Skip Navigation Links
विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2017


विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2017

नव वर्ष को लेकर सभी अपनी-अपनी योजनाएं बनाने लगते हैं। नौकरी के इच्छुक सोचते हैं कि उन्हें नौकरी हाथ लग जाये तो नव वर्ष हैप्पी हो जाये, नौकरीशुदा सोचते हैं उनका तो नया साल तभी खुशहाल होगा जब उनकी झोली में पदोन्नति आ गिरेगी। प्रेम के इच्छुक चाहते हैं कि उन्हें उनके सपनों का साथी मिल जाये तो अविवाहित सोचते हैं नये साल में उनका भी घर बस जाये। लेकिन एक उम्र ऐसी भी होती है जो अपने भविष्य की नींव मजबूत कर रही होती है। शिक्षा ग्रहण कर रहे ये जातक अपने भविष्य के सपनों को साकार करने का आधार तैयार कर रहे होते हैं। तो इन विद्यार्थियों, शिक्षार्थियों के लिये नव वर्ष 2017 कैसा रहेगा? शिक्षा क्षेत्र के कारक ग्रहों के अनुसार एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों का क्या कहना है? आइये जानते हैं।

वर्ष 2017 की शुरुआत कन्या लग्न मकर राशि में हो रही है। विद्या का कारक ग्रह बृहस्पति को माना जाता है जो कि लग्न में विराजमान हैं। बृहस्पति की यह स्थिति फरवरी तक बनी रहेगी। इसका संकेत है कि विद्यार्थियों के लिये नव वर्ष की शुरुआत उत्साहजन रहने के आसार हैं और फरवरी तक विद्या के प्रति जातकों का रूझान सामान्य बने रहने की उम्मीद है। फरवरी में बृहस्पति वक्री होने के कारण जो कि  जून माह के दूसरे सप्ताह के आरंभ तक वक्री रहेगें, इस पूरे समय के दौरान विद्यार्थियों पर एक तरह का दबाव बना रहने के आसार हैं। यह समय विद्यार्थियों के लिये थोड़ा तनावपूर्ण हो सकता है।

एक तरह से देखा जाये तो फरवरी से जून का समय ही अधिकांशत विद्यार्थियों की परीक्षाओं का समय होता है अत: इस समय विद्यार्थियों को अधिक ध्यानपूर्वक व बिना किसी दबाव के अपना समय अध्ययन करने में लगाना चाहिये इससे उनका तनाव कम हो सकता है। वर्ष के मध्य में पुन: बृहस्पति के मार्गी होने से विद्यार्थियों के अंदर नई ऊर्जा का संचार होने की संभावना जताई जा सकती है। यह समय विद्यार्थियों के लिये अनुकूल रहने की उम्मीद है।

सितंबर में बृहस्पति के स्थान परिवर्तन से कुछ विद्यार्थियों का विद्या के प्रति मोहभंग हो सकता है। इस समय को विशेषरूप से पढ़ने में व्यतीत करें यह भविष्य में आपके लिये सफलता दिलाने वाला हो सकता है। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिये समय बहुत ही बेहतर परिणाम दिलाने वाला हो सकता है।

वर्ष कुंडली में शिक्षा के घर का स्वामी शनि वृश्चिक राशि में जनवरी तक बना रहेगा जिससे जनवरी का समय भी थोड़ा तनावपूर्ण रह सकता है। धनु राशि में शनि के प्रवेश से सामान्य बने रहने की संभावना है।

नोट - अलग-अलग राशियों के हिसाब से समय-समय पर अलग-अलग योग बनते हैं। इसलिये हमारी सलाह है कि अपनी कुंडली के अनुसार सटीक परिणाम जानने के लिये विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। भारत के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। अभी रजिस्ट्रेशन करने पर एस्ट्रोयोगी की ओर से आपको मिलेगा 100 रुपये तक की बातचीत निशुल्क करने का मौका। रजिस्ट्रेशन करने के लिये लिंक पर क्लिक करें।

संबंधित लेख

2017 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017   |   नववर्ष 2017 राशिफल    |    साल 2017 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   

2017 क्या लायेगा अच्छे दिन?   |   भारत खेल 2017 - खेलों के लिये कैसा है 2017   |  2017 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |   

2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...