Mundan Muhurat 2021- मुंडन मुहूर्त 2021

bell icon Wed, Jan 27, 2021
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Mundan Muhurat 2021- जानें कब है 2021 में  मुंडन संस्कार के लिए शुभ मुहूर्त

हिंदू ज्योतिष के अनुसार, जन्म से लेकर मृत्यु तक मनुष्य के जीवन में कुल 16 संस्कार होते हैं और संस्कारों के इस क्रम में, शिशु मुंडन मुहूर्त (mundan muhurat) एक महत्वपूर्ण मुहूर्त है। सरल शब्दों में, यह शिशु का पहला बाल निकालना समारोह है जिसका अपना अलग महत्व है। न केवल यह एक धार्मिक गतिविधि है बल्कि मुंडन के पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं। वहीं इस पोस्ट में, हमने बच्चे के पहले बाल कटवाने के इस हिंदू अनुष्ठान के महत्व के बारे में आपको जो कुछ भी जानना आवश्यक है उसको बताने का प्रयास किया है। जानिए मुंडन की सही उम्र के साथ-साथ सर्वोत्तम मुहूर्त, मुंडन संस्कार प्रक्रिया और किसी व्यक्ति के जीवन में इसका महत्व।

यदि नवजात की कुंडली में कोई दोष है तो उससे संबंधित सरल ज्योतिषीय उपाय भी हमारे ज्योतिषाचार्यों से जान सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों से अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

जीवन में मुंडन संस्कार का महत्व

मुंडन संस्कार 16 संस्कारों में से सबसे महत्वपूर्ण है और इसलिए, इसका व्यक्ति के जीवन पर मजबूत प्रभाव है। यहां इससे संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बिंदु दिए गए हैं:

  • यह एक रस्म है जो एक बच्चे को स्वच्छता बनाए रखने के लिए सिखाती है।

  • मस्तिष्क की नसों को मजबूत करता है।

  • बालों के बेहतर विकास में मदद करता है।

  • ग्रीष्मकाल में बच्चे का सिर ठंडा रखता है।

  • दांत निकलते वक्त होने वाले दर्द को कम करने में मदद करता है।

  • ऐसा माना जाता है कि एक आत्मा को 84 लाख योनियों का अनुभव करने के बाद मनुष्य का शरीर मिलता है। सिर की शेविंग पिछले योनियों के प्रभाव से आत्मा को शुद्ध करने में मदद करती है।

  • बच्चे को बुरी नजर से बचाता है।

  • यह संस्कार अपने आस-पास की सभी नकारात्मकता ऊर्जा को नष्ट करके बच्चे को लंबी और खुशहाल जिंदगी देता है।

 

मुंडन समारोह मुहूर्त

ज्योतिषियों का सुझाव है कि मुंडन समारोहों को विषम वर्ष यानी 1, 3, 5 वें वर्ष में किया जाना चाहिए। जबकि हिंदू ज्योतिष के अनुसार, मुंडन संस्कार करने के लिए भी सम वर्षों को अशुभ माना जाता है। 

 

मुंडन संस्कार मुहूर्त गणना

  • बड़ी बेटी या बेटे के लिए मुंडन करने का सबसे अच्छा समय है जब सूर्य वृषभ राशि में है।

  • 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे का मुंडन संस्कार न करें यदि मां पांच महीने से अधिक की गर्भवती हो।

  • हिंदू पंचांग के अनुसार, मुंडन मुहूर्त के लिए चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, माघ और फाल्गुन महीने शुभ माने जाते हैं। इसके अलावा, दशम द्वितीया, तृतीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी, एकादशी और त्रयोदशी तिथियां शुभ होती हैं। 

  • महीने के 2, 3, 5 वें, 7 वें, 10 वें, 11 वें या 13 वें चंद्र दिन बहुत शुभ होते हैं।

  • मुंडन करने के लिए मंगलवार, शनिवार और रविवार को अशुभ माना जाता है। बाकी सभी इस संस्कार को करने के लिए अच्छे दिन हैं। हालांकि, एक लड़की के लिए मुंडन संस्कार मुहूर्त शुक्रवार को नहीं पड़ना चाहिए।

  • नक्षत्रों के मुताबिक अश्विनी, मृगशिरा, पुष्य, हस्त, पुनर्वसु, चित्रा, स्वाति, ज्येष्ठा, श्रवण, धनिष्ठा और शतभिषा मुंडन संस्कार के लिए लाभकारी हैं।

  • मुंडन के लिए बच्चे के जन्म के दिन का चयन न करें। यदि आपका बच्चा बुधवार को पैदा हुआ है तो आपको बुधवार से बचना चाहिए।

  • इसके अलावा दूसरे, तीसरे, चौथे, छठे, सातवें, नौवें या बारहवें राशियों के लग्न या नवमांश में मुंडन मुहूर्त (mundan muhurat) समारोह शुरू होने शुभ माना जाता है।

ये कुछ बिंदु हैं, जिन्हें आपके बच्चे के लिए मुंडन समारोह की योजना बनाते समय सख्ती से ध्यान में रखा जाना चाहिए। इन बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए यह सुनिश्चित किया जाएगा कि संस्कार सही समय पर होता है और आपका बच्चा सुखी, समृद्ध और धन्य जीवन जीता है। तो, सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे के मुंडन संस्कार समारोह के लिए एक अनुभवी पंडित जी की मदद लें। 

 

मुंडन संस्कार की विधि

  • मुंडन संस्कार के दौरान, माता-पिता को अपने बच्चे को अपनी गोद में लेना चाहिए। अब, उन्हें हवन की अग्नि के पश्चिम में अपना मुख मोड़ना चाहिए।

