Skip Navigation Links
धन पाने के लिये दूध से करें ये ज्योतिषीय उपाय


धन पाने के लिये दूध से करें ये ज्योतिषीय उपाय

दूध स्वास्थ्य के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण आहार है, प्रोटीन से लेकर हमारी सेहत के लिये जरूरी विभिन्न तत्व दूध में होते हैं। दूध हमारी सेहत बनाने के लिये तो कारगर है ही लेकिन क्या आप जानते हैं दूध से धन प्राप्ति भी हो सकती है। नहीं नहीं दूध बेचकर पैसा कमाने की बात नहीं कर रहा उस तरीके से धन कमाने में मेहनत थोड़ी ज्यादा करनी पड़ती है। तो यहां हम आपको कुछ ऐसे ज्योतिषीय उपाय बता रहे हैं जिनके प्रताप से धन प्राप्ति की आपकी कामना पूर्ण हो सकती है।

देवी-देवताओं की पूजा में खासकर भगवान भोलेनाथ की, आपने दूध का इस्तेमाल होते देखा होगा। यदि आप शिवशंकर के उपासक हैं तो आपने जरूर शिवलिंग को दूध से नहालाया भी होगा। दरअसल ज्योतिष के विद्वान दूध को चंद्रमा का कारक मानते हैं। इसलिये ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिये विद्वान ब्राह्मण भी आपको शिवलिंग पर दूध अर्पित करने की सलाह देते होंगे। यदि आप राहू से पीड़ित हैं तो आपको सांप को दूध पिलाने का सूझाव भी अवश्य मिला होगा।

असल में इसके पिछे यही मान्यता काम करती है कि दूध सभी को प्रिय होता है जिसे चढ़ाने पर सभी देवता, ग्रह आदि प्रसन्न होते हैं और आप पर से उनका अशुभ प्रभाव कम हो जाता है और शुभ परिणाम मिलने लगते हैं।

कैसे करें उपाय

रात को सोने से पहले तो आप दूध पीते ही होंगे वह आपको अच्छी नींद देने के लिये अच्छा है यानि सेहत दुरूस्त करता है साथ ही यदि आप धन पाने के इच्छुक हैं तो एक गिलास दूध अपने बिस्तर के पास रखें मगर इतने पास भी नहीं कि नींद में आपका हाथ लगे दूध बिस्तर पर गिर जाये या फिर रात को आप उठें और गिलास आपके पैरों से टकराजाये और दूध फर्श पर दूध का गिरना बहुत अशुभ माना जाता है इसलिये सुरक्षित तरीके से गिलास को अपने बिस्तर के नजदीक टेबल आदि पर रख सकते हैं। अब करना आपको ये है कि सुबह उठकर नहा धौकर स्वच्छ हों व इस दूध के गिलास को ले जाकर बबूल के पेड़ की जड़ में डाल दें। बबूल का पेड़ कहां मिलेगा यह आपको ही खोजना पड़ेगा हालांकि इतना दुर्लभ पेड़ नहीं है आम तौर पर मिल जाता है। और हां यह उपाय आपको सिर्फ सोमवार को करना है यानि दूध रविवार की रात को रखें ताकि सोमवार सुबह आप उसे बबूल के पेड़ की जड़ में डाल सकें। उम्मीद है इससे आपके बिगड़े काम बनने और धन प्राप्ति की पूरी संभावना है।

यह दूसरा उपाय भी आपको सोमवार को करना है। स्नानादि के पश्चात स्वच्छ होकर कच्चे दूध का प्रबंध करें व शिवालय में जाकर शिवलिंग पर इस दूध को अर्पित करें। यदि आप लगातार सात सोमवार इस उपाय को करें तो आपके सारे कष्टों का अंत होने की प्रबल संभावानाएं हैं। दरअसल मान्यता है कि इससे न सिर्फ भगवान शिव की कृपा मिलती है बल्कि समस्त ग्रहों के अशुभ प्रभाव भी दूर जाते हैं।

अभी जो उपाय आपको बता रहे हैं उससे आपके घर में मां लक्ष्मी की कृपा स्थाई रूप से बनी रहेगी। आपको करना सिर्फ इतना है कि एक लोहे के बर्तन में स्वच्छ ताजा जल लेकर इसमें चीनी, दूध एवं घी को मिश्रित करें व पीपल के वृक्ष की छाया में खड़े होकर इस मिश्रण को जड़ में अर्पित करें। इससे आप पर मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहेगी।

अपनी कुंडली के अनुसार धन प्राप्ति के योग व उपाय जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

इस दिशा में दीपक लौ देती है धन लाभ   |   स्वस्तिक से मिलते हैं धन वैभव और सुख समृद्धि   |   यदि चाहते हैं घर में सुख शांति तो अपनायें ये उपाय   |   

कुंडली के वह योग, जो व्यक्ति को बनाते हैं धनवान !   |   हनुमान यज्ञ से प्राप्त होता है धन और यश   |   इन 5 वास्तु उपायों की मदद से प्राप्त हो सकता है धन

अपने धन और संपत्ति के लिए विख्यात 5 मंदिर   |   इन 7 आदतों से दूर हो जाती हैं धन की देवी लक्ष्मी जी   |   जानिये, राशि के अनुसार धन प्राप्ति के मंत्र




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...