कुंडली में कमजोर चंद्रमा को बलवान बनाने के उपाय

सौरमंडल के नवग्रहों में से चंद्रमा का स्थान काफी भिन्न है और इसे स्त्री ग्रह माना गया है। सूर्य के बाद सबसे ज्यादा चमकने वाला ग्रह चंद्रमा ही है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है। चंद्रमा के प्रभाव से मन विचलित और स्थिर रहता है। ज्योतिष के मुताबिक कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा है। कुंडली में चंद्र राशि की गणना जातक के जन्म समय पर चंद्रमा की स्थिति के मुताबिक की जाती है। 

 

वैदिक ज्योतिष मे चंद्रमा का महत्व

ज्योतिशास्त्र के अनुसार, यदि कुंडली में चंद्रमा मजबूत स्थिति में है तो यह जातक को सुंदर और आकर्षक बनाता है। साथ ही जातक साहसी और धैर्यवान होता है। चंद्रमा प्रबल होने से जातक को मानसिक तनाव नहीं होता है और जातक के माता के साथ संबंध भी मुधर रहते हैं। जातक सिद्धांतवादी और संवेदनशील होता है। परंतु कुंडली में किसी भी भाव में यदि चंद्रमा के साथ राहु या शनि ग्रह बैठे होते हैं तो चंद्रमा कमजोर हो जाता है और आपके पूरे जीवन की गुणवत्ता को बदल सकता है। यही कारण है कि जन्म कुंडली में चंद्रमा के स्थान को जानना अति महत्वपूर्ण है, और आप चंद्रमा के कमजोर स्थिति में होने और उसके दुष्प्रभाव को कम करने के लिए ज्योतिष उपाय कर सकते हैं। 

 

कुंडली के भाव में कमजोर चंद्रमा के प्रभाव और उपाय 

प्रथम भाव: कुंडली के पहले घर में चंद्रमा की नकारात्मक ऊर्जा स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों को पैदा करती है, विशेष रूप से असंतुलित रक्तचाप और पोषण की कमी के बारे में।

ज्योतिष उपाय:-

  • 24 से 27 साल की उम्र के बीच शादी न करें, यानी 24 साल की उम्र से पहले या 27 साल की उम्र के बाद शादी करें।

  • 24 से 27 साल की उम्र के बीच अपनी कमाई से घर न बनाएं।

  • हरे रंग और भाभी से दूर रहें।

  • बरगद के पेड़ की जड़ों में जल अर्पित करें।

  • जब भी किसी नदी को पार करें, अपने बच्चों के कल्याण के लिए उसमें हमेशा सिक्के डालें।

  • चांदी की थाली हमेशा अपने घर में रखें।

  • पीने के पानी या दूध के लिए चांदी के बर्तनों का उपयोग करें और कांच के बने बर्तनों को इस्तेमाल से बचें।

 

द्वितीय भाव: चंद्रमा की यह नकारात्मक स्थिति परिवार के सदस्यों के बीच गलतफहमी पैदा करके बुरे परिणाम देती है और अंततः परिवार के सदस्यों के साथ अच्छे संबंध नहीं बनेंगे।

ज्योतिष उपाय:-

  • चंद्रमा से जुड़ी चीजें जैसे - चांदी, चावल, घर की गैर-सीमेंट वाली मंजिल, मां और बूढ़ी महिलाएं और उनका आशीर्वाद जातक के लिए बहुत भाग्यशाली साबित होगा।

  • 43 दिनों तक लगातार छोटी लड़कियों को हरे रंग के कपड़े भेंट करना शुभ रहेगा।

  • चंद्रमा से जुड़ी चीजों को अपने घर की नींव में रखें, यानि चांदी का एक चौकोर टुकड़ा।

 

