मूनस्टोन

इस लेख में हम आपको मूनस्टोन के बारे में विस्तृत जानकारी देने जा रहे हैं। मूनस्टोन क्या है? इसके ज्योतिषीय महत्व क्या हैं? मूनस्टोन को धारण करने के क्या फ़ायदे हैं? इसे किस तरह से धारण किया जा सकता है? किस राशि के जातक इसे धारण कर सकते है? इसे धारण करने की विधि क्या है? इन सभी प्रश्नों का उत्तर आपको इस लेख में मिलने वाला है। तो आइये जानते हैं मूनस्टोन के बारे में


मूनस्टोन क्या है?

मूनस्टोन दूधिया सफेद रंग का एक रंगहीन है, जो फेल्डस्पार खनिज परिवार से आता है। यह एक कीमती रत्न है, जिसे इसके सुंदरता व प्रभाव के लिए पहचाना जाता है। मूनस्टोन को चंद्रकांत के नाम से भी जाना जाता है। मूनस्टोन मोती के लिए एक ज्योतिषीय विकल्प हैं; हालांकि मोती की तुलना में मूनस्टोन के ज्योतिषीय लाभ व परिणाम कम हैं। बाजार व प्रकृतिक रूप से मूनस्टोन दो तरह के पाए जाते हैं ब्लैक मूनस्टोन और रेनबो मूनस्टोन।


मूनस्टोन का ज्योतिषीय महत्व

वैदिक ज्योतिष में मूनस्टोन मोती का विकल्प रूप माना जाता है। यह भावनाओं को संतुलित करने, क्रोध को नियंत्रित करने, रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने और अच्छे स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए पहना जाता है। मूनस्टोन भी पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए एक लोकप्रिय आभूषण रत्न है। यह एक उत्कृष्ट पत्थर है जो धारक में शांति और भावनात्मक संतुलन लाता है। यह शांति और उच्च चेतना का प्रतीक है।


किस राशि के लोग धारण कर सकते हैं?

मूनस्टोन जून के महीने में पारंपरिक जन्म रत्न माना जाता है। वैदिक ज्योतिष में यह कर्क राशि का रत्न है। मूनस्टोन को संगीतकारों, कलाकारों, लेखकों और संगीतकारों के लिए बेहद फ़ायदेमंद है और यह रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने और प्रकृति की आभा और जीवंतता के साथ सिंक्रनाइज़ेशन को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है।


मूनस्टोन धारण करने के फायदे

मूनस्टोन का अर्थ इसकी भौतिक उपस्थिति के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है जो प्रकाश को पकड़ने पर चंद्रमा की तरह चमकता है। प्राचीन सभ्यता के लोग, विशेष रूप से रोमन लोगों ने मूनस्टोन की आध्यात्मिक गुणों और उपचार शक्तियों पर गहरा विश्वास रखा।


भावनाओं को नियंत्रण करना में सहायक

मूनस्टोन रत्न वैदिक ज्योतिष में बहुत बड़ा महत्व रखता है। भारतीय ज्योतिषी इस रत्न को चंद्रमा ग्रह से जोड़ते हैं जिसे मन का शासक माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि असली मूनस्टोन पहनने से अतिसक्रिय या तनाव-ग्रस्त मन ठीक हो जाता है, क्रोध को नियंत्रित करता है और शांत और रचित रहने में मदद करता है।


आत्मविश्वास और रचनात्मक क्षमताओं को बढ़ावा देता है

चिकित्सा उपचारों में, मूनस्टोन क्राउन चक्र, तृतीय नेत्र चक्र और त्रिक चक्र सहित शरीर के विभिन्न चक्रों की ऊर्जा को संरेखित करता है और व्यक्ति को आत्मविश्वास और रचनात्मक रहने में मदद करता है। कहने की जरूरत नहीं है, मूनस्टोन कलात्मक उद्यमों से जुड़े लोगों के लिए एक आदर्श रत्न है।
मातृ संबंध को बेहतर बनाता है
वैदिक ज्योतिष ने चंद्रमा को मातृ राशि से जोड़ा है और कहा जाता है कि इससे माता के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। यह माना जाता है कि एक प्राकृतिक मूनस्टोन पहनने से जातक को अपनी मां के साथ संबंध सुधारने में भी मदद मिलती है।
त्वचा को ठीक करता है, हार्मोनल और प्रजनन संबंधी समस्याएं
मूनस्टोन के प्रमुख लाभों में से एक यह है कि यह शरीर के विषहरण शक्ति को बढ़ावा देता है और विभिन्न ग्रंथियों के समुचित कार्य का समर्थन करता है। चिकित्सा मूनस्टोन हीलिंग गुणों को त्वचा विकारों, आंखों में संक्रमण, हार्मोनल असंतुलन या प्रजनन समस्याओं से निपटने वाले व्यक्तियों के लिए फ़ायदेमंद माना जाता है।


मूनस्टोन धारण करने की विधि

मूनस्टोन को आप चाँदी के धातु में धारण कर सकते हैं। परंतु इससे पूर्व आपको ज्योतिषाचार्यों से सलाह लेना होगा कि आपकी कुंडली के अनुसार कौन सा रत्न व कितने रत्ती का रत्न आपको धारण करना है। मूनस्टोन धारण करने से पूर्व आप इसे शहद, गंगाजल, मिश्री व दूध के घोल में रख कर एक रात के लिए छोड़ दे उसके बाद इसे धारण करें। मूनस्टोन को शुक्ल पक्ष में पड़ने वाले सोमवार धारण करना लाभकारी होता है।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!



एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

खर मास - क्या करें क्या न करें

Chat now for Support
Support