Skip Navigation Links
शुक्र राशि परिवर्तन - 29 जून को शुक्र बदलेंगें राशि जानें राशिफल


शुक्र राशि परिवर्तन - 29 जून को शुक्र बदलेंगें राशि जानें राशिफल

ज्योतिषशास्त्र में शुक्र ग्रह बहुत अधिक मायने रखते हैं। लाभ, सुख-समृद्धि एवं कला क्षेत्र के प्रतिनिधि भी शुक्र माने जाते हैं। वृषभ एवं तुला राशियों के स्वामी भी शुक्र हैं। ऐसे में शुक्र ग्रह का गोचर बहुत ही अहम माना जाता है। 29 जून को शुक्र का परिवर्तन हो रहा है। शुक्र के गोचर से विभिन्न राशियों पर इसका भिन्न प्रकार से प्रभाव पड़ता है। आइये जानते हैं मेष राशि से परिवर्तन कर वृषभ राशि में शुक्र का गोचर करना आप को किस तरह प्रभावित करेगा।

मेष

मेष राशि से शुक्र का परिवर्तन वृषभ राशि में हो रहा है। पिछले कुछ समय से आप जिन लोगों के साथ रह रहे थे वो आपसे दूर जा सकते हैं जिससे कुछ समय आपको खालीपन महसूस होगा। आपकी राशि से शुक्र द्वितीय स्थान में प्रवेश कर रहा है जो कि आपका धन भाव है। धन के मामले में शुक्र आपके लिये लाभदायक रहने के आसार है। प्रेमी युगलों के लिये भी यह समय काफी सही है। बिछड़े हुए प्रेमियों का मिलन भी इस समय हो सकता है।

वृषभ

वृषभ राशि में ही शुक्र का प्रवेश होने पर यह समय आपके लिये स्वास्थ्य वर्धक रहेगा। बड़े बुजूर्ग तथा कार्यक्षेत्र में उच्चस्थ पदों पर नियुक्त लोगों का सहयोग मिल सकता है। आपका दिया हुआ ऋण जो लंबे समय से अटका हुआ था वह भी प्राप्त होने की उम्मीद कर सकते है। लंबी यात्राओं से लौटने पर सुखद अनुभव महसूस करेंगें। शुक्र की सप्तम दृष्टि रहने से दांपत्य जीवन भी सुखमय बना रहेगा।

मिथुन

मिथुन राशि से शुक्र का परिवर्तन 12वें घर में हो रहा है जो कि आपके व्यय एवं निवेश का घर माना जाता है। जिन कार्यों पर आप बहुत समय से ध्यान लगाने का प्रयास कर रहे थे उन कार्यों या परियोजनाओं में निवेश करने के लिहाज से यह समय बहुत ही उपयुक्त है। प्रेम जीवन में यह समय आपके लिये बेहतर रहने के आसार हैं। आप अपने कार्य से, अपने व्यवहार से शत्रु का मन भी जितने का सामर्थ्य रखेंगें। छोटी यात्राओं का योग भी बन सकता है।

कर्क

कर्क राशि से शुक्र का परिवर्तन 11वें घर में होगा जो कि आपके लाभ का घर है। यह समय आपके लिये कार्य, व्यवसाय एवं पैसों से संबंधित बहुत ही लाभ वाला रहेगा। माता-पिता का सुख भी आपको भरपूर मिलेगा। मंहगी चीज़ों को खरीदने में आप रूचि दिखा सकते हैं। मकान की चाहत रखने वाले जातकों के लिये नये घर में प्रवेश का योग भी शुक्र के प्रभाव से बन रहे हैं। कार्यक्षेत्र में भी आपको कोई विशेष जिम्मेवारी मिल सकती है।

सिंह

सिंह राशि से शुक्र का परिवर्तन दसवें घर में हो रहा है जो कि आपका कर्मक्षेत्र है। कार्यक्षेत्र में कार्य से संबंधित चल रहे दबाव से मुक्ति मिल सकती है जिससे आप काफी राहत महसूस कर सकते हैं। इससे पहले भाग्य घर में विचरण करने से शुक्र ने आपके लिये एक लाभकारी समय बनाया है जिसका उपयोग आपको इस समय में मिल सकता है। माता के स्वास्थ्य के प्रति चिंताएं बन सकती हैं। माता-पिता अथवा बड़े बुजूर्गों की सहायता से स्वयं को सौभाग्यशाली महसूस कर सकते हैं।

