ग्राहक सेवा
9999 091 091

कुंडली में कमजोर केतु को बलवान बनाने के उपाय

ज्योतिष में केतु भी राहु की तरह छाया ग्रह माना गया है। वैदिक ज्योतिष में केतु आपकी कर्म संग्रह से जुड़ा हुआ है। आपके द्वारा पिछले जन्म में किए गए कर्म को केतु परिभाषित करता है और राहु जो केतु से सातवें स्थान पर है वह बताता है कि इस जन्म में आपका अंतिम उद्देश्य क्या है। केतु को आध्यात्म, वैराग्य, मोक्ष तथा तांत्रिक विद्या कारक माना गया है। भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

 

वैदिक ज्योतिष में केतु का महत्व

हालांकि ज्योतिष में केतु किसी भी राशि का स्वामी नहीं है। लेकिन धनु केतु की उच्च राशि है, जबकि मिथनु में यह नीच भाव में होता है। यदि किसी जातक की कुंडली में केतु 3, 9 और 10वें घर में होता है तो जातक को शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं। लेकिन किसी जातक की कुंडली में केतु कमजोर हो तो यह कई प्रकार की समस्याएं पैदा करत देते हैं। यही कारण है कि जन्म कुंडली में केतु के स्थान को जानना अति महत्वपूर्ण है, और आप केतु के कमजोर स्थिति में होने और उसके दुष्प्रभाव को कम करने के लिए ज्योतिष उपाय कर सकते हैं। 

कुंडली कुंडली मिलान कुंडली दोष  ➔ कुंडली के योग  ➔ कुंडली में लगन भावकुंडली दशा

 

कुंडली के भाव में कमजोर केतु के प्रभाव और उपाय 

प्रथम भाव 

  • जातक की कुंडली के प्रथम भाव में केतु के कमजोर होने पर 

  • जातक लालची और स्वार्थी बन जाएगा और अपने बच्चों के कारण चिंतित हो सकता है।

  • वैवाहिक जीवन में खलल पड़ सकता है।

  • आत्मविश्वास की कमी बनी रहेगी।

  • खराब स्वास्थ्य, आर्थिक नुकसान की संभावनाएं बनी रहेंगी। 

  • जातक नकारात्मक मानसिक शक्तियों को विकसित कर सकता है।

  • कमजोर केतु धन का नाश करेगा।

  • कमजोर केतु दीर्घायु को नष्ट कर सकता है।

 

प्रथम भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. बंदरों को गुड़ (गुड़) खिलाएं।

2. केसर को तिलक के रूप में लगाएं।

3. यदि संतान परेशान है तो मंदिर में काले और सफेद रंग का कंबल दान करें।

 

दूसरा भाव 

  • कुंडली के द्वितीय भाव में कमजोर केतु होने पर 

  • जातक को आंख, मुंह और चेहरे की परेशानी झेलनी पड़ सकती है।

  • सीखने में कठिनाई और असभ्य तरह से बर्ताव करेगा।

  • खाने को लेकर दूसरों पर निर्भर रहेगा।

  • परिवार के सदस्यों के साथ संबंध अच्छे नहीं रहेंगे।

 

दूसरा भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

  1. आपके माथे पर हल्दी, केसर का तिलक लगाएं।

  2. अपना चरित्र अच्छा रखें।

  3. अविवाहित लड़कियों की देखभाल करें।

  4. भगवान गणेश की प्रार्थना करना और गणेश चतुर्थी पर व्रत रखना बहुत लाभदायक होगा।

  5. आपको अपने भोजन का एक हिस्सा एक काले और सफेद कुत्ते को देना चाहिए। 

 

तीसरा भाव

  • जातक की कुंडली के तृतीय घर में केतु के नीच में होने से

  • जातक के भाई-बहन को नुकसान झेलना पड़ेगा।

  • दोस्तों के साथ आप अनैतिक व्यवहार करेंगे।

  • बिना उद्देश्य और लाभ के यात्रा कर सकते हैं।

  • कमजोर केतु पिता और भाई-बहन से संबंध खराब करा सकता है।

 

तीसरा भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. केसर का तिलक के रूप में उपयोग करें।

2. सोना पहनें।

3. बहते जल में गुड़, चावल अर्पित करें।

 

