भाद्रपद पूर्णिमा 2022 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

bell icon Mon, Dec 27, 2021
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
भाद्रपद पूर्णिमा 2022 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भाद्रपद मास की पूर्णिमा बहुत ही खास होती है। इसके खास होने के पिछे कारण यह है कि इसी पूर्णिमा से श्राद्ध पक्ष आरंभ होता है जो आश्विन अमावस्या तक चलते है। इस पूर्णिमा को स्नान दान का भी विशेष महत्व माना जाता है। आइये जानते हैं भाद्रपद पूर्णिमा के महत्व व व्रत पूजा विधि के बारे में।

 

2022 में कब है भाद्रपद पर्णिमा

इस साल भाद्रपद पूर्णिमा तिथि अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार सितंबर माह की 10 तारीख को है। 

पूर्णिमा तिथि आरंभ – शाम 18 बजकर 07 मिनट (09 सितंबर 2022) से

पूर्णिमा तिथि समाप्त – दोपहर 15 बजकर 28 मिनट (10 सितंबर 2022) तक

 

क्यों कहते हैं भाद्रपद पूर्णिमा

प्रत्येक मास की पूर्णिमा तिथि से ही चंद्र वर्ष के महीनों के नामों का निर्धारण हुआ है। मान्यता रही है कि माह में पूर्णिमा के दिन चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है उसी के अनुसार उस माह का नाम रखा जाता है। समस्त 12 महीनों के नाम नक्षत्रों पर आधारित हैं। ऐसे में भाद्रपद पूर्णिमा भी इसे इसीलिये कहा जाता है क्योंकि इस दिन चंद्रमा उत्तर भाद्रपदा या पूर्व भाद्रपदा नक्षत्र में होता है।

 

अपनी कुंडली के अनुसार भाद्रपद पूर्णिमा पर विशेष ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें। 

 

भाद्रपद पूर्णिमा का महत्व

जैसा कि इस आलेख के आमुख में हमने बताया कि भाद्रपद पूर्णिमा कई मायनों में खास मानी जाती है। एक और देश भर में गणेशोत्सव की समाप्ति से जोश भरा होता है तो वहीं अपने पूर्वजों यानि पितरों को याद करते हुए उनके प्रति श्रद्धा प्रकट करने का पूरा एक पखवाड़ा यानि श्राद्ध पक्ष इस तिथि से आरंभ होते हैं। वहीं इस पूर्णिमा पर भगवान सत्यनारायण की पूजा करने का विधान भी है। मान्यता है कि भगवान सत्यनारायण की पूजा करने से उपासक के सारे कष्ट कट जाते हैं और घर सुख-समृद्धि व धन धान्य से भरा रहता है। व्रती के अपने जीवन में पद व प्रतिष्ठा को प्राप्त करता है।

 

कैसे करें भाद्रपद पूर्णिमा का व्रत

  • भाद्रपद पूर्णिमा व्रत में व्रती को सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से स्वच्छ होकर, साफ वस्त्र धारण करने चाहिये।
  • पूजा स्थल की साफ-सफाई कर उसमें भगवान सत्यनारायण की प्रतिमा रखें।
  • तत्पश्चात पूजा के लिये पंचामृत का निर्माण करें। प्रसाद के लिये चूरमा बनायें।
  • इसके बाद भगवान सत्यनारायण की कथा सुनें।
  • कथा के पश्चात भगवान सत्यनारायाण, माता लक्ष्मी, भगवान शिव, माता पार्वती आदि की आरती करें। इसके पश्चात प्रसाद का वितरण करें।

 

यह भी पढ़ें

चैत्र पूर्णिमा   |   बैसाख पूर्णिमा   |   ज्येष्ठ पूर्णिमा   |   आषाढ़ पूर्णिमा   |   पौष पूर्णिमा   |   माघ पूर्णिमा   |   फाल्गुन पूर्णिमा   |   

गुरु पूर्णिमा   |   शरद पूर्णिमा   |   बुद्ध पूर्णिमा   |   सत्यविनायक पूर्णिमा   |   श्रावण पूर्णिमा

सावन - शिव की पूजा का माह   |   सावन पूर्णिमा को लगेगा चंद्र ग्रहण राशिनुसार जानें क्या होगा असर

chat Support Chat now for Support
chat Support Support