कुंडली में कमजोर बृहस्पति को बलवान बनाने के उपाय

सौरमंडल के प्रमुख ग्रहों में से एक है बृहस्पति ग्रह, जिसको गुरु का स्थान प्राप्त है। ज्योतिष के अनुसार गुरु को शिक्षा का कारक कहा जाता है। कुंडली में मजबूत बृहस्पति के साथ धन और बुद्धि आती है। यह व्यक्ति को उच्च ज्ञान, शिक्षा, बुद्धि, और भाग्य देता है। बृहस्पति जीवन के क्षेत्रों में विस्तार का कारण बनता है। जहां मंगल आपको एक सुंदर साथी से शादी करने में मदद कर सकता है, वहीं बृहस्पति की उपस्थिति शादी को बनाए रखने में मदद करती है। बृहस्पति को सभी ग्रहों में सबसे अधिक लाभकारी माना जाता है। हालांकि, कभी-कभी, यह नीच या क्रूर ग्रहों के प्रभाव के कारण प्रतिकूल प्रभाव भी ला सकता है। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

 

वैदिक ज्योतिष मे बृहस्पति का महत्व

हिंदू ज्योतिष में गुरु को धनु और मीन का स्वामी कहा जाता है। मकर इसकी नीच राशि मानी गई है। कुंडली में गुरु के सकारात्मक होने पर जातक का व्यक्तित्व मनमोहक और आकर्षक होता है। जातक जीवन में उच्च शिक्षा प्राप्त करता है और उसके अंदर तार्किक और उदारवादी विचार जन्म लेते हैं। उसके जीवन में धन लाभ होता है। धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ती है और वैवाहिक जीवन सुखी रहता है। 

शनि या केतु के साथ बृहस्पति का संबंध सबसे बुरा माना जाता है क्योंकि आपने चाहे कितनी भी सफलता या प्रसिद्धि हासिल कर लें लेकिन सब कुछ बिना किसी समय के शून्य पर आ जाएगा।  यही कारण है कि जन्म कुंडली में बृहस्पति के स्थान को जानना अति महत्वपूर्ण है, और आप बृहस्पति के कमजोर स्थिति में होने और उसके दुष्प्रभाव को कम करने के लिए ज्योतिष उपाय कर सकते हैं। 

कुंडली कुंडली मिलान कुंडली दोष  ➔ कुंडली के योग  ➔ कुंडली में लगन भावकुंडली दशा

 

कुंडली के भाव में कमजोर बृहस्पति के प्रभाव और उपाय 

प्रथम भाव: जब कोई ग्रह कमजोर या बलहीन हो जाता है, तो उसकी शुभता कम हो जाती है और निर्दिष्ट ग्रह पूर्ण परिणाम देने में असमर्थ हो जाता है। जब पहले घर में बृहस्पति कमजोर हो जाता है, तो जातक में आत्मविश्वास की कमी होती है। व्यक्ति निर्णय लेने में असमर्थ हो जाता है। कमजोर बृहस्पति ज्ञान को कम करता है। व्यक्ति राजा से रंक बन जाता है और आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है।

उपाय 

  • संतों और भिक्षुओं को वस्त्र दान करें और उन्हें भोजन खिलाने की भी व्यवस्था करें।

  • अपने भाग्य पर विश्वास रखें और कोई भी दान न लें और न ही किसी से मदद लें।

  • महिलाओं का सम्मान करें।

  • शुद्ध सोना पहनें।

  • केसर का तिलक अपनी नाभि पर लगाएं।

  • अपने घर की दीवारों को पीले रंग में रंगवाएं।

द्वितीय भाव: यदि बृहस्पति दूसरे भाव में कमजोर है, तो जातक को मातृ संपत्ति से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। यदि बृहस्पति इस घर में मौजूद है, तो मूल परिवार का विनाश हो सकता है या परिवार को परेशानियां दे सकता है। वह कड़ी मेहनत से ही लाभ प्राप्त कर सकता है। परिवार में कलह बना रहेगा।