तृतीय भाव: कुंडली में कमजोर चंद्रमा भाई-बहनों के लिए प्रतिकूल स्थिति पैदा करता है। साथ ही जातक को मुंहफट बना देता है उससे कोई भी राज छिपता नहीं है। और कभी-कभी यह विशेषता जातक के जीवन के लिए हानिकारक बन जाती है। 

ज्योतिष उपाय:-

  • कन्या के जन्म के बाद चन्द्रमा, अर्थात चाँदी या चावल से जुड़ी वस्तुओं, सूर्य के साथ जुड़ी वस्तुओं और सूर्य, अर्थात् गेहूँ और गुड़ से जुड़ी वस्तुओं का दान करें।

  • अपनी बेटी के पैसे और धन का उपयोग न करें।

  • 8 वें घर में एक नीच ग्रह के बुरे प्रभावों से बचने के लिए, मेहमानों और अन्य लोगों को स्वतंत्र रूप से दूध और पानी का दान करें।

  • देवी दुर्गा की पूजा करें और उन्हें भोजन और मिठाई परोसने के बाद उनके पैर छूकर छोटी कन्याओं का आशीर्वाद प्राप्त करें।

 

चतुर्थ भाव:  इस घर में चंद्रमा का नकारात्मक स्थान मां और दोस्तों के बीच सबसे खराब तरह का संबंध बनाता है और व्यक्ति निराशा और अवसाद से संबंधित बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है, जो अंततः अनिद्रा और नींद हराम का कारण बनता है।

ज्योतिष उपाय:-

  • व्यभिचार और इश्कबाज़ी जातक की प्रतिष्ठा और धन लाभ की संभावनाओं के लिए गंभीर रूप से हानिकारक होगा।

  • खर्च जितना अधिक होगा, आय उतनी ही अधिक होगी।

  • किसी भी शुभ या नए काम की शुरुआत करने से पहले घर में दूध से भरा घड़ा या कोई भी पात्र रखें।

  • 10 वें घर में रखे गए बृहस्पति द्वारा उत्पन्न बुराई को दूर करने के लिए, जातक को अपने दादा के साथ पूजा स्थलों की यात्रा करनी चाहिए और देवता के चरणों में अपना माथा टेककर उनकी पूजा करनी चाहिए।

 

पंचम भाव: इस घर में चंद्रमा की नियुक्ति व्यक्ति के निर्णय लेने में बाधा उत्पन्न करेगी और जातक द्वारा लिए गए गलत निर्णय जीवन में आगे चलकर पेशानियां पैदा कर सकते हैं। यह नकारात्मक स्थिति भावनात्मक असंतुलन या जातक की लव लाइफ में समझ या बच्चों के साथ उनके संबंधों में उतार-चढ़ाव पैदा कर देता है। 

ज्योतिष उपाय:-

  • अपनी जीभ पर नियंत्रण रखें। मुसीबतों को दूर करने के लिए कभी भी अपमानजनक भाषा का प्रयोग न करें।

  • लालच और स्वार्थी बनने से बचें।

  • दूसरों के प्रति धोखा और बेईमानी आपको प्रतिकूल रूप से प्रभावित करेगी।

  • सार्वजनिक सेवा जातक की आय और प्रतिष्ठा को बढ़ाएगी।

 

षष्ठम भाव: कमजोर चंद्रमा पेट से संबंधित समस्याओं को विशेष रूप से पेचिश, साइनस और खांसी-सर्दी से प्रतिरक्षा करेगा। पुरुष जातक के मामले में, उन्हें महिलाओं से जीवन में बाधाएं मिल सकती हैं।

ज्योतिष उपाय:-

  • अपने हाथों से अपने पिता को दूध परोसें।

  • रात के समय दूध कभी न लें। लेकिन दिन के समय दूध का सेवन और रात के समय दही और पनीर का सेवन भी अनुमन्य है।

  • दूध को दान के रूप में न चढ़ाएं। इसे धार्मिक स्थलों पर ही दान करें।

 