चतुर्थ भाव

  • कुंडली के चौथे भाव में केतु के कमजोर होने पर

  • जातक को पानी से बचकर रहने की जरूरत होगी।

  • आपकी मां और दोस्तों को परेशानी हो सकती है।

  • आपका मन और विचार प्रदूषित हो सकते हैं।

  • आपके पिता को आर्थिक नुकसान हो सकता है।

 

चतुर्थ भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. कुत्ता पालें।

2. मन की शांति के लिए चांदी पहनें।

3. बहते पानी में पीली चीजें अर्पित करें।

 

पांचवां भाव

  • कुंडली के पांचवें घर में केतु के क्रूर होने पर जातक को 

  • मानसिक तर्कहीनता

  • गुस्सैल स्वभाव 

  • पेट की बीमारियां

  • और गर्भवती महिला के भ्रूण को हानि हो सकती है। 

 

पांचवां भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. दूध और चीनी का दान करें।

2. बृहस्पति के उपाय उपयोगी होंगे।

 

छठा भाव

  • कुंडली के छठें भाव में कमजोर केतु होने पर जातक कभी अमीर नहीं बन पाता है।

  • कमजोर केतु हिंसक और आपराधिक प्रवृत्ति दे सकता है।

  • जातक चोट और बीमारियों से ग्रसित रहेगा।

 

छठा भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. बाएं हाथ की उंगली में सोने की अंगूठी पहनें।

2. केसर वाला दूध पिएं और कान में सोना पहनें।

3. सोने की एक छड़ को गर्म करें और फिर इसे दूध में डुबोएं। फिर इसे पी लें। यह मानसिक शांति बहाल करेगा, दीर्घायु बढ़ाएगा और बेटों के लिए अच्छा होगा।

4. कुत्ता पालें।

 

सातंवा भाव

  • कुंडली के सातवें घर में केतु के कमजोर होने पर जातक का जीवनसाथी के साथ अलगाव हो सकता है।

  • आपका गुस्सा और चिड़चिड़ापन परिवार में परेशानी पैदा कर सकता है।

  • जातक को जननांगों में रोग हो सकता है और आप गैर-लाभदायक साझेदारी कर सकते हैं।

 

सातंवा भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. कभी भी झूठा वादा न करें।

2. केसर का तिलक के रूप में उपयोग करें।

3. गंभीर परेशानी के मामले में बृहस्पति के उपचार का उपयोग करें।

 

अष्टम भाव

कुंडली के आठवें भाव में कमजोर केतु जातक को पत्नी और परिवार से अलग करेगा। आपको गरीबी और आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। आपको लाछन झेलना पड़ेगा। 

 

अष्टम भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. कुत्ता पालें।

2. किसी भी मंदिर में एक काले और सफेद कंबल का दान करें।

3. भगवान गणेश की पूजा करें।

4. कान में सोना पहनें।

5. तिलक के रूप में केसर का उपयोग करें।

 

नवम भाव

नवम भाव में केतु के कमजोर होने पर जातक के पिता के संबंध अच्छे नहीं रहेंगे। आपकी मां बीमार हो सकती हैं। आपके भाई-बहन के साथ आपके संबंध अच्छे नहीं रहेंगे। 

 

नवम भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. कुत्ता पालें।

2. घर में कहीं भी सोने का आयताकार टुकड़ा स्थापित करें।

3. कान में सोना पहनें।

4. बड़ों का सम्मान करें, खासतौर पर पिता का।

 

दशम भाव

कुंडली के दसवें घर में केतु के नीच होने पर जातक को सफलता प्राप्त नहीं हो पाती है। उसके यश और मान-सम्मान में हानि होती है। आपको आंखों में तकलीफ हो सकती है। आपके दुश्मन आपको परेशान कर सकते हैं। कमजोर केतु आपके पिता की समृद्धि के लिए बुरा होगा। आप कर्ज में डूब सकते हैं।

 

दशम भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. घर में शहद से भरा चांदी का बर्तन रखें।

2. एक कुत्ता रखें, विशेष रूप से अड़तालीस साल की उम्र के बाद।

3. व्यभिचार से बचें।

4. चंद्रमा और बृहस्पति के उपचार का उपयोग करें।

 

एकादश भाव 

कुंडली के ग्यारहवें घर में केतु के होने पर जातक को कान की बीमारी हो सकती है। आपके दोस्त आपके साथ विश्वासघात कर सकते हैं। आपके पास नियमित आय का स्त्रोत नहीं होगा। 