कन्या

कन्या राशि से शुक्र का परिवर्तन 9वें घर में होगा जो कि आपके भाग्य का घर है। कुछ समय से आप बेवजह जो यातनाएं सह रहे थे और आपके लिये जो भागदौड़ बेमतलब की साबित हो रही थी उन परिस्थितियों में भाग्य का साथ मिलने से आप स्वयं को लाभान्वित महसूस कर सकते हैं। यह समय आपके लिये भाग्यशाली समय रहेगा जो कि आवश्यक कार्य इस समय करने का प्रयास करेंगें सफलता मिल सकती है।

तुला

तुला राशि से शुक्र का परिवर्तन अष्टम घर में हो रहा है जो कि शुक्र को कमजोर बना रहा है। दांपत्य जीवन में भी खलल पड़ने के योग बन रहे हैं। अविवाहित प्रेमी युगलों के लिये भी यह दौर नाज़ुक रहने के आसार हैं। अनैच्छिक यात्राओं के योग आपके लिये बन रहे हैं। यदि आपको कोई ऐसी यात्रा करनी पड़े तो अपनी सेहत का ध्यान रखें। अपव्यय से भी बचें।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि से शुक्र का परिवर्तन सप्तम भाव में हो रहा है जो कि आपका दांपत्य घर माना गया है। दांपत्य जीवन में नई ऊर्जा का संचार होने के आसार हैं। लंबे समय से दूर रहने वाले प्रियजनों के लिये यह समय समीपता लाने वाला रह सकता है। स्वास्थ्य के मामले में विशेषकर उदर संबंधी रोगों से सचेत रहें। कोई शत्रु आप व आपके प्रियजनों के बीच गलतफहमी का कारण बन सकता है।

धनु

धनु राशि से शुक्र का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है जो कि आपका शत्रु घर है। आप अपने आप को शत्रुओं से व रोगों से घिरा हुआ महसूस कर सकते हैं। किंतु शुक्र स्वयं एक वैद्य का कार्य भी करते हैं जिससे आपको मात्र सचेत रहने से लाभ मिलेगा तो वहीं जरा सी लापरवाही से आपको नुक्सान हो सकता है। आपके ऊपर अनपेक्षित खर्चों का बोझ बढ़ सकता हैं। अपनी जेब देखकर खर्च करें।

मकर

मकर राशि से शुक्र का परिवर्तन पंचम स्थान में हो रहा है जो कि आपके लिये प्रेम, संतान एवं बुद्धि का स्थान है। शिक्षा के क्षेत्र में आपके लिये यह समय काफी उपयुक्त रहेगा। प्रेम संबंधों में नई उम्मीद की किरणों को दिखाने वाला है। संतान पक्ष की ओर से भी आपको शुभ समाचार मिल सकते हैं। काफी समय से संतान से वंचित दंपति जातकों के लिये भी यह समय अनुकूल है।

कुंभ

कुंभ राशि से शुक्र का परिवर्तन चौथे घर में हो रहा है जो कि आपका सुख भाव है। आपके जीवन में यह समय सुख समृद्धियों के आगमन के संकेत कर रहा है। मातृ पक्ष से प्रेम मिलने के प्रबल योग हैं। आपके जीवन में शुक्र के आने से आप नये संसाधनों का उपयोग भी कर सकते हैं। कार्यक्षेत्र में भी आपको अपने सहकर्मियों का सहयोग रहेगा। आपका समय शुभ चल रहा है ऐसे में कोई गलत कदम न उठायें न ही गलत कार्य करें।

मीन

मीन राशि से शुक्र का परिवर्तन तीसरे घर में हो रहा है जो कि आपके पराक्रम का भाव है। भाई बहनों का सहयोग एवं प्यार आपको भरपूर मिलेगा। जो लोग आपके ऊपर विश्वास नहीं करते हैं उन्हें अपनी क्षमताओं से परिचित करवाने का यह सही समय होगा। कार्य करने में आपका मन लगेगा। इस समय भाग्य का पूर्ण सहयोग भी आपको मिलेगा। छोटी यात्राओं का योग भी आपके लिये बनेगा जिन्हें आप सहजता से सफल बना सकते हैं।

आपकी कुंडली में शुक्र की स्थिति कैसी है व शुक्र कैसे आपको प्रभावित कर रहे हैं? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |  ग्रह गोचर 2017   |   शुक्र गोचर 2017   मंगल गोचर 2017   |   

बुध गोचर 2017   |   बृहस्पति गोचर 2017   |   शुक्र गोचर 2017   |   शनि गोचर 2017   |   राहु गोचर 2017




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...