Skip Navigation Links
सूर्य ग्रहण 2018 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव


सूर्य ग्रहण 2018 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव

16 फरवरी को वर्ष 2018 का पहला सूर्यग्रहण लगेगा। सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों ही शुभ कार्यों के लिये अशुभ माने जाते हैं। पहला सूर्यग्रहण हालांकि भारत में दिखाई नहीं देगा। जिस कारण यह बड़े स्तर पर भारतीयों को प्रभावित नहीं करेगा। लेकिन 16 फरवरी को ग्रहण के कारण पीड़ित सूर्य की दशा व अन्य ग्रहों की स्थिति विभिन्न राशियों को जरूर प्रभावित करेगी। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य इस बारे में क्या कहते हैं आइये जानते हैं-

मेष – मेष राशि का स्वामी मंगल हैं ग्रहण के प्रभाव से आपके जीवन में सुख संसाधनों की वृद्धि के तो संकेत हैं लेकिन संतान, विद्या व प्रेम या घरेलू जीवन को लेकर आप चिंतित हो सकते हैं साथ ही बच्चों की शिक्षा को लेकर भी आपकी चिंता बढ़ सकती है।

वृषभ – वृषभ राशि का स्वामी शुक्र हैं। वहीं ग्रहण के दिन सूर्य आपकी राशि से चतुर्थ स्थान यानि सुख भाव में होंगें। आपको इस समय थोड़े अतिरिक्त प्रयास करने पड़ सकते हैं। कामकाज के दबाव से आपके सुख में कमी आ सकती है। यदि आप नया कार्य शुरु करने का विचार कर रहे हैं तो उसमें अपने से बड़ों की सलाह जरूर लें क्योंकि ग्रहण के कारण आपके कार्यों में बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं।

मिथुन – मिथुन राशि का स्वामी बुध सिंह राशि में सूर्य के साथ ही विचरण कर रहे हैं जिसे आपका राशि स्वामी भी प्रभावित रहेगा। अपनी वाणी में नियंत्रण रखें। बेवजह किसी से बहस न करें अन्यथा इसका अशुभ प्रभाव आपके जीवन पर पड़ सकता है।

कर्क – कर्क राशि का स्वामी चंद्रमा है। धन भाव में सूर्य ग्रहण के कारण आपको आर्थिक रूप से नुक्सान झेलना पड़ सकता है। आपके लिये सलाह है कि इस दिन किसी नई परियोजना में निवेश करने, किसी को कर्ज देने या लेने से बचें। आप में उत्साह की कमी भी हो सकती है। आपके राशि स्वामी इस ग्रहण से प्रभावित हैं इसलिये इस दिन शुभ कार्यों को टालना ही आपके लिये बेहतर रहेगा।

सिंह – राशि स्वामी सूर्य स्वयं इस ग्रहण में पीड़ित हैं क्योंकि ग्रहण आपकी ही राशि में लग रहा है। संभल कर रहें आपके मान-सम्मान, पद-प्रतिष्ठा व आत्मसम्मान के लिये यह समय थोड़ा चुनौतिपूर्ण रहने के आसार हैं। मानसिक व शारीरिक तौर पर कुछ परेशानियों का आपको सामना करना पड़ सकता है। इनका कारण दांपत्य या प्रेमजीवन के कुछ छुट-पुट विवाद भी हो सकते हैं। इस दिन धैर्य से काम लें व जितना हो सके प्रात:काल सूर्य देव की आराधना व मंत्रों का जाप करें।

कन्या – कन्या राशि का स्वामी बुध सिंह राशि में सूर्य के साथ विराजमान हैं। 12वें भाव में ग्रहण आपके खर्चों में अचानक वृद्धि होने के संकेत कर रहा है। अपनी वाणी में विनम्रता व संयम रखें। विशेषकर व्यावसायिक साझेदार के साथ किसी भी प्रकार की बहसबाजी या वाद-विवाद न करें अन्यथा तल्ख़ियां बढ़ सकती हैं जिसका प्रभाव आपके कार्य जीवन पर पड़ेगा।