सप्तम भाव : पत्नी / पति के साथ भावनात्मक स्तर पर चंद्रमा मानसिक परेशानी पैदा कर सकता है। साथ ही, जातक अपने साथी के साथ अक्सर बहस में शामिल हो सकते हैं। परिणामस्वरूप, यह एक असंतुलित वैवाहिक जीवन देता है। साथ ही, जातक अपने दुश्मन से हार सकते हैं।

ज्योतिष उपाय:-

  • अपने जीवन के 24 वें वर्ष में शादी से बचें।

  • हमेशा मां को प्रसन्न रखें।

  • लाभ के लिए दूध या पानी कभी न बेचें।

  • खोया बनाने के लिए दूध को जलाएं नहीं।

  • सुनिश्चित करें कि शादी में आपकी पत्नी अपने माता-पिता से अपने वजन के बराबर चांदी और चावल लेकर आए।

 

अष्टम भाव: कुंडली में कमजोर चंद्रमा जातक की मां के अल्पायु की ओर इशारा करता है। साथ ही जातक को कुपोषण भी हो सकता है और यौन कमजोरी से पीड़ित हो सकता है।

ज्योतिष उपाय:-

  • जुआ और छेड़खानी से बचें।

  • अपने पूर्वजों के लिए श्राद्ध समारोह करें।

  • कुएं को छत से ढकने के बाद किसी भी घर का निर्माण न करें।

  • बूढ़े और बच्चों के पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त करें।

  • एक श्मशान घाट की सीमा के भीतर स्थित कुएं या पानी के नल से पानी लाएं और इसे अपने घर के भीतर रखें। 

  • पूजा स्थलों में चना और दाल चढ़ाएं।

 

नवम भाव: नौवें घर में चंद्रमा के नकारात्मक स्थान के कारण पिता के साथ मानसिक बेमेल संबंध होगा। इसके अलावा, जातक को जीवन में अचानक अशुभ घटनाओं का सामना करना पड़ सकता है।

ज्योतिष उपाय:-

  • घर के भीतर चंद्रमा से जुड़ी चीजों को स्थापित करें, अर्थात् चांदी का एक चौकोर टुकड़ा आलमीरा में रखें।

  • मजदूरों को दूध पिलाएं।

  • मछलियों को चावल और सांप को दूध पिलाएं।

 

दशम भाव: यहां चंद्रमा का नकारात्मक स्थान करियर में अवरोध पैदा करता है। जातक को करियर में सुख नहीं मिलेगा। इस तरह का व्यक्ति आमतौर पर उस पेशे में होता है जिसे वह नहीं चाहता था।

ज्योतिष उपाय:-

  • धार्मिक स्थलों की यात्रा जातक के भाग्य को बढ़ाएगी।

  • बारिश के प्राकृतिक पानी या गंगा नदी के पानी को 15 साल तक अपने घर के भीतर रखें। 

  • रात के समय दूध लेने से बचें।

  • दुधारू पशु न तो आपके घर में लंबे समय तक रह सकते हैं और न ही वे लाभकारी या शुभ साबित होंगे।

  • शराब, मांस और व्यभिचार से दूर रहें।

 

एकादश भाव: चंद्रमा का यह नकारात्मक स्थान, कुंठित मौद्रिक आय देता है। यह भावनात्मक दूरी बनाकर जातक को दोस्तों से भी दूर कर देता है जिसके परिणामस्वरूप जातक विथड्रॉ मानसिकता विकसित कर सकता है।

ज्योतिष उपाय:-

  • भैरो मंदिर में दूध चढ़ाएं और दूसरों को उदारतापूर्वक दूध दान करें।

  • सोने के एक टुकड़े को आग में गर्म करें और इसे पीने से पहले एक गिलास दूध में डाल दें।

  • मिठाई (पेड़ा) के 125 टुकड़े किसी नदी में फेंक दें।

 

