नीलम

इस लेख में हम नीलम क्या है? इसके क्या ज्योतिषीय महत्व हैं?, किस राशि के जातक इसे धारण कर सकते हैं? इसे धारण करने के क्या लाभ हैं? नीलम को धारण करने की विधि क्या है? इन सभी सवालों का जवाब आपको यहां मिलेगा। तो आइये जानते हैं नीलम के बारे में-


नीलम क्या है?

नीलम कोरुंडम खनिज परिवार का एक अत्यंत कीमती रत्न है। वैदिक ज्योतिष में सबसे शक्तिशाली और सबसे तेज़ अभिनय रत्न के रूप में मान्यता प्राप्त, यह पहनने वाले के जीवन में तुरंत धन, प्रसिद्धि और सफलता लाता है। नीलम के खानों की खोज कश्मीर, म्यांमार, श्रीलंका, मेडागास्कर, थाईलैंड और अमेरिका में की गई है। हालांकि, बनावट में शाही नीले और मखमली होने के नाते, कश्मीरी नीलम को गुणवत्ता के पैमाने पर सबसे अधिक दर्जा दिया गया है। सीलोन श्रीलंका का नीलम रत्न भी उत्तम गुणवत्ता वाला माना जाता है।


नीलम का ज्योतिषीय महत्व

कर्म फलदाता शनि से जुड़े होने के कारण इसका महत्व बढ़ जाता है। शनि को प्रभावी व इसके अनिष्ठ प्रभावों को कम करने के लिए नीलम धारण की सिफारिश ज्योतिषियों द्वारा की जाती है। जो लोग अपने जीवन में ‘शनि साढ़े साती’ या ढैय्या’ के कठिन दौर से गुज़रे उन्हें भी नीलम धारण करने का सुझाव ज्योतिषाचार्यों द्वारा दिया जाता है। इस रत्न का प्रभाव काफी मजबूत होता है और इसका असर तुरंत महसूस किया जाता है। इस लिए नीलम रत्न को धारण करने से पूर्व ज्योतिषियों द्वारा बहुत सावधानी के साथ विचार विमर्श कर धारण किया जाना चाहिए। अन्यथा आपको हानि का सामना करना पड़ सकता है।


किस राशि के जातक धारण करने सकते हैं?

भारतीय ज्योतिष शास्त्र में मकर और कुंभ राशि के लिए नीलम रत्न बताया गया है। पश्चिमी ज्योतिष में तुला राशि के लिए नीले रंग का नीलम धारण करने की सलाह दी जाती है। नीलम जन्म रत्न के तौर पर मिथुन, कन्या और वृषभ द्वारा भी पहना जा सकता है। परंतु ज्योतिषीय सलाह लेने के बाद।


नीलम धारण करने के फायदे

नीलम काफी लोकप्रिय है और पूर्वी दुनिया में नीलमणि, इंद्रनील, इंद्रनीलम, नीला पुखराज आदि के रूप में जाना जाता है। लोग शनि-साढ़ेसाती व ढैय्या के चरण के दौरान वित्तीय, पेशेवर और मनोवैज्ञानिक समस्याओं को हल करने की क्षमता के लिए इस रत्न में बहुत विश्वास रखते हैं। नीलम को धारण कर पेशेवर या व्यवसायी जातक अपने करियर में स्थिरता ला सकते हैं और गतिरोध को तोड़ सकते हैं। नीलम पहनकर अपनी किस्मत बदल सकते हैं।
प्रसिद्धि,लोकप्रियता और भाग्य में बढ़ोत्तरी
नीलम के सबसे अच्छे लाभों में से एक है, भाग्योदय। नीलम रत्न कमजोर शनि को मजबूत करता है, जिससे व्यक्ति को धन बनाने और प्रबंधित करने के प्रचुर अवसर मिलते हैं। विस्तारित यह एक रचनात्मक प्रयास हो या एक राजनीतिक महत्वाकांक्षा नीलम पहनने वाले को अपनी प्रतिभा और कड़ी मेहनत से उसे प्रसिद्धि और भाग्य लाकर लाभान्वित करता है।
पुनर्सृजित अनुशासन, धैर्य और वैराग्य
शनि को मूल जीवन शैली में अनुशासन को विकसित करने के लिए जाना जाता है और यह उन्हें कार्य के प्रति केंद्रित, दृढ़ और प्रगतिशील बनाता है। नीलम धारण करने वाले की विकसित नैतिकता के परिणामस्वरूप प्राप्त किए गए परिणामों में नीलम के लाभ परिलक्षित होते हैं।
नीलम के औषधीय गुण
नीलम धारण करने वाले को यह उनके जोड़ों के दर्द, गाउट और आर्थराइटिस को ठीक करके और संवेदी अंगों को अच्छे आकार में रखकर लाभ पहुँचाता है। यह मन को शांत करता है और भ्रम, चिंता और अवसाद के लोगों को राहत देता है।
नीलम धारण करने की विधि
नीलम रत्न को शनिवार के दिन धारण करना बहुत ही शुभ माना जाता है। आप शनिवार के शुद्ध हो जाएं, इसके बाद घर में दूध, मिश्री, शहद और गंगाजल घोल बना लें, फिर उसमें अपनी अंगूठी करीब 30 मिनट तक रख दें। इस बीच आप पीपल वृक्ष को जल दे आयें। जल में काला तील, चीनी और कच्चा दूध डाल लें।  लौटकर गंगाजल से अंगुठी को धोकर धूप-दीप दिखा कर धारण कर लें। 
यहां दी गई जानकारी सामान्य है। नीलम के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से बात कर सकते हैं। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें या 9999091091 पर कॉल करें।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!



एस्ट्रो लेख

देवोत्थान एकादशी 2020 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

क्या आप भी जन्मे हैं दिसंबर महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

गोपाष्टमी 2020 तिथि मुहूर्त व व्रत कथा

अक्षय नवमी पर करें आंवले के वृक्ष का पूजन मिलेगा शुभ फल

Chat now for Support
Support