शनि वक्री – इस तीन राशि वालों के लिए है बेहद अशुभ

जैसा कि हम जानते हैं कि शनि को न्याय का देवता माना जाता है। वैदिक ज्योतिष में शनि का एक विशेष स्थान है। इसे कर्म फल दाता कहा जाता है। यानी कि शनि आपको आपके कर्मों का फल देते हैं। जैसा कर्म वैसा फल। ऐसे में शनि का वक्री अवस्था में आना सभी राशिओं के लिए कुछ न कुछ परिणाम देने वाला है। 11 मई को सुबह 9 बजकर 39 मिनट पर शनि वक्री हो रहे हैं। जिसका असर सभी राशि के जातकों पर पड़ने वाला है। परंतु तीन ऐसी राशियां जिन पर शनि का वक्री प्रभाव नकारात्मक रूप से काफी पड़ेगा, तो आइये जानते हैं शनि के वक्री होने का प्रभाव हम पर कैसा पड़ेगा –

 

कुंडली के अनुसार शनि की दशा आप पर कैसी चल रही है इसके लिये एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से कंसल्ट करें।

 

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए शनि का मकर राशि में वक्री होना, उनके लिए कुछ परेशानी लेकर आ सकता है। परंतु आप अपने कार्यों को करने के लिए उत्साहित भी रहेंगे। इस समय आपको अपने कार्य को पूरी ईमानदारी के साथ करना होगा। जिसका लाभ आपको अवश्य मिलेगा। दूसरों के विवाद में पड़ने से बचें। सेहत का ध्यान रखें।

 

वृषभ राशि

वृषभ राशि के जातकों के लिए शनि का वक्री होकर मकर राशि में जाना कुछ ठीक संकेत नहीं है। इस अवधि के दौरान आपको धन संबंधित फैसले लेते समय सावधान रहना चाहिए। किसी गलत तरीके से धन कमाने की कोशिश न करें। इस समय आपको अपने व्यापार व कार्य पर ध्यान देना होगा। किसी भी तरह की चूक आपके लिए नुकसान देह हो सकती है।

 

मिथुन राशि

शनि का मकर राशि में वक्री होना मिथुन राशि वाले जातकों के लिए शुभ नहीं है इस समय मिथुन राशि के जातकों पर शनि की ढैय्या चल रही है। ऐसे में आप कई मामलों परेशान हो सकते हैं। कार्य व व्यापार के पहलू पर आपको ध्यान देना होगा। इस माह में आपको अपने धन पक्ष को संभालने की जरूरत है। वित्त के सिलसिले में आपको फैसले सोच समझकर लें। सेहत का ध्यान रखें।

 

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए समय उतार चढ़ाव भरा रहने वाला है। इस दौरान आपको अपने संबंधों को संभालना होगा। कार्य को गंभीरता से लें और किसी भी तरह की लापरवाही करने से बचें। शनि का वक्री होना आपकी सेहत के लिए सही नहीं है। आपको अपने सेहत का विशेष ख्याल रखना होगा।

 

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों के लिए शनि का मकर राशि में वक्री होने से कुछ नकारात्मक परिणामों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में आपको सावधान रहना होगा। किसी भी तरह का निर्णय लेने से पहले विचार जरूर कर करें। अवधि में आपको अपने व्यापार व कार्य पर पूरी एकाग्रता व ईमानदारी के काम करना होगा। किसी त्वरित मार्ग को अपनाने से बचें।

 

कन्या राशि

शनि का मकर राशि में वक्र अवस्था में आना आपके लिए सामान्य रहने वाला है। परंतु इसका मतलब यह नहीं की आप लापरवाह हो जाएं। शनि का वक्री होना आपके लिए भी किन्हीं मामलों में परेशानी ला सकता है। इस समय में आपको अपने संबंधों पर खास ध्यान देना चाहिए।

 

