राशिनुसार इनकी पूजा से करें नववर्ष 2020 की शुरुआत

नव वर्ष जब भी आने को होता है तो उसे उत्सव के रूप में मनाने की अनेक योजनाएं भी बनने लगती हैं। नाच-गाना, पार्टी-शार्टी, मौज-मस्ती तो सभी करना चाहते हैं लेकिन फिर भी कभी-कभी जाने अंजाने हम वो गलतियां कर बैठते हैं जिसके कारण साल की शुरुआत ही खराब हो जाती है। कहा भी जाता है कि ‘फर्स्ट इंप्रेशन इज द लास्ट इंप्रेशन’। ऐसे में सवाल उठता है कि फिर नव वर्ष को मनाया कैसे जाये तो ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि अपनी राशिनुसार कुछ विशेष तरीकों से पूजा-अर्चना कर यदि नव वर्ष का आरंभ करेंगें तो वर्ष का आने वाला समय आपके लिये मंगलकारी रहेगा। तो आइये जानते हैं राशिनुसार कैसे करें नव वर्ष की शुरुआत।

 

आपके लिये 2020 कैसा रहेगा? एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से जानें अपना भविष्य। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

नववर्ष का महासंयोग 

साल 2020 की शुरूआत इस बार बुधवार के दिन से होने जा रही है वहीं भारतीय नवसंवत्सर विक्रम संवत 2077 का आरंभ भी बुधवार के दिन ही होगा। ज्योतिष के अनुसार साल 2020 में बुधदेव का अधिपत्य रहेगा। वहीं साल 2020 कन्या राशि के जातकों के लिए अत्यंत शुभ रहने वाला होगा क्योंकि इस राशि का स्वामी बुध है। वहीं बुध ग्रह को उन्नति और संपन्नता का कारक माना जाता है, तो साल 2020 भी उन्नति और संपन्नता से परिपूर्ण रहेगा। इसके साथ ही साल 2020 में बुध का अधिपत्य होने की वजह से यह साल महिलाओं के लिए काफी फलदायी होगा। 

 

मेष

मेष राशि के स्वामी मंगल वर्षारंभ के समय अष्टम भाव के स्वराशिगत हैं जो कि शुरूआती दिनों में आपको अपनी सेहत पर ध्य़ान देने की जरूरत रहेगी। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि इस वर्ष को मंगलकारी बनाने के लिये, आप भगवान भोलेनाथ की पूजा करके नववर्ष की शुरुआत करें। आने वाला समय आपके लिये लाभकारी रहेगा।

 

वृषभ

वृषभ राशि के स्वामी हैं शुक्र। वर्ष 2020 की शुरुआत के समय आपकी राशि के स्वामी शुक्र भाग्य स्थान में विराजमान हैं जो कि आपके लिये इस वर्ष को बहुत ही उज्जवल व उन्नति वाला वर्ष रहने के संकेत कर रहे है। शुक्र वर्षारंभ के समय कुंभ राशि में गोचर कर रहे हैं। आप मां लक्ष्मी की आराधना करके नव वर्ष का शुभारंभ कर सकते हैं। अपने मित्र को इत्र का दान करना भी आपके लिये शुभ है। आप पर शनि की ढैय्या चल रही है आपके लिये सलाह है कि प्रत्येक शनिवार शनिदेव का पूजन भी अवश्य करें।

 

मिथुन

मिथुन राशि के स्वामी बुध वर्षारंभ में मकर राशि में गोचर कर रहे हैं। चंद्रमा आपकी राशि से भाग्य स्थान में रहेंगें जो कि आपके लिये उन्नति के, पदोन्नति के योग बना रहे हैं। आप बुध देव के देवता श्रीमननारायण के पूजन से नववर्ष की शुरुआत करें। श्रीमननारायण की कृपा बनी रहने के आसार हैं।

 

कर्क

कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा वर्षारंभ में अष्टम भाव में रहेंगे जो कि शुरूआती समय में आपको सेहत के मामले में थोड़ा परेशान कर सकता है। परंतु आपकी राशि के 6ठें स्थान में बुध, गुरु, सूर्य, शनि और केतु एक साथ विराजमान है जो आपको नये-नए अवसर प्रदान कर सकते हैं। आपको नववर्ष का आरंभ माता गौरी की पूजा के साथ करना चाहिए।
 

सिंह

सिंह राशि के स्वामी सूर्य वर्षारंभ में मकर राशि में बुध के साथ गोचर कर रहे हैं। सूर्य और बुध के योग से बुधादित्य योग बन रहा है जो कि इस साल आपको ख्याति दिला सकता है। इस वर्ष आपके विवाह के योग भी बन रहे हैं। आप भगवान शिव की आराधना के साथ नये साल की शुरूआत करें। 

