Janeu Shubh Muhurat 2021 - इस साल केवल 10 दिन ही है जनेऊ मुहूर्त

20 जनवरी 2021

हिंदू धर्म में 16 संस्कारों का अपना अलग ही महत्व है। इन्हीं संस्कारों में से दसवां संस्कार है उपनयन या यज्ञोपवीत संस्कार, जिसे आम बोलचाल की भाषा में जनेऊ संस्कार कहा जाता है। यज्ञोपवीत संस्कृत का शब्द है जिसका मतलब होता है कि यज्ञ या हवन करने का अधिकार मिलना। यह कर्णवेध के बाद किया जाता है। इस संस्कार में पूरे मंत्रोच्चार और रीति-रिवाज के साथ बालक को जनेऊ धारण कराया जाता है। शास्त्रों के मुताबिक जनेऊ धारण करने के बाद ही बालक शिक्षाग्रहण करने के योग्य माना जाता है। कहा जाता है कि जिस बालक का जनेऊ संस्कार नहीं होता है उसका पूजा-पाठ करना, विद्या ग्रहण करना और व्यापार प्रारंभ करना सबकुछ निर्थक ही रहता है। बच्चे के जन्म स्थान व समयानुसार उसकी कुंडली आप एस्ट्रोयोगी पर विद्वान ज्योतिषाचार्यों से बनवा सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों से अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।
 

जनेऊ का महत्व 

पहले जमाने में लोग ज्योतिषी से एक शुभ मुहूर्त निकलवाकर बालक का उपनयन संस्कार करते थे ताकि उसकी बुद्धि और आयु का विकास हो सके। शास्त्रों के मुताबिक ब्राह्मण बालक का जनेऊ आठ वर्ष की आयु में, क्षत्रिय बालक का जनेऊ 11 वर्ष की आयु में, वैश्य बालक का जनेऊ 12 साल की उम्र में होना चाहिए। जनेऊ संस्कार करवाने से बालक के पिछले जन्म के सभी पाप धुल जाते हैं। माना जाता है कि उसका नया जन्म होता है। लेकिन आजकर विभिन्न कारणों की वजह से शादी के दिन ही उपनयन संस्कार किया जाने लगा है। 

 

जनेऊ क्या है?

जनेऊ का निर्माण तीन धागों को गुथकर किया जाता है। यह आसानी से पहचाने जाने योग्य है क्योंकि यह हमेशा किसी व्यक्ति के बाएं कंधे से उनकी दाईं कलाई की ओर बंधा होता है। जनेऊ बनाने वाले तीन धागे शक्ति की देवी यानी पार्वती, धन की देवी यानी लक्ष्मी और ज्ञान की देवी यानी सरस्वती का प्रतिनिधित्व करते हैं। और साथ ही तीनों गुनों के प्रतीक हैं - सत्व, रज और तम। तीन धागे गायत्री मंत्र के तीन भागों की तरह हैं, और चार आश्रम, वे ब्रह्मचर्य, गृहस्थ और वानप्रस्थ के टोकन हैं। हालांकि चौथे आश्रम सन्यास में जनेऊ उतारते हैं।

  1. द नाइन स्ट्रिंग्स: वैदिक ज्योतिष के अनुसार, जनेऊ में धागे की प्रत्येक धारा में तीन और तार होते हैं, जो उन्हें कुल नौ बनाते हैं। ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, जनेऊ पहनने से नवग्रह (नौ ग्रह) का आशीर्वाद मिलता है।यह शरीर के बाहरी छिद्रों को भी इंगित करता है, जो एक मुंह, दो नथुने, दो आंखें, दो कान और पेशाब और मलत्याग के लिए नलिकाएं हैं।
  2. द फाइव नॉट्स: पाँच गांठें जनेऊ में बंधी हुई हैं जो पाँच यज्ञों, पाँच इंद्रियों, पाँच कर्मों और पंच महाभूतों को इंगित करती हैं। शास्त्रों के मुताबिक, युवा अविवाहित लड़के 3 धागे के साथ पवित्र धागे पहनते हैं। विवाहित पुरुष 6 धागे के साथ पवित्र धागे पहनते हैं। और जिन पुरुषों के माता-पिता अब जीवित नहीं हैं, वे 9 किस्में वाले धागे पहनते हैं। 
  3. जनेऊ की लंबाई: एक जनेऊ 96 अंगुल (अंगुल) लंबी होती है, और इसका मतलब है कि पहनने वाले को 64 कला और 32 प्रकार के अध्ययन सीखने होते हैं। पाठ्यक्रम की इन 32 धाराओं में चार वेद, छह वेदांग, छह दर्शन , तीन सूत्र ग्रन्थ (उपाख्यानों का संग्रह), और नौ अरण्यक शामिल हैं। दूसरी ओर, 64 कलाओं में वास्तुकला, खाना पकाने, पेंटिंग, साहित्य, हस्तशिल्प, सिलाई, कढ़ाई, बुनाई, और बहुत कुछ शामिल हैं।

