राशिनुसार नवरात्र में करें मंत्र जाप, होगी शुभ फल की प्राप्ति

18 सितम्बर 2019

इस बार चेत्र नवरात्रि 25 मार्च 2020 से शुरु होने जा रही है। इस दौरान मां दुर्गा की आराधना का काफी महत्व है और पूरे भारतवर्ष में विभिन्न राज्यों में अलग-अलग तरह से देवी का पूजन करने का प्रावधान है। नवरात्रि के दौरान भक्तगण माता की चौकी, कलश स्थापना, अखंड ज्योति जैसे पूजा-विधियां अपनाते हैं। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ करने का अपना ही विशेष महत्व है। नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का पाठ करने से शांति, धन, सुख-समृद्धि, मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। अगर आपके पास दुर्गा सप्तशती का पाठ करने का समय नहीं है तो आप राशि अनुसार मंत्रों का जाप कर सकते हैं और माता रानी की कृपा पा सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार अपनी राशि के अनुसार विशेष तरीकों से मंत्र जाप करके आप मनवांछित फल पा सकते हैं।

 

राशिनुसरा नवरात्रि मंत्र

 

इस नवरात्र अपने राशिनुसार करें मंत्र उच्चारण पाएं मां की कृपा - 

मेष राशि 

मेष राशि के जातकों को नवरात्रि के 9 दिन ऊँ पुरुष्कृति नम: मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए। इस मंत्र को रुद्राक्ष की माला से करना चाहिए। ऐसा करने से आपको मोक्ष की प्राप्ति हो सकती है।

वृषभ राशि

इस राशि के लोगों को ऊँ जलोदरी नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप करने से जीवन में सुख-शांति आएगी और मन-मस्तिष्क भी काबू में रहता है।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों को ऊँ सर्वबाधा नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे उनके जीवन में आ रही मुश्किलें दूर होंगी। साथ ही उनके लिए तरक्की के नए रास्ते खुलेंगे। 

कर्क राशि

नवरात्रि के दौरान कर्क राशि वाले जातकों को लाल चंदन की माला से ऊँ घोररूपा नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे जीवन में अंधकार मिट जाता है और सफलता की प्राप्ति होती है।

 

नवरात्रि के दौरान अपनी कुंडली के आधार पर देवी दुर्गा की पूजन विधि जानने के लिए देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से अभी बात करें या 9999091091 पर संपर्क कॉल करें।

 

सिंह राशि 

नवरात्रि के दौरान देवी मां का आशीर्वाद पाने के लिए ऊँ शिवदूती नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे देवी प्रसन्न होने का साथ अपना आशीर्वाद भी हमेशा आप पर बनाए रखेगी। इससे आपकी धन की समस्या दूर हो जाती है। 

कन्या राशि

देवी मां की कृपा पाने के लिए नवरात्रि के दौरान कन्या राशि वालों को ऊँ प्रत्यक्षै नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र के जाप से आप तनाव मुक्त रहेंगे और अध्यात्म की ओर ज्यादा झुकेंगे।

तुला राशि

तुला राशि वाले जातकों को नवरात्रि के दौरान ऊँ व्याधिनाशिनी नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप करने से बड़ी से बड़ी बीमारी दूर हो जाती है और आप जल्द स्वस्थ हो जाएंगे। 

वृश्चिक राशि

पापों से मुक्ति पाने के लिए नवरात्रि के दिनों में वृश्चिक राशि के जातकों को ऊँ पाश धारिणी नम: मंत्र का पाठ करना चाहिए। ऐसा करने से जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है। 

धनु राशि

धनु राशि के लोगों को इस नवरात्रि में ऊँ सर्वसिद्धि नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होगी। 

मकर राशि 

नवरात्रि के दौरान इन राशि के जातकों को ऊँ मांग्ल्ये नम: मंत्र जाप 108 बार करना चाहिए। इससे आपके घर में धन-धान्य की वृद्धि होगी।

कुंभ राशि

मनचाही मुराद पूरी हो जाए इसके लिए कुंभ राशि के जातकों को नवरात्रि के दौरान ऊँ प्रभाय नम: मंत्र का 108 बारी जाप करना चाहिए। ऐसा करने से देवी मां की कृपा बनी रहेगी।

मीन राशि

इन राशि के जातकों को नवरात्रि के दौरान ऊँ सती नम: मंत्र का 51 बार जाप करना चाहिए। इससे आपको जिंदगी में सदैव आगे बढ़ने की ताकत मिलेगी। 

 

अगर आप दुर्गा सप्तशती का पाठ नियमित नहीं कर सकते या राशिनुसार मंत्रोच्चारण नहीं कर सकते तो आपको नवरात्रि के 9 दिन तक "नमो देव्यै महा देव्यै शिवाय सतंत नम:" का पाठ जरूर करना चाहिए। 


शारदीय नवरात्रि की तिथि


25 मार्च, 2020 - इस दिन घटस्थापना और नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जायेगी।

26 मार्च, 2020 -  नवरात्रि के दूसरे दिन माता के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा की जाएगी।

27 मार्च, 2020 - नवरात्रि के तीसरे दिन देवी दुर्गा के चन्द्रघंटा स्वरूप  की आराधना की जायेगी।

28 मार्च, 2020 - नवरात्रि पर्व के चौथे दिन मां भगवती के देवी कुष्मांडा स्वरूप की उपासना की जायेगी।

29 मार्च, 2020 - नवरात्रि के पांचवे दिन भगवान कार्तिकेय की माता स्कंदमाता की पूजा की जायेगी।

30 मार्च, 2020 - आश्विन नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा जायेगी।

31 मार्च, 2020 - नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा का विधान है।

01 अप्रैल, 2020 - नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। इस दिन कई लोग कन्या पूजन भी करते हैं।

02 अप्रैल, 2020 - नौवें दिन भगवती के देवी सिद्धिदात्री स्वरूप का पूजन किया जाता है। सिद्धिदात्री की पूजा से नवरात्रि में नवदुर्गा पूजा का अनुष्ठान पूर्ण हो जायेगा व विजयदशमी भी मनाई जायेगी।

03 अप्रैल, 2020 - इस दिन दुर्गा विसर्जन किया जायेगा ।

 यह जानकारी सामान्य है। जिससे आपको लाभ होगा परंतु उतना नहीं जितना आपको चाहिए। इसके साथ ही यह आपकी कुंडली के अनुसार बदल भी सकता है। इसलिए आपको अपनी कुंडली का आकलन कराकर देवी दुर्गा की आराधना करनी चाहिए जिससे आपको अधिक लाभ होगा। देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

संबंधित लेख

माँ शैलपुत्री  । माँ ब्रह्मचारिणी । माँ चंद्रघंटा । माँ कूष्माण्डा । माँ स्कंदमाता  । माँ कात्यायनी ।  दुर्गा चालीसा

माँ कालरात्रि । माँ महागौरी । माँ सिद्धिदात्री  । जानें नवरात्रों में, करने और ना करने वाले कुछ कार्य । दुर्गा आरती

एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

खर मास - क्या करें क्या न करें

Chat now for Support
Support