 

कन्या

कन्या राशि के स्वामी बुध हैं जो मकर राशि में सूर्य के साथ गोचर कर रहे हैं और बुधादित्य योग बना रहे हैं। यह साल आपके लिये सफलताएं देने वाला हो सकता है। नये साल 2020 की शुरूआत श्रीमननाराय़ण की पूजा-अर्चना के साथ करें।


 

राशिनुसार अपना भविष्यफल जानने के लिये यहां क्लिक करें वार्षिक राशिफल 2020 ( Rashifal 2020)



तुला

वर्षारंभ में तुला राशि के स्वामी शुक्र चौथे स्थान में बैठे हैं जो कि आपके लिए घरेलू सुख मिलने के प्रबल योग बना रहे हैं। वहीं आपकी राशि से पराक्रम भाव में पंचग्रही योग बन रहा है जो इस साल आपको सफलता और यात्राओं का य़ोग बना रहा है। आपको साल 2020 का प्रारंभ मां लक्ष्मी की आराधना के साथ करना चाहिए। 


वृश्चिक

वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल हैं जो साल 2020 की शुरूआत में स्वराशि में विराजमान हैं और रूचक महायोग बना रहे हैं जिसकी वजह से आपको करियर में उन्नति मिल सकती है। मंगल ग्रह को मजबूत करने के लिए आपको नये साल की शुरूआत भगवान शिव की पूजा-अर्चना के साथ करनी चाहिए।


धनु

धनु राशि के स्वामी बृहस्पति मकर राशि में प्रवेश करेंगे। राशि स्वामी के स्वराशि में होने की वजह से हंस महायोग बन रहा है। इस योग के कारण आपके अंदर नई ऊर्जा का संचार होगा। देवगुरु बृहस्पति के स्वामी श्री दक्षिणामूर्ति (जो भगवान शिव का ही एक रूप हैं), की पूजा करके नव वर्ष का आगाज़ करना शुभ होगा। 


मकर

मकर राशि के स्वामी शनि इस वर्ष की शुरूआत में अपनी स्वराशि मकर में गोचर कर रहे हैं। स्वराशि में शनि का होना आपके लिए शनि का शश महायोग बनाएगा, जिससे आपके कार्यक्षेत्र की स्थिति में काफी अच्छे परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं। इसलिए शनि देव या भगवान शिव के पूजन से ही वर्ष का आरंभ करें। नव वर्ष मंगलमयी रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

 

कुंभ

कुंभ राशि के स्वामी शनि साल 2020 में लाभ के स्थान पर विराजमान हैं, जो कि आपके लिए साल 2020 को सेहत की दृष्टि से अनुकूल बना रहे हैं। वहीं 24 जनवरी को शनि मकर राशि में गोचर करने जा रहे हैं, जिससे आप पर शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाएगी और आप फिजूल खर्च करने शुरू कर देंगे। इसलिए शनिदेव के पूजन से ही वर्ष का आरंभ करें। नव वर्ष मंगलमयी रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

 

मीन

मीन राशि का स्वामी बृहस्पति भी स्वराशि के हैं जो हंस महायोग बना रहे हैं, जिससे आपको पदोन्नति मिल सकती है। इस साल आपकी राशि से कर्म के स्थान पर बुध, गुरु, सूर्य, शनि, केतु एक साथ विराजमान हैं जो कि पंचग्रही योग बना रहे हैं। इसके प्रभाव से करियर में आपको नये-नये अवसर मिलेंगें। भगवान गणेश की आराधना के साथ आप नववर्ष का आरंभ कर सकते हैं। 


 

संबंधित लेख

 नववर्ष 2020 राशिफल   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2020    |   2020 में क्या कहती है भारत की कुंडली   

एस्ट्रो लेख

खर मास - क्या क...

भारतीय पंचाग के अनुसार जब सूर्य धनु राशि में संक्रांति करते हैं तो यह समय शुभ नहीं माना जाता इसी कारण जब तक सर्य मकर राशि में संक्रमित नहीं होते तब तक किसी भी प्रकार के शुभ कार्य न...

और पढ़ें ➜

सूर्य ग्रहण 201...

ग्रहण (Grahan)इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं हैं एक और जहां इसका वैज्ञानिक मह...

और पढ़ें ➜

अधिक मास - क्या...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को मानने वाले इस शब...

और पढ़ें ➜

प्रदोष व्रत 2020

इस व्रत को उत्तर भारत में प्रदोष वर्त तथा दक्षिण भारत में प्रदोषम के नाम से जाना जाता है। व्रत में भगवान शिव की स्तुति की जाती है। मान्यताओं कि माने तो शुक्रवार को पड़ने वाला प्रदो...

और पढ़ें ➜