SRH vs RR - सनराइजर्स हैदराबाद vs राजस्थान रॉयल्स का मैच प्रेडिक्शन

10 अक्तूबर 2020

IPL 2020 26th मैच की प्रेडिक्शन

  • सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) vs राजस्थान रॉयल्स (RR)
  • तिथि – 11 अक्टूबर 2020
  • स्थान – दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम, दुबई
  • समय –   दोपहर 3:30 बजे  (भारतीय समयानुसार), दोपहर 2:00  बजे  (यूएई समयानुसार) 
  • सनराइजर्स हैदराबाद की नाम राशि - कुंभ
  • राजस्थान रॉयल्स की नाम राशि – तुला 

 

एक नजर दोनों टीमों के प्रदर्शन पर

आईपीएल 13 के 23वें मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स ने पांचवी जीत हासिल करते हुए राजस्थान रॉयल्स को 46 रनों से मात दी। इसके साथ ही राजस्थान अब तक 5 मैचों में केवल 2 मैच ही जीत सकी है और 3 मैच हारी है। वहीं अंकतालिका में राजस्थान रॉयल्स 7वें नंबर पर है। जबकि दूसरी ओर है सनराइजर्स हैदराबाद जिसने 22वें मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब को 69 रनों से शिकस्त देते हुए तीसरी जीत हासिल की। आईपीएल टेबल प्वॉइंट्स में सनराइजर्स 6 अंकों के साथ तीसरे नंबर पर काबिज है। अब आगामी 11 अक्टूबर को दुबई में होने वाले मैच में हैदराबाद का मुकाबला राजस्थान के साथ है। ऐसे में देखना काफी दिलचस्प होगा कि क्या राजस्थान अपनी जीत का बिगुल बजा पाती है या हैदराबाद अपने जीत के विजय रथ को आगे बढ़ाती है? फिलहाल ज्योतिषीय आकलन के आधार पर हम आपको बताते हैं कि कौन सी टीम के जीतने के आसार अधिक हैं ? 

 

सनराइजर्स हैदराबाद - डेविड वॉर्नर

बहरहाल एस्ट्रोयोगी ज्योतिषी द्वारा की गई ज्योतिषीय भविष्यवाणी की मदद से जानते हैं कि इस मैच का परिणाम क्या रहने वाला है। दरअसल नाम के अनुसार सनराइजर्स हैदराबाद की राशि कुंभ बनती है। कुंभ राशि के स्वामी शनि हैं।  कुंभ राशि के स्वामी शनि इनकी राशि से बारहवें स्थान मकर में बैठे हैं जो कि काफी अच्छे संकेत कर रहे हैं।  मंगल का तीसरे घर में गोचर करना इनके लिये शुभ संकेत ला सकता है। आईपीएल शुरु होने के लग्न के अनुसार सनराइजर्स हैदराबाद की बारहवें भाव की राशि बन रही है लग्न में शनि का लग्नेश होना इनके लिए शुभ संकेत है। अंक ज्योतिष के अनुसार भी देखा जाए तो Sunrisers Hyderabad के इस नाम में आने वाले अंग्रेजी वर्णों का योग करें तो टीम का अंक 9 बनता है व लघु नाम (SRH) का योग 1 बनता है। 9 अंक के स्वामी मंगल हैं तो वहीं 1 अंक सूर्यदेव का अंक माना जाता है। इनकी नाम राशि से सूर्य जहां रोग भाव यानि छठें स्थान में विराजमान हैं तो वहीं मंगल सुख भाव में। कुल मिलाकर सनराइजर्स का प्रदर्शन काफी सराहनीय रहने की उम्मीद की जा सकती है।

 

वहीं सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान डेविड वॉर्नर की जन्म तिथि और जन्म समय(12 बजे) के अनुसार, उनकी सूर्य राशि वृश्चिक बनती है जिसके स्वामी मंगल हैं। इनके प्रभाव से ही वॉर्नर काफी आक्रामक खेलते हैं। वृश्चिक लग्न का स्वामी मंगल है जो खेल का कारक भी माना जाता है। मंगल का खेल ( पराक्रम ) भाव में उच्च का होकर बैठना वॉर्नर के खेल को निखारने का कार्य करेगा। आईपीएल के 13वें सत्र में ये बुद्धि व मन से सक्षम रहेंगे। जिससे इनके खेल में सुधार होगा। पराक्रमेश का अपने भाव को देखना व पराक्रम का स्वामी शनि का होना इनके लिए सफलता सूचक बन रहा है। कुल मिलाकर वॉर्नर इस सत्र में अच्छा प्रदर्शन करते नजर आ सकते हैं।

 

राजस्थान रॉयल्स - स्टीव स्मिथ

दूसरी ओर राजस्थान रॉयल्स की नाम राशि तुला बनती है। राशि का स्वामी शुक्र वर्तमान गोचर में अपने ही अष्टम भाव में चला गया है जो कमजोर अवस्था में है। इससे टीम का मनोबल कमजोर रहेगा। अच्छी टक्कर देने के बाद भी टीम जीत की दहलीज से दूर रह सकती है। वहीं राजस्थान रॉयल्स के कप्तान स्टीव स्मिथ की जन्म तिथि और जन्म समय(12 बजे) के अनुसार, उनकी सूर्य राशि वृषभ है, जो जातक को कार्य करने में ऊर्जावान, कर्मठ व कर्मशील बनाती है। जिसकी वजह से स्मिथ अपने लक्ष्य तक पहुंचने में कामयाब होंगे। सूर्य व बुध का केंद्र में बुधादित्य योग बनना इनके व राजस्थान रॉयल्स के लिए एक शुभ योग बन जाता है। खेल का कारक मंगल का करियर के स्वामी के साथ ग्यारहवें स्थान में बैठना एक केंद्र त्रिकोण राज योग बना रहा है लेकिन शुक्र की स्थिति कमजोर होने के कारण सुख में कमी का संकेत मिल रहा है। जिसके चलते स्टीव स्मिथ जीत के करीब होते हुए भी पराजय का स्वाद चख सकते हैं। नाम के अनुसार स्टीव स्मिथ की नाम राशि कुंभ है और जिसका स्वामी शनि है जो कि कर्म का फलदाता है। लेकिन खेल भाव का कारक मंगल पर शनि की दृष्टि पड़ने के कारण कभी कभी स्टीव को आत्मबल में कमी के साथ टीम के असहयोग को भी झेलना पड़ सकता है। 

 

कुल मिलाकर टीम और राशियों का आकलन करने पर सनराइजर्स हैदराबाद के जीतने के आसार प्रबल हैं। हालांकि क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है, इसलिए ये तो वक्त ही बताएगा कि कौन जीत का स्वाद चखेगा। 

एस्ट्रो लेख

पितरों के मोक्ष प्राप्ति के लिए रखें चैत्र अमावस्या व्रत

शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

क्या आप भी जन्मे हैं अप्रैल महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

पापमोचिनी एकादशी 2021 - जानें व्रत तिथि व पूजा विधि

Chat now for Support
Support