चंद्र ग्रहण 2020 - कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के और पृथ्वी, सूर्य के चारों ओर चक्कर काटते हुए जब तीनों एक सीधी रेखा में अवस्थिति होते हैं। जब पृथ्वी सूर्य और चंद्रमा के बीच आती है और चंद्रमा पृथ्वी की उपछाया से होकर गुजरता है तो उसे चंद्र ग्रहण कहा जाता है ऐसा केवल पूर्णिमा को ही संभव होता है। इसलिये चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा को ही होता है। वहीं सूर्यग्रहण के दिन सूर्य और पृथ्वी के बीच चंद्रमा आता है जो कि अमावस्या को संभव है। ब्रह्मांड में घटने वाली यह घटना है तो खगोलीय लेकिन इसका धार्मिक महत्व भी बहुत है। इसे लेकर आम जन मानस में कई तरह के शकुन-अपशकुन भी व्याप्त हैं। माना जाता है कि सभी बारह राशियों पर ग्रहण का प्रभाव पड़ता है। तो आइये जानते हैं कि 2020 में चंद्र ग्रहण कब और कितनी बार नज़र आयेगा।

 

अपनी कुंडली के अनुसार चंद्र ग्रहण पर अपने जीवन में समृद्धि लाने के सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

2020 में कब है चंद्र ग्रहण?

साल 2020 में चार चंद्र ग्रहण लगेंगें।

  • पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी 2020 को लगेगा।  यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा इसलिये इसका सूतक काल यहां पर नहीं दिया जा रहा है। लेकिन दुनिया के अन्य कई हिस्सों में इसे देखा जा सकेगा।
  • दूसरा चंद्र ग्रहण जो कि 05 जून को लग रहा है यह एक  चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) भारत में नहीं देखा जा सकेगा।
  • तीसरा चंद्र ग्रहण 5 जुलाई 2020 को है।
  • अंतिम और चौथा चंद्र ग्रहण 30 नवंबर 2020 को है। यह सभी चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखीयी देंगे। 

 


चन्द्रग्रहण: क्या करें, क्या ना करें

चंद्र ग्रहण हो या सूर्यग्रहण एक सवाल हमेशा सामने आता है कि ग्रहण के दिन क्या करें क्या न करें। तो इस बारे में आपको सलाह दी जाती है कि चन्द्र ग्रहण के दिन बुजूर्ग, रोगी एवं बच्चों को छोड़कर घर के बाकि सदस्य भोजन न करें।

गर्भवती स्त्रियोँ को ग्रहण में घर के अंदर ही रहने की सलाह दी जाती है दरअसल माना जाता है कि ग्रहण के दौरान वातावरण में नकारात्मक ऊर्जा का संचार हो रहा होता है इसलिये घर में रहकर मंत्रोंच्चारण करें। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा फैलती है और नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है।

किसी भी प्रकार के शुभ कार्य ग्रहण के दिन न करें।

अपने मन में दुर्विचारों को न पनपने दें। इस दिन ब्रह्मचर्य का पालन करें और अपने आराध्य देव का ध्यान लगायें।

जिन जातकों की कुंडली में शनि की साढ़े साती या ढईया का प्रभाव चल रहा है, वे शनि मंत्र का जाप करें एवं हनुमान चालीसा का पाठ भी अवश्य करें।

जिन जातकों की कुंडली में मांगलिक दोष है, वे इसके निवारण के लिये चंद्र ग्रहण के दिन सुंदरकांड का पाठ करें तो इसके सकारात्मक परिणाम मिलेंगें।

आटा, चावल, चीनी, श्वेत वस्त्र, साबुत उड़द की दाल, सतनज, काला तिल, काला वस्त्र आदि किसी गरीब जरुरतमंद को दान करें।

ग्रहों का अशुभ फल समाप्त करने और विशेष मंत्र सिद्धि के लिये इस दिन नवग्रह, गायत्री एवं महामृत्युंजय आदि शुभ मंत्रों का जाप करें। दुर्गा चालीसा, विष्णु सहस्त्रनाम, श्रीमदभागवत गीता, गजेंद्र मोक्ष आदि का पाठ भी कर सकते हैं।

 

संबंधित लेख

चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय   |   पितृदोष – पितृपक्ष में ये उपाय करने से होते हैं पितर शांत   |  

 पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?    |    कुंडली में कालसर्प दोष और इसके निदान के सरल उपाय    |

एस्ट्रो लेख

भगवान श्री राम ...

मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के बारे में तो सभी जानते हैं। यह भी वे स्वयं भगवान विष्णु के अवतार थे। श्री राम भगवान शिव को अपना आराध्य देव भी मानते थे। लेकिन क्या आप जानते हैं ...

और पढ़ें ➜

भगवान राम से बड...

वैसे तो भगवान को सर्वशक्तिमान माना जाता है। कहा जाता है कि उनकी मर्जी के बिना पत्ता भी नहीं हिलता। लेकिन कहा यह भी जाता है कि भक्ति में वो ताकत होती है कि भगवान को भी अपने भक्त के ...

और पढ़ें ➜

अयोध्या ही नहीं...

70 साल पुराना और 40 दिन तक चली सुनवाई के बाद आखिरकार बीते शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले को लेकर अहम फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गो...

और पढ़ें ➜

शंकराचार्य जयंत...

वैशाख मास का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। इस माह में अनेक धार्मिक गुरुओं, संत कवियों सहित स्वयं भगवान विष्णु ने परशुराम के रूप में अवतार धारण किया। वैशाख कृष्ण एकादशी वल्लाभाचार्य...

और पढ़ें ➜