तुला राशि

तुला राशि वालों के लिए शनि का वक्री होना सही नहीं है। क्योंकि आप पर पहले से ही शनि की ढैय्या चल रही है ऐसे में शनि का वक्री होना आपके लिए और भी परेशानी खड़ा करने वाला बन जाएगा। ऐसे में आपको सावधान रहना होगा। किसी भी तरह का फैसला लेने से पहले आपको विचार करना चाहिए। सेहत का ध्यान रखें।

 

वृश्चिक राशि

शनि का वृश्चिक राशि के जातकों पर गहरा असर पड़ने वाला है। इस दौरान आपको अपने विवेक से काम लेना होगा। शनि का वक्री आपके न्यायिक कार्य में कुछ बाधा उत्पन्न कर सकता है। इसके साथ ही कार्य स्थल पर भी आपको कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। आपको अपना कार्य पूरी श्रद्धा से करना होगा।

 

धनु राशि

धनु राशि के जातकों को शनि के वक्री अवस्था में आने से समस्या हो सकती है। इस समय आप पर साढ़े साती चल रही है ऐसे में शनि का वक्री होना आपके लिए मुश्किलें बढ़ाने का काम कर सकता है। आपको अपना काम परिश्रम के साथ करते हुए निष्पक्ष रहना होगा। किसी के बारे में बुरा न सोचें। जितना हो सके आपको समस्याओं से दूर रहना चाहिए। सेहत का ध्यान रखें।

 

मकर राशि

शनि का वक्री होना आप जातकों के लिए अधिक परेशानी वाला नहीं हो सकता है। इसका कारण है कि शनि आपके राशि स्वामी है। ऐसे में आपको कुछ राहत मिल सकती है। परंतु आप पर स्वामी की दशा चल रही है ऐसे में राहत में कटौती हो सकती है। इसलिए आपको ईमानदार के साथ कर्मयोगी बनना होगा। अपने दायित्वों को पूरी ज़िम्मेदारी के साथ निभाएं।

 

कुंभ राशि

कुंभ जातकों पर भी शनि की साढ़े साती चल रही है। ऐसे में शनि का वक्री होना आपके लिए सही नहीं हैं। राशि स्वामी होने से जो राहत थी व कम हो सकती है। आपको कई पहलुओं पर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। धन हानि का भी संकेत है। ऐसे में आपको धन संबंधी निर्णय लेते समय सावधान रहना होगा। सेहत का विशेष ध्यान रखें।

 

मीन राशि

शनि का वक्री होना आपके सेहत के लिए ठीक नहीं है ऐसे में आपको सावधान रहना होगा। खान पान पर विशेष ध्यान दें। डेली रूटीन में आपको कुछ बदलाव करना पड़ सकता है। आपको अपने संतान पक्ष से कुछ तनाव का सामना करना पड़ सकता है। करियर में भी कुछ दिक्कतें आ सकती है। काम से मन उठ सकता है। आपको अपना काम धैर्य से करना होगा।

 

यह भी पढ़ें

शनि परिवर्तन – किस पर लगेगी ढ़ैय्या तो किसकी पार लगेगी नैय्या?   |   शनिदेव - कैसे हुआ जन्म और कैसे टेढ़ी हुई नजर   |   शनिदेव - क्यों रखते हैं पिता सूर्यदेव से वैरभाव   |   शनि शिंगणापुर मंदिर   |   शनि जयंती 2020 | शनि दोष – जब पड़े शनि की मार करें यह उपचार   |   शनि त्रयोदशी - प्रदोष व्रत कथा व पूजा विधि   |   जानें शनि दोष से मुक्ति के अचूक उपाय

एस्ट्रो लेख

चंद्र ग्रहण 202...

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के औ...

और पढ़ें ➜

चंद्र ग्रहण का ...

साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण(chandra grahan 2020) इस बार 5 जून शुक्रवार को पड़ेगा। चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण वृश्चि...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ पूर्णिम...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान दान का बहुत अध...

और पढ़ें ➜

निर्जला एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु क...

और पढ़ें ➜