  • सबसे पहले, एक पुजारी को बच्चे के सिर पर कुछ बाल काटने चाहिए और फिर नाई को संभालने के लिए दे देना चाहिए।

  • मुंडन संस्कार के दिन घर में भगवान गणेश के पूजन और आयुष होम (हवन) का आयोजन करना चाहिए।

  • मुंडन संस्कार को घर, एक मंदिर, या उनके कुलदेवी / कुलदेवता के मंदिर में आयोजित किया जाना चाहिए।

  • अब कटे हुए / मुड़े हुए बालों को इकट्ठा करना चाहिए और उन्हें नदी में प्रवाहित करना चाहिए।

  • अक्सर लोग मुंडन संस्कार को एक तीर्थ स्थल पर रखते हैं ताकि बच्चे को उस स्थान के दिव्य वातावरण का लाभ मिल सके।

 

मुंडन संस्कार के दौरान याद रखने योग्य बातें

मुंडन समारोह का आयोजन करते समय कई बातों का ध्यान रखना आवश्यक है ताकि बच्चे को कोई शारीरिक नुकसान न हो। सुनिश्चित करें कि मुंडन मुहूर्त के दौरान बच्चे का पेट भरा हो, क्योंकि यदि शिशु भूखा है, तो वह मुंडन समारोह के दौरान जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर सकता है। ऐसा करने से शिशु को चोट भी लग सकती है। रेज़र जो मुंडन के लिए नाई और पुजारी उपयोग करेंगे, वह साफ होना चाहिए, और नाई अनुभवी होना चाहिए। वहीं मुंडन संस्कार के बाद, बच्चे को ठीक से स्नान कराएं, ताकि उसके शरीर पर चिपके हुए बाल धुल जाएं।
 

हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार, मुंडन मुहूर्त (mundan muhurat) की रस्म को विशेष समय के दौरान तिथियों पर किया जाना चाहिए, जो शुभ हैं। तो, यहाँ 2021 में शुभ मुंडन संस्कार तिथियों की महीनेवार सूची दी गई है:

फरवरी 2021

  • 22 फरवरी, 2021, सोमवार, सुबह 06:53 बजे से सुबह 10:58, बजे तक

  • 24 फरवरी, 2021, बुधवार, शाम 07:07 बजे से 25 जनवरी सुबह 06:51 बजे तक

  • 25 फरवरी, 2021, गुरुवार, सुबह 06:50 बजे से दोपहर 01:17 बजे तक

 

मार्च 2021

  • 03 मार्च, 2021, बुधवार, सुबह 06:44 बजे से 4 मार्च 2021 मध्यरात्रि 12:23 बजे तक

  • 10 मार्च, 2021, बुधवार, दोपहर 02:42:01, बजे से 11 मार्च 2021 सुबह 06:37 बजे तक

  • 11 मार्च, 2021, गुरुवार, सुबह 06:36:10, बजे से दोपहर 02:41 बजे तक

  • 24 मार्च, 2021, बुधवार, सुबह 06:21 बजे से रात्रि 11:13 बजे तक

  • 29 मार्च, 2021, सोमवार, रात्रि 08:56 बजे से 30 मार्च 2021 सुबह 06:15 बजे तक

 

अप्रैल 2021

  • 07 अप्रैल, 2021, बुधवार, सुबह 06:05 बजे से 8 अप्रैल 2021 मध्यरात्रि 02:30 बजे तक

  • 19 अप्रैल, 2021, सोमवार, सुबह 05:52 बजे से 20 अप्रैल 2021 मध्यरात्रि 12:02 बजे तक

  • 26 अप्रैल, 2021, सोमवार, सुबह 12:46 बजे से 27 अप्रैल 2021, सुबह 05:45 बजे तक

  • 29 अप्रैल, 2021, गुरुवार, दोपहर 02:30:21, बजे से रात्रि 10:12 बजे तक

 

कर्णछेदन संस्कार मुहूर्त 2021 अन्नप्राशन संस्कार मुहूर्त 2021।  विवाह मुहूर्त 2021 विद्यारंभ मुहूर्त 2021 गृहप्रवेश मुहूर्त 2021 जनेऊ मुहूर्त 2021 

 

मई 2021

  • 03 मई, 2021, सोमवार, सुबह 08:22 बजे से दोपहर 01:41 बजे तक

  • 05 मई, 2021, बुधवार, दोपहर 01:24 बजे से 06 मई 2021 सुबह 05:37 बजे तक

  • 06 मई, 2021, गुरुवार, सुबह 05:36:46, बजे से सुबह 10:32 बजे तक

  • 14 मई, 2021, शुक्रवार, सुबह 05:44 बजे से 15 मई 2021, सुबह 05:31 बजे तक

  • 17 मई, 2021, सोमवार, सुबह 05:29 बजे से अपराह्न11:36 बजे तक

  • 24 मई, 2021, सोमवार, सुबह 05:26 बजे से 05 मई 2021 मध्यरात्रि 12:13 बजे तक

  • 27 मई, 2021, गुरुवार, दोपहर 01:04 बजे से रात्रि 10:29 बजे तक

 

जून 2021

  • 21 जून, 2021, सोमवार, सुबह 05:23 बजे से दोपहर 01:33 बजे तक

  • 28 जून, 2021, सोमवार, दोपहर 02:18 बजे से 29 जून 2021 सुबह 05:25 बजे तक

 

जुलाई 2021 

  • 07 जुलाई, 2021, बुधवार, शाम 06:19 बजे से 08 जुलाई 2021 सुबह 03:23 बजे तक

 

दिल्ली में ज्योतिषी। बैंगलोर में ज्योतिषी। कलकत्ता में ज्योतिषी। जयपुर में ज्योतिषी। नोएडा में ज्योतिषी

chat Support Chat now for Support
chat Support Support