विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2019

नव वर्ष को लेकर सभी अपनी-अपनी योजनाएं बनाने लगते हैं। नौकरी के इच्छुक सोचते हैं कि उन्हें नौकरी हाथ लग जाये तो नव वर्ष हैप्पी हो जाये, नौकरीशुदा सोचते हैं उनका तो नया साल तभी खुशहाल होगा जब उनकी झोली में पदोन्नति आ गिरेगी। प्रेम के इच्छुक चाहते हैं कि उन्हें उनके सपनों का साथी मिल जाये तो अविवाहित सोचते हैं नये साल में उनका भी घर बस जाये। लेकिन एक उम्र ऐसी भी होती है जो अपने भविष्य की नींव मजबूत कर रही होती है। शिक्षा ग्रहण कर रहे ये जातक अपने भविष्य के सपनों को साकार करने का आधार तैयार कर रहे होते हैं। तो इन विद्यार्थियों, शिक्षार्थियों के लिये नव वर्ष 2019 कैसा रहेगा? शिक्षा क्षेत्र के कारक ग्रहों के अनुसार एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों का क्या कहना है? आइये जानते हैं।

वर्ष 2019 की शुरुआत कन्या लग्न तुला राशि में हो रही है। विद्या का कारक ग्रह बृहस्पति को माना जाता है जो कि वर्ष लग्न से तीसरे स्थान में गोचरत हैं। बृहस्पति की यह स्थिति मार्च के अंत तक बनी रहेगी। इसका संकेत है कि विद्यार्थियों के लिये नव वर्ष की शुरुआत काफी अच्छी रहने के आसार हैं। विद्यार्थियों का पढ़ने लिखने में मन लगे रहने के आसार हैं। जो जातक किसी पसंदीदा कोर्स में दाखिला पाने की तैयारी कर रहे हैं उन्हें सफलता मिल सकती है। मार्च के अंत में बृहस्पति चौथे घर में चले जायेंगें। जहां वे कुछ समय तक शनि के साथ रहेंगें इसके बाद वे वक्री हो जायेगें और वापस तीसरे स्थान में आ जायेंगें जो कि अगस्त में जाकर मार्गी होंगे। यह पूरा समय विद्यार्थियों के लिये कड़ी मेहनत के संकेत कर रहा है। यह समय विद्यार्थियों के लिये थोड़ा तनावपूर्ण हो सकता है।

एक तरह से देखा जाये तो यह समय ही अधिकांश विद्यार्थियों की परीक्षाओं का समय होता है अत: इस समय विद्यार्थियों को अधिक ध्यानपूर्वक व बिना किसी दबाव के अपना समय अध्ययन करने में लगाना चाहिये इससे उनका तनाव कम हो सकता है। इसके पश्चात बृहस्पति के मार्गी होने से विद्यार्थियों के अंदर नई ऊर्जा का संचार होने की संभावना जताई जा सकती है। यह समय विद्यार्थियों के लिये अनुकूल रहने की उम्मीद है।

नवंबर में बृहस्पति के पुन: स्थान परिवर्तन से कुछ विद्यार्थियों का विद्या के प्रति मोहभंग हो सकता है। इस समय को विशेषरूप से पढ़ने में व्यतीत करें यह भविष्य में आपके लिये सफलता दिलाने वाला हो सकता है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिये समय बहुत ही बेहतर परिणाम दिलाने वाला हो सकता है।

वर्ष कुंडली में शिक्षा के घर का स्वामी शनि हैं जो कि धनु राशि में गोचररत हैं और पूरे वर्ष यहीं पर बने रहेंगें जिससे विदयार्थियों के लिये यह वर्ष सामान्य बने रहने की उम्मीद कर सकते हैं हालांकि अप्रैल के मध्य से सितंबर तक शनि वक्री रहेंगे उच्च शिक्षा पाने वाले विद्यार्थियों के लिये यह समय कड़ी मेहनत करने संकेत कर रहा है।

नोट - अलग-अलग राशियों के हिसाब से समय-समय पर अलग-अलग योग बनते हैं। इसलिये हमारी सलाह है कि अपनी कुंडली के अनुसार सटीक परिणाम जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर एक्सपर्ट एस्ट्रोलॉजर्स से परामर्श लें।


संबंधित लेख

2019 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2019   |   नववर्ष 2019 राशिफल    |    साल 2019 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   

2019 क्या लायेगा अच्छे दिन?   |   भारत खेल 2019 - खेलों के लिये कैसा है 2019   |  2019 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |   

2019 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   

एस्ट्रो लेख

बुध का राशि परि...

इस माह बुध राशि परिवर्तन कर मकर राशि के कुंभ राशि में जा रहे हैं। वैदिक ज्योतिष में बुध को वाणी का कारक माना जाता है। कहते हैं कि वाणी में मधुरता हो तो शत्रु भी मित्र बन जाता है। प...

और पढ़ें ➜

Saturn Transit ...

निलांजन समाभासम् रवीपुत्र यमाग्रजम । छाया मार्तंड संभूतं तं नमामी शनैश्वरम ।। Saturn Transit 2020 - सूर्यपुत्र शनिदेव 24 जनवरी 2020 को भारतीय समय दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर धनु राशि ...

और पढ़ें ➜

बसंत पंचमी पर क...

जब खेतों में सरसों फूली हो/ आम की डाली बौर से झूली हों/ जब पतंगें आसमां में लहराती हैं/ मौसम में मादकता छा जाती है/ तो रुत प्यार की आ जाती है/ जो बसंत ऋतु कहलाती है। सिर्फ खुशगवार ...

और पढ़ें ➜

Rashianusar Puj...

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बड़ा महत्व है, लेकिन कई बार रोज़ाना पूजा-पाठ करने के बावजूद भी हमारा मन अशांत ही रहता है। वहीं भगवान की पूजा के दौरान कौन सा फूल, फल और दीपक जलाना चाहिए ...

और पढ़ें ➜