 

कैसे किया जाता है उपनयन संस्कार

  • जनेऊ संस्कार के दिन एक यज्ञ का आयोजन किया जाता है। 

  • जिस बालक का यज्ञोपवीत संस्कार होने जा रहा है वह अपने परिवार के साथ यज्ञ में बैठता है। 

  • इस अवसर पर बालक बिना सिले कपड़े पहनता है और एक हाथ में डंडा रखता है।

  • वह अपने गले में पीला कपड़ा और पैरों में खड़ाऊ पहनता है।

  • बालक के सिर को मुंडवा दिया जाता है और एक चोटी छोड़ दी जाती है। बालक के माथे पर चंदन का लेप किया जाता है। 

  • जनेऊ को विभिन्न मंत्रों के साथ तैयार किया जाता है और पीले रंग से रंग दिया जाता है। मंत्र कुछ इस प्रकार है: 

यज्ञोपवीतं परमं पवित्रं प्रजापतेर्यत्सहजं पुरस्तात् ।

आयुष्यमग्रं प्रतिमुञ्च शुभ्रं यज्ञोपवीतं बलमस्तु तेजः।।

 

अनुष्ठान विधि

जनेऊ संस्कार शुरू करने से पहले, बच्चे के सिर पर सभी बाल काटे जाते हैं। उपनयन मुहूर्त के दिन, लड़का सबसे पहले स्नान करता है। फिर वे अपने सिर और शरीर पर चंदन का लेप लगाता है, जिसके बाद हवन की तैयारी शुरू होती है। अब, बच्चा गणेश पूजा (भगवान गणेश की पूजा) और यज्ञ के लिए बैठता है। अब देवी-देवताओं का आह्वान करने के लिए दस हजार बार गायत्री मंत्र का जाप करता है। लड़का अब शास्त्रों का पालन करने और व्रत का पालन करने का संकल्प लेता है। बाद में, वह अपनी उम्र के अन्य लड़कों के साथ बैठता है और चूरमा खाता है, और फिर स्नान करता है। इसके बाद पिता, या परिवार का कोई अन्य बुजुर्ग फिर बच्चे को गायत्री मंत्र सुनाता है और उससे कहता है कि, "आज से तुम ब्राह्मण हो।" इसके बाद, वे लड़के को एक डंडा देते हैं, साथ ही मेखला और कोंधनी बाँधते हैं, और वह उपस्थित लोगों से भिक्षा माँगता है। रात के खाने के बाद, बच्चा घर से भाग जाता है क्योंकि वह "पढ़ाई के लिए काशी जा रहा है।" इसके तुरंत बाद, लोग जाकर उसे शादी के नाम पर प्रलोभन और रिश्वत देकर वापस ले आते हैं। अब अनुष्ठान पूरा हो गया है, और लड़का एक ब्राह्मण है। इस तरह जनेऊ संस्कार संपन्न होता है। 

 

 

कर्णछेदन संस्कार मुहूर्त 2021 अन्नप्राशन संस्कार मुहूर्त 2021।  विवाह मुहूर्त 2021 विद्यारंभ मुहूर्त 2021 गृहप्रवेश मुहूर्त 2021 मुंडन मुहूर्त 2021 

 

जनेऊ धारण से जुड़े तथ्य

  • यदि जनेऊ को किसी के कान पर बांधा जाता है तो यह एक की याददाश्त बढ़ाने में मदद करता है और कब्ज को रोकने में भी मदद करता है और पेट की बीमारी से मुक्त रखता है।

  • एक लोकप्रिय धारणा है कि यदि कोई जनेऊ पहनता है, तो जीवन भर किसी भी नकारात्मक विचारों से बचा रहता है।

  • मृत्यु के बाद मोक्ष या मोक्ष प्राप्त करने में मदद करता है।

  • ऐसा कहा जाता है कि एक बार इसे पहनने के बाद जनेऊ को शरीर से नहीं हटाना चाहिए।

  • यदि किसी कारण से, धागा टूट जाता है या खो जाता है, तो इसके बजाय एक नया धागा बांधा जाना चाहिए और पुराने को पुन: उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

  • जनेऊ के पीछे बहुत सारे वैज्ञानिक कारण हैं। यह मूत्र प्रणाली और मूत्राशय को स्वस्थ रखता है। यह रक्तचाप और दिल से संबंधित बीमारी को कम करने में भी मदद करता है। यह स्मरण शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है।

 

उपनयन संस्कार मुहूर्त की गणना

सनातन परंपरा हर शुभ कार्य के लिए शुभ मुहूर्त का वर्णन करती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह माना जाता है कि जब आप एक शुभ समय में एक महत्वपूर्ण काम शुरू करते हैं, तो इसमें सफलता और सकारात्मक परिणाम की बेहतर संभावना होती है। 

 

माघ और ज्येष्ठ के महीनों के बीच आने वाली विशिष्ट तिथियां विशेष रूप से यज्ञोपवीत संस्कार के लिए शुभ मानी जाती हैं। इनमें तिथियों के लिए शुक्ल पक्ष में  द्वितीया, तृतीया, पंचम, दशम, एकादशी, द्वादशी शामिल हैं जबकि कृष्णपक्ष में द्वितीया, तृतीया और पंचम शामिल हैं। वहीं तिथियों के अलावा, जब दिन की बात की जाती है तो बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार सर्वश्रेष्ठ दिन हैं, जबकि रविवार एक मध्यम है, और संस्कार के लिए सोमवार कम से कम अनुकूल दिन है। जबकि जनेऊ संस्कार के लिए मंगलवार या शनिवार अशुभ दिन हैं।

 

इसके साथ ही हस्त, चित्रा, स्वाति, पुष्य, धनिष्ठा, अश्विनी, मृगशिरा, पुनर्वसु, श्रवण और रेवती नक्षत्र इस संस्कार के लिए शुभ हैं। दूसरी ओर भरणी, कृतिका, मघा, विशाखा और ज्येष्ठा को छोड़कर कोई भी नक्षत्र में यज्ञोपवीत संस्कार किया जा सकता है। 

 

वहीं आज हम 2021 में पड़ने वाले यज्ञोपवीत संस्कार के शुभ मुहूर्त को लेकर प्रस्तुत हुए हैं। तो चलिए जानते हैं 12 महीनों में कब-कब हैं शुभ मुहूर्त

  • 22 अप्रैल 2021, गुरुवार, सुबह 05:49 बजे से सुबह 06:55 बजे तक

  • 29 अप्रैल 2021, गुरुवार, सुबह 05:42 बजे से  दोपहर 11:48 बजे तक

  • 13 मई 2021,  गुरुवार, सुबह 05:32 बजे से दोपहर 02:29 बजे तक

  • 16 मई 2021, रविवार, सुबह 10:01 बजे से दोपहर 02:17 बजे तक

  • 17 मई 2021, सोमवार, सुबह 05:29 बजे से दोपहर 11:35 बजे तक

  • 21 मई 2021, शुक्रवार, अपराह्न 11:11 बजे से दोपहर 03:22 बजे तक

  • 23 मई 2021, रविवार, सुबह 06:43 बजे से सुबह 06:48 बजे तक

  • 30 मई 2021, रविवार, सुबह 05:24 बजे से दोपहर 03:03 बजे तक

  • 13 जून 2021, रविवार, सुबह 05:23 बजे से दोपहर 02:44 बजे तक

  • 20 जून 2021, रविवार, सुबह 10:31 बजे से शाम 04:22 बजे तक 

Chat now for Support
Support