पूर्णिमा 2019 – कब है पूर्णिमा व्रत तिथि

पूर्णिमा हिंदू कैलेंडर अर्थात पंचांग  की बहुत ही खास तिथि होती है। धार्मिक रूप से पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। दरअसल पंचांग में तिथियों का निर्धारण चंद्रमा की चढ़ती उतरती कलाओं के आधार पर किया गया है जिस तिथि को चंद्रमा अपने पूरे आकार में दिखाई देता है वह तिथि पूर्णिमा कहलाती है। एवं जिस तिथि को चंद्रमा दिखाई ही नहीं देता वह तिथि अमावस्या कहलाती है। अमावस्या पश्चात पड़ने वाली तिथि को चंद्र दर्शन की तिथि माना जाता है चंद्र दर्शन से पूर्णिमा तक के पूरे पखवाड़े को शुक्ल पक्ष कहा जाता है। पूर्णिमा का एक महत्व यह भी है कि इस दिन पूर्णिमांत माह की समाप्ति भी होती है।

पूर्णिमा उपवास से लाइफ में कैसे सुख समृद्धि में वृद्धि होगी । एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से परामर्श करें।

 

पूर्णिमा का महत्व

पूर्णिमा तिथि हिंदू धर्म में बहुत मायने रखती है। बुध, कबीर, रैदास जैसी महान आत्माओं से लेकर रक्षाबंधन, होली जैसे त्यौहार भी पूर्णिमा तिथि पर ही मनाये जाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भी इस तिथि को महत्वपूर्ण माना जाता है। चंद्रमा को मन का कारक माना जाता है। इस दिन चूंकि चंद्रमा अपने पूरे आकार में होता है इसलिये जातकों के मन पर चंद्रमा का प्रभाव पड़ता है। वैज्ञानिक दृष्टि से भी देखें तो पूर्णिमा तिथि की अहमियत होती है। इस दिन समुद्रों में ज्वारभाटा आता है। चंद्रमा पानी को आकर्षित करता है। मनुष्य के शरीर में भी 70 फीसदी पानी होता है। इसलिये मनुष्य के स्वभाव में भी इस दिन परिवर्तन आता है।

 

2019 में कब-कब हैं पूर्णिमा तिथि

हिंदू वर्ष कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक मास में एक पूर्णिमा तिथि होती है। इस प्रकार 12 महीनों में 12 तिथियां पूर्णिमा की होती हैं। वर्ष 2019 में पूर्णिमा की तिथियां इस प्रकार हैं-

पौष पूर्णिमा (माघ स्नान, चंद्रग्रहण) – 21 जनवरी 2019 (सोमवार)

माघ पूर्णिमा (रविदास जयंती) – 19 फरवरी 2019 (मंगलवार)

फाल्गुन पूर्णिमा (होली) – 21 मार्च 2019 (बृहस्पतिवार)

चैत्र पूर्णिमा (हनुमान जयंती) – 19 अप्रैल 2019 (शुक्रवार)

वैशाख पूर्णिमा (बुद्ध जयंती) – 18 मई 2019 (शनिवार)

ज्येष्ठ पूर्णिमा (वट पूर्णिमा) – 17 जून 2019 (सोमवार)

आषाढ़ पूर्णिमा (गुरु पूर्णिमा, चंद्रग्रहण) – 16 जुलाई 2019 (मंगलवार)

श्रावण पूर्णिमा (रक्षाबंधन) – 15 अगस्त 2019 (गुरुवार)

भाद्रपद पूर्णिमा – 14 सितंबर 2019 (शनिवार)

आश्विन पूर्णिमा (शरद पूर्णिमा) – 13 अक्तूबर 2019 (रविवार)

कार्तिक पूर्णिमा (गुरु नानक जयंती) – 12 नवंबर 2019 (मंगलवार)

मार्गशीर्ष पूर्णिमा (दत्तात्रेय जयंती) – 12 दिसंबर 2019 (गुरुवार)

 

यह भी पढ़ें :  

अमावस्या 2019एकादशी 2019   |   हिंदू पंचांग मास 2019   |   गुरु पूर्णिमा 2019   |   बुद्ध पूर्णिमा 2019   |   शरद पूर्णिमा 2019

एस्ट्रो लेख

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜

गुरु नानक जयंती...

"अव्वल अल्लाह नूर उपाया, कुदरत के सब बन्दे एक नूर ते सब जग उपज्या, कौन भले कौन मंदे" सभी इंसान उस ईश्वर के नूर से ही उपजे हैं, इसलिये कोई बड़ा या छोटा नहीं है सब बराबर हैं। इसां...

और पढ़ें ➜