चंद्र ग्रहण के समय रखें इन बातों का ध्यान नहीं पड़ेगा बुरा असर

05 जनवरी 2020

विज्ञान के मुताबिक जब सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती हुई पृथ्वी एक सीध में अपने उपग्रह चंद्रमा तथा सूर्य के मध्य आ जाती है, तो चंद्रमा पर पड़ने वाली सूर्य की किरणें रुक जाती हैं, जिससे पृथ्वी की प्रच्छाया उस पर पड़ने लगती है, इससे चंद्रमा दिखाई नहीं देता है, इसी खगोलीय घटना को चंद्र ग्रहण कहा जाता है।

 

चंद्र ग्रहण की ज्योतिष व वैज्ञानिक मान्यता

ज्योतिष मान्यताओं के मुताबिक चंद्र ग्रहण 2020 (chandra grahan 2020) का शुभ – अशुभ प्रभाव राशियों के हिसाब से जातकों पर अलग- अलग पड़ता है जिनका असर मानवीय जीवन पर भी पड़ता है। इन बुरे प्रभावों से बचने के लिए मंत्र हैं, जिनका जाप करने से व्यक्ति के जीवन पर असर कम पड़ता है, वहीं वैज्ञानिकों का मानना है कि चंद्र ग्रहण का किसी पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता और ये बस कहने की बाते हैं। वैज्ञानिक हमेशा से इस तथ्य को नकारते रहे हैं।

 

चंद्र ग्रहण से जुड़ी पौराणिक कथा

पौराणिक कथा के अनुसार समुद्र मंथन के दौरान अमृत देवताओं को मिला लेकिन असुरों ने उसे छीन लिया। अमृत को वापस लाने के लिए भगवान विष्णु ने मोहिनी रूप धारण कर असुरों से अमृत ले आते हैं, जब वह उस अमृत को लेकर देवताओं के पास पहुंचे और उन्हें पिलाने लगते हैं तो राहु नामक असुर अपने माया से देव रूप धारण कर देवताओं के बीच जाकर अमृत पीने बैठ जाता है। जैसे ही वो अमृत पीकर हटता है, सूर्यदेव और चंद्रदेव को भनक लग जाती है कि यह असुर है, तुरंत भगवान विष्णु सुदर्शन चक्र से उसकी गर्दन धड़ से अलग कर देते हैं। वो अमृत पी चुका था इसीलिए वह मरा नहीं, उसका सिर और धड़ राहु और केतु नाम से अमर हो गए। तब से ऐसी मान्यता है कि इसी घटना के कारण सूर्य और चंद्रमा राहु को ग्रहण लगता है, इसी वजह से उनकी चमक कुछ देर के लिए चली जाती है।

 

चंद्र ग्रहण का मानव जीवन पर असर

ज्योतिष शास्त्रियों का कहना है कि चंद्र ग्रहण का प्रभाव पूरे 108 दिनों तक रहता है। इसीलिए यह बहुत जरूरी है कि चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) के दौरान कुछ सावधानी बरती जाए। चंद्र ग्रहण का असर तो प्रत्येक राशि के व्यक्ती पर पड़ता ही है, लेकिन गर्भवती स्त्री और उसके होने वाले बच्‍चे पर ग्रहण का नकारात्मक प्रभाव सबसे ज्यादा पड़ता है। इसलिये गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के समय सावधान रहने की सलाह दी जाती है। खुशियों में लग गया है ग्रहण, जीवन में छाई है अशांति, तो बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।  

 

चंद्र ग्रहण के प्रभाव से बचने के उपाय 

 

चंद्र ग्रहण के दौरान वैदिक मंत्र उच्चारण

चंद्र ग्रहण के प्रभाव को कम करने के लिए शास्त्रों में कुछ उपाय दिए गए हैं। इनमें से एक है ग्रहण के दौरान मंत्र उच्चारण करना। हिंदू वैदिक शास्त्र में चंद्र ग्रहण के प्रभाव से बचने के लिए मंत्र उल्लेखित हैं। इन मंत्रों का जाप चंद्र ग्रहण के दौरान किया जाए तो ग्रहण के असर से निश्चित तौर पर बचा जा सकता है। चंद्र ग्रहण (chandra grahan) के समय वैदिक मंत्र 'ॐ श्रां श्रीं श्रौं स: चंद्रमसे नम:' या 'ॐ सों सोमाय नम:' का जाप करना शुभ है, माना जाता है कि इस वैदिक मंत्र का जाप जितनी श्रद्धा से किया जाए यह उतना ही फलदायी है।

 

चंद्र ग्रहण में गर्भवती महिलाएं रहें भवन के अंदर

चंद्र ग्रहण के समय विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं को भवन से बाहर न निकलने की सलाह दी जाती है। गर्भवती महिला के कमरे में गाय के गोबर से स्वास्तिक बना दिया जाता है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण वाले दिन कोई भी नुकीली चीज का प्रयोग करना वर्जित है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दिन सुई -धागे का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इस दौरान इन्हें किसी भी तरह के खाद्ध सामग्री का सेवन नहीं करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण नहीं देखना चाहिए, माना जाता है कि ऐसा करने पर इसका अशुभ प्रभाव गर्भ में बच्चे के स्वास्थ्य पर पड़ता है।

 

संबंधित लेख

 

 चंद्र ग्रहण 2020चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय   |  

 

 

एस्ट्रो लेख

नौकरी की चिंता है तो इसे पढ़ें राहत मिल सकती है!

बजट 2020 - कैसा रहेगा आपके लिये 2020 का आम बजट

साल 2020 नौकरी करने वालों के लिए कैसा रहेगा? जानिए राशिनुसार

किस राशि को मिलती है अच्छी नौकरी?

Chat now for Support
Support