तुला – तुला राशि के स्वामी शुक्र ग्रहण के दिन आपके कर्मक्षेत्र में आ जायेंगें लेकिन लाभ स्थान में ग्रहण लगने से आपको हो सकता है कड़ी मेहनत करने के पश्चात भी अपेक्षित परिणाम न मिलें या फिर यह भी हो सकता है कि आपके किये कराये पर पानी फिर जाये और सारी मेहनत बेकार जाये, इसलिये आपके लिये सलाह है कि पूरी सतर्कता के साथ कार्यों को अंजाम दें। 

वृश्चिक – वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल कर्क राशि में गोचररत हैं ग्रहण के दिन शुक्र भी इनके साथ होंगे जो कि आपकी राशि से 9वें घर में हैं। आपकी राशि से दसवें घर में सूर्य ग्रहण का योग बन रहा है जो कि आपके कार्यक्षेत्र को प्रभावित कर सकता है इस समय आपके कार्यों में बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं। पिता के लिये भी यह समय कष्टदायी हो सकता है। इस दिन यात्रा करने का जोखिम न ही लें तो बेहतर है।

धनु – धनु राशि का स्वामी बृहस्पति कन्या राशि में गोचर कर रहे हैं जो कि आपका कर्म क्षेत्र है।  आपकी राशि से 9वें स्थान में सूर्य ग्रहण लगेगा, सूर्य ग्रहण के कारण इस समय आपको केवल अपने कर्म पर ही ध्यान देने की आवश्यकता है, स्वयं पर विश्वास रखें हो सकता है इस समय भाग्य का साथ आपको न मिले। मेहनत करने से घबराएं नहीं उचित मार्गदर्शन भी आपको मिल सकता है बड़े बुजूर्गों या अनुभवी सहकर्मियों की सलाह नजरंदाज न करें।

मकर – मकर के राशि स्वामी शनि वृश्चिक राशि में वक्र होकर गोचर कर रहे हैं। यह सूर्य ग्रहण आपकी राशि से आठवें स्थान में लग रहा है। अष्टम भाव मे ग्रहण होने से यह समय आपकी सेहत में सुधार के संकेत तो कर रहा है लेकिन साथ ही आर्थिक रूप से आपको नुक्सान झेलना पड़ सकता है। अपने धन का उपयोग देखभाल कर करें। अचानक से आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने की भी आशंका है। किसी भी जोखिम वाले क्षेत्र में पैसा न लगायें खासकर लॉटरी, जुआ आदि में धन न लगायें। इससे हानि हो सकती है।

कुंभ – कुंभ राशि के स्वामी शनि वृश्चिक राशि में वक्र होकर गोचररत हैं जो कि आपकी राशि से 10वां है जिसे हम कर्म पद मानते हैं। लेकिन सप्तम भाव में ग्रहण लगने से यह समय आपके दांपत्य व प्रेम जीवन के लिये थोड़ा कष्टप्रद रह सकता है। तनाव को कम करने व नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिये भगवान शिव शंकर का मंत्र जाप करें।

मीन – मीन राशि के स्वामी बृहस्पति कन्या राशि में विराजमान है जोकि आपकी राशि से सातवें है और सपष्ट रूप से देख रहे हैं। किसी प्रकार का बड़ा नुक्सान तो आपको नहीं होगा लेकिन आपकी राशि से छठे भाव में सूर्यग्रहण दोष बन रहा है जिससे रोग व शत्रुओं का भय आपको जरूर सता सकता है। स्वास्थ्य संबंधी खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है साथ ही प्रतिद्वदियों आपके हाथ से कोई बड़ा अवसर छीनने का प्रयास कर सकते हैं जिसे लेकर आप चिंतित हो सकते हैं। बेहतर रहेगा कि धन निवेश संबंधी फैसले सोच समझ कर लें।

सूर्य ग्रहण के अवसर पर सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। ज्योतिषी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

सूर्य ग्रहण 2018   |   चंद्र ग्रहण 2018   |   चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय   |   पितृदोष – पितृपक्ष में ये उपाय करने से होते हैं पितर शांत   |  

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |    कुंडली में कालसर्प दोष और इसके निदान के सरल उपाय    |

सूर्य नमस्कार से प्रसन्न होते हैं सूर्यदेव   |   शनिदेव - क्यों रखते हैं पिता सूर्यदेव से वैरभाव




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...