Skip Navigation Links
धनु राशि में बुध का परिवर्तन जानें क्या होगा प्रभाव?


धनु राशि में बुध का परिवर्तन जानें क्या होगा प्रभाव?

राशिचक्र की तीसरी राशि मिथुन व छठी राशि कन्या के स्वामी बुध को ज्योतिष के अनुसार बुद्धि का कारक माना जाता है। संचार कुशलता को बुद्ध काफी हद तक प्रभावित करते हैं। तकनीकी क्षेत्रों में भी बुध के परिवर्तन से बदलावों की संभावना जताई जाती है। कुल मिलाकर बुध की चाल में होने वाले बदलाव ज्योतिषशास्त्रियों द्वारा बहुत अहमियत रखते हैं। 24 नवंबर को बुध ने धनु राशि में प्रवेश किया था लेकिन 3 दिसंबर को बुध वक्री हो गये थे और 11 दिसंबर को वृश्चिक राशि में चले गये थे। 23 दिसंबर को बुध की चाल फिर से बदली है जिसके परिणामस्वरुप 6 जनवरी 2018 को वह पुन: धनु राशि में प्रवेश कर रहे हैं। बुध की चाल में आये इतने बदलावों के बाद अब बुध कुछ समय तक शनि, सूर्य व शुक्र के साथ चतुर्ग्रही योग बनायेंगें। शुक्र व शनि फिलहाल अस्त चल रहे हैं लेकिन 8 जनवरी को शनि अस्त से उदित होंगे, ऐसे में बुध का यह परिवर्तन आपके लिये कैसा रहेगा आइये जानते हैं?

मेष

आपकी राशि से बुध भाग्य स्थान में आ रहे हैं जहां शनि पहले से विराजमान हैं। इस समय व्यक्तिगत रूप से आप निराश हो सकते हैं। आपकी निराशा का कारण आपकी अपेक्षानुसार कार्यों का न होना हो सकता है। अनपेक्षित असफलता भी आपको इस समय मिल सकती है। इस दौरान आप काफी बेचैन रह सकते हैं। हालांकि जीवनसाथी एवं परिजनों के साथ संबंध अनुकूल होने से आप थोड़ी राहत महसूस कर सकते हैं। अविवाहित जातक अपने विवाह को लेकर चिंतित हो सकते हैं विशेषकर जिनके विवाह में देरी हो रही हो। संपत्ति संबंधी को विवाद भी इस समय बढ़ सकता है। कुल मिलाकर यह समय आपके लिये थोड़ा सचेत रहने का है।

वृषभ

आपकी राशि से बुध का प्रवेश अष्टम भाव में हो रहा है। अष्टम भाव में बुध व शनि की युति होने से आपके लिये लाभकारी योग बन रहे हैं। अनपेक्षित स्त्रोत से धन प्राप्ति हो सकती है। संपत्ति संबंधी लाभ मिलने के आसार भी बन रहे हैं। इस समय आपको ख्याति मिल सकती है। आपका रूतबा काफी बढ़ने के आसार हैं। सामाजिक समारोहों में भी आप लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर सकते हैं। राजनीति से जुड़े जातकों के लिये यह समय बहुत अच्छा कहा जा सकता है।

मिथुन

सप्तम भाव में बुध शनि के साथ गोचररत हो रहे हैं। इस समय आपको रोमांटिक जीवन में थोड़ा संभलकर रहने की आवश्यकता रहेगी। साथी के साथ मतभेद बढ़ने के आसार हैं। अविवाहित जातकों को भी धैर्य रखने की आवश्यकता रहेगी। नौकरीशुदा जातकों के लिये कामकाज की दृष्टि से समय लाभकारी रहने की संभावनाएं हैं हालांकि व्यवसायी जातकों को कोई भी निर्णय लेने या किसी भी परियोजना में निवेश करने से पहले अच्छे से विचार विमर्श कर लेना चाहिये।

कर्क

कर्क जातकों के लिये बुध का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है जो कि आपके रोग व शत्रु का घर है। शनि के साथ बुध के आने से स्वास्थ्य के मामले में आप बेहतर महसूस कर सकते हैं। कामकाजी जीवन की बात करें तो समय आपके लिये अच्छा रहेगा। इस समय आप अपने प्रतिद्वंदियों पर हावि रह सकते हैं। कार्यस्थल पर कुछ लोग आपसे ईर्ष्या भी रख सकते हैं। हमारी सलाह है कि इन्हें नजरंदाज कर अपने काम से काम रखें। नाम व शौहरत पाने के लिहाज से यह समय आपके लिये एकदम सही है।

सिंह

आपकी राशि से बुध का पंचम भाव में शनि के साथ गोचर करेंगें। पांचवा स्थान आपके लिये संतान, प्रेम व विद्या का कारक है। विवाहित दंपति संतान को लेकर चिंतित हो सकते हैं। संतानशुदा जातक भी उनकी शिक्षा को लेकर परेशान हो सकते हैं। इस समय आपकी स्वयं की स्थिति भी असमंजस भरी रह सकती है। हो सकता है आप कार्यस्थल पर अच्छे से अपनी कार्य योजना भी न बना पायें। महत्वपूर्ण निर्णय लेने में भी आप परेशानी महसूस कर सकते हैं। बेहतर रहेगा इस समय दोस्तों, बड़े बुजूर्गों व क्षेत्र विशेष में किसी अनुभवी व्यक्ति की सलाह लेकर कार्य करें। वित्तिय तौर पर भी आपको इस समय थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

