हिंदू पंचांग मास 2019 – हिंदू मास के नाम व तिथियां

यदि आपसे पूछा जाये कि महीनों के नाम बताओ तो आपके जहन में झट से जनवरी, फरवरी, मार्च, अप्रैल आदि 12 महीनों के नाम आ जायेंगें लेकिन क्या आप जानते हैं यह माह तो अंग्रेजी कैलेंडर वर्ष के माह हैं। भारतीय पंचांग के अनुसार महीनों के नाम क्या हैं? कब कौनसा माह आरंभ हो रहा है? भारतीय कैलेंडर का पहला महीना कौनसा होता है? इन सब सवालों के जवाब आपको इस लेख में मिलेंगें।

घर या गाड़ी खरीदने के लिये शुभ योग कब बन रहे हैं? जानें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से, ज्योतिषी जी से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

क्या हैं भारतीय माह और कैसे होता है निर्धारण

भारतीय या कहें हिंदू पंचांग के अनुसार भी महीनों की संख्या 12 ही होती है। लेकिन भारतीय वर्ष कैलेंडर में काफी विविधताएं मिलती हैं। चंद्र वर्ष व सूर्य वर्ष दोनों के माह अलग अलग होते हैं। सूर्य मास जहां राशियों में सूर्य की संक्रांति से आरंभ होता हैं वहीं चंद्र मास पूर्णिमांत और अमांत दो प्रकार के होते हैं। भारतीय महीनों के नामों का निर्धारण नक्षत्रों के नाम पर हुआ है। माह की पूर्णिमा तिथि को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उसी के आधार पर महीनों के नाम रखे गये हैं। हिंदू नववर्ष का आरंभ चैत्र मास से होता है तो वर्षांत फाल्गुन से।

 

मास व तिथि

हिंदू मास 30 तिथियों का होता है। पूर्णिमा व अमावस्या को छोड़कर सभी तिथियां दो बार आती हैं। पूर्णिमांत मास पूर्णिमा को समाप्त होता है तो अमांत मास का समापन अमावस्या को होता है। उत्तर भारत में पूर्णिमांत मास का प्रचलन अधिक है तो दक्षिण में अमांत की मान्यता अधिक है। प्रतिपदा मास की पहली तिथि होती है इसके पश्चात द्वितीया, तृतीया आदि चतुर्दशी तक चौदह तिथियां आती हैं पंद्रहवीं तिथि पूर्णिमा या अमावस की होती है। जिस समय चंद्रमा बढ़ते क्रम में होता है वह शुक्ल पक्ष कहलाता है तो वहीं घटते क्रम में चंद्रमा जब रहता है तो उसे कृष्ण पक्ष कहते हैं।

 

2019 में हिंदू पंचांग मास कब से कब तक

पौष – 23 दिसंबर 2018 से 21 जनवरी 2019

माघ – 22 जनवरी से 19 फरवरी 2019

फाल्गुन – 20 फरवरी से 21 मार्च 2019

चैत्र – 22 मार्च से 19 अप्रैल 2019

वैशाख – 20 अप्रैल से 18 मई 2019

ज्येष्ठ – 19 मई से 17 जून 2019

आषाढ़ – 18 जून से 16 जुलाई 2019

श्रावण – 17 जुलाई से 15 अगस्त 2019

भाद्रपद – 16 अगस्त से 14 सितंबर 2019

आश्विन – 15 सितंबर से 13 अक्तूबर 2019

कार्तिक – 14 अक्तूबर से 12 नवंबर 2019

मार्गशीर्ष – 13 नवंबर से 12 दिसंबर 2019

पौष – 13 दिसंबर 2019 से 10 जनवरी 2020

 

यह भी पढ़ें

माघ – स्नान-दान से मिलता है मोक्ष   |   पौष मास – जानें पौष मास के व्रत त्यौहार व महत्व के बारे में    |  

सावन - शिव की पूजा का माह   |   सावन के बाद आया, श्रीकृष्ण जी का माह ‘भादों‘   |   मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार   |

एस्ट्रो लेख

जानें शॉपिंग का...

हम शॉपिंग कभी भी और कहीं भी कर लेते हैं। यह नहीं सोचते कि आज दिन कौन सा है? या समय क्या है? बस हम बाजार में अपने जरूरत के हिसाब से खरीदारी कर लेते हैं। लेकिन ऐसा करना हमारे कितना ह...

और पढ़ें ➜

किस राशि को मिल...

पढ़-लिख कर हर नौजवान एक अच्छी नौकरी पाने की आस जरूर अपने जेहन में रखता है। कितनों को उनके मन के मुताबिक जॉब मिल भी जाती है। लेकिन अक्सर ज्यादातर लोगों को उनके मन का काम नहीं मिल पा...

और पढ़ें ➜

सावन अमावस्या 2...

अमावस्या तिथि बहुत मायने रखती है। हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष का यह अंतिम दिन होता है। अमावस्या की रात्रि को चंद्रमा घटते-घटते बिल्कुल लुप्त हो जाता है। सूर्य ग्रहण जैसी खगोल...

और पढ़ें ➜

सावन शिवरात्रि ...

 सावन शिवरात्रि बहुत महत्वपूर्ण होती है। माना जाता है कि भगवान भोलेनाथ अपने भक्तों की पुकार बहुत जल्द सुन लेते हैं। इसलिये उनके भक्त अन्य देवी-देवताओं की तुलना में अधिक भी मिलते है...

और पढ़ें ➜