Skip Navigation Links
सूर्य ग्रहण 2017 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव


सूर्य ग्रहण 2017 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव

26 फरवरी को वर्ष 2017 का पहला सूर्यग्रहण लगेगा। सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों ही शुभ कार्यों के लिये अशुभ माने जाते हैं। पहला सूर्यग्रहण हालांकि भारत में दिखाई नहीं देगा जिस कारण यह बड़े स्तर पर भारतीयों को प्रभावित नहीं करेगा। लेकिन 26 फरवरी को जिनके लिये ग्रहण के कारण पीड़ित सूर्य की दशा व अन्य ग्रहों की स्थिति विभिन्न राशियों को जरूर प्रभावित करेगी। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य इस बारे में क्या कहते हैं आइये जानते हैं-

मेष – मेष राशि के स्वामी मंगल सूर्य ग्रहण के दिन उच्चस्थ शुक्र के साथ बृहस्पति के घर में विराजमान हैं। यह आपके लिये शुभ फलदायी हो सकता है। आपकी राशि से सूर्य 11वें घर में विचरण कर रहे हैं जो कि लाभ का घर माना जाता है। ग्रहण के कारण इस दिन आप कोई विशेष लेन-देन न ही करें तो बेहतर है क्योंकि ग्रहण आपके लाभक्षेत्र को प्रभावित कर सकता है।

वृषभ – वृषभ राशि का स्वामी शुक्र उच्चस्थ होकर मंगल के साथ बृहस्पति के घर में विराजमान है जो आपके लिये अति लाभकारी कहा जा सकता है। वहीं ग्रहण के दिन सूर्य आपकी राशि से दशम स्थान पर है जो कि आपका कर्मक्षेत्र है। इसलिये आपके लिये सलाह है कि अपने कार्यों में सतर्कता बरतें। यदि आप नया कार्य शुरु करने का विचार कर रहे हैं तो उसमें अपने से बड़ों की सलाह जरूर लें क्योंकि ग्रहण के कारण आपके कार्यों में बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं।

मिथुन – मिथुन राशि का स्वामी बुध कुंभ राशि में सूर्य के साथ ही विचरण कर रहा है जिसे आपका राशि स्वामी भी प्रभावित रहेगा। अपनी वाणी में नियंत्रण रखें। बेवजह किसी से बहस न करें अन्यथा इसका अशुभ प्रभाव आपके जीवन पर पड़ सकता है।

कर्क – कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा कुंभ राशि में सूर्य के साथ विराजमान है जिससे आपकी मानसिक चिंताए बढ़ने के संकेत हैं। आप में उत्साह की कमी भी हो सकती है। आपके राशि स्वामी इस ग्रहण से प्रभावित हैं इसलिये इस दिन शुभ कार्यों को टालना ही आपके लिये बेहतर रहेगा।

सिंह – राशि स्वामी सूर्य स्वयं इस ग्रहण में पीड़ित हैं और आपकी राशि को सपष्ट रूप से देख भी रहे हैं। संभल कर रहें आपके मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा व आत्मसम्मान के लिये यह कुछ अनिष्ट के संकेत कर रहा है। मानसिक व शारीरिक तौर पर कुछ परेशानियों का आपको सामना करना पड़ सकता है। इनका कारण दांपत्य या प्रेमजीवन के कुछ छुट-पुट विवाद भी हो सकते हैं। इस दिन धैर्य से काम लें व जितना हो सके प्रात:काल सूर्य देव की आराधना व मंत्रों का जाप करें।

कन्या – कन्या राशि का स्वामी बुध कुंभ राशि में विराजमान है जो कि अपनी राशि से छठवें घर में विराजमान है। अपने काम में सावधानी रखें कोई गुप्त शत्रु आपके कार्यों में रूकावट बन सकता है। अपनी वाणी में विनम्रता व संयम रखें। विशेषकर व्यावसायिक साझेदार के साथ किसी भी प्रकार की बहसबाजी या वाद-विवाद न करें अन्यथा तल्ख़ियां बढ़ सकती हैं जिसका प्रभाव आपके कार्य जीवन पर पड़ेगा।

तुला – तुला राशि के स्वामी शुक्र अपनी उच्चस्थ राशि मीन में विराजमान हैं जिससे ग्रहण का सीधा प्रभाव आपकी राशि पर नहीं होगा लेकिन आपकी राशि से सूर्य पंचम भाव में ग्रहणित हो रहे हैं जिससे कि मानसिक तनाव बढ़ सकता है विशेषकर विद्यार्थियों के लिये परीक्षा संबंधी तनाव बढ़ने के आसार हैं। साथ ही आपके प्रेमसंबंध भी ग्रहण से प्रभावित हो सकते हैं। अपने साथी से कोई ऐसी बात न कहें जिससे उनकी भावनाएं आहत हों या कोई ऐसा वादा न करें जिस पर आप खरे न उतर सकें।