उपाय

  • आपको हमेशा दूसरों के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए।

  • मंदिर के पुजारी को पीले कपड़े में लपेटकर चना दाल दान करें।

  • साँप को दूध पिलाना भी आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा।

  • आपको अपने मेहमानों का सम्मान करना चाहिए और उनकी अच्छी देखभाल करनी चाहिए।

तृतीय भाव: जब बृहस्पति तीसरे घर में कमजोर होता है, तो भाई-बहन से संबंध खराब रहते हैं। जातक थोड़ा आलसी हो सकता है। भाग्य आपका साथ देना बंद कर सकता है। परियोजनाओं को अमल में लाने में समय लगेगा। साहस में कमी रहेगी, व्यक्ति को कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा। 

उपाय

  • भगवान हरि से प्रार्थना करें और अविवाहित लड़कियों की देखभाल करें।

  • केसर या हल्दी का तिलक लगाएं।

  • पीपल के पेड़ की पूजा करें।

  • भगवान विष्णु से प्रार्थना करें।

  • पुखराज पहनना आपके लिए लाभदायक रहेगा। इसके अभाव में, पीले धागे से बंधी अपनी बाहों के चारों ओर हल्दी की एक गाँठ पहनें।

  • ब्राह्मण या अपने परिवार के पुजारी का ध्यान रखें।

  • अपने बरामदे में पीले फूल बोएं।

  • किसी बहस में न पड़ें।

चतुर्थ भाव: यदि बृहस्पति चौथे घर में कमजोर है, तो परिवार की खुशी प्रभावित होगी। जातक विनाश का कारण बन सकता है। कई बार, अपनी मूर्खता की वजह से वह अपने लिए गलत काम कर सकते हैं। जातक जिद्दी हो सकता है। वह अपने ही परिजनों या दोस्तों को परेशान कर सकता है। वह अपने विचारों के कारण परेशान हो सकता है। शराब या किसी तरह के नशे के कारण जातक को बदनामी झेलनी पड़ सकती है।

उपाय

  • आपको अपने घर में मंदिर का निर्माण नहीं करवाना चाहिए।

  • आपको अपने बड़ों का ध्यान रखना चाहिए।

  • साँप को दूध पिलाएँ।

  • अपने शरीर को दूसरों के सामने उजागर न करें।

  • लाल चिन्ह या निशान पर बनियान (बनियान) न पहनें।

  • दूसरों के सामने नहाने से बचें।

  • तीर्थ यात्रा पर जाएँ और भगवान से प्रार्थना करें।

  • अपने परिवार के पुजारी का आशीर्वाद लें।

पंचम भाव: यदि बृहस्पति पांचवें घर में कमजोर है, तो बच्चों की स्थिति प्रभावित होगी। जातक धर्म के नाम पर धन कमा सकता है या भोजन या दान ले सकता है, जातक संतानहीन हो सकता है। उसकी अपनी हरकतें उसे आहत कर सकती हैं।

उपाय

  • कुत्ता पालें।

  • भगवान गणेश से प्रार्थना करें।

  • स्कूल शिक्षक का ध्यान रखें।

  • कोई दान या उपहार स्वीकार न करें।

  • साधुओं और पुजारियों का ख्याल रखना।

  • मांसाहारी भोजन या शराब का सेवन न करें।

  • अपने चरित्र को साफ रखें।

  • उस क्षेत्र को साफ़ करें जहाँ आप नियमित रूप से प्रार्थना करते हैं।

  • गुरुवार का व्रत रखें।

  • पुखराज पहनें, या यदि आप इसे खरीद नहीं सकते हैं तो हल्दी लगाएं।

  • अपने घर में सूरजमुखी या गेंदा का पौधा लगाएं।

छठें भाव: छठे भाव में बृहस्पति की उपस्थिति के कारण जातक गरीबी और दुर्बलता का सामना कर सकता है। जातक को अधिक खर्च करने की आदत होगी। जातक को 34 वर्ष की आयु में भाग्य के उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय

  • कुत्ता पालें।

  • सोने के आभूषण पहनें।

  • पीपल के वृक्ष को जल अर्पित करें।

  • अपनी आर्थिक प्रगति के लिए 600 ग्राम चने की दाल का दान लगातार 06 दिनों तक किसी धार्मिक स्थान पर करें।

  • मसूर दाल को मुर्गा को खिलाएं।

  • अपने मेहमानों और बुजुर्ग लोगों का ख्याल रखें।

  • परिवार के पुजारी को वस्त्र दान करें।

  • अपने बेटे से सहायता और परामर्श लेने के बाद सभी व्यावसायिक गतिविधियों को शुरू करें।

