Skip Navigation Links
शनि वक्री - शनि की फिर बदलेगी चाल, जानें राशिनुसार अपना हाल


शनि वक्री - शनि की फिर बदलेगी चाल, जानें राशिनुसार अपना हाल

साल 2017 में जनवरी के लगभग अंत में जैसे ही शनि ने अपनी राशि बदली उसके साथ हमें भी अपने आस-पास बहुत कुछ बदलता हुआ दिखाई दिया। कई ऐसे उलटफेर भी हो रहे हैं जिनकी हम आप अपेक्षा भी नहीं कर रहे थे। नोटबंदी से लेकर पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों तक कई फैसलें चौकाने वाले रहे हैं। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि यह सब शनि की माया है। शनि ग्रह की चाल में किसी भी तरह का परिवर्तन चाहे वे मार्गी हों, वक्री हों या फिर परिवर्तित हर किसी के लिये मायने रखता है। हाल ही में हुए शनि के राशि परिवर्तन के बाद शनि फिर से अपनी चाल बदल रहे हैं।

कैसे बदल रही है शनि की चाल

वर्तमान में शनि धनु राशि में गोचर कर रहे हैं लेकिन 6 अप्रैल से शनि वक्री हो रहे हैं। वक्री होकर गोचर करते हुए 21 जून को शनि फिर से वृश्चिक राशि में चले जायेंगे यहां वक्री गोचर करते हुए 26 अगस्त को पुन: शनि मार्गी होंगे और 27 अक्तूबर को धनु राशि में वापस लौटेंगें। जैसे-जैसे शनि अपनी चाल बदलेंगें उसी तरह विभिन्न राशियों के लिये अच्छे बूरे परिणाम भी शनि लेकर आयेंगें।

किस राशि पर कैसा प्रभाव डालेगा शनि का वक्री होना

शनि को शासन तंत्र का एक माध्यम माना जाता है। जब-जब शासन तंत्र कठोर होता है तो दृष्ट राशियों के लिये कष्टप्रद रहता है। जिस घर में शनि वक्री होते हैं वहां पर विशेष रूप से कष्टदायी रहने की संभावनाएं बलवती होती हैं। विभिन्न राशियों के लिये वक्री शनि कुछ इस तरह के परिणाम लेकर आयेंगें-

मेष – आपकी राशि से शनि 9वें घर में वक्री हो रहे हैं जो कि भाग्य का स्थान माना जाता है। शनि के वक्र होने से अचानक से आपकी किस्मत आपका साथ देना छोड़ सकती है। इससे आपके बनते हुए कार्य भी रूकने की संभावनाएं बन सकती हैं। आपके लिये सलाह है कि यदि कोई नया कार्य करने के इच्छुक हैं तो शनि के मार्गी होने तक न करें। यदि करें तो ज्योतिषिय उपाय अवश्य अपनाएं। उपाय जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। ज्योतिषी से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

वृषभ – आपकी राशि से शनि आठवें घर में वक्र होंगे। इस समय आप लंबी दूरी की यात्राएं करने से बचें। वाहन आदि का प्रयोग भी सावधानी पूर्वक करें। नये काम को भी कुछ दिन के लिये टाल कर रखें। नियमित रूप से शनि देव की पूजा करें।

मिथुन – आपकी राशि से शनि सातवें भाव में वक्र हो रहे हैं। आपकी राशि पर शनि कि सपष्ट रूप से वक्र दृष्टि पड़ रही है। अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें, उदर सबंधी रोग हो सकते हैं। पारिवारिक कलह का भी आपको सामना करना पड़ सकता है, घर का माहौल शांत बनाये रखने में सहयोग करें। आवेश में न आयें, दांपत्य जीवन में भी कलह के योग तो हैं ही साथ ही जीवनसाथी के स्वास्थ्य के प्रति भी चिंताएं बढ़ सकती हैं।

कर्क – राशि से शनि छठे घर में वक्र हो रहे हैं। शत्रुओं, प्रतिद्वंदियों से सावधान रहें, अपनी सेहत का भी ध्यान रखें रोगों का भय हो सकता है। साथ अपनी कीमती चीज़ों को थोड़ा संभालकर रखें इनके खो जाने की चिंता भी आपको सता सकती है। कुल मिलाकर अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं में आपको नकारात्मक परिणामों का सामना करना पड़ सकता हैं। मार्गी होने तक शनि का प्रभाव आपकी राशि पर बने रहने के आसार हैं।

सिंह – आपकी राशि से शनि पांचवे घर में वक्री हो रहे हैं। शनि के परिवर्तन धनु राशि में परिवर्तन करने पर जिन कष्टों से आपको राहत मिली है उन्हीं कष्टों का पुन: भय सताने लग सकता है। विद्या, बुद्धि व संतान से संबंधी चिंताएं बढ़ सकती हैं। प्रेमी जातकों के लिये भी समय सही नहीं है। इस समय नये प्रेम संबंध न ही जोड़ें तो बेहतर है। लंबे समय से जो जातक एक दूसरे के प्यार में बंधे हैं वे भी अपने संबंधों को बचाये रखने के लिये झूझ सकते हैं। किसी भी तरह का अहम निर्णय लेने से पहले बड़े-बुजूर्गों की सलाह लेना आपके लिये हितकर रहेगा।

