चूड़ाकर्म संस्कार – हिंदू धर्म में आठवां संस्कार है मुंडन

चूड़ाकर्म संस्कार – हिंदू धर्म में आठवां संस्कार है मुंडन


हिंदू धर्म के संस्कारों में हम अपने पाठकों को अब तक सात संस्कारों की जानकारी दे चुके हैं। सोलह प्रमुख संस्कारों में से गर्भाधान से लेकर अन्नप्राशन तक सात संस्कार कर लिये जाते हैं यह संस्कार गर्भावस्था व जन्म से सात मास तक की आयु में किये जाते हैं। इस समय बच्चे को तंदुरुस्त करने के हर प्रयास किये जाते हैं। सातवें संस्कार अन्नप्राशन से शिशु को मां के दुध के अलावा भी अन्न आदि खिलाना आरंभ कर दिया जाता है। इस लेख में हम आपको बतायेंगें आठवें संस्कार चूड़ाकर्म के बारे में इसे मुंडन संस्कार भी कहा जाता है। यह संस्कार पहले या तीसरे साल में किया जाता है। तो आइये जानते हैं चूड़ाकर्म संस्कार के महत्व व इसकी विधि के बारे में।

चूड़ाकर्म (मुंडन) संस्कार का महत्व (IMPORTANCE OF MUNDAN SANSKAR)

माना जाता है कि शिशु जब माता के गर्भ से बाहर आता है तो उस समय उसके केश अशुद्ध होते हैं। शिशु के केशों की अशुद्धि दूर करने की क्रिया ही चूड़ाकर्म संस्कार कही जाती है। दरअसल हमारा सिर में ही मस्तिष्क भी होता है इसलिये इस संस्कार को मस्तिष्क की पूजा करने का संस्कार भी माना जाता है। जातक का मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रहे व वह अपने दिमाग को सकारात्मकता के साथ सार्थक रुप से उसका सदुपयोग कर सके यही चूड़ाकर्म संस्कार का उद्देश्य भी है। इस संस्कार से शिशु के तेज में भी वृद्धि होती है।

कब करें मुंडन संस्कार (MUNDAN SANSKAR KAB KAREIN)

मनुस्मृति के अनुसार द्विजातियों को प्रथम अथवा तृतीय वर्ष में यह संस्कार करना चाहिये। अन्नप्राशन संस्कार के कुछ समय पश्चात प्रथम वर्ष के अंत में इस संस्कार को किया जा सकता है। लेकिन तीसरे वर्ष यह संस्कार किया जाये तो बेहतर रहता है। इसका कारण यह है कि शिशु का कपाल शुरु में कोमल रहता है जो कि दो-तीन साल की अवस्था के पश्चात कठोर होने लगता है। ऐसे में सिर के कुछ रोमछिद्र तो गर्भावस्था से ही बंद हुए होते हैं। चूड़ाकर्म यानि मुंडन संस्कार द्वारा शिशु के सिर की गंदगी, कीटाणु आदि दूर हो जाते हैं। इससे रोमछिद्र खुल जाते हैं और नये व घने मजबूत बाल आने लगते हैं। यह मस्तिष्क की रक्षा के लिये भी आवश्यक होता है। कुछ परिवारों में अपनी कुल परंपरा के अनुसार शिशु के जन्म के पांचवे या सातवें साल भी इस संस्कार को किया जाता है।

चूड़ाकर्म संस्कार की विधि (MUNDAN SANSKAR VIDHI)

चूड़ाकर्म संस्कार किसी शुभ मुहूर्त को देखकर किया जाना चाहिये। इस संस्कार को को किसी पवित्र धार्मिक तीर्थ स्थल पर किया जाता है। इसके पिछे मान्यता है कि जातक पर धार्मिक स्थल के दिव्य वातावरण का लाभ मिले। एक वर्ष की आयु में जातक के स्वास्थ्य पर इसका दुष्प्रभाव पड़ने के आसार होते हैं इस कारण इसे पहले साल के अंत में या तीसरे साल के अंत से पहले करना चाहिये। मान्यता है कि शिशु के मुंडन के साथ ही उसके बालों के साथ कुसंस्कारों का शमन भी हो जाता है व जातक में सुसंस्कारों का संचरण होने लगता है। शास्त्रों में लिखा भी मिलता है कि तेन ते आयुषे वपामि सुश्लोकाय स्वस्त्ये। इसका तात्पर्य है कि मुंडन संस्कार से जातक दीर्घायु होता है। यजुर्वेद तो यहां तक कहता है कि दीर्घायु के लिये, अन्न ग्रहण करने में सक्षम करने, उत्पादकता के लिये, ऐश्वर्य के लिये, सुंदर संतान, शक्ति व पराक्रम के लिये चूड़ाकर्म अर्थात मुंडन संस्कार करना चाहिये।

नि वर्त्तयाम्यायुषेड्न्नाद्याय प्रजननाय।

रायस्पोषाय सुप्रजास्त्वाय सुवीर्याय।।

अपनी कुंडली के अनुसार प्रेम, विवाह, संतान आदि योगों के बारे में जानने के लिये आप हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

गर्भाधान संस्कार – श्रेष्ठ संतान के लिये करें विधिनुसार करें गर्भाधान   |   पुंसवन संस्कार - स्वस्थ संतान के लिये होता है द्वीतीय संस्कार पुंसवन   |   

सीमन्तोन्नयन संस्कार – गर्भधारण व पुंसवन के बाद तीसरा संस्कार है सीमन्तोन्नयन   |   जातकर्म संस्कार - हिंदू धर्म में चतुर्थ संस्कार है जातकर्म   |   

नामकरण संस्कार – हिंदू धर्म में पंचम संस्कार है नामकरण   |   निष्क्रमण संस्कार – हिंदू धर्म में छठा संस्कार है निष्क्रमण

कुंडली में संतान योग   |   कुंडली में विवाह योग   |   कुंडली में प्रेम योग

एस्ट्रो लेख



Chat Now for Support