वृश्चिक – वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल शुक्र के साथ मीन राशि में विराजित है जो कि आपकी राशि से पांचवें घर में है। आपकी राशि से चौथे घर में सूर्य ग्रहण का योग बन रहा है जो कि आपकी सुख-सुविधाओं में कमी लाने वाला हो सकता है। माता के लिये भी यह कष्टदायी हो सकता है। इस दिन यात्रा करने का जोखिम न ही लें तो बेहतर है।

धनु – धनु राशि का स्वामी बृहस्पति कन्या राशि में वक्र चल रहा है। बृहस्पति के वक्र होने के कारण आपके लिये यह समय थोड़ा परेशानियों भरा रहने से आपके लिये अनुकूल नहीं कहा जा सकता, आपकी राशि से तीसरे घर में सूर्य ग्रहण लगेगा जिससे भाई-बहनों से विवाद हो सकता है। आपकी इच्छाशक्ति जवाब दे सकती है। सूझ-बूझ वाले निर्णय लें।

मकर – मकर के राशि स्वामी शनि धनु राशि में विराजमान हैं आपकी राशि से दूसरे घर में सूर्य ग्रहण योग बन रहा है। दूसरा घर आपका धन संपदा का घर है। अपने धन का उपयोग देखभाल कर करें। अचानक से आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने की भी आशंका है। किसी भी जोखिम वाले क्षेत्र में पैसा न लगायें खासकर लॉटरी, जुआ आदि में धन न लगायें। इससे हानि हो सकती है।

कुंभ – कुंभ राशि के स्वामी शिनि धनु राशि में विराजमान हैं जो कि आपकी राशि से दसवां है जिसे हम लाभ पद मानते हैं किंतु वर्तमान स्थिति में आपकी राशि पर ही सूर्य ग्रहण योग बना हुआ है जोकि आपके लिये शुभ नहीं कहा जा सकता। इस समय आपका मानसिक और शारीरिक कष्ट बढ़ सकता है। तनाव को कम करने व नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिये भगवान शिव शंकर का मंत्र जाप करें।

मीन – मीन राशि का स्वामी बृहस्पति कन्या राशि में विराजमान है जोकि आपकी राशि से सातवां है और सपष्ट रूप से देख रहा है। किसी प्रकार का बड़ा नुक्सान तो आपको नहीं होगा। आपकी राशि से 12वां सूर्यग्रहण दोष बन रहा है। जिससे आपके खर्चों में अचानक बढोतरी हो सकती है इसलिये बेहतर रहेगा कि धन संबंधी फैसले सोच समझ कर ही लें।

संबंधित लेख

सूर्य ग्रहण 2017   |   चंद्र ग्रहण 2017   |   चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय   |   पितृदोष – पितृपक्ष में ये उपाय करने से होते हैं पितर शांत   |  

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |    कुंडली में कालसर्प दोष और इसके निदान के सरल उपाय    |

सूर्य नमस्कार से प्रसन्न होते हैं सूर्यदेव   |   शनिदेव - क्यों रखते हैं पिता सूर्यदेव से वैरभाव




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

हरियाली तीज 2017 - जानें श्रावणी तीज की व्रत कथा व पूजा विधि

हरियाली तीज 2017 -...

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को “श्रावणी तीज” कहते हैं। परन्तु ज्यादातर लोग इसे हरियाली तीज के नाम से जानते हैं। यह त्यौहार मुख्य रूप स...

और पढ़ें...
नाग पंचमी 2017 - भगवान शिव और नागों की पूजा का दिन है

नाग पंचमी 2017 - भ...

नाग पंचमी एक  हिन्दू पर्व है जिसमें नागों और सर्पों की पूजा की जाती है। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में यह पर्व पूरे देश में पूर्ण...

और पढ़ें...
शुक्र राशि परिवर्तन – किसको मिलेगा लाभ किसको होगी हानि जानें राशिफल

शुक्र राशि परिवर्त...

किसी भी जातक की कुंडली में लाभ, सुख-समृद्धि आदि के कारक शुक्र माने जाते हैं इसलिये शुक्र का गोचर भी ज्योतिषीय दृष्टिकोण से खास अहमियत रखता है...

और पढ़ें...
राशिनुसार कैसे करें शिव की पूजा

राशिनुसार कैसे करे...

शिव भक्तों के लिये सावन माह सभी महीनों में सबसे पवित्र माह होता है। इसलिये इस माह को भगवान शिव की उपासना के लिये सर्वोत्तम भी माना जाता है। इ...

और पढ़ें...
श्रावण सोमवार 2017 - जानें सावन सोमवार की व्रतकथा व पूजा विधि

श्रावण सोमवार 2017...

सावन माह का नाम आते ही हमारे मन में भी बादल घुमड़ने लगते हैं, ठंडी हवाओं के झौंके सुकून देने लगते हैं, तपती ज्येष्ठ और आषाढ़ में गरमी से बेहा...

और पढ़ें...