कन्या – आपकी राशि से शनि चौथे भाव में वक्र हो रहे हैं और दशम दृष्टि से सपष्ट क्रूर दृष्टि से शनि आपको देख रहे हैं। शनि के वक्र होने पर कुछ समय के लिये आपको कार्यक्षेत्र में सहायता मिल सकती है। अपने स्वास्थ्य का ध्यान अवश्य रखें।

तुला – आपीक राशि से शनि की चाल तीसरे भाव में बदल रही है। इस वक्री समय में भाई-बहनों से आपके विवाद बढ़ सकते हैं। कार्यस्थल पर आप सुस्त पड़ सकते हैं जिससे आप काम का बोझ बढ़ने व आपका प्रदर्शन घटने की संभावना है। अपनी आलस्यमयी प्रवृति के कारण कार्यस्थल पर आपकी छवि भी खराब हो सकती है। इसी समय का लाभ आपके प्रतिद्वंदी भी उठाने का प्रयास कर सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि इन हालातों से निबटने के लिये अभी से कमर कस लें।

वृश्चिक – आपकी राशि से शनि दूसरे स्थान में वक्री होंगे। यह आपके लिये धन हानि के योग बना रहा है, कहीं भी पैसा लगाने से पहले अच्छे से विचार कर लें। जो कार्य पुराने समय से लंबित हैं और जिनके बनने के आसार नज़र आने लगे थे अचानक वे फिर से लटक सकते हैं। अपने सिर का ध्यान रखें सिर में चोट लग सकती है।

धनु – शनि आपकी ही राशि में वक्री हो रहे हैं। व्यापार व कार्यक्षेत्र में विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। शनि के आने से जिन दिक्कतों से आपको छुटकारा मिला था, आप जो सहजता महसूस कर रहे थे फिर से उन दिक्कतों के लौटने के भय से असहज हो सकते हैं। अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें।

मकर – आपकी राशि से शनि 12वें घर में वक्री हो रहे हैं। खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है धन व्यय के योग बन रहे हैं। किसी नई चीज़ में धन न ही लगायें तो बेहतर है। शत्रु के कोपभाजन का शिकार भी आपको होना पड़ सकता है। इस समय दूसरों के मामले में टांग अड़ाने से भी बचें। किन्हीं कारणों से आपका मन अशांत भी रह सकता है।

कुंभ – आपकी राशि से शनि ग्यारहवें भाव में वक्री होंगे। जनवरी से आप जिस लाभ के कारण अच्छा महसूस कर रहे थे, उसमें अचानक से रूकावट आ सकती है। बनते हुए कार्य भी कुछ समय के लिय और लटक सकते हैं। आपके लिये यह समय धैर्य से काम लेने का है।

मीन – आपकी राशि से दसवें स्थान में शनि वक्र हो रहे हैं। अचानक कार्य, व्यापार क्षेत्र में दिक्कतें बढ़ सकती हैं। नई नौकरी की चाह रखने वाले जातकों को थोड़ा और इंतजार करना पड़ सकता है। व्यापार क्षेत्र में भी अपने लक्ष्य हासिल करने के लिये अधिक प्रयास करने पड़ सकते हैं। पिता के साथ आपके मतभेद पैदा होने के योग भी बन रहे हैं।

वक्री शनि के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिये विद्वान ज्योतिषाचार्यों से आज ही सरल ज्योतिषीय उपाय जानें। एस्ट्रोयोगी पर आप देश-भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा   |  शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर   |  

बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर गुरु कन्या में हुए वक्री   |   सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?   |  

बुध बदलेंगे राशि - क्या होगा असर? जानें राशिफल   |   15 अप्रैल तक शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?  28 मार्च को मेष राशि जायेंगें बुध जानें राशिफल




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र बदलेंगें राशि जानें अपना राशिफल

शुक्र बदलेंगें राश...

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशिचक्र की 12 राशियों में वृषभ व तुला राशि के स्वामी शुक्र एक शुभ ग्रह माने जाते हैं। इन्हें लाभ व सुख-समृद्धि का क...

और पढ़ें...
भाद्रपद अमावस्या – सूर्य ग्रहण से बढ़ा सोमवती अमावस्या का महत्व

भाद्रपद अमावस्या –...

स्नान, दान और तर्पण के लिये अमावस्या की तिथि का बहुत अधिक महत्व माना जाता है लेकिन सोमवार के दिन पड़ने वाली अमावस्या तो और भी सौभाग्यशाली मान...

और पढ़ें...
राहू राशि परिवर्तन – क्या लायेगा आपके जीवन में बदलाव

राहू राशि परिवर्तन...

18 अगस्त शुक्रवार 2017 को प्रात:काल 5 बजकर 53 मिनट मिथुन के चंद्रमा के साथ कर्क राशि में प्रविष्ट होंगे जिसका प्रत्येक राशि पर अलग-अलग प्रभाव...

और पढ़ें...
राहु और केतु ग्रहों को शांत करने के सरल उपाय

राहु और केतु ग्रहो...

राहु-केतु ग्रहों को छाया ग्रह के नाम से जाना जाता है। ज्योतिष की दुनिया में इन दोनों ही ग्रहों को पापी ग्रह भी बोला जाता है। इन दोनों ग्रहों ...

और पढ़ें...
क्या आपकी कुंडली में हैं शुभ या पापकर्तरि योग?

क्या आपकी कुंडली म...

किसी भी जातक की कुंडली में अनेक शुभाशुभ योग होते हैं। इन्हीं योगों के आधार पर जातक जीवन में अपना मुकाम हासिल कर पाता है। अशुभ योगों के प्रभाव...

और पढ़ें...