवान ब्रह्मा के मानस पुत्रों में से एक थे ऋषि अंगिरा जिनका विवाह स्मृति से हुआ कुछ इन्हें सुनीथा भी बताते हैं। इन्हीं के यहां उतथ्य और जीव नामक दो पुत्र हुए। जीव बहुत ही बुद्धिमान व स्वभाव से बहुत ही शांत थे। माना जाता है कि इन्होंने इंद्रियों पर विजय प्राप्त कर ली थी। अपने पिता से शिक्षा प्राप्त करने लगे इनके साथ ही भार्गव श्रेष्ठ कवि भी इनके पिता ऋषि अंगिरा से शिक्षा ग्रहण कर रहे थे। लेकिन अंगिरा अपने पुत्र जीव की शिक्षा पर अधिक ध्यान देते थे और कवि को नज़रंदाज करते इस भेदभाव को कवि ने महसूस किया और उनसे शिक्षा पाने का निर्णय बदल लिया। वहीं जीव को अंगिरा शिक्षा देते रहे। जीव जल्द ही वेद शास्त्रों के ज्ञाता हो गये। इसके पश्चात जीव ने प्रभाष क्षेत्र में शिवलिंग की स्थापना कर भगवान शिव की कठोर साधना आरंभ कर दी। इनके कठिन तप से प्रसन्न होकर भगवान भोलेनाथ ने साक्षात दर्शन दिये और कहा कि मैं तुम्हारे तप से बहुत प्रसन्न हूं। अब तुम अपने ज्ञान से देवताओं का मार्गदर्शन करो। उन्हें धर्म दर्शन व नीति का पाठ पढ़ाओ। जगत में तुम देवगुरु ग्रह बृहस्पति के नाम से ख्याति प्राप्त करोगे। इस प्रकार भगवान शिव शंकर की कृपा से इन्हें देवगुरु की पदवी एवं नवग्रहों में स्थान प्राप्त हुआ।

इनकी शुभा, तारा एवं ममता नामक तीन पत्नियां थी। ममता से भारद्वाज एवं कच नामक पुत्रों की प्राप्ति इन्हें हुई।

हालांकि कुछ कथाओं में यह भी आता है कि चंद्रमा बृहस्पति के शिष्य थे। इनसे शिक्षा प्राप्त करते-करते बृहस्पति की पत्नी तारा और चंद्रमा के बीच प्रेम संबंध स्थापित हो गया दोनों के मिलन से तारा को पुत्र की प्राप्ति हुई। यह कोई और नहीं स्वयं बुध ग्रह माने जाते हैं। बृहस्पति और चंद्रमा में बुध को लेकर टकराव की स्थिति पैदा हो गई थी। बृहस्पति बुध को अपना पुत्र बता रहे थे तो चंद्रमा अपना बाद में ब्रह्मा जी हस्तक्षेप से दोनों में समझौता हुआ और तारा ने बुध को चंद्रमा का पुत्र बताया लेकिन समझौते के अनुसार तारा को वापस बृहस्पति के सुपूर्द कर दिया गया। बृहस्पति ने बुध को अपने पुत्र की तरह माना।

बृहस्पति जातक की कुंडली में व्यापक प्रभाव डालते हैं यदि आप अपनी कुंडली में गुरु की दशा जानना चाहते हैं तो परामर्श करें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से।

संबंधित लेख

सूर्य ग्रह - कैसे हुई उत्पत्ति क्या है कथा?   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ?   |  

युद्ध देवता मंगल का कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा   |   शनिदेव - क्यों रखते हैं पिता सूर्यदेव से वैरभाव   |   शनिदेव - कैसे हुआ जन्म और कैसे टेढ़ी हुई नजर   

शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?   |   सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?   |    राहू देता है चौंकाने वाले परिणाम   |   बृहस्पति वक्री 2017   |   

शनि परिवर्तन 2017




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...