 

एकादश भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. काला कुत्ता पालें।

2. गोमेद या पन्ना पहनें।

 

द्वादश भाव

  • कुंडली के बारहवें घर में केतु के कमजोर होने पर, जातक को गरीबी का सामना करना पड़ सकता है। वह अंतर्मुखी हो सकता है।

  • वह अपनी माँ के स्वास्थ्य, संपत्ति के मामलों या वाहन से उत्पन्न होने वाली परेशानियों के कारण तनाव में आ सकता है। कमजोर केतु आपको सन्यासी बना सकता है और आप अपने परिवार को छोड़ सकते हैं। 

 

द्वादश भाव के लिए वैदिक ज्योतिष उपाय

1. भगवान गणेश की पूजा करें।

3. कुत्ता पालें।

3. अच्छी नींद के लिए रात को तकिये के नीचे सौफ और खांड रखें।


 

कमजोर केतु के दुष्प्रभाव को दूर करने के उपाय 

  • केतु को बली बनाने के लिए किसी युवा को कपिला गाय, कंबल, लहसुनिया, लोहा, तिल, तेल, बकरा, नारियल और उड़द का दान करना चाहिए।

  • केतु की दशा को सुधारने के लिए लाल और मूंगा ऐसे रंग हैं जिनसे आपको बचना चाहिए, खासकर कपड़ों और गहनों में।

  • सरसों का तेल दान करना भी केतु के दुष्प्रभाव को कम करने में मदद करता है।

  • केतु से पीड़ित लोगों को कुत्तों की देखभाल करनी चाहिए और स्ट्रीट डॉग्स को आश्रय देना चाहिए।

  • केतु के लिए पीला और सफेद दो अनुकूल रंग माने जाते हैं। आपको बस ग्रे रंग पहनने से बचना चाहिए।

  • केतु को मजबूत करने के लिए अपने पर्स में चांदी का सिक्का रखना चाहिए।

  • केतु के दुष्प्रभाव को दूर करने के लिए केतु मंत्रों का जाप किसी भी मंगलवार की आधी रात से ही शुरू कर देना चाहिए। 

  • व्यक्ति को केतु को बली बनाने के लिए भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए। मंगलवार का व्रत रखना चाहिए। फलों का सेवन करना चाहिए और दूध पीना चाहिए। परिवार के बुजुर्गों का आशीर्वाद लेना चाहिए।

  • केतु की दशा से बचने के लिए आपको कैट्स आई रत्न धारण करना चाहिए। 

 

केतु को अनुकूल बनाने के आसान मंत्र

 

केतु का वैदिक मंत्र 

“ऊँ केतुं कृण्वन्नकेतवे पेशो मर्या अपेश से। सुमुषद्भिरजायथा:”

 

केतु का तांत्रिक मंत्र 

  • “ऊँ स्त्रां स्त्रीं स्त्रौं स: केतवे नम:”

  • “ह्रीं केतवे नम:”

  • “कें केतवे नम:”


केतु का बीज मंत्र 

“ऊँ कें केतवे नम:”

केतु का पौराणिक मंत्र 

“पलाशपुष्पसंकाशं तारकाग्रहमस्तकम्।

रौद्रं रौद्रात्मकं घोरं तं केतुं प्रणमाम्यहम्।।”


नोट - कमजोर केतु को मजबूत बनाने के लिए किए जा रहे उपायों को यदि शनिवार और मंगलवार के दिन, केतु के नक्षत्र (अश्विनी, मघा और मूल नक्षत्र) एवं शनि की होरा में करते हैं, तो यह अधिक फलदायी होते हैं।


भारत के शीर्ष ज्योतिषियों से ऑनलाइन परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें!

एस्ट्रो लेखView allright arrow

शुक्र ग्रह गोचर 2022: शुक्र करने जा रहे हैं राशि परिवर्तन, जानें किन राशि वालों का चमकेगा भाग्य?

गुजरात विधानसभा 2022: ज्योतिषीय विश्लेषण से जानें कौन बनेगा, गुजरात विधानसभा का किंग

Numerology Prediction December 2022 : जानें किन मूलांक वालों की होगी बल्ले-बल्ले?

Stock Market Prediction : दिसंबर 2022 में इन्वेस्टमेंट करने से पहले जान लें ये बड़ी बातें

Chat now for Support
Support