  • कुत्ते को मीठी रोटी खिलाएँ।

  • गरुड़ पुराण का पाठ करें।

सप्तम भाव: सातवें घर में बृहस्पति के अशुभ प्रभाव के कारण जातक को पार्टनर का सहयोग नहीं मिल सकता है। किसी ना किसी वजह से बच्चे आपको परेशान भी करेंगे। किसी से कर्ज लेने के कारण भी बच्चे परेशान हो सकते हैं। जातक को बुढ़ापे में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। पैसा होने के बावजूद मेहनत कम नहीं होगी। परिश्रम करने से भोजन प्राप्त होगा। जातक को किसी की सहायता नहीं मिलेगी।

उपाय

  • भगवान शिव की आराधना करें।

  • मेंढकों को न मारें।

  • अपने घर के अंदर मंदिर का निर्माण न करवाएं।

  • सोने को पीले कपड़े में लपेटें और फिर अपने पास रखें।

  • पीपल के वृक्ष को जल अर्पित करें।

अष्टम भाव: कुंडली के आठवें घर में कमजोर बृहस्पति आपके धन को प्रभावित कर सकता है। आपको वित्तीय क्षेत्र में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जातक एक ऋणी होगा, भले ही उसके पास पैसा हो। वह गरीब और कायर हो सकता है।

उपाय

  • हर समय अपने गले में सोने या पीले रंग का धागा पहनें।

  • लगातार 08 दिनों तक किसी मंदिर में 800 ग्राम चने की दाल दान करें।

  • श्मशान घाट में पीपल का पेड़ लगाएं।

  • किसी मंदिर में हल्दी के टुकड़े लगातार ३ दिनों तक दान करें

  • किसी मंदिर में घी, आलू या कपूर (कपूर) दान करें।

  • किसी भिखारी को अपने घर से खाली हाथ न जाने दें।

नवम भाव:  जन्मचार्ट के नवम भाव में कमजोर बृहस्पति व्यक्ति को नास्तिक बना सकता है। वह गरीब हो सकता है। उसे दुख का सामना करना पड़ सकता है। वह धर्म के प्रति विरोध का भाव रख सकता है। अपनी बुरी आदतों और कर्मों के कारण वह कर्ज में डूब सकता है और अपने धन को नष्ट कर सकता है।

उपाय

  • गाय का ध्यान रखें।

  • नीम के पेड़ के नीचे एक चौकोर चांदी का सिक्का 43 दिनों तक लगातार गाड़ें।

  • प्रतिदिन मंदिर जाएं।

  • शराब का सेवन न करें।

  • बहते पानी में चावल अर्पित करें।

  • गंगा नदी में स्नान करें और गंगा जल पियें।

  • धार्मिक स्थानों की यात्रा करें और दूसरों को वहाँ जाने में मदद करें।

  • हर बार सत्य बोलें।

  • किसी के द्वारा आधा खाया हुआ भोजन न करें।

दशम भाव: जब बृहस्पति दसवें घर में प्रभावित होता है, तो जातक का वित्तीय क्षेत्र प्रभावित होगा, वह अपने काम के बारे में परेशान हो सकता है। परिवार का सुख प्रभावित होगा। 

उपाय

  • 43 दिनों तक लगातार बहते पानी में तांबे का सिक्का प्रवाहित करें।

  • रविवार के दिन 400 ग्राम या 04 किलो गुड़ बहते पानी में प्रवाहित करें।

  • लगातार 43 दिनों तक एक मंदिर में बादाम चढ़ाएं।

  • अपना सिर खुला न रखें, इसे हमेशा ढक कर रखें।

  • भगवान की मूर्ति अपने घर में न रखें।

  • केसर का तिलक लगाएं।

  • पीले वस्त्र न पहनें।

  • सोना न पहनें।

ग्यारहवां भाव: जातक की कुंडली के ग्यारहवें घर में कमजोर बृहस्पति धन को प्रभावित कर सकता है। जातक को अपने पैसे का लाभ नहीं मिल सकता है। जातक को बहन और चाची से खुशी नहीं मिल सकती। उसकी पूर्ण शक्ति व्यर्थ है, उसके पिता के बिना। वह बुरे चरित्र का हो सकता है और समाज में मानहानि का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय

  • ताबूत दान करें।

  • अपने हाथों में तांबे की चूड़ी पहनें।

  • अपने शरीर पर सोना पहनना।

  • पीपल के पेड़ को पानी दें।

  • अपने साथ एक पीला रूमाल रखें।

  • अपने पिता द्वारा इस्तेमाल किए गए बिस्तर और कपड़ों का उपयोग करें।

  • पने परिवार के साथ रहें और उनकी देखभाल करें।

  • शराब और मांसाहारी भोजन का सेवन न करें।

बारहवां भाव: कुंडली के बारहवें भाव में कमजोर बृहस्पति के कारण जातक को अपने पास मौजूद सभी चीजों का सुख नहीं मिल पाता है। चाहने पर भी उसे कोई मदद नहीं मिलती।

उपाय

  • पीपल के पेड़ को पानी दें।

  • किसी वृद्ध ब्राह्मण की देखभाल करें और उसे पीले वस्त्र दान करें।

  • केसर या हल्दी का तिलक लगाएं।

  • अपने पिता का ख्याल रखें।

  • यदि आपकी कुंडली में बृहस्पति और चंद्रमा एक साथ बैठे हैं तो बरगद के पेड़ को पानी न दें।

  • अपने सिर को हमेशा ढक कर रखें।

  • साधु-सन्यासियों का ध्यान रखें।

  • झूठी गवाही न दें।

  • पुखराज पहनें।

  • गरुड़ पुराण का पाठ करें।

 

कमजोर बृहस्पति के दुष्प्रभाव को दूर करने के उपाय 

  • बृहस्पति को बली बनाने के लिए दान के रूप में चीनी, केला, पीला वस्त्र, केशर, नमक, मिठाईयां, हल्दी, पीला फूल और भोजन उत्तम माना गया है।

  • गुरु की शांति के लिए रक्त दान करना भी उत्तम रहता है।

  • बृहस्पति की दशा को सुधारने के लिए रविवार और गुरुवा को छोड़कर अन्य सभी दिन पीपल के पेड़ को जल अर्पित करना चाहिए।

  • किसी मंदिर या धार्मिक स्थल के सामने से निकलने पर सिर अवश्य झुकाना चाहिए।

  • किसी भी परपुरुष और परस्त्री से संबंध रखना अनुचित है।

  • गुरुवार के दिन केले के पड़े के नीचे गाय के घी का दीपक जलाना चाहिए।

  • बृहस्पति को मजबूत करने के लिए गुरुवार के दिन आटे के लोयी में चने की दाल, गुड़ एवं पीसी हल्दी डालकर गाय को खिलाना शुभ माना जाता है।

  • बृहस्पति ग्रह के लिए रत्न पीला नीलम है, जो बृहस्पति के दुष्प्रभाव को दूर करने या कमजोर बृहस्पति को मजबूत करने के लिए पहना जाता है। पीले नीलम का वजन कम से कम 3.25 कैरेट होना चाहिए। 

  • गुरु के बली बनाने के लिए घर में बृहस्पति यंत्र स्थापित करना चाहिए और बृहस्पति से संबंधित मंत्र और स्तोत्र का जाप करना चाहिए।

बृहस्पति का वैदिक मंत्र -

ऊॅँ बृहस्पते अति यदर्यो अर्हाद् द्युमद्बिभाति क्रतुमज्जनेषु। 

यद्दीदयच्छवस ऋतप्रजात तदस्मासु द्रविणं धेहि चित्रम्।। 

बृहस्पति का तांत्रिक मंत्र - 'ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।'

बृहस्पति का बीज मंत्र - ॐ बृं बृहस्पतये नम:।'

नोट - कमजोर बृहस्पति को मजबूत बनाने के लिए किए जा रहे उपायों को यदि आप गुरुवार के दिन, गुरु के नक्षत्र (पुनर्वसु, विशाखा, पूर्व-भाद्रपद) एवं गुरु की होरा में करते हैं, तो यह अधिक फलदायी होते हैं।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

एस्ट्रो लेख

कामिका एकादशी 2021 - पाप से भयभीत मनुष्यों को करना चाहिए कामिका एकादशी व्रत

सावन शिवरात्रि 2021 - शिवरात्रि पर भोलेनाथ करेंगें कष्टों को दूर

हरियाली अमावस्या पर लगायें ये पेड़ चमक सकती है किस्मत

प्रदोष व्रत 2021

Chat now for Support
Support