द्वादश भाव: इस घर में चंद्रमा की खराब स्थिति जातक को एक चरम स्तर पर खर्चीला बनाती है और वे जीवन में बेहद अनावश्यक चीजों पर अपना पैसा खर्च करता है। इस तरह के जातक को उसके खर्चीले स्वभाव के कारण कर्ज भी लेना पड़ सकता है।

ज्योतिष उपाय:-

  • कानों में सोना पहनना, सोने का गर्म टुकड़ा डालने के बाद दूध पीना और धार्मिक स्थलों का दर्शन करना शुभ माना गया है।

  • धार्मिक संतों / साधुओं को दूध और भोजन कभी न दें।

  • एक स्कूल, कॉलेज या कोई अन्य शैक्षणिक संस्थान न खोलें और बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्राप्त करने में मदद न करें।

 

कमजोर चंद्रमा के दुष्प्रभाव को दूर करने के उपाय 
 

  1. चंद्रमा को बली बनाने के लिए शंख का दान उचित रहता है।

  2. दान स्वरूप आप सफेद वस्त्र, चांदी, चावल, भात एवं दूध का दान कर सकते हैं।

  3. सोमवार को गाय को आटे की लोई खिलाना तथा कौए को भात और चीनी मिलाकर खिलाना चाहिए।

  4. चंद्रमा को स्त्री ग्रह कहा जाता है इसलिए किसी स्त्री को दान करने से चंद्रमा की दशा में सुधार होता है।

  5. चंद्रमा से पीड़ित जातक को देर रात तक नहीं जागना चाहिए।

  6. चंद्रमा के दुष्प्रभाव को कम करने के लिए घर में दूषित जल का संग्रह नहीं करना चाहिए।

  7. चंद्रमा को शांत करने के लिए सोमवार को मीठा दूध का सेवन नहीं करना चाहिए।

  8. यदि हो सके तो अपने घर में सफेद फूल वाला पौधा लगाना चाहिए।

  9. चंद्रमा से पीड़ित व्यक्ति को चांदी की अंगूठी में मोती जड़कर अनामिका में पहनना चाहिए। 

  10. सोमवार को सफेद कपड़े पहनने चाहिए।

  11. चंद्रमा की नकारात्मकता को दूर करने के लिए सोमवार को चारमुखी या छहमुखी रूद्राक्ष धारण करना चाहिए।

  12. चंद्रमा के मंत्र का जाप करने से ग्रह का नकारात्मक प्रभाव दूर हो सकता है। "ओम नमः शिवाय" का जाप चंद्रमा की शुभता को बढ़ाता है और आपको मानसिक शांति प्रदान करता है। 

 

चंद्रमा का वैदिक मंत्र -

ऊँ इमं देवा असपत्नं ग्वं सुवध्यं ।

महते क्षत्राय महते ज्यैश्ठाय महते जानराज्यायेन्दस्येन्द्रियाय इमममुध्य पुत्रममुध्यै

पुत्रमस्यै विश वोsमी राज: सोमोsस्माकं ब्राह्माणाना ग्वं राजा ।

चंद्रमा का तांत्रिक मंत्र

  • ऊँ ऎं क्लीं सोमाय नम: ।

  • ऊँ श्रां श्रीं श्रौं चन्द्रमसे नम: ।

  • ऊँ श्रीं श्रीं चन्द्रमसे नम: ।


चंद्रमा का बीज मंत्र - "ॐ सोम सोमाय नमः"

चंद्रमा का पौराणिक मंत्र -

ऊँ दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णवसंभवम ।

नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुटभूषणम ।।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

एस्ट्रो लेख

पितरों के मोक्ष प्राप्ति के लिए रखें चैत्र अमावस्या व्रत

शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

क्या आप भी जन्मे हैं अप्रैल महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

पापमोचिनी एकादशी 2021 - जानें व्रत तिथि व पूजा विधि

Chat now for Support
Support