KKR vs RCB - रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर vs कोलकाता नाइट राइडर्स का मैच प्रेडिक्शन

21 अक्तूबर 2020

IPL 2020 39th मैच की प्रेडिक्शन

  • कोलकाता नाइट राइडर्स vs रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर 
  • तिथि – 21 अक्टूबर 2020
  • स्थान – शेख जायद स्टेडियम अबुधाबी
  • समय – शाम 7:30 बजे (भारतीय समयानुसार), शाम 6:00 बजे (यूएई समयानुसार) 
  • कोलकाता नाइट राइडर्स की नाम राशि - मिथुन
  • रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की नाम राशि – तुला 

 

एक नजर दोनों टीमों के प्रदर्शन पर

आईपीएल के 13वें सीजन के 33वें मैच में राजस्थान रॉयल्स को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने 7 विकेट से मात दी थी। वहीं अंकतालिका में विराट की सेना टूर्नामेंट में 9 मैच खेलते हुए और 12 अंक पाकर तीसरे नंबर पर काबिज है। जबकि दूसरी ओर कोलकाता नाइट राइडर्स ने आईपीएल 2020 के 35वें मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद को सुपर ओवर में हराया था। वहीं कोलकाता 10 अंक पाकर टेबल प्वॉइंट में चौथे नंबर पर डटी हुई है। अब आगामी 21 अक्टूबर को अबुधाबी में आरसीबी का मुकाबला केकेआर से होने जा रहा है। इससे पहले 13 अक्टूबर को खेले गए मुकाबले में विराट की सेना ने केकेआर को 82 रनों से हराया था। ऐसे में अब केकेआर प्ले ऑफ में जगह बनाने के लिए आरसीबी से पहले चरण में मिली हार का बदला लेने उतरेगी। फिलहाल ज्योतिषीय आकलन के आधार पर हम आपको बताते हैं कि कौन सी टीम के जीतने के आसार अधिक हैं?

 

कोलकाता नाइट राइडर्स - इयॉन मोर्गन 

बहरहाल एस्ट्रोयोगी ज्योतिषी द्वारा की गई ज्योतिषीय भविष्यवाणी की मदद से जानते हैं कि इस मैच का परिणाम क्या रहने वाला है। दरअसल कोलकाता नाइट राइडर्स की बात की जाए तो इसकी नाम राशि मिथुन बनती है। मिथुन का स्वामी बुध का मार्गी होकर सप्तम में जाना अच्छा नहीं कह सकते पराक्रम पर सूर्य की दृष्टि पराक्रम में कमी का योग तो बनाता है। लेकिन इस सीजन में केकेआर के खिलाड़ियों में भरपूर जोश रहेगा। जिसके चलते ये प्रतिद्वंदी को कड़ा मुकाबला देने में सक्षम रहेंगे। 

 

वहीं दिनेश कार्तिक को रिप्लेस करते हुए केकेआर के नए कप्तान इयॉन मोरगन की नाम राशि वृषभ बनती है। जिसका स्वामी शुक्र गोचर के अनुसार अपने पंचम में बैठा है। जिसके चलते इयॉन को रणनीति बनाने में आसानी होगी। ये अपने विरोधियों को घेरने में भी कामयाब होंगे। कप्तान के रूप में  कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए इयान का प्रदर्शन अच्छा रहेगा। टीम को साथ लेकर चलने में ये कामयाब रहेंगे। जन्म के अनुसार इनका जन्म तुला लग्न व इनकी सूर्य राशि सिंह है जो इनकी खेल भावना को निखारने का योग बनाता है। 

 

अंक ज्योतिष में मूलांक 7 को केतु का अंक माना जाता है, जो विजय दिलाने वाला होता है। जो कि इयॉन का भी मूलांक 7 है। भाग्यांक 3 गुरु का अंक है जोकि इयॉन की मानसिक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होगा। इसके साथ ही मूलांक और भाग्यांक के अनुसार इनके लिए ये सत्र शुभदायी माना जा सकता है। 

 

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर - विराट कोहली

वहीं दूसरी ओर नाम के पहले अक्षर से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की नाम राशि तुला बनती है। तुला राशि के स्वामी शुक्र हैं। राशि स्वामी शुक्र छठे स्थान में सूर्य की राशि मे विराजमान हैं। राशि से बारहवें घर में सूर्य हैं।आरसीबी के लिये अच्छी बात यह कि 3वें स्थान में राहु बैठे हैं, जो इनकी राशि से 7वां  स्थान बनता है। वहीं दशम स्थान में गुरु गोचर कर रहे हैं जो कि कर्म स्थान है। जो टीम के लिए अच्छा साबित हो सकता है।

 

वहीं आरसीबी के कप्तान विराट कोहली की जन्म तिथि और जन्म समय(12 बजे) के अनुसार,  विराट कोहली (Virat Kohli) की नाम राशि वृषभ बनती है। विराट की नाम राशि वृषभ होने से कोहली आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करते देखे जा सकते हैं। क्योंकि राशि का स्वामी शुक्र उस दिन अपने ही भाव में रहेगा, जो चंद्रमा के साथ एक योगकारी ग्रह बन गया है। यह इनके लिए अच्छी शुरुआत देने वाला योग बना रहा है। चंद्रमा का उस दिन उच्च का होकर बैठना मन में जोश व उत्साह भरने वाला होगा। जन्म तिथि के अनुसार विराट का मूलांक 2 और भाग्यांक 5 बन रहा है। अंक ज्योतिष के मुताबिक मूलांक 2 के जातक खेल के क्षेत्र में अग्रणी व सफल होने वाले होते हैं। यदि ये मेहनत करें तो सफलता इनके कदम चूमती है। जिसका असर विराट के खेल में देखने को मिलता है। विराट कोहली को रन मशीन कहा जाता है जो इस बात को सही साबित करती है। भाग्यांक 5 बुध का अंक माना जाता है। जिसका असर विराट के विवेक पर  भी पड़ेगा। 

 

कुल मिलाकर दोनों टीमों की कुंडली व गोचर का आकलन करने पर रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के जीतने के आसार प्रबल हैं। हालांकि क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है, इसलिए ये तो वक्त ही बताएगा कि कौन जीत का स्वाद चखेगा।

बैंगलोर में ज्योतिषी । कोलकाता में ज्योतिषी 

एस्ट्रो लेख

पितरों के मोक्ष प्राप्ति के लिए रखें चैत्र अमावस्या व्रत

शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

क्या आप भी जन्मे हैं अप्रैल महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

पापमोचिनी एकादशी 2021 - जानें व्रत तिथि व पूजा विधि

Chat now for Support
Support