कन्या

कन्या राशि के स्वामी स्वयं बुध हैं। आपकी राशि से राशि स्वामी सुख भाव में शनि के साथ गोचर रत हो रहे हैं। इस समय आपको बड़े बुजूर्गों का सहयोग मिलने के आसर हैं। उनकी सलाह लेकर आगे बढ़ना आपके लिये लाभकारी रह सकता है। माता के प्रति आपके संबंध मधुर रहने के आसार हैं। पारिवारिक जीवन में भी आपको संतुष्टि मिल सकती है। कृषि क्षेत्र से जुड़ जातकों के लिये भी समय लाभकारी कहा जा सकता है।

तुला

आपकी राशि से तृतीय स्थान में बुध शनि के साथ आ रहे हैं। व्यक्तिगत या व्यावसायिक जीवन में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। व्यावसायिक तौर पर वित्तीय हानि के संकेत भी हैं। हालांकि कार्यस्थल आप किसी के प्रति आकर्षित हो सकते हैं। यदि आपको लगे कि सामने वाला भी आपमें रूचि ले रहा है तो आप आगे बढ़ सकते हैं। सकारात्मक उत्तर मिल सकता है।

वृश्चिक

बुध का द्वितीय भाव में शनि के साथ आना वृश्चिक जातकों के लिये सेहत के मामले में अच्छे संकेत कर रहा है। आपका स्वास्थ्य बेहतर रहने की उम्मीद की जा सकती है। कामकाज की दृष्टि से भी समय अनुकूल कहा जा सकता है। विशेषकर जो जातक कॉल सेंटर, रेडियो जॉकी, सिंगर, मीडीया आदि संचार व रचनात्मक क्षेत्रों से जुड़े हैं उनके लिये बेहतरीन समय रह सकता है। विद्यार्थियो के लिये भी समय सफलता लाने वाला रहने के आसार हैं।

धनु

बुध का परिवर्तन आपकी राशि में हो रहा है। बुध व शनि के एक साथ होने से यह समय आपके लिये अच्छा कहा जा सकता है। आप अपने आस-पास के लोगों में यार दोस्तों में, कार्यस्थल आदि पर चर्चित रह सकते हैं। इस समय आपके हृद्य में दूसरों के दुख दर्द के प्रति सहानुभूति की भावना रह सकती है। जरुरतमंदों की सहायता करने में भी रूचि दिखा सकते हैं। आप स्वयं में नेतृत्वकारी क्षमता के विकास को महसूस कर सकते हैं। व्यक्तिगत जीवन आपका काफी अच्छे से गुजरने के आसार हैं हालांकि रोमांटिक जीवन सामान्य बने रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

मकर

आपकी राशि से बुध का परिवर्तन व्यय भाव में हो रहा है। व्यय भाव में शनि के साथ होने से आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने के आसार हैं। इस समय आर्थिक तौर पर उतार-चढ़ाव या कहें अस्थिरता का सामना भी आपको करना पड़ सकता है। आप महसूस कर सकते हैं कि आपके लिये इस समय कुछ भी सही नहीं हो रहा है इसी कारण आप चिंतित भी रह सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि जहां भी आप अपना बेहतर प्रदर्शन करने में में यकीन रखते हैं उसी दिशा में मेहनत के साथ काम करते रहें आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं। व्यक्तिगत संबंधों के मामले में भी यह समय खींचतान वाला रहने के आसार हैं।

कुंभ

कुंभ राशि वालों के लिये बुध लाभ स्थान में आ रहे हैं। धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। इस समय को आपके लिये अनुकूल कहा जा सकता है। आपका स्वास्थ्य भी काफी अच्छा रहने की उम्मीद की जा सकती है। अविवाहित जातकों के लिये विवाह के योग भी बन रहे हैं। बातचीत का सिलसिला आगे बढ़ सकता है। सामाजिक तौर पर भी आपको नोटिस किया जा सकता है साथ ही आपकी सराहना भी की जा सकती है।

मीन

आपकी राशि से बुध कर्मभाव में आ रहे हैं। दसवें स्थान में शनि व बुध की युति व्यावसायिक तौर पर आपके लिये लाभकारी योग बना रही है। कार्यस्थल पर उन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। यदि लंबे समय से पदोन्नति या वेतन वृद्धि की अपेक्षा है तो इस समय पूरी संभावनाएं हैं कि आपकी बात बन जाये। हालांकि कुछ महत्वपूर्ण निर्णयों को लेने के मामले में आप असमंजस की स्थिति में भी रह सकते हैं। हमारी सलाह है कि वरिष्ठ सहयोगियों सलाह आपका उचित मार्गदर्शन कर सकती है। आपको अपनी मेहनत का फल इस समय मिल सकता है। व्यक्तिगत जीवन भी सौहार्दपूर्ण रहने के आसार हैं। परिजनों के साथ अच्छा समय व्यतीत करने को मिल सकता है।

यह राशिफल सामान्य गणना पर आधारित है अपनी कुंडली के अनुसार बुध व शनि के एक साथ गोचर का प्रभाव व नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिये ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। 

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2018   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |   वक्री हुए बुध क्या पड़ेगा प्रभाव?

बुध का राशि परिवर्तन – वृषभ से मिथुन में जायेंगें बुध जानें राशिफल   |   बुध गोचर – बुध का परिवर्तन मेष से वृषभ राशि में   |   

मीन से मेष में दाखिल हुए बुध जानें राशिफल   |   बुध बदलेंगे राशि - कुंभ से मीन में होगा